Sunday, May 19, 2024
Homeदेश-समाजमंदिर में लाउडस्पीकर पर बवाल: 5 दिन में तीसरी घटना, पहले मार-पीट... अब परिणाम...

मंदिर में लाउडस्पीकर पर बवाल: 5 दिन में तीसरी घटना, पहले मार-पीट… अब परिणाम भुगतने की धमकी, एक्शन में UP पुलिस

रामपुर स्थित केमरी का वर्षों पुराना शिव मंदिर। लाउडस्पीकर को लेकर शाहिद, आसिफ, नावेद की धमकी। उन्नाव के माखी स्थित महादेव मंदिर में तो आरती के दौरान ही गाली-गलौज और लाउडस्पीकर बंद न करने पर परिणाम भुगतने की चेतावनी। इससे पहले गौतम बुद्ध नगर में...

उत्तर प्रदेश के रामपुर स्थित केमरी के सिघड़ियान मोहल्ले में मंदिर में लाउडस्पीकर बजाने को लेकर विवाद हो गया। इससे उत्पन्न हुए तनाव के बाद दो समुदाय के लोग आमने-सामने आ गए, जिसके बाद पुलिस को हस्तक्षेप कर के मामला शांत कराना पड़ा। पुलिस ने घटनास्थल पर पहुँच कर पूरे मामले को शांत कराया। मंदिर में लाउडस्पीकर को लेकर हुए विवाद के बाद उत्पन्न हुए तनाव के सम्बन्ध में 3 लोगों का चालान किया गया है।

इन तीनों पर इलाक़े की शांति भंग करने का आरोप लगाया गया है। ये घटना मोहल्ले के वार्ड नंबर-3 में स्थित एक शिव मंदिर का है, जो वर्षों पुराना है। इस मंदिर में शाम के समय अक्सर लोग जुटते थे और भजन-कीर्तन हुआ करता था। इसके लिए लाउडस्पीकर का भी प्रयोग किया जाता था। लेकिन, कोरोना संक्रमण आपदा के कारण लगाए गए लॉकडाउन के बाद सरकारी दिशा-निर्देशों का पालन करते हुए लाउडस्पीकर का इस्तेमाल बंद कर दिया गया था।

कुछ दिनों पहले सरकार ने मंदिर में चुनिंदा लोगों को सोशल डिस्टेंडिंग का पालन करते हुए भजन-कीर्तन करने की अनुमति दे दी, जिसेक बाद ये क्रम फिर से शुरू हो गया। तभी समुदाय विशेष के कुछ युवक सड़क पर आकर हंगामा करने लगे। उन्होंने भजन-कीर्तन कर रहे श्रद्धालुओं को भला-बुरा कहना शुरू कर दिया। उन्होंने दावा किया कि मंदिर में लाउडस्पीकर तेज़ आवाज़ में बज रहा है और इसे लेकर हंगामा शुरू कर दिया।

चूँकि रामपुर के उस शिव मंदिर में पहले से ही इसी तरह से भजन-कीर्तन होता आ रहा था, इसीलिए श्रद्धालुओं ने लाउडस्पीकर बंद करने से इनकार कर दिया। इसके बाद दोनों पक्षों के बीच तनाव बढ़ने लगा। वहाँ मौके पर सूचना मिलने के बाद पहुँची पुलिस ने तीन व्यक्तियों शाहिद हुसैन, मुहम्मद आसिफ व नावेद अली को गिरफ्तार करने के बाद स्थानीय शांति भंग करने के आरोप में उनका चालान भी काट दिया। पुलिस ने दोनों ही पक्षों से वार्ता की और उन्हें समझा-बुझा कर मामला शांत कराया।

मंदिर के लाउडस्पीकर से दिक्कत, बस जगह अलग

उन्नाव के माखी थाना क्षेत्र स्थित एक गाँव में भी ऐसी ही घटना हुई, जहाँ महादेव मंदिर में आरती के दौरान ही एक युवक ने पहुँच कर हंगामा शुरू कर दिया और कहने लगा कि उसे लाउडस्पीकर की वजह से मोबाइल पर बात करने में परेशानी हो रही है। इस मामले में एक ग्रामीण ने मुन्ना, जमील और रहीस नामक युवकों के खिलाफ तहरीर दी है।

इन सभी युवकों ने न सिर्फ गाली-गलौज किया, बल्कि मंदिर में लाउडस्पीकर बजाने पर परिणाम भुगतने की चेतावनी तक दी। इसके बाद वहाँ बड़ी संख्या में लोग पहुँच गए। सूचना मिलने के बाद पहुँची पुलिस ने तीनों युवकों को हिरासत में ले लिया। अभियोग पंजीकृत कर के तीनों आरोपितों से पूछताछ जारी है और गाँव में स्थिति नियंत्रण में है, ऐसा पुलिस ने बताया है। स्थानीय लोग इस घटना को लेकर अभी भी आक्रोश में हैं।

हाल ही में उत्तर प्रदेश के गौतम बुद्ध नगर स्थित एक गाँव में मंदिर के भीतर लाउडस्पीकर बजाने की वजह से कुछ युवकों ने स्वराज सिंह को बुरी तरह पीट दिया था। मारपीट करने वाले गुलज़ार, अफज़ल, शराफ़ समेत कुछ अन्य लोग थे। पुलिस द्वारा इस मामले में 3 आरोपितों को गिरफ्तार किए जाने की खबर आई थी। स्वराज सिंह ने बताया था कि कुछ युवक मौके पर लाठी और डंडे लेकर आए और उन्होंने बेटी के सामने खूब पीटा। 

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

120 लोगों की हुई घर-वापसी, छत्तीसगढ़ में ‘श्री वनवासी राम कथा’ में जुटी श्रद्धालुओं की भारी भीड़: जशपुर राजघराने के लाल ने पाँव पखार...

प्रबल प्रताप सिंह जूदेव द्वारा मुख्य अतिथि के रूप में 50 परिवारों की घर-वापसी का कार्यक्रम कराया गया। उन्होंने इन लोगों के पाँव भी पखारे।

निशा हुईं राधिका, निदा बनीं निधि: 2 मुस्लिम लड़कियों की घरवापसी, हिन्दू युवकों से विवाह – एक की शादी के बाद धमकी, दूसरी का...

UP के बरेली और सीतापुर में 2 मुस्लिम लड़कियों ने घर वापसी कर हिन्दू युवकों से किया विवाह। निशा बनीं राधिका और निदा हुईं निधि।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -