Thursday, April 25, 2024
Homeदेश-समाजकर्नाटक में फिर तोड़ी गई हिंदू देवी-देवताओं की मूर्तियाँ, इलाके में भारी तनाव

कर्नाटक में फिर तोड़ी गई हिंदू देवी-देवताओं की मूर्तियाँ, इलाके में भारी तनाव

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने मंदिरों का दौरा करते हुए मामले में केस दर्ज कर लिया है। अधिकारी ने कहा कि जल्द ही आरोपितों को जल्द ही गिरफ़्तार किया जाएगा। उन्होंने कहा कि धार्मिक स्थलों के पास पुलिस की पेट्रोलिंग को भी बढ़ाया जाएगा।

कर्नाटक में हिंदुओं की आस्था से खिलवाड़ करने का क्रम जारी है। बीते दिनों से लगातार न सिर्फ़ मंदिरों में तोड़फोड़ की घटनाएँ बढ़ी हैं, बल्कि सांप्रदायिक तनाव पैदा करने की कोशिश भी की जा रही है। ताजा मामला प्रदेश के मांड्या जिले का है, जहाँ मंदिरों में तोड़-फोड़ की गई है।

एक तरफ़ जहाँ बेसागाराहल्ली थाना क्षेत्र में विभिन्न गाँवों में उपद्रवी तत्वों ने मंदिरों में तोड़फोड़ करते हुए मूर्तियों को नुकसान पहुँचाया है, वहीं दूसरी ओर इलाके में सांप्रदायिक तनाव भी फैल गया है। बेसागाराहल्ली गाँव के नज़दीक पट्टालादम्मा मंदिर में मूर्तियों को तोड़ा गया है।

बता दें कि, यहाँ पर न सिर्फ़ भगवान की मूर्तियों को तोड़ा गया है, बल्कि मूर्तियों की चोरी भी हुई है। ख़बर की मानें तो मूर्ति का सिर पास के खेत से बरामद हुआ है। वहीं पन्नेडोड्डी और होम्बलेगौड़ानाडोड्डी गाँव में भी भगवान हनुमान की कांस्य प्रतिमा टूटी मिली है।

मूर्तियों को तोड़ने के बाद से इलाके में तनाव

बेसागाराहल्ली के साथ अन्य गाँव में हुई मूर्तियों के तोड़फोड़ के चलते आसपास के इलाके में माहौल तनावग्रस्त हो गया है। टूटी हुई मूर्तियों को देखकर लोगों में गुस्सा है। मूर्तियों के हिस्से अलग-अलग विभिन्न दिशाओं में फेंके मिले हैं। पास के गाँव के एक युवक ने कहा कि गाँवों में कुछ उपद्रवी तत्व लगातार सांप्रदायिक तनाव फै़लाने की कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि पुलिस को इसपर कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए।

घटना के बाद, एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने मंदिरों का दौरा करते हुए मामले में केस दर्ज कर लिया है। अधिकारी ने कहा कि जल्द ही आरोपितों को जल्द ही गिरफ़्तार किया जाएगा। उन्होंने कहा कि धार्मिक स्थलों के पास पुलिस की पेट्रोलिंग को भी बढ़ाया जाएगा।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

इंदिरा गाँधी की 100% प्रॉपर्टी अपने बच्चों को दिलवाने के लिए राजीव गाँधी सरकार ने खत्म करवाया था ‘विरासत कर’… वरना सरकारी खजाने में...

विरासत कर देश में तीन दशकों तक था... मगर जब इंदिरा गाँधी की संपत्ति का हिस्सा बँटने की बारी आई तो इसे राजीव गाँधी सरकार में खत्म कर दिया गया।

जिस जज ने सुनाया ज्ञानवापी में सर्वे करने का फैसला, उन्हें फिर से धमकियाँ आनी शुरू: इस बार विदेशी नंबरों से आ रही कॉल,...

ज्ञानवापी पर फैसला देने वाले जज को कुछ समय से विदेशों से कॉलें आ रही हैं। उन्होंने इस संबंध में एसएसपी को पत्र लिखकर कंप्लेन की है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe