Wednesday, August 4, 2021
Homeदेश-समाजएक कागज के कारण उड़ने से बच गई सिकंदराबाद-दरभंगा एक्सप्रेस, काजीपेट में धमाके की...

एक कागज के कारण उड़ने से बच गई सिकंदराबाद-दरभंगा एक्सप्रेस, काजीपेट में धमाके की आतंकियों ने रची थी साजिश

132 किलोमीटर दूर काजीपेट जंक्शन इसका पहला स्टॉपेज था। ये ट्रेन रात 12:38 में सामान्यतः वहाँ पहुँचती है। वहीं से निकलने के बाद ब्लास्ट हो, ऐसी आतंकियों की मंशा थी।

बिहार के दरभंगा रेलवे स्टेशन पर जून 17, 2021 को दोपहर 3:25 बजे एक पार्सल में रखा बम फटने से विस्फोट हुआ था। अब पता चला है कि आतंकियों की मंशा उसे कहीं और किसी और समय पर फोड़ने की थी, ताकि बड़ी तबाही मचाई जा सके। आतंकियों की मुख्य साजिश सिकंदराबाद से दरभंगा के बीच चलने वाली 07007 डाउन स्पेशल ट्रेन को निशाना बनाने की थी, जिससे सैकड़ों यात्री आवागमन करते हैं।

आतंकियों की साजिश थी कि इस ट्रेन में एक भी व्यक्ति ज़िंदा न बच पाए। ‘दैनिक भास्कर’ की खबर के अनुसार, धमाके के लिए रखे नाइट्रिक और सल्फ्यूरिक एसिड में आतंकियों के सोचे समय पर रिएक्शन नहीं हुआ, जिससे एक बड़ी तबाही टल गई। पार्सल में रखे बम में ब्लास्ट तब हुआ, जब ट्रेन दरभंगा स्टेशन पहुँच चुकी थी। इस ब्लास्ट में जानमाल की क्षति नहीं हुई, लेकिन बम पहले फटता तो ट्रेन ‘द बर्निंग ट्रेन’ बन सकती थी।

ब्लास्ट के समय पार्सल को ट्रेन से उतारा जा चुका था और सभी यात्री भी ट्रेन से बाहर आ गए थे। आतंकियों की साजिश थी कि 15-16 जून की मध्य रात्रि में विस्फोट किया जाए। इसके लिए जगह के रूप में सिकंदराबाद स्टेशन से 132 KM दूर काजीपेट जंक्शन को चुना गया था। उनकी मंशा थी कि इस समय अधिकतर यात्री सो रहे होते हैं, इसीलिए उनके बचने का कोई चांस ही न हो। ये ट्रेन 15 जून की रात 10:40 बजे सिकंदराबाद से चली थी।

132 किलोमीटर दूर काजीपेट जंक्शन इसका पहला स्टॉपेज था। ये ट्रेन 12:38 में सामान्यतः वहाँ पहुँचती है। वहीं से निकलने के बाद ब्लास्ट हो, ऐसी आतंकियों की मंशा थी। NIA की टीम ने हैदराबाद से सगे भाई इमरान मलिक और नासिर मलिक को गिरफ्तार किया है, जिनसे पूछताछ में ये खुलासा हुआ। उत्तर प्रदेश के शामली स्थित कैरान से पकड़े गए मोहम्मद सलीम और टेलर कफील ने भी कई राज़ उगले हैं।

ये तो पहले भी खबर में आ चुका है कि जिस पार्सल में ब्लास्ट हुआ, वो बम लिक्विड के रूप में एक शीशी के बोतल में रखा हुआ था। दोनों केमिकल के बीच एक कागज़ की मोटी परत दी गई थी। यही कागज़ समय पर नहीं जला, जिससे ब्लास्ट देर से हुआ। अभी आतंकियों से पूछताछ जारी है, ऐसे में कई खुलासे होने बाकी हैं। ट्रेन में अगर उसके चलने के 1:54 घंटे बाद विस्फोट होता तो नजारा भयावह हो सकता था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

राणा अयूब बनीं ट्रोलिंग टूल, कश्मीर पर प्रोपेगेंडा चलाने के लिए आ रहीं पाकिस्तान के काम: जानें क्या है मामला

पाकिस्तान के सूचना मंत्रालय से जुड़े लोग ऑन टीवी राणा अयूब की तारीफ करते हैं। वह उन्हें मोदी सरकार का पर्दाफाश करने वाली ;मुस्लिम पत्रकार' के तौर पर जानते हैं।

राहुल गाँधी ने POCSO एक्ट का किया उल्लंघन, NCPCR ने ट्वीट हटाने के दिए निर्देश: दिल्ली की पीड़िता के माता-पिता की फोटो शेयर की...

राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (NCPCR) ने राहुल गाँधी के ट्वीट पर संज्ञान लिया है और ट्विटर से इसके खिलाफ कार्रवाई करने की माँग की है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,975FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe