Sunday, March 7, 2021
Home देश-समाज नक्सल इलाकों में 5422 में से 4946 किमी सड़क का काम पूरा: सुरक्षा बलों...

नक्सल इलाकों में 5422 में से 4946 किमी सड़क का काम पूरा: सुरक्षा बलों की मदद से अब और तेज होगा निर्माण कार्य

गृह मंत्रालय की साल 2020 की रिपोर्ट के अनुसार, इस योजना के तहत अब तक 9,338 किमी सड़क की लंबाई को मंजूरी दी गई है। इनमें से 1,796 किमी लंबी सड़कें पूरी हैं।

नक्सल प्रभावित इलाकों को सड़क से जोड़ने की दिशा में सरकार रोड कनेक्टिविटी कार्यों को गति देने में जुटी है। ऐसे में खबर है कि राज्य सरकारों व निर्माण एजेंसियों को सुरक्षाबलों की मदद से निर्माण कार्य तेज करने को कहा गया है।

रिपोर्ट बताती हैं कि रोड कनेक्टिविटी प्रोजेक्ट के तहत अब तक मंजूर किए गए 9338 किलोमीटर सड़क में से महज 1796 किलोमीटर सड़क का निर्माण कार्य पूरा है।

गृह मंत्रालय की एक रिपोर्ट के अनुसार रोड रिक्वायरमेंट प्लॉन (RRP1) के तहत जो काम 2009 में शुरू हुआ था उसमें उन्हें काफी हद तक सफलता मिली है। इसके मुताबिक 5422 किलोमीटर लंबाई की सड़कें बनाई जानी थीं। इनमें से 4946 किलोमीटर का काम अब तक पूरा हुआ है। प्रोजेक्ट में तेलंगाना ने अपना लक्ष्य पूरा कर लिया है वहीं छत्तीसगढ़ में कुछ काम शेष है।

वेबसाइट पर मौजूद जानकारी

 

इसके अलावा 2016 में शुरू हुए सड़क संपर्क प्रोजेक्ट के तहत भी काम चल रहा है, लेकिन इसकी गति बहुत धीमी है। जिसके कारण संबंधित पक्षों से ऐसी देरी का कारण पूछते हुए उन्हें काम तेज करने को कहा गया है। गृह मामलों की पार्लियमेंट्री स्टैंडिंग कमेटी ने भी इस धीमी गति पर जवाब भी माँगा है।

सरकारी वेबसाइट के अनुसार, इस स्कीम को सरकार ने 28 दिसंबर 2016 में शुरू किया था ताकि नक्सल प्रभावित इलाकों की रोड कनेक्टिविटी बेहतर की जा सके। इसके तहत 5412 किमी रोड और 126 ब्रिज तैयार होने थे, जिसमें लागत 11,725 करोड़ रुपए की आती। इस संबंध में 2019 की एक रिपोर्ट बताती है कि इस योजना को पूरा करने के लिए 5,065 किमी के लिए रकम सैंक्शन की गई थी, इसमें से 845 किमी का काम पूरा हो गया है जिसमें लागत 645 करोड़ आई है।

साल 2019 में खबर संबंधित प्रेस रिलीज

गृह मंत्रालय की साल 2020 की रिपोर्ट के अनुसार,  इस योजना के तहत अब तक 9,338 किमी सड़क की लंबाई को मंजूरी दी गई है। इनमें से 1,796 किमी लंबी सड़कें पूरी हैं।

गौरतलब है कि रोड रिक्वायरमेंट प्लॉन और RCPLWE रोड नेटवर्क सुधार में दो बड़ी स्कीमें हैं। RRP1 की शुरुआत 2009 में 8 नक्सल प्रभावित राज्यों के लिए हुई थी। ये राज्य- आंध्र प्रदेश, बिहार, छत्तीसगढ़, झारखंड, मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, ओडिशा और उत्तर प्रदेश हैं।

मीडिया रिपोर्ट कहती है कि आज हजारों करोड़ के प्रोजेक्ट जो नक्सल इलाकों में लंबित हैं उनके पीछे कई जगह नक्सल का असर है तो कई जगह जरूरी समन्वय की कमी है। सरकार ने नक्सल प्रभावित इलाकों में गर्मियों में सघन अभियान चलाने का मन बनाया है। ऐसे में केंद्र व राज्य की सरकारों के साथ निर्माण एजेंसियों के सामने बड़ा लक्ष्य है। 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मासूमियत और गरिमा के साथ Kiss करो’: महेश भट्ट ने अपनी बेटी को साइड ले जाकर समझाया – ‘इसे वल्गर मत समझो’

संजय दत्त के साथ किसिंग सीन को करने में पूजा भट्ट असहज थीं। तब निर्देशक महेश भट्ट ने अपनी बेटी की सारी शंकाएँ दूर कीं।

‘कॉन्ग्रेस का काला हाथ वामपंथियों के लिए गोरा कैसे हो गया?’: कोलकाता में PM मोदी ने कहा – घुसपैठ रुकेगा, निवेश बढ़ेगा

कोलकाता के ब्रिगेड ग्राउंड में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पश्चिम बंगाल में अपनी पहली चुनावी जनसभा को सम्बोधित किया। मिथुन भी मंच पर।

मिथुन चक्रवर्ती के BJP में शामिल होते ही ट्विटर पर Memes की बौछार

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव से पहले मिथुन चक्रवर्ती ने कोलकाता में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली में भाजपा का दामन थाम लिया।

‘ग्लोबल इनसाइक्लोपीडिया ऑफ रामायण’ का शुभारंभ: CM योगी ने कहा – ‘जय श्री राम पूरे देश में चलेगा’

“जय श्री राम उत्तर प्रदेश में भी चलेगा, बंगाल में भी चलेगा और पूरे देश में भी चलेगा।” - UP कॉन्क्लेव शो में बोलते हुए सीएम योगी ने कहा कि...

‘राहुल गाँधी का ‘फालतू स्टंट’, झोपड़िया में आग… तमाशे की जिंदगानी हमार’ – शेखर गुप्ता ने की आलोचना, पिल पड़े कॉन्ग्रेसी

शेखर गुप्ता ने एक वीडियो में पूर्व कॉन्ग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी की आलोचना की, जिससे भड़के कॉन्ग्रेस नेताओं ने उन्हें जम कर खरी-खोटी सुनाई।

8-10 घंटे तक पानी में थी मनसुख हिरेन की बॉडी, चेहरे-पीठ पर जख्म के निशान: रिपोर्ट

रिपोर्टों के अनुसार शव मिलने से 12-13 घंटे पहले ही मनसुख हिरेन की मौत हो चुकी थी। लेकिन, इसका कारण फिलहाल नहीं बताया गया है।

प्रचलित ख़बरें

माँ-बाप-भाई एक-एक कर मर गए, अंतिम संस्कार में शामिल नहीं होने दिया: 20 साल विष्णु को किस जुर्म की सजा?

20 साल जेल में बिताने के बाद बरी किए गए विष्णु तिवारी के मामले में NHRC ने स्वत: संज्ञान लिया है।

मौलाना पर सवाल तो लगाया कुरान के अपमान का आरोप: मॉब लिंचिंग पर उतारू इस्लामी भीड़ का Video

पुलिस देखती रही और 'नारा-ए-तकबीर' और 'अल्लाहु अकबर' के नारे लगा रही भीड़ पीड़ित को बाहर खींच लाई।

‘शिवलिंग पर कंडोम’ से विवादों में आई सायानी घोष TMC कैंडिडेट, ममता बनर्जी ने आसनसोल से उतारा

बंगाल विधानसभा चुनाव के लिए टीएमसी ने उम्मीदवारों का ऐलान कर दिया है। इसमें हिंदूफोबिक ट्वीट के कारण विवादों में रही सायानी घोष का भी नाम है।

‘40 साल के मोहम्मद इंतजार से नाबालिग हिंदू का हो रहा था निकाह’: दिल्ली पुलिस ने हिंदू संगठनों के आरोपों को नकारा

दिल्ली के अमन विहार में 'लव जिहाद' के आरोपों के बाद धारा-144 लागू कर दी गई है। भारी पुलिस बल की तैनाती है।

आज मनसुख हिरेन, 12 साल पहले भरत बोर्गे: अंबानी के खिलाफ साजिश में संदिग्ध मौतों का ये कैसा संयोग!

मनसुख हिरेन की मौत के पीछे साजिश की आशंका जताई जा रही है। 2009 में ऐसे ही भरत बोर्गे की भी संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हुई थी।

पिछले 1000-1200 वर्षों से बंगाल में हो रही गोहत्या, कोई नहीं रोक सकता: ममता के मंत्री सिद्दीकुल्लाह का दावा

"उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने यहाँ आकर कहा था कि अगर भाजपा सत्ता में आती है, तो वह राज्य में गोहत्या को समाप्त कर देगी।"
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,301FansLike
81,971FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe