Wednesday, June 19, 2024
Homeदेश-समाजटाइम्स नाऊ की महिला पत्रकार को अंतरिम जमानत: जाति वाले एंगल पर पंजाब पुलिस...

टाइम्स नाऊ की महिला पत्रकार को अंतरिम जमानत: जाति वाले एंगल पर पंजाब पुलिस ने घेरा, जाति वाले एंगल पर ही हाईकोर्ट ने पुलिस को दिया झटका

निचली अदालत ने पहले रिपोर्टर भावना किशोर को 14 दिनों के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया था। उस आदेश के अनुसार भावना को 19 मई तक न्यायिक हिरासत में रहना था।

पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट ने टाइम्स नाउ नवभारत की रिपोर्टर भावना किशोर को अंतरिम जमानत दे दी है। भावना किशोर मामले की सुनवाई करते हुए पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट ने जाति वाले एंगल पर टिप्पणी की। कोर्ट ने सवालिया लहजे में कहा कि जो पत्रकार बाहर से रिपोर्टिंग करने आई, उसको किसी स्थानीय आदमी की जाति के बारे में कैसे पता चल जाएगा?

टाइम्स नाउ नवभारत की रिपोर्टर भावना किशोर के वकील चेतन मित्तल ने कोर्ट में तर्क दिया कि भावना की गिरफ्तारी गैरकानूनी है। पूरे मामले को सुनने के बाद हाईकोर्ट ने अंतरिम जमानत का आदेश दिया। इस मामले में हालाँकि सोमवार (8 मई, 2023) को रेग्युलर बेल पर सुनवाई होगी।

इससे पहले निचली अदालत ने रिपोर्टर भावना किशोर को 14 दिनों के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया था। भावना को 19 मई तक न्यायिक हिरासत में भेजने का आदेश निचली अदालत ने दिया था।

टाइम्स नाऊ नवभारत की पत्रकार भावना किशोर और पंजाब पुलिस

पंजाब पुलिस ने टाइम्स नाऊ नवभारत की पत्रकार भावना किशोर को हिरासत में लिया था। वजह बताई गई – पत्रकार को एक एक्सीडेंट केस में पुलिस ने पकड़ा। भावना किशोर ने किसी शख्स पर जातिगत टिप्पणी भी की, इसलिए SC-ST एक्ट भी लगाया गया।

भावना की गिरफ्तारी के बाद हालाँकि सोशल मीडिया पर लगातार उनकी रिहाई की माँग उठी। राजनीतिक पार्टियों ने भी पंजाब पुलिस के इस एक्शन को लेकर सवाल उठाए।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

किताब से बहती नदी, शरीर से उड़ते फूल और खून बना दूध… नालंदा की तबाही का दोष हिन्दुओं को देने वाले वामपंथी इतिहासकारों का...

बख्तियार खिजली को क्लीन-चिट देने के लिए और बौद्धों को सनातन से अलग दिखाने के लिए वामपंथी इतिहासकारों ने नालंदा विश्वविद्यालय को तबाह किए जाने का दोष हिन्दुओं पर ही मढ़ दिया। इसके लिए उन्होंने तिब्बत की एक किताब का सहारा लिया, जो इस घटना के 500 साल बाद लिखी गई थी और जिसमें चमत्कार भरे पड़े थे।

कनाडा का आतंकी प्रेम देख भारत ने याद दिलाया कनिष्क ब्लास्ट, 23 जून को पीड़ितों को दी जाएगी श्रद्धांजलि: जानिए कैसे गई थी 329...

भारत ने एयर इंडिया के विमान कनिष्क को बम से उड़ाने की बरसी याद दिलाते हुए कनाडा में वर्षों से पल रहे आतंकवाद को निशाने पर लिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -