Saturday, June 22, 2024
Homeदेश-समाजमजहब-ए-इस्लाम का मजाक बनाने वाली नुसरत इस्लाम से खारिज, बरेलवी मसलक ने जारी किया...

मजहब-ए-इस्लाम का मजाक बनाने वाली नुसरत इस्लाम से खारिज, बरेलवी मसलक ने जारी किया फतवा

उलेमा ने कहा है कि मजहब-ए-इस्लाम के दायरे को जो भी पार करता है वो इस्लाम से खारिज हो जाता है। नुसरत जहां ने ऐसी गुस्ताखी की है कि यदि वे फिर से इस्लाम धर्म में आना चाहेंगी तो उन्हें तौबा करनी होगी।

इस्लाम को छोड़कर दूसरे धर्म में शादी करने के कारण नुसरत जहां लगातार इस्लामिक कट्टरपंथियों के गुस्से का शिकार हो रही हैं। बंगाली अभिनेत्री और टीएमसी सांसद नुसरत जहां कोलकाता में इस्कॉन रथयात्रा के दौरान आरती को लेकर बरेलवी मसलक के उलेमा के निशान पर आ गई हैं। उलेमा ने नुसरत जहां के इस किरदार को सियासी रूप दिया है।

आरती करते हुए नुसरत जहां का वीडियो, फोटो सोशल मीडिया पर वायरल होते ही उलेमा ने अपनी प्रतिक्रिया दी हैं। उलेमा ने कहा है कि मजहब-ए-इस्लाम के दायरे को जो भी पार करता है वो इस्लाम से खारिज हो जाता है। नुसरत जहां ने ऐसी गुस्ताखी की है कि यदि वे फिर से इस्लाम धर्म में आना चाहेंगी तो उन्हें तौबा करनी होगी। उलेमा ने कहा कि ऐसे लोग सियासत के लिए मजहब को बदनाम करते हैं।

इस्कॉन रथयात्रा में शामिल होने के बाद हाल ही में व्यवसायी निखिल जैन से शादी रचाने वाली नुसरत ने अपने खिलाफ जारी कथित फतवे पर कहा था, “फालतू चीजों पर मैं ध्यान नहीं देती। मैं अपना धर्म जानती हूँ। मैं जन्‍म से मुस्लिम हूँ और आज भी मुस्लिम हूँ। यह आस्‍था का मामला है। इसे आपको अपने अंदर से महसूस करना होता है न कि अपने दिमाग से।” लेकिन शायद उलेमा को उनका यह बयान ख़ास पसंद नहीं आया है।

‘सुर्ख़ियों में बने रहने के लिए किया मजहब को बदनाम’

देवबंद के बाद बरेलवी मसलक के उलेमा ने आरती करने पर एतराज जताया है। उलेमा ने कहा कि सियासत करने या सुर्खियों में छाए रहने के लिए मजहब को बदनाम किया जा रहा है। मुफ्ती मुहम्मद गुलाम रजवी ने कहा कि इस्लाम ने औरतों को उनके अधिकार दिए हैं। सियासत करना अलग है लेकिन गैर शरई काम करना इस्लाम के खिलाफ है। जो भी शख्स मजहब-ए-इस्लाम का दायरा पार करता है, वो खुद बे खुद इस्लाम से खारिज हो जाता है। नुसरत जहां ने भी ऐसा ही किया है। अगर उन्हें फिर से इस्लाम धर्म में आना है तो तौबा करनी होगी।

‘इस्लाम में आरती करना है मना’

मुफ्ती सय्यद कफील अहमद हाशमी ने नुसरत को लेकर कहा कि आरती करना इस्लाम में मना है। इस तरह के काम करना शरीयत के खिलाफ माना जाता है। सियासत के लिए मजहब को बदनाम करना ठीक नहीं है। शरीयत कानून में इसकी सख्त मनाही है। नुसरत जहां ने गैर शरई काम किया है। बरेलवी मसलक के उलेमा ने कहा कि गैर शरई काम करने वालों के लिए दरगाह आला हजरत से फतवा भी जारी हो चुका है। इस तरह के फतवे सभी पर लागू हो जाते हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आज भी ‘रलिव, गलिव, चलिव’ ही कश्मीर का सत्य, आखिर कब थमेगा हिन्दुओं को निशाना बनाने का सिलसिला: जानिए हाल के वर्षों में कब...

जम्मू कश्मीर में इस्लाम के नाम पर लगातार हिन्दू प्रताड़ना जारी है। 2024 में ही जिहाद के नाम पर 13 हिन्दुओं की हत्याएँ की जा चुकी हैं।

CM केजरीवाल ने माँगे थे ₹100 करोड़, हमने ₹45 करोड़ का पता लगाया: ED ने दिल्ली हाई कोर्ट को बताया, कहा- निचली अदालत के...

दिल्ली हाई कोर्ट ने मुख्यमंत्री और AAP मुखिया अरविन्द केजरीवाल की नियमित जमानत पर अंतरिम तौर पर रोक लगा दी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -