Friday, June 21, 2024
Homeदेश-समाज'वनवासियों की संस्कृति सुरक्षित रखेंगे': ईसाई धर्मांतरण के खिलाफ आदिवासी संगठन ने फूँका बिगुल,...

‘वनवासियों की संस्कृति सुरक्षित रखेंगे’: ईसाई धर्मांतरण के खिलाफ आदिवासी संगठन ने फूँका बिगुल, छत्तीसगढ़ में ‘महा अभियान’

छत्तसगढ़ के जशपुर जिले में ईसाई मिशनरियों द्वारा भोले-भाले आदिवासियों को अच्छे जीवन का लालच देकर उनके मतांतरण की खबरें सामने आती ही रहती है।

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) में ईसाई धर्मान्तरण (Conversion) का मसला लंबे समय से चल रहा है। यहाँ ईसाई मिशनरी (Christian Missionaries) भोले-भाले लोगों का उपचार सभा के नाम पर ब्रेनवॉश करके उनका धर्मान्तरण करवाते रहे हैं। इसकी कई खबरें भी समय-समय पर सामने आते रहती हैं। इसी क्रम में राज्य के जशपुर में ईसाई मिशनरियों द्वारा आदिवासियों का धर्मान्तरण करवाने के खिलाफ जनजातीय सुरक्षा मंच ने मोर्चा खोल दिया है।

यहाँ ईसाई मिशनरियों के खिलाफ बड़ा जागरुकता महाअभियान छेड़ा गया है। रिपोर्ट के मुताबिक, इस जिले में ईसाई मिशनरियों द्वारा भोले-भाले आदिवासियों को अच्छे जीवन का लालच देकर उनके मतांतरण की खबरें सामने आती ही रहती है। इस मामले में आदिवासियों के हितों की रक्षा करने वाले संगठन जनजातीय सुरक्षा मंच के सदस्यों से पूर्व मंत्री गणेश राम भगत (Ganesh Ram bhagat) ने भी मुलाकात की है। बगीचा थाना क्षेत्र के पसिया पहुँचे भगत ने कहा कि वनवासियों की प्राचीन संस्कृति को सुरक्षित बनाए रखने के लिए इसी तरह से हर गाँव में युवाओं की एक टीम बनाई जाएगी।

नक्सलवाद, धर्मान्तरण और भ्रष्टाचार के खिलाफ शुरू से ही मुखर रहे गणेश राम भगत के मुताबिक, जशपुर जिले में अशांति फैलाने की कोशिशों का सहजता से ही पता चल रहा है। ईसाई मिशनरियों से जुड़े लोग लगातार विदेशी धन के जरिए लोगों को लालच देकर उनका धर्मान्तरण कराने का घिनौना काम कर रहे हैं। इसे समय रहते रोकने की जरूरत है। अगर इसे अभी नहीं रोका गया तो फिर इसे रोक पाना आसान नहीं होगा। भगत के मुताबिक, बचपन से उन्हें शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंनद सरस्वती का सानिध्य मुझे मिला है। इसी कारण से वो आज भी सनातन धर्म की रक्षा के लिए काम कर रहे हैं।

धर्मान्तरण के मुद्दे पर स्थानीय जनप्रतिनिधियों की चुप्पी बिफरे पूर्व मंत्री ने कहा कि धर्म की रक्षा के समय मौन होकर चुपचाप देख रहे इन नेताओं को चुनाव के समय जनता सबक सिखाएगी। गौरतलब है कि जशपुर जिले के पत्थलगाँव, जशपुर और बगीचा में चंगाई सभा के नाम पर ईसाई मिशनरी लोगों का धर्मान्तरण करवा रहे हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बिहार का 65% आरक्षण खारिज लेकिन तमिलनाडु में 69% जारी: इस दक्षिणी राज्य में क्यों नहीं लागू होता सुप्रीम कोर्ट का 50% वाला फैसला

जहाँ बिहार के 65% आरक्षण को कोर्ट ने समाप्त कर दिया है, वहीं तमिलनाडु में पिछले तीन दशकों से लगातार 69% आरक्षण दिया जा रहा है।

हज के लिए सऊदी अरब गए 90+ भारतीयों की मौत, अब तक 1000+ लोगों की भीषण गर्मी ले चुकी है जान: मिस्र के सबसे...

मृतकों में ऐसे लोगों की संख्या अधिक है, जिन्होंने रजिस्ट्रेशन नहीं कराया था। इस साल मृतकों की संख्या बढ़कर 1081 तक पहुँच चुकी है, जो अभी बढ़ सकती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -