Wednesday, August 4, 2021
Homeदेश-समाज'200 गज का प्लॉट दे या हमारी हसरतें पूरी कर': जेठ-ससुर की शबनम पर...

‘200 गज का प्लॉट दे या हमारी हसरतें पूरी कर’: जेठ-ससुर की शबनम पर नीयत बिगड़ी, शौहर ने दिया तीन तलाक

शबनम के मना करने पर ससुराल वालों ने मारपीट कर मायके भेज दिया। समाज में बात पहुँचने के बाद मामले पर पंचायत हुई। लेकिन ससुराल वालों ने साफ कहा कि जब तक माँग पूरी नहीं होगी, तब तक वह उसे घर में घुसने नहीं देंगे।

उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद के सिविल लाइंस थाना क्षेत्र में एक महिला ने अपने शौहर पर दहेज में 200 गज का प्लॉट न मिलने पर तीन तलाक देने का आरोप लगाया। वहीं जेठ और ससुर को लेकर उसने शिकायत की है कि वह दोनों उसके साथ अश्लील हरकत करते थे।

दैनिक जागरण की रिपोर्ट के अनुसार, पुलिस अधीक्षक के सामने शबनम नाम की महिला ने बताया कि पिछले साल उसका निकाह सिविल लाइंस के हिमगिरि सोनकपुर निवासी वसीम के साथ 26 मई को हुआ। निकाह के समय वसीम ने बताया कि वह अविवाहित है। लेकिन निकाह के बाद पता चला कि उसकी पहले से शादी है और पहली बीवी के साथ कोर्ट में मुकदमा चल रहा है।

शबनम के मुताबिक, वह सब जानते हुए अपने घर की इज्जत के लिए कुछ समय चुप रही, लेकिन बाद में वसीम समेत सभी ससुराल वाले उससे दहेज में 200 गज के प्लॉट की माँग करने लगे। इस बीच जेठ और ससुर ने भी उसके साथ अश्लील हरकतें शुरू कर दीं। दोनों का यही कहना था कि या तो दहेज में 200 गज का प्लॉट दे या फिर हमारी हसरतें पूरी कर।

शबनम के मना करने पर उसे 31 दिसंबर 2020 को ससुराल वालों ने मारपीट कर मायके भेज दिया। समाज में बात पहुँचने के बाद मामले पर पंचायत हुई। लेकिन ससुराल वालों ने साफ कहा कि जब तक माँग पूरी नहीं होगी, तब तक वह उसे घर में घुसने नहीं देंगे।

इसके बाद पीड़िता को एक दिन उसके शौहर वसीम का मैसेज आया, जिसमें उसने तीन बार तलाक लिख कर शबनम को अपनी ओर से तलाक दिया था। जब महिला ने इस ज्यादती पर शिकायत की, तो उसकी कोई सुनवाई नहीं हुई। बाद में वह अपनी अर्जी लेकर एसएसपी के पास गई। जहाँ पुलिस अधिकारी ने मामले को गंभीरता से लिया और सिविल लाइन्स पुलिस को घटना पर उचित कार्रवाई करने के निर्देश दिए।

बता दें कि इससे पहले यूपी के मुरादाबाद जिले में भोजपुर नगर पंचायत अध्यक्ष रहमत जहाँ ने अपने पति के ऊपर तीन तलाक का आरोप लगाया था। रहमत का कहना था कि भ्रष्टाचार में साथ न देने पर उनके शौहर ने उनकी इतनी पिटाई की, कि उन्हें अस्पताल में भर्ती कराने की नौबत आ गई।

इस केस में मालूम हो कि शफी अहमद पहले खुद भी पंचायत का चेयरमैन था, जिसके ख़िलाफ़ शिकायत करते हुए रहमत ने अपने देवर, शौहर के बहनोई और कुछ अन्य रिश्तेदारों पर बदसलूकी का आरोप लगाया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

ईसाई बने तो नहीं ले सकते SC वर्ग के लिए चलाई जा रही केंद्र की योजनाओं का फायदा: संसद में मोदी सरकार

रिपोर्ट्स बताती हैं कि आंध्र प्रदेश में ईसाई धर्म में कन्वर्ट होने वाले 80 प्रतिशत लोग SC वर्ग से आते हैं, जो सभी तरह की योजनाओं का लाभ उठाते हैं।

‘इस महीने का चेक नहीं पहुँचा या पेमेंट रोक दी गई?’: केजरीवाल के 2047 वाले विज्ञापन के बाद ट्रोल हुए ‘क्रांतिकारी पत्रकार’

सोशल मीडिया पर लोग 'क्रांतिकारी पत्रकार' पुण्य प्रसून बाजपेयी को ट्रोल कर रहे हैं। उन्होंने दिल्ली के CM अरविंद केजरीवाल की आलोचना की है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,912FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe