Tuesday, July 27, 2021
Homeदेश-समाजभ्रष्टाचार में साथ न देने पर नगर पंचायत अध्यक्ष रहमत जहाँ के शौहर शफी...

भ्रष्टाचार में साथ न देने पर नगर पंचायत अध्यक्ष रहमत जहाँ के शौहर शफी अहमद ने पीटा, दिया तीन तलाक

रहमत के मुताबिक उनके पति ने उनसे तीसरी शादी की थी। इससे पहले वो अपनी 2 बीवियों को छोड़ चुका है। पंचायत अध्यक्ष का आरोप है कि शफी अहमद उनके हस्ताक्षर से कुछ गलत आवंटन करने लगा, जिसका उन्होंने विरोध किया था। इस पर शफी ने उनके साथ मारपीट की है।

उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद जिले में नगर पंचायत अध्यक्ष रहमत जहाँ ने अपने पति पर तीन तलाक देने का आरोप लगाया है। रहमत जहाँ का यह भी आरोप है कि उनके पति ने उनकी पिटाई भी की है। मारपीट में जख्मी रहमत जहाँ को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती करवाने की नौबत भी आ गई। रहमत को उनके पति शफी अहमद ने सिर्फ इसलिए तीन तलाक दे दिया क्योंकि वो अपने पति के कहने पर भ्रष्टाचार के काम नहीं कर रही थीं।

इस मामले पर मुरादाबाद (ग्रामीण) के SP ने बताया, “आरोप है कि तीन तलाक दिया गया है और बदसलूकी का प्रयास किया गया है। FIR दर्ज़ कर ली गई है और आगे की कार्रवाई की जाएगी।” शफी अहमद पहले खुद भी पंचायत का चेयरमैन था। जिला अस्पताल में इलाज करा रहीं रहमत जहाँ का कहना है कि उनके पति के भाई, बहनोई और कुछ अन्य रिश्तेदारों ने भी उनके साथ बदसलूकी की है। 

रहमत के मुताबिक उनके पति ने उनसे तीसरी शादी की थी। इससे पहले वो अपनी 2 बीवियों को छोड़ चुका है। उनका कहना है कि मारपीट की वजह से उनके पैर और कमर में गंभीर चोट लगी है। रहमत ने बताया कि वह पिछले 9 महीने से अपने पति से अलग रह रही हैं। रविवार (जनवरी 10, 2021) देर रात पति शफी अपने अन्य परिजनों के साथ उनके घर आया और उन्हें एक साथ तीन तलाक दे दिया।

रहमत का यह कहना है कि भोजपुर नगर पंचायत की सीट महिला के लिए आरक्षित होने की वजह से शफी अहमद ने चुनाव मैदान में उन्हें उतारा था। वह चुनाव जीत भी गईं। पंचायत अध्यक्ष का आरोप है कि शफी अहमद उनके हस्ताक्षर से कुछ गलत आवंटन करने लगा, जिसका उन्होंने विरोध किया था। इस पर शफी ने उनके साथ मारपीट की है।

वहीं इस मामले पर एसपी देहात विद्या सागर मिश्र ने बताया, “इस संबंध में उनके द्वारा दिए गए प्रार्थना पत्र के आधार पर थाना भोजपुर पर सुसंगत धाराओं में अभियोग पंजीकृत कर लिया गया है। मामले में निष्पक्ष रूप से विवेचनात्मक कार्रवाई की जाएगी। हमारे पास आई तहरीर में कोई पार्टी नहीं लिखा हुआ है। हमारे पास उन्होंने पीड़िता के रूप में एप्लीकेशन दिया है, जिसके आधार पर हमने एफआईआर दर्ज कर ली है। आगे हम विधिक कार्रवाई करेंगे।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कारगिल कमेटी’ पर कॉन्ग्रेस की कुण्डली: लोकतंत्र की सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा राजनीतिक दृष्टिकोण का न हो मोहताज

हमें ध्यान में रखना होगा कि जिस लोकतंत्र पर हम गर्व करते हैं उसकी सुरक्षा तभी तक संभव है जबतक राष्ट्रीय सुरक्षा का विषय किसी राजनीतिक दृष्टिकोण का मोहताज नहीं है।

असम-मिजोरम बॉर्डर पर भड़की हिंसा, असम के 6 पुलिसकर्मियों की मौत: हस्तक्षेप के दोनों राज्‍यों के CM ने गृहमंत्री से लगाई गुहार

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट कर बताया कि असम-मिज़ोरम सीमा पर तनाव में असम पुलिस के 6 जवानों की जान चली गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,363FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe