इरफान और घोसे ने बहनोई का गला रेता, कटा सिर लेकर पहुँचे पुलिस स्टेशन

आरोपितों की बहन रजिया को सद्दाम कुछ साल पहले हैदराबाद ले गया था। बाद में वह संदिग्ध परिस्थितियों में मृत मिली थी। रजिया की मौत के लिए आरोपितों ने सद्दाम को दोषी ठहराया था।

तेलंगाना में शनिवार (जुलाई 20, 2019) को एक स्तब्ध करने वाली घटना घटी। दो भाइयों ने बहस होने पर अपने जीजा सद्दाम की गला काटकर हत्या कर दी। इसके बाद दोनों मृतक का कटा हुआ सिर लेकर नामपल्ली पुलिस थाने पहुँचे और आत्मसमर्पण कर दिया। घटना तेलंगाना के नालगोंडा जिले के नामपल्ली की है। आरोपितों ने घटना को सड़क पर भरी दोपहर में अंजाम दिया। आरोपितों के हाथ में मृतक का कटा हुआ सिर देखकर पुलिस भी हैरत में पड़ गई।

पुलिस ने बताया कि आरोपितों के खिलाफ आईपीसी की धारा 302 के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। उन्होंने कहा कि शुरुआती जाँच में पता चला है कि इरफान और घोसे ने सद्दाम की हत्या उस महिला की मौत का बदला लेने के लिए की है जिसे वो अपनी बहन मानते थे। कथित तौर पर आरोपितों की बहन रजिया को सद्दाम कुछ साल पहले हैदराबाद ले गया था। बाद में वह संदिग्ध परिस्थितियों में मृत मिली थी।

नालगोंडा जिले के एएसपी पद्मनाभ रेड्डी ने बताया कि रजिया का सद्दाम के साथ निकाह नहीं हुआ था। कथित तौर पर उसके सद्दाम के साथ संबंध थे। वह उसे हैदराबाद ले गया और वहाँ सरूरनगर के एक घर में रजिया को काम दिलाया। 2017 में रजिया ने सद्दाम के निकाह न करने पर कथित तौर पर आत्महत्या कर ली। रजिया की मौत के बाद सद्दाम ने बच्चों की देखभाल की जिम्मेदारी उठाने का वादा किया था। लेकिन जब उसने इससे इनकार कर दिया तो आरोपितों ने उसे मौत के घाट उतार दिया।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

सद्दाम के इनकार से घोसे और इरफान गुस्से में आ गए। घोसे ने पास में नारियल बेच रहे एक ठेले से चाकू उठा लिया। सद्दाम फिर भी नहीं डरा तो उसने उसकी गर्दन पर ताबड़तोड़ हमले किए। बाद में इरफान ने घुसे के हाथ से चाकू ले लिया और फिर उसने भी सद्दाम पर हमला किया। दोनों तब तक हमला करते रहे, जब तक सद्दाम का सिर धड़ से अलग नहीं हो गया।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

जेएनयू विरोध प्रदर्शन
छात्रों की संख्या लगभग 8,000 है। कुल ख़र्च 556 करोड़ है। कैलकुलेट करने पर पता चलता है कि जेएनयू हर एक छात्र पर सालाना 6.95 लाख रुपए ख़र्च करता है। क्या इसके कुछ सार्थक परिणाम निकल कर आते हैं? ये जानने के लिए रिसर्च और प्लेसमेंट के आँकड़ों पर गौर कीजिए।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

114,921फैंसलाइक करें
23,424फॉलोवर्सफॉलो करें
122,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: