Thursday, June 20, 2024
Homeदेश-समाजअल्लारखा बने 'विजय चौहान', अजीजुल जाने जाएँगे 'अनय ठाकुर' के नाम से: हनुमान मंदिर...

अल्लारखा बने ‘विजय चौहान’, अजीजुल जाने जाएँगे ‘अनय ठाकुर’ के नाम से: हनुमान मंदिर में 2 मुस्लिम युवकों की घर-वापसी, वेदमंत्रों के साथ गूँजे ‘जय श्री राम’ के नारे

घर-वापसी करने वाले अजीजुल ने खुद को सनातन धर्म में वापस आ कर बेहद खुश बताया। सनातनी बनने प्रेरणा की वजह के पीछे अजीजुल ने अपने पूर्वजों का हिन्दू होना कहा।

मध्य प्रदेश के जबलपुर में 2 मुस्लिमों युवकों ने सनातन धर्म में ‘घर-वापसी’ की है। घर-वापसी के बाद अब अजीजुल हसन अब ‘अनय ठाकुर’ के नाम से जाने जाएँगे। वहीं अल्लारखा खाँ अब ‘विजय चौहान’ बन चुके हैं। शनिवार (30 मार्च, 2024) को आयोजित इस घर वापसी के कार्यक्रम में इन दोनों युवकों ने अपने पूर्वजों को हिन्दू बताया। इन दोनों ने विधि-विधान से एक हिन्दू मंदिर में पूजा अर्चना की और भविष्य में सदा सनातनी ही बने रहने का संकल्प लिया।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुतबिक, घर-वापसी का यह कार्यक्रम जबलपुर शहर के सदर थाना क्षेत्र में सम्पन्न हुआ। यहाँ के दक्षिणमुखी हनुमान मंदिर में 30 मार्च को हिन्दू संगठन से जुड़े सदस्यों का जमावड़ा रहा। यहाँ चंदेरी जिला निवासी अजीजुल हसन और जबलपुर के ही अल्लारखा घर वापसी करने पहुँचे थे। मंदिर के पुजारी अनिल शर्मा ने इन दोनों की विधि-विधान से घर वापसी करवाई। दोनों ने वैदिक मंत्रों के बीच हवन और पूजन किया। बाद में वहाँ मौजूद धर्मसेना संगठन के सदस्यों में जय श्रीराम के नारे लगाए।

घर-वापसी करने वाले अजीजुल ने खुद को सनातन धर्म में वापस आ कर बेहद खुश बताया। सनातनी बनने प्रेरणा की वजह के पीछे अजीजुल ने अपने पूर्वजों का हिन्दू होना कहा। अजीजुल ने शुरुआत से ही खुद को हिन्दू धर्म की तरफ आकर्षित बताया। उन्होंने कहा, “मैं कभी कुरान नहीं पढ़ा। मैंने कभी नमाज नहीं पढ़ी। मैं हिंदी माध्यम से सरस्वती विद्या मंदिर का छात्र रहा हूँ।” वहीं जबलपुर के अल्लारखा ने भी अपने पूर्वजों को सनातनी बताया। उन्होंने कहा कि वो अपने पूर्वजों के धर्म में पुनः आ गए हैं।

अल्लारखा बचपन से ही अनाथ हो गए थे। अल्लारखा के बारे में भी बताया जा रहा है कि उसने कभी किसी मौलवी आदि से सम्पर्क नहीं रखा था। अल्लारखा का भी शुरुआत से ही हिन्दू धर्म की तरफ झुकाव था। घर वापसी कार्यक्रम सम्पन्न करवाने वाले योगेश अग्रवाल ने इस मौके पर मीडिया से बात की। उन्होंने बताया कि भारत के हर मुस्लिम और ईसाई के पूर्वज कहीं न कहीं हिन्दू ही थे। धर्मसेना ने आह्वान किया कि वो हर ईसाई और मुस्लिम की घर वापसी का स्वागत करेंगे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

14 फसलों पर MSP की बढ़ोतरी, पवन ऊर्जा परियोजना, वाराणसी एयरपोर्ट का विस्तार, पालघर का पोर्ट होगा दुनिया के टॉप 10 में: मोदी कैबिनेट...

पालघर के वधावन पोर्ट की क्षमता अब 298 मिलियन टन यूनिट की जाएगी। इससे भारत-मिडिल ईस्ट कॉरिडोर भी मजबूत होगा। 9 कंटेनर टर्मिनल होंगे।

किताब से बहती नदी, शरीर से उड़ते फूल और खून बना दूध… नालंदा की तबाही का दोष हिन्दुओं को देने वाले वामपंथी इतिहासकारों का...

बख्तियार खिजली को क्लीन-चिट देने के लिए और बौद्धों को सनातन से अलग दिखाने के लिए वामपंथी इतिहासकारों ने नालंदा विश्वविद्यालय को तबाह किए जाने का दोष हिन्दुओं पर ही मढ़ दिया। इसके लिए उन्होंने तिब्बत की एक किताब का सहारा लिया, जो इस घटना के 500 साल बाद लिखी गई थी और जिसमें चमत्कार भरे पड़े थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -