Wednesday, May 25, 2022
Homeदेश-समाजसरकारी मास्टर हारून अली ने 11 साल के वंश के चेहरे पर पेन से...

सरकारी मास्टर हारून अली ने 11 साल के वंश के चेहरे पर पेन से किए वार, मुँह पर थूका… क्योंकि उनकी कार साफ नहीं की

"प्रिंसिपल हारून ने मेरे बेटे को अपनी कार साफ करने के लिए कहा। जब मेरे बेटे ने मना कर दिया तो उसके माथे और सिर पर पेन से वार किया। उसके मुँह पर थूक दिया, कॉलर पकड़ कर पटक दिया। गंदी-गंदी गालियाँ दीं।"

उत्तर प्रदेश के बागपत जिले में सरकारी स्कूल के एक प्रिंसिपल पर एक छात्र को बेरहमी से पीटने का आरोप लगा है। पीड़ित छात्र का नाम वंश है, जो क्लास 6 में पढ़ता है। आरोपित प्रिंसिपल का नाम हारून अली मुनव्वर है।

शिकायत के मुताबिक प्रिंसिपल हारून अली मुनव्वर कार साफ़ न करने से छात्र से नाराज थे। इस घटना के विरोध में हिन्दू जागरण मंच ने कोतवाली में हंगामा किया है। आरोपित प्रिंसिपल सस्पेंड कर दिया गया है। पुलिस में घटना की शिकायत 7 मई 2022 (शनिवार) को की गई है। पुलिस को दी गई शिकायत में पीड़ित छात्र की उम्र 11 साल बताई गई है। पीड़ित के पिता राकेश के मुताबिक:

“आरोपित प्रिंसिपल हारून पर पहले ही कई गंभीर केस दर्ज हैं। हर दिन की तरह उनका बेटा स्कूल गया तो उसे प्रिंसिपल ने उसे अपनी कार साफ करने के लिए कहा। जब मेरे बेटे ने मना कर दिया तो बेटे के माथे और सिर पर पेन से वार किया गया। उसके मुँह पर थूक दिया गया और उसका कॉलर पकड़ कर पटक दिया गया। बाद में वंश को गंदी-गंदी गालियाँ दी गईं। घटना के बाद पीड़ित छात्र काफी डरा हुआ है।”

पुलिस को दी गई शिकायत

बेसिक शिक्षा अधिकारी बागपत ने आरोपित प्रिंसिपल हारून को सस्पेंड कर दिया है। वहीं अपनी सफाई में प्रिंसिपल हारून अली ने कहा कि कक्षा 6 के 11 वर्षीय छात्र पर स्कूल में दंगा करने का आरोप है। साथ ही हारून ने अपने ऊपर लगे सभी आरोप बेबुनियाद बताए हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक पीड़ित परिवार बड़का गाँव का है, जो बागपत की बड़ौत कोतवाली इलाके में पड़ता है। इंस्पेक्टर कोतवाली मानवीर सिंह ने इस पूरे मामले की जाँच कर उचित कार्रवाई का भरोसा दिया है।

ऑपइंडिया ने इस मामले में पीड़ित बच्चे के पिता राकेश से बात की। उन्होंने बताया, “अभी तक पुलिस की तरफ से कोई कार्रवाई नहीं की गई है। केस में FIR दर्ज हो गई है।” वहीं पीड़ित के वकील निशांत ने ऑपइंडिया को बताया:

“पीड़ित परिवार OBC समुदाय से है। घटना में सस्पेंड करने की जो कार्रवाई हुई है, वो बस दिखाने के लिए की गई है। अभी तक पुलिस द्वारा कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया है। हमें ये भी जानकारी नहीं है कि कौन सी धाराएँ लगाई गई हैं।

वकील निशांत ने आगे बताया, “केस दर्ज किए जाने के बाद लगातार पीड़ित परिवार को धमकियाँ मिल रही हैं। आरोपित प्रिंसिपल कुछ लोगों को लेकर लगातार केस वापस लेने का दबाव बना रहा है। पीड़ित परिवार काफी गरीब है। प्रिंसिपल हारून इससे पहले भी कई बच्चों के साथ मारपीट कर चुका है। उसका क्लास टाइम में स्कूल में सोते हुए भी वीडियो वायरल हो चुका है। हमने उसकी बच्चों से कार साफ़ करते हुए भी वीडियो बनाई है।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मुस्लिम छात्रों के झूठे आरोपों पर अजीम प्रेमजी यूनिवर्सिटी ने किया निलंबित’: हिन्दू छात्र का आरोप – मिली धर्म ने समझौता न करने की...

तिवारी और उनके दोस्तों को कॉलेज में सार्वजनिक रूप से संघी, भाजपा के प्रवक्ता और भाजपा आईटी सेल का सदस्य कहा जाता था।

आतंकी यासीन मलिक को उम्रकैद: टेरर फंडिग में सजा के बाद बजे ढोल, श्रीनगर में कट्टरपंथियों ने की पत्थरबाजी

कश्मीर में कश्मीरी हिंदुओं के नरसंहार के आरोपित यासीन मलिक को टेरर फंडिंग केस में 25 मई को सजा मुकर्रर हुई।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
188,790FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe