Wednesday, December 1, 2021
Homeदेश-समाजखालिस्तानी आतंकियों को हथियार देने वाला आसिफ़ साथी के साथ पकड़ा गया, यूपी ATS...

खालिस्तानी आतंकियों को हथियार देने वाला आसिफ़ साथी के साथ पकड़ा गया, यूपी ATS ने शामली में दबोचा

आसिफ़ और उसके साथी के तार खालिस्तानी आतंकी परमजीत सिंह उर्फ़ पम्मा से जुड़े हैं। पम्मा, 2016 में पंजाब में हुई आठ हिन्दू-सिख नेताओं की हत्या का मुख्य साज़िशकर्ता है। उसे इंग्लैंड राजनीतिक शरण प्राप्त है। पंजाब में उसके ख़िलाफ़ तीन वारंट जारी हैं।

उत्तर प्रदेश एटीएस (आतंक-रोधी दस्ता) ने शनिवार (23 नवंबर) देर शाम शामली से खालिस्तानी आतंकवादियों के मॉड्यूल को हथियार सप्लाई करने वाले आरोपितों को गिरफ़्तार किया है। इनके पास से .32 बोर की पिस्टल, कारतूस और मैगजीन के अलावा तमंचा भी बरामद हुआ है। पकड़े गए हथियार सप्लायर राज सिंह और आसिफ़ निवासी गाँव जलालपुर, थाना बाबरी, शामली से हैं। यूपी एटीएस की टीम दोनों आरोपितों से पूछताछ में जुट गई है।

ख़बर के अनुसार, पंजाब पुलिस ने जब इस मॉड्यूल को चला रहे लखविंदर सिंह और उसके अन्य साथियों से पूछताछ की तो यह पता चला कि उन लोगों को शामली ज़िले का राज सिंह नामक व्यक्ति हथियारों के साथ दस हैंड ग्रेनेड, 1 पिस्टल और 20 कारतूस की सप्लाई देने वाला था।

एटीएस के अधिकारियों के मुताबिक़, राज सिंह पंजाब पुलिस की स्पेशल सेल द्वारा वांछित था। जाँच एजेंसी उससे यह जानने की कोशिश कर रही है कि वह ग्रेनेड कहाँ से लाता था। हालाँकि, दोनों ख़ुद को मज़दूर बता रहे हैं। फ़िलहाल, यूपी एटीएस और खुफिया एजेंसियां आरोपियों से पूछताछ कर रही है।

एटीएस ने एक विज्ञप्ति में बताया कि उसे सूचना मिली थी कि शामली ज़िले के जलालपुर का रहने वाला राज सिंह नामक व्यक्ति खालिस्तानी आतंकवादियों को विस्फोटक सप्लाई कर रहा था। उसे और उसके साथी आसिफ़ को शामली में गुरुद्वारा तिराहे के पास से गिरफ़्तार किया गया। विज्ञप्ति में इस बात का भी उल्लेख किया गया कि आदर्श मंडी थाने में मामला दर्ज कर लिया गया है और जाँच जारी है।

ख़बर के अनुसार, आसिफ़ और उसके साथी के तार खालिस्तानी आतंकी परमजीत सिंह उर्फ़ पम्मा से जुड़े हैं।
पम्मा, 2016 में पंजाब में हुई आठ हिन्दू-सिख नेताओं की हत्या का मुख्य साज़िशकर्ता है। पंजाब में उसके ख़िलाफ़ तीन वारंट जारी हैं।

बता दें कि 2016 में ही पंजाब और राजस्थान की एटीएस टीम पम्मा को पकड़ने के लिए पुर्तगाल जा चुकी है। हालाँकि, वो कोशिश नाक़ामयाब रही, जिसकी वजह से अब उसके प्रत्यर्पण की कोशिशें चल रही हैं। इससे पहले पम्मा ने 2009 में ISI से सम्पर्क करके पंजाब में आतंकी गतिविधियों को अंजाम देने के लिए बॉर्डर पार से 9 किलो आरडीएक्स, 8 पिस्टल, 400 कारतूस व डोटोनेटर का ज़ख़ीरा भारत भिजवाया था।

यह भी पढ़ें: एक महिला सहित पंजाब से 2 खालिस्तानी आतंकी गिरफ़्तार, हिंदूवादी नेता थे निशाने पर

यह भी पढ़ें: पाकिस्तान ने ड्रोन से गिराए हथियार, बड़े हमले की साजिश नाकाम, 4 खालिस्तानी आतंकी गिरफ्तार 

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कभी ज़िंदा जलाया, कभी काट कर टाँगा: ₹60000 करोड़ का नुकसान, हत्या-बलात्कार और हिंसा – ये सब देश को देकर जाएँगे ‘किसान’

'किसान आंदोलन' के कारण देश को 60,000 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा। हत्या और बलात्कार की घटनाएँ हुईं। आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

बारबाडोस 400 साल बाद ब्रिटेन से अलग होकर बना 55वाँ गणतंत्र देश: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का शासन पूरी तरह से खत्म

बारबाडोस को कैरिबियाई देशों का सबसे अमीर देश माना जाता है। यह 1966 में आजाद हो गया था, लेकिन तब से यहाँ क्वीन एलीजाबेथ का शासन चलता आ रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,754FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe