Tuesday, June 25, 2024
Homeदेश-समाज'योगी राज में नहीं लगता डर, हमेशा मदद को तैयार रहती है यूपी पुलिस':...

‘योगी राज में नहीं लगता डर, हमेशा मदद को तैयार रहती है यूपी पुलिस’: रात को 2 बजे भी ई-रिक्शा चलाती हैं बुर्कानशीं नजमा, शौहर की मौत के बाद कर रहीं मेहनत

नजमा कहती हैं कि वो दिन हो या रात कभी भी ई-रिक्शा चलाती हैं। उन्हें उत्तर प्रदेश पुलिस और योगी आदित्यनाथ सरकार पर पूरा भरोसा है।

महिला सुरक्षा को लेकर उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने कई कदम उठाए हैं, जिनकी तारीफ़ होती रही है। अब मुरादाबाद जिले से इसका ताज़ा उदाहरण सामने आया है। यहाँ रहने वाली नजमा नामक महिला न केवल दिन बल्कि रात में भी ई-रिक्शा चलाती हैं। नजमा का कहना है कि योगी राज में उन्हें रात में डर नहीं लगता। पुलिस हमेशा मदद करती है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, नजमा मुरादाबाद के करुला इस्लाम नगर में रहती हैं। साल 2010 में पति की मौत के बाद उनके पास घर चलाने का कोई जरिया नहीं था। बेटा वेल्डिंग का काम करता है, लेकिन उससे भी उतनी अधिक कमाई नहीं हो पाती थी। ऐसे में उन्होंने सिलाई का काम शुरू किया, लेकिन अधिक पैसे नहीं मिल रहा था। इसीलिए, नजमा ने ई-रिक्शा चलाकर पैसे कमाना शुरू किया।

नजमा कहती हैं कि वो दिन हो या रात कभी भी ई-रिक्शा चलाती हैं। उन्हें उत्तर प्रदेश पुलिस और योगी आदित्यनाथ सरकार पर पूरा भरोसा है। इसलिए रात के 2 बजे भी रिक्शा चलाने में डर नहीं लगता। पुलिसकर्मी हमेशा मदद के लिए तैयार रहते हैं। नजमा बुर्का पहनकर ही रिक्शा चलाती हैं। अब वह हज और उमरा करना चाहती हैं। इसलिए भी उन्हें पैसों की जरूरत है। अब वो रिक्शा चलाकर धीरे-धीरे पैसे इकट्ठा कर रही हैं।

नजमा का यह भी कहना है कि महिलाओं को आत्मनिर्भर बनना चाहिए। आज के समय में यह बहुत जरूरी है। उन्होंने सलाह दी कि महिलाओं को किसी को भी दूसरे के पैसों पर निर्भर नहीं रहना चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि ई-रिक्शा में महिला ड्राइवर होने के चलते लोग उनका रिक्शा अलग से बुक करके ले जाते हैं।

घर चलाने को लेकर नजमा कहती हैं कि बेटे और उनकी कमाई मिलाकर 800-900 रुपए हो जाते हैं, इसीलिए घर अच्छे से चल जाता है। बता दें कि नजमा मुरादाबाद में रिक्शा चलाने वाली पहली महिला हैं। वह बीते 4 माह से यह काम कर रहीं हैं। इससे अन्य लोगों को भी प्रेरणा मिल रही है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जूलियन असांजे इज फ्री… विकिलीक्स के फाउंडर को 175 साल की होती जेल पर 5 साल में ही छूटे: जानिए कैसे अमेरिका को हिलाया,...

विकिलीक्स फाउंडर जूलियन असांजे ने अमेरिका के साथ एक डील कर ली है, इसके बाद उन्हें इंग्लैंड की एक जेल से छोड़ दिया गया है।

‘जिन्होंने इमरजेंसी लगाई वे संविधान के लिए न दिखाएँ प्यार’: कॉन्ग्रेस को PM मोदी ने दिखाया आईना, आपातकाल की 50वीं बरसी पर देश मना...

इमरजेंसी की 50वीं बरसी पर पीएम मोदी ने कॉन्ग्रेस पर निशाना साधा। साथ ही लोगों को याद दिलाया कि कैसे उस समय लोगों से उनके अधिकार छीने गए थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -