Friday, August 19, 2022
Homeदेश-समाजजान दे भतीजे को जिंदगी दे गई बुआ: रेलवे पटरी में फँसा भतीजे का...

जान दे भतीजे को जिंदगी दे गई बुआ: रेलवे पटरी में फँसा भतीजे का पैर, नहीं निकाल पाई तो उसके ऊपर लेट गई, शरीर के हुए 4 टुकड़े

मृतक शशिबाला माँ-बाप की इकलौती संतान थी। उसकी माँ आशा की 12 साल पहले बीमारी के कारण मौत हो गई थी। उस समय वह 8 साल की थी। रिश्तेदारों ने उसके पिता पर दूसरी शादी का दबाव बनाया था, लेकिन बेटी की वजह से उन्होंने मना कर रदिया था।

उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद से एक ऐसी खबर सामने आई है, जिसे पढ़ने के बाद आपकी आँखों से आँसू निकल आएँगे। यह घटना मुरादाबाद के भैंसिया की है, जहाँ गुरुवार (9 दिसंबर 2021) को तीन साल के बच्चे को उसकी बुआ अपनी जान गँवाकर नया जीवन दे गई। भतीजे की जान बचाने के लिए वह रेलवे पटरी पर लेट गई। इससे भतीजे आरव की जान तो बच गई, लेकिन बुआ के ऊपर से ट्रेन गुजरने से उसके शरीर के चार टुकड़े हो गए।

दरअसल, कुंदरकी थाना क्षेत्र के हुसैनपुर गाँव की रहने वाली 20 वर्षीय शशिबाला अपनी ममेरी बहन की शादी में पापा के साथ ननिहाल भैंसिया आई थी। गुरुवार शाम को कुआँ पूजन के दौरान शशिबाला पूरे परिवार के साथ मुरादाबाद-लखनऊ रेल लाइन के दूसरी तरफ गई हुई थी।

कुआँ पूजन से लौटते हुए शशिबाला ने देखा कि उसके ममेरे भाई आनंद प्रकाश के तीन साल के बेटे आरव का पैर पुल पर रेलवे लाइन में फँस गया है। इस दौरान उसने बच्चे का पैर निकालने की लाख कोशिश की, लेकिन वह इसमें सफल नहीं हो पाई। उसने देखा कि एक तेज रफ्तार ट्रेन उसी की ओर आ रही है। इसके बावजूद वह बच्चे का पैर निकालने का प्रयास करती रही, लेकिन ट्रेन के काफी पास आने के बाद शशिबाला बच्चे को ट्रैक पर लिटाकर उसके ऊपर लेट गई। इससे ट्रेन उन दोनों के ऊपर से गुजर गई।

इस घटना को देखकर वहाँ मौजूद महिलाओं के होश उड़ गए। उन्होंने ट्रैक पर जाकर देखा तो शशिबाला के शरीर के चार टुकड़े हो गए थे, लेकिन बच्चा सुरक्षित था। इसके बाद से शादी वाले घर में खुशी की जगह मातम पसर गया। कटघर थाना प्रभारी आरपी शर्मा ने बताया कि पोस्टमार्टम के बाद युवती के शव को परिजनों को सौंप दिया गया है। वहीं, इस घटना में आरव को हल्की चोट आई है, जिसका अस्पताल में इलाज चल रहा है।

बता दें कि बेटी की मौत के बाद से पिता की स्थिति बेहद खराब है। उन्होंने बताया कि शशिबाला उनकी इकलौती संतान थी। उसकी माँ आशा की 12 साल पहले बीमारी के कारण मौत हो गई थी। उस समय वह 8 साल की थी। रिश्तेदारों ने उन पर दूसरी शादी करने का दबाव बनाया था, लेकिन बेटी की वजह से उन्होंने मना कर दिया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘10000 महिलाओं के साथ सोया हूँ’: विरोध करने पर रेप पीड़िता से पूर्व फुटबॉलर ने कहा था, आरोप – नंगा कर के 20 मिनट...

बेंजामिन मेंडी पर रेप का आरोप लगाने वाली एक पीड़िता ने बताया कि पूर्व फुटबॉलर ने उससे कहा था कि वह 10,000 महिलाओं के साथ सो चुका है।

‘कार खरीदी, गर्लफ्रेंड्स व सब्जी वालों का धन्यवाद’: व्यंग्य को सच समझ रवीश कुमार ने दी बधाई, जवाब मिला – मजाक है, वामपंथ की...

मधुर सिंह ने कार खरीदने वाली अपनी पोस्ट में अपनी एक्स व वर्तमान गर्लफ्रेंड्स एवं सब्जी वालों को धन्यवाद दिया। रवीश कुमार व्यंग्य को समझ नहीं पाए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
215,277FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe