Wednesday, June 19, 2024
Homeदेश-समाज'तुम मजहब की बेइज्जती करवा रही हो': रामलला के दर्शन के लिए मुंबई से...

‘तुम मजहब की बेइज्जती करवा रही हो’: रामलला के दर्शन के लिए मुंबई से पैदल निकली शबनम तो मुस्लिम महिलाओं ने घेरा, बोली पीड़िता – बचपन में श्रीराम में विश्वास

यहीं पर अयोध्या की तरफ जाते समय एक सफ़ेद रंग की कार में सवार कुछ मुस्लिम महिलाएँ आकर उनसे झगड़ने लगीं। इन महिलाओं ने कहा कि शबनम मजहब की बेइज्जती करवा रही हैं।

मुंबई से अयोध्या में रामलला के दर्शन के लिए पैदल निकली शबनम शेख के साथ उत्तर प्रदेश के अमेठी में कुछ मुस्लिम महिलाओं ने दुर्व्यवहार किया। मुस्लिम महिलाओं ने उनके पहनावे को लेकर टिप्पणियाँ की और काफी सारी बातें कहीं। शबनम को परेशान करने वाली महिलाओं पर पुलिस ने कार्रवाई कर दी है।

जानकारी के अनुसार, मुंबई की रहने वाली शबनम शेख 37 दिन पहले अपने दो दोस्तों के साथ पैदल रामलला के दर्शन के लिए निकली थीं। इस यात्रा में वह बुर्का पहनकर चल रही हैं और हाथ में भगवा झंडा लिया हुआ है। शनिवार (27 जनवरी, 2024) को वह अमेठी के जगदीशपुर पहुँची थी।

यहीं पर अयोध्या की तरफ जाते समय एक सफ़ेद रंग की कार में सवार कुछ मुस्लिम महिलाएँ आकर उनसे झगड़ने लगीं। इन महिलाओं ने कहा कि शबनम मजहब की बेइज्जती करवा रही हैं। उन्होंने शबनम के बुर्का पहनने पर भी टिप्पणियाँ की। कार सवार महिलाओं को शबनम से जवाब भी दिया। उन्होंने महिलाओं से पूछा कि क्या वह बुर्का उतार कर साड़ी पहन लें।

शबनम के साथ हुए इस दुर्व्यवहार की वीडियो भी सामने आई है। शबनम ने यह वीडियो अपने इंस्टाग्राम पर भी अपलोड की है। जानकारी के अनुसार, यह वीडियो वायरल होने बाद पुलिस ने शबनम को परेशान करने वाली महिलाओं पर कार्रवाई की है। उनके परेशान करने वाली महिला का पुलिस ने चालान कर दिया है जबकि उस गाड़ी को सीज कर दिया।

गौरतलब है कि मुंबई की रहने वाली शबनम अब अयोध्या से मात्र 70 किलोमीटर दूर हैं। वह एक दिन में लगभग 35 किलोमीटर चलती हैं। वह अपने सोशल मीडिया के माध्यम से लोगों को जानकारी देती हैं कि वह कहाँ पहुँचने वाली हैं। रास्ते में हिन्दू संगठन उनका सम्मान भी कर रहे हैं। वह ‘जय श्री राम’ के नारे लगाते हुए चल रही हैं।

शबनम ने इससे पहले मीडिया को बताया था कि वह रामजी में बचपन से ही विश्वास रखती थीं। शबनम ने बताया था कि वह मुस्लिम परिवार से हैं लेकिन उनकी सभी धर्मों में आस्था है। शबनम ने अपने विषय में बताया था कि वह बीकॉम की छात्रा हैं और बचपन से ही हिन्दू इलाके में पली बढ़ी हैं।

अयोध्या को पैदल जाने वाली शबनम बताती हैं कि उनकी भाषा और जीवनशैली सब हिन्दुओं जैसी ही है क्योंकि वह हिन्दुओं के साथ ही बचपन से रह रही हैं। गौरतलब है कि शबनम के खिलाफ फतवा भी जारी किया था लेकिन उन्होंने कहा था कि वह डरेगी नहीं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘अच्छा! तो आपने मुझे हराया है’: विधानसभा में नवीन पटनायक को देखते ही हाथ जोड़ कर खड़े हो गए उन्हें हराने वाले BJP के...

विधानसभा में लक्ष्मण बाग ने हाथ जोड़ कर वयोवृद्ध नेता का अभिवादन भी किया। पूर्व CM नवीन पटनायक ने कहा, "अच्छा! तो आपने मुझे हराया है?"

‘माँ गंगा ने मुझे गोद ले लिया है, मैं काशी का हो गया हूँ’: 9 करोड़ किसानों के खाते में पहुँचे ₹20000 करोड़, 3...

"गरीब परिवारों के लिए 3 करोड़ नए घर बनाने हों या फिर पीएम किसान सम्मान निधि को आगे बढ़ाना हो - ये फैसले करोड़ों-करोड़ों लोगों की मदद करेंगे।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -