Wednesday, July 28, 2021
Homeदेश-समाजCM योगी के नेतृत्व में यूपी GSDP के मामले में बना भारत का दूसरा...

CM योगी के नेतृत्व में यूपी GSDP के मामले में बना भारत का दूसरा सबसे बड़ा राज्य: कोरोना काल में तरक्की का कीर्तिमान

“वैश्विक महामारी कोरोना जनित आर्थिक मंदी के उपरांत भी उत्तर प्रदेश, सकल राज्य घरेलू उत्पाद (GSDP) के मामले में भारत का दूसरा सबसे बड़ा राज्य बन गया है। यह आदरणीय प्रधानमंत्री जी के कुशल मार्गदर्शन एवं समस्त प्रदेशवासियों के परिश्रम का सुफल है। सभी को हार्दिक बधाई।”

योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाला उत्तर प्रदेश, 19.48 लाख करोड़ रुपए के साथ सकल राज्य घरेलू उत्पाद (GSDP) के मामले में भारत का दूसरा सबसे बड़ा राज्य बन गया है। इस प्रक्रिया में, राज्य ने गुजरात, कर्नाटक और तमिलनाडु को पीछे छोड़ दिया है। 2019-2020 में यूपी पाँचवें स्थान पर था और 2020-2021 में, उसने तमिलनाडु के साथ अपनी स्थिति बदलने के लिए, तीन रैंक की छलाँग लगाई। 

सरकार के आँकड़ों से पता चलता है कि वित्त वर्ष 2020-21 में उत्तर प्रदेश की जीएसडीपी ने 19.48 लाख करोड़ रुपए का आँकड़ा पार कर लिया है, जो राज्य को 2019-20 में पाँचवे स्थान से दूसरे स्थान पर पहुँचा देता है। इस खबर को यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर शेयर किया।

उन्होंने ट्विटर पर लिखा, “वैश्विक महामारी कोरोना जनित आर्थिक मंदी के उपरांत भी उत्तर प्रदेश, सकल राज्य घरेलू उत्पाद (GSDP) के मामले में भारत का दूसरा सबसे बड़ा राज्य बन गया है। यह आदरणीय प्रधानमंत्री जी के कुशल मार्गदर्शन एवं समस्त प्रदेशवासियों के परिश्रम का सुफल है। सभी को हार्दिक बधाई।”

टाइम्स ऑफ इंडिया में प्रकाशित एक खबर में कहा गया है, राज्य राष्ट्रीय स्तर पर एक सशक्त प्रभाव छोड़ने के लिए सुर्खियों में रहा है और व्यापार करने में आसानी से दूसरी रैंक पर पहुँच गया और इसी के साथ किसान सम्मान निधि वितरण में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाला राज्य घोषित किया गया। सीएम योगी ने बुधवार को विधानसभा में घोषणा की थी कि राज्य सरकार ने किसान सम्मान निधि योजना के तहत 2.37 करोड़ किसानों को लाभान्वित करने के लिए केंद्र सरकार से प्रमाण पत्र प्राप्त किया है।

कथित तौर पर, महाराष्ट्र जीएसडीपी सूची में 30.7 लाख करोड़ रुपए के साथ सबसे ऊपर है, इसके बाद यूपी का 19.48 लाख करोड़ रुपए है। तमिलनाडु राज्य जो पिछले साल नंबर 2 पर था, 19.2 लाख करोड़ रुपए के साथ 3 पर फिसल गया। कर्नाटक ने 18 लाख करोड़ रुपए जीएसडीपी दर्ज किया है जबकि गुजरात ने 17.4 लाख करोड़ रुपए।

रिपोर्ट में आगे उल्लेख किया गया है कि मुख्यमंत्री ने सदन को सूचित किया है कि फरवरी 2018 में निवेशकों के शिखर सम्मेलन के दौरान 4.28 लाख करोड़ रुपए के MoUs पर हस्ताक्षर किए गए थे और 3 लाख करोड़ रुपए की परियोजनाएँ जमीनी स्तर पर शुरू हुई हैं। पिछले दो वर्षों में राज्य का निर्यात भी बढ़कर 32 प्रतिशत हो गया है।

जीएसडीपी सूची में उत्तर प्रदेश की प्रभावशाली चढ़ाव को आंशिक रूप से योगी आदित्यनाथ द्वारा कोरोनावायरस के प्रकोप से निपटने को भी श्रेय दिया जा सकता है। देश में सबसे अधिक आबादी वाले राज्यों में से एक होने के बावजूद, उत्तर प्रदेश ने सीमा के भीतर COVID-19 के प्रकोप को नियंत्रित करने में सफलता प्राप्त की है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

साँवरें के रंग में रंगी हरियाणा की तेजतर्रार महिला IPS भारती अरोड़ा, श्रीकृष्‍ण भक्ति के लिए माँगी 10 साल पहले स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति

हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज ने इस खबर की पुष्टि की है। उन्होंने बताया है कि अंबाला रेंज की आइजी भारती अरोड़ा ने वीआरएस के लिए आवेदन किया है।

‘मोदी सिर्फ हिंदुओं की सुनते हैं, पाकिस्तान से लड़ते हैं’: दिल्ली HC में हर्ष मंदर के बाल गृह को लेकर NCPCR ने किए चौंकाने...

एनसीपीसीआर ने यह भी पाया कि बड़े लड़कों को भी विरोध स्थलों पर भेजा गया था। बच्चों को विरोध के लिए भेजना किशोर न्याय अधिनियम, 2015 की धारा 83(2) का उल्लंघन है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,660FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe