Sunday, October 17, 2021
Homeदेश-समाजरात भर युद्ध स्तर पर राहत कार्य: NDRF से लेकर CM-DM सब मुस्तैद, ब्रिटेन,...

रात भर युद्ध स्तर पर राहत कार्य: NDRF से लेकर CM-DM सब मुस्तैद, ब्रिटेन, फ़्रांस, UN ने भी दिया सहयोग का आश्वासन

आपदा से प्रभावित रैणी और तपोवन क्षेत्र में रेस्क्यू ऑपरेशन सुबह 4 बजे से ही शुरू हो गया था। तपोवन टनल का मलबा हटाया जा रहा है।

उत्तराखंड के चमोली जिले के तपोवन में रविवार (फ़रवरी 07, 2021) को ग्लेशियर टूटने से हुए हादसे के बाद रातभर चले राहत और बचाव कार्य के बीच चमोली जिला पुलिस ने बताया कि अब तक कुल 15 व्यक्तियों को रेस्क्यू किया गया है एवं 14 शव अलग-अलग स्थानों से बरामद किए गए हैं। अभी भी 125 से अधिक लोग लापता बताए जा रहे हैं।

दूसरी ओर, टनल में फंसे हुए श्रमिकों की तलाश और बचाव में रातभर दुर्गम इलाकों में कार्य जारी रहा। उत्तराखंड में हुए इस हादसे के बाद मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत लगातार बचाव कार्यों की समीक्षा कर रहे हैं।

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने बताया कि भारतीय थल सेना, वायु सेना, NDRF, ITBP, SDRF तत्परता से बचाव कार्य में घटनास्थल पर पहुँच चुके हैं और अपना पूरा सहयोग दे रहे हैं। साथ ही, केंद्र सरकार बचाव कार्यों की लगातार मोनिटरिंग कर रही है

सुबह 04 बजे से एक बार फिर बचाव कार्य शुरू किया गया है। सुरंगों के पास से मलबा हटाया जा रहा है। प्रभावित रैणी और तपोवन में राहत बचाव कार्य शुरू कर दिया गया। तपोवन टनल से मलबा हटाया जा रहा है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, दो सुरंगों में अभी भी 50 लोग फँसे हैं।

बचाव कार्यों के लिए भारतीय सेना द्वारा जोशीमठ में कण्ट्रोल रूम तैयार कर लिया गया है। मौके पर जेसीबी, चीता हेलिकॉप्टर, इंजीनियरिंग टास्क फ़ोर्स, मेडिकल टीम तैनात हैं।

रात को ही भारतीय वायुसेना के दो C-130 एयरक्राफ्ट NDRF की टीम के साथ देहरादून के जॉलीग्रांट एअरपोर्ट पर उतरे, जिन्हें प्रभावित इलाकों में भारतीय वायुसेना (IAF) के चॉपर्स से भेजा गया। भारतीय वायुसेना ने पूरी मदद का आश्वासन दिया है। इससे पहले ITBP, NDRF, SDRF रेस्क्यू ऑपरेशन्स में मौजूद थे।

विमान और बाहर की फ़ोटो हो सकती है

इसके साथ ही, ब्रिटेन, अमेरिका, फ़्रांस के बाद अब संयुक्त राष्ट्र संघ ने भी उत्तराखंड में हुए इस हादसे पर अपनी संवेदना व्यक्त करते हुए बचाव कार्यों में सहयोग का आश्वासन दिया है। संयुक्त राष्ट्र महासचिव के प्रवक्ता ने कहा, “महासचिव को उत्तराखंड में ग्लेशियर के फटने और उसके बाद आई बाढ़ से हुए जानमाल के नुकसान और दर्जनों लोगों के लापता होने का गहरा दुख है। वह पीड़ितों के परिवारों, लोगों और भारत सरकार के प्रति अपनी गहरी संवेदनाएँ व्यक्त करते हैं। संयुक्त राष्ट्र आवश्यकता होने पर बचाव और सहायता प्रयासों में योगदान देने के लिए तैयार है।”

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

राम ‘छोकरा’, लक्ष्मण ‘लौंडा’ और ‘सॉरी डार्लिंग’ पर नाचते दशरथ: AIIMS वाले शोएब आफ़ताब का रामायण, Unacademy से जुड़ा है

जिस वीडियो को लेकर विवाद है, उसे दिल्ली AIIMS के छात्रों ने शूट किया है। इसमें रामायण का मजाक उड़ाया गया है। शोएब आफताब का NEET में पहला रैंक आया था।

‘जैसा बोया, वैसा काटा’: Scroll की वामपंथी लेखिका जेनेसिया अल्वेस ने बांग्लादेश में हिंदुओं पर हमले को ठहराया सही

बांग्लादेश में हिंदुओं और मंदिरों पर हुए इस्लामी चरमपंथी हमलों को स्क्रॉल की लेखिका एल्वेस ने जायज ठहराया और जैसा बोया वैसा काटा की बात कही।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,261FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe