Monday, July 4, 2022
Homeदेश-समाजMP: पुलिस ने सड़क पर ठेला लगा सब्जी बेचने से मना किया, सीने में...

MP: पुलिस ने सड़क पर ठेला लगा सब्जी बेचने से मना किया, सीने में चाकू घोंप उस्मानी फरार

पुलिसकर्मी ने उस्मानी को लॉकडाउन का हवाला दे समझाने की कोशिश की। लेकिन उसने कहा कि जहाँ मन चाहेगा वहाँ वह खड़े होकर सब्जी बेचेगा। इसके बाद उसने हमला कर दिया।

मध्य प्रदेश के जबलपुर में गुरुवार (27 मई 2021) को सड़क पर ठेला लगाकर सब्जी बेचने से मना करने पर एक शख्स ने पुलिसकर्मी पर चाकू से हमला कर दिया। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, गढ़ा थाना इलाके के आनंदकुंज के पास लॉकडाउन में सड़क पर ठेला लगाकर सब्जी बेचने वाले उस्मानी को जब पुलिस आरक्षक अजय श्रीवास्तव ने मना किया तो उसने उन पर चाकू से हमला कर दिया।

गढ़ा थाना प्रभारी राकेश तिवारी ने बताया कि कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए लगाए गए लॉकडाउन का पालन कराने के लिए 43 वर्षीय आरक्षक अजय श्रीवास्तव की ड्यूटी गुरुवार (27 मई 2021) को आनंद कुंज में लगाई गई थी। जब अजय ड्यूटी पर पहुँचे तो वहाँ उन्हें उस्मानी निवासी आनंद कुंज गढ़ा ठेले पर सब्जी बेचते मिला। ठेले के चारों ओर ग्राहकों की भीड़ लगी हुई थी। आरक्षक ने उसे समझाया कि वह ऐसे रास्ते पर खड़े होकर नहीं, बल्कि मोहल्ले और कॉलोनी में घूमकर सब्जी बेचे। उस्मानी इस बात से नाराज हो गया। उसने कहा कि वह कहीं नहीं जाएगा, जहाँ मन चाहेगा वहाँ खड़े होकर सब्जी बेचेगा।

इसको लेकर आरक्षक और सब्जी विक्रेता में विवाद हो गया। आरक्षक कुछ समझ पाते, तब तक उसने (उस्मानी) ठेले पर रखी चाकू से उन पर जानलेवा हमला कर दिया। सीने में चाकू लगने की वजह से अधिक खून निकल गया, जिससे अजय वहीं गिर पड़े और उस्मानी ठेला छोड़कर भाग निकला।

बताया जा रहा है कि वारदात की सूचना मिलते ही तमाम पुलिस अधिकारी मौके पर घटनास्थल पर पहुँचे और घायल आरक्षक को उपचार के लिए नेताजी सुभाष चंद्र बोस मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती कराया। वहीं, हमलावर मौका पाकर वहाँ से भागने में कामयाब रहा।

पुलिस ने आरोपित उस्मानी के खिलाफ हत्या के प्रयास, धारा 188, कोविड गाइडलाइन के उल्लंघन, महामारी एक्ट और शासकीय कार्य में बाधा पहुँचाने सहित अन्य धाराओं में मामला दर्ज किया गया है। आरोपित की तलाश में पुलिस जगह-जगह छापेमारी कर रही है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सावन में ज्ञानवापी शिवलिंग के जलाभिषेक की माँग, मुस्लिम पक्ष की दलीलें वर्शिप एक्ट पर टिकीं: अगली सुनवाई 12 जुलाई को

महिलाओं का दावा है कि ज्ञानवापी में 'प्लेसेज ऑफ वर्शिप (स्पेशल प्रॉविजंस) एक्ट, 1991' लागू नहीं होता, क्योंकि 1991 तक यहाँ श्रृंगार गौरी की पूजा होती थी।

‘बुरे वक्त में युसूफ की करते थे मदद, पत्नी के साथ उसके घर पर गए थे’: उमेश कोल्हे के भाई ने बताया – मेरे...

महाराष्ट्र के अमरवती में नूपुर शर्मा के समर्थन के चलते कत्ल हुए उमेश कोल्हे अपनी हत्या के साजिशकर्ता इरफ़ान युसूफ की अक्सर करते थे मदद

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
203,389FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe