चलती बस में महिला का वीडियो बनाना मोहम्मद ख़ान को पड़ा महँगा, लोगों ने की कुटाई, हुआ गिरफ़्तार

महिला अपने पति और बेटी के साथ बस से जा रही थी, अचानक उसकी नज़र अपने पीछे वाली सीट पर बैठे शख़्स पर गई जो उसकी वीडियो रिकॉर्डिंग कर रहा था।

चलती बस में 35 वर्षीय महिला का वीडियो बनाने वाले एक शख़्स को कोलकाता पुलिस ने गिरफ़्तार कर लिया है। दरअसल, वो महिला रविवार (30 जून) की सुबह अपने पति और बेटी के साथ बस से जा रही थी, अचानक उसकी नज़र अपने पीछे वाली सीट पर बैठे शख़्स पर गई जो उसकी वीडियो रिकॉर्डिंग कर रहा था।

ख़बर के अनुसार, 24 वर्षीय मोहम्मद ख़ान को मुचीपारा पुलिस स्टेशन द्वारा गिरफ़्तार किया गया है। आरोपित ख़ान हावड़ा के उलुबेरिया का निवासी है और उसे भारतीय दंड संहिता की धारा-354 के तहत गिरफ़्तार किया गया।

टाइम्स ऑफ़ इंडिया की ख़बर के अनुसार, महिला रविवार सुबह धूलगढ़-सियालदह मार्ग पर एक निजी बस में सवार हुई थी। आरोपित ख़ान उसके सामने बैठ गया। एक सह-यात्री ने महिला को सूचित किया कि आरोपित उसकी तस्वीरें ले रहा है।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

महिला ने कहा:

“सह-यात्रियों में से एक ने पहली बार देखा कि वह आदमी मेरी तस्वीरें ले रहा था। जब हमने उसे तस्वीरें दिखाने की माँग की, तो उसने इनकार कर दिया। लेकिन हमें उसके सेल फोन पर तस्वीरें मिलीं। इसलिए मैंने 100 नंबर डायल कर दिया और पुलिस से मदद माँगी।”

महिला ने जब कॉल किया तो उस समय बस लेनिन सरानी पर वेलिंगटन क्रॉसिंग से आगे निकल गई। कंट्रोल रूम के एक अधिकारी ने तुरंत सियालदह ट्रैफिक गार्ड के प्रभारी अधिकारी को बस रोककर इस मामले पर कार्रवाई करने को कहा। महिला के फोन करने के कुछ ही मिनटों के भीतर पुलिस ने आरोपित को पकड़ लिया।

पुलिस के पहुँचने से पहले ही यात्रियों ने सार्वजनिक रूप से आरोपित को पीटना शुरू कर दिया था।  यह जानने पर कि पुलिस को बुलाया गया है, आरोपित मोहम्मद ख़ान दया की भीख माँगते हुए उस महिला के पैरों पर गिर गया। लेकिन वहाँ मौजूद महिलाओं ने उसे सबक सिखाने का फ़ैसला किया और उसे पुलिस के हवाले कर दिया।

पुलिस के मुताबिक़, NRS अस्पताल के सामने बस को रोका गया था। आरोपी को यात्रियों ने सौंप दिया था लेकिन उसका दोस्त भागने में क़ामयाब रहा। फ़िलहाल युवक को मुचीपारा पुलिस थाने ले जाया गया है। इस मामले में पुलिस की त्वरित कार्रवाई की सराहना की जा रही है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by paying for content

बड़ी ख़बर

SC और अयोध्या मामला
"1985 में राम जन्मभूमि न्यास बना और 1989 में केस दाखिल किया गया। इसके बाद सोची समझी नीति के तहत कार सेवकों का आंदोलन चला। विश्व हिंदू परिषद ने माहौल बनाया जिसके कारण 1992 में बाबरी मस्जिद गिरा दी गई।"

ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

91,623फैंसलाइक करें
15,413फॉलोवर्सफॉलो करें
98,200सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: