Saturday, October 1, 2022
Homeदेश-समाजतबलीगी जमात के युवक से किया लव मैरिज, कोरोना के डर से ग्रामीणों ने...

तबलीगी जमात के युवक से किया लव मैरिज, कोरोना के डर से ग्रामीणों ने दामाद को गाँव में घुसने पर लगाया प्रतिबंध

तबलीगी जमात के युवक से प्रेम विवाह करने वाली महिला को मालूम ही नहीं है कि उसके पति का स्थायी पता क्या है या उसकी सही पहचान क्या है? जिसे देखकर गाँव वालों की चिंता बढ़ गई है और इस बात पर चर्चा होने लगी है कि बाहर के लड़के गाँव की भोली-भाली लड़कियों को प्रेम जाल में फाँस लेते हैं और फिर उनसे विवाह भी कर लेते हैं।

छत्तीसगढ़ के जशपुरनगर के फरसाबहार इलाके में तबलीगी जमात से जुड़े होने के कारण एक युवक को गाँव में प्रवेश देने से मना कर दिया गया। जानकारी के मुताबिक, युवक बंगाल का रहने वाला है। मगर, कुछ समय पहले कोरंगामाल गाँव में काम करने आया और गाँव की एक महिला से प्रेम विवाह करके यही बस गया। इसके बाद बीच-बीच में उसका बंगाल आना-जाना लगा रहता था। लेकिन कोरोना के फैलने के बाद जब ग्रामीणों को उसके तबलीगी जमात से जुड़े होने की सूचना मिली। तो गाँव वालों ने फौरन पंचायत करके उसकी एंट्री गाँव में हमेशा के लिए बंद कर दी और पुलिस के सामने आरोप लगाया कि वो बांग्लादेश का है। हालाँकि, अभी तक छानबीन में उसके बांग्लादेशी होने का सबूत नहीं मिला है। 

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, व्यक्ति के तबलीगी जमात से जुड़ी सूचना मिलने के बाद गाँव वालों ने उसकी गर्भवती पत्नी व दो बच्चों को क्वारंटाइन कर दिया है। साथ ही उनकी निगरानी भी की जा रही है। गाँववालों ने किसी भी कीमत पर युवक को गाँव में न घुसने देने का फैसला किया है। बताया जा रहा है कि जमाती युवक ने कुछ दिन पहले अपनी बीवी को गाँव लौटने की बात बताई थी। जिसके बाद प्रशासन हरकत में आया और ग्रामीणों ने भी पंचायत करके अपना फैसला सुना दिया।

दैनिक भास्कर में प्रकाशित संबंधित खबर

फरसाबहार के एसडीएम एसएन भगत के मुताबिक, जमात से जुड़े एक युवक की कोरंगामाल गाँव में पत्नी के पास लौटने की उन्हें सूचना मिली थी। सूचना पर उन्होंने जब गाँव पहुँचकर जाँच की तो पता चला युवक तो कई महीनों से गाँव ही नहीं आया। लेकिन इस जानकारी के बाद टीम सतर्क हो गई और निगरानी बनी हुई है। यदि युवक लौटता है तो उसे पहले क्वारंटाइन सेंटर में रखा जाएगा। गाँव वाले भी इसे लेकर काफी सतर्क हैं।

बता दें, तबलीगी जमात के युवक के गाँव में न मिलने के बाद उसकी गर्भवती बीवी से पूछताछ में कई हैरान करने वाली बातें सामने आई हैं। जैसे कि महिला को मालूम ही नहीं है कि उसके पति का स्थायी पता क्या है या उसकी सही पहचान क्या है? जिसे देखकर गाँव वालों की चिंता बढ़ गई है और इस बात पर चर्चा होने लगी है कि बाहर के लड़के गाँव की भोली-भाली लड़कियों को प्रेम जाल में फाँस लेते हैं और फिर उनसे विवाह भी कर लेते हैं। गाँव वालों का कहना है कि अगर महिला का पति लौटता है तो उससे कोरोना फैलने का डर होगा। इसलिए उसे गाँव में किसी भी हाल में घुसने नहीं दिया जाएगा।

उल्लेखनीय है कि इस खबर के फैलने के बाद जिले के अन्य गाँवों में भी बाहरी लोगों की एंट्री पर रोक लगा दी गई है। ग्रामीणों ने अपने गाँव के मुख्य द्वारा पर बैरियर लगाए हैं और इसका ध्यान दिया जा रहा है कि ये ओडिशा व झारखंड से सटे इस गाँव के बैरियर केवल अतिआवश्यक कामों के लिए खोले जाएँ। सूचना है कि दोनो राज्यों की सीमा पर बने राहत कैंप में लोग पैदल चलकर आ रहे हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दुर्गा पूजा कार्यक्रम में गरबा करता दिखा मुनव्वर फारूकी, सेल्फी लेने के लिए होड़: वीडियो आया सामने, लोगों ने पूछा – हिन्दू धर्म का...

कॉमेडी के नाम पर हिन्दू देवी-देवताओं को गाली देकर शो करने वाला मुनव्वर फारुकी गरबा के कार्यक्रम में देखा गया, जिसके बाद लोग आक्रोशित हैं।

धर्म ही नहीं जमीन भी गँवा रहे हिंदू: कब्जे की भूमि पर चर्च-कब्रिस्तान से लेकर मिशनरी स्कूल तक, पहाड़ों का भी हो रहा धर्मांतरण

जमीनी स्थिति भयावह है। सरकारी से लेकर जनजातीय समाज की जमीनों पर ईसाई मिशनरियों का कब्जा है। अदालती आदेशों के बाद भी जमीन खाली नहीं हो रहे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
225,570FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe