Sunday, June 16, 2024
Homeदेश-समाजहिंसा, गोलीबारी, आगजनी, बमबारी... CM नीतीश की यात्रा से पहले अररिया में भिड़े मुस्लिमों...

हिंसा, गोलीबारी, आगजनी, बमबारी… CM नीतीश की यात्रा से पहले अररिया में भिड़े मुस्लिमों के दो गुट, चुनावी रंजिश में लाठी, रॉड और फरसा भी चला

जिन दो पक्षों के बीच लड़ाई हुई है, उनमें वार्ड सदस्य के चुनाव को लेकर वर्षों पहले से रंजिश चल रही है। गुरुवार की सुबह दोनों पक्षों में कहासुनी शुरू हो गई, जिसके बाद वो उग्र हो गए।

बिहार के अररिया में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की ‘समाधान यात्रा’ से पहले जबरदस्त गोलीबारी और आगजनी हुई है। शुक्रवार (3 फरवरी, 2022) को सीएम नीतीश कुमार अररिया पहुँच रहे हैं, जिससे पहले वहाँ हिंसा हुई है। बताया जा रहा है कि रानीगंज के जगता पलार गाँव में झड़प के बाद इसकी शुरुआत हुई। इसके बाद उनमें से एक पक्ष ने कई राउंड गोलीबारी और बमबारी की। घटना की सूचना के बाद पुलिस मौके पर पहुँची।

मामले की छानबीन की जा रही है और 8 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। अररिया के SDPO पुष्कर कुमार ने कहा कि 62 लोगों के खिलाफ नामजद FIR दर्ज की गई है। 4 लोग हिंसा में गंभीर रूप से घायल हुए हैं, जिन्हें इलाज के लिए रानीगंज अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इस झड़प का कारण चुनावी रंजिश को बताया जा रहा है। गाँव के लोगों में इसके बाद से दहशत है। सीएम भी जिले में पहुँच रहे हैं, ऐसे में पुलिस-प्रशसान में हड़कंप मचा हुआ है।

जिन दो पक्षों के बीच लड़ाई हुई है, उनमें वार्ड सदस्य के चुनाव को लेकर वर्षों पहले से रंजिश चल रही है। गुरुवार की सुबह दोनों पक्षों में कहासुनी शुरू हो गई, जिसके बाद वो उग्र हो गए। इससे पहले भी इनमें मारपीट हो चुकी है और अदालत में केस भी चल रहा है। घायलों में नजाम, अयूब, इम्तियाज, समीम और जुबेर हैं। दूसरे पक्ष से मोहम्मद नईम, नसीम, मोसिम, अजमत, मतेउल्लाह,सुकरुल, हासिम, समीम, मोइन, मुर्तजा, अनवारुल, अमीन, अबूल, कमाल, जमील, इबरान, शमसुल, नसबुल, इमतियाज, सद्दाम, सगीर और साबिर आदि आरोपित हैं

हिंसा में लाठी, लोहा का रॉड, फरसा, बंदूक, देशी कट्टा और बम इस्तेमाल किए जाने की बात बताई गई है। गाँव वालों का कहना है कि इससे पहले दोनों पक्षों के बीच दर्जनों बार हिंसा हो चुकी है। इससे पहले 18-19 जनवरी को भी सीएम नीतीश कुमार अररिया पहुँचे थे। विपक्ष लगातार आरोप लगा रहा है कि राजद के साथ गठबंधन कर के सरकार बनाने के बाद से उनके शासनकाल में हिंसा बढ़ रही है और जंगलराज वापस आ गया है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दिल्ली पुलिस को पाइपलाइन की रखवाली के लिए लगाना चाहती है AAP सरकार, कमिश्नर को आतिशी ने लिखा पत्र: घोटाले का आरोप लगा BJP...

बीजेपी ने कहा कि अरविंद केजरीवाल ने जब से दिल्ली जल बोर्ड की कमान संभाली, उसके एक साल में जमकर धाँधली हुई और दिल्ली जल बोर्ड को बर्बाद कर दिया गया।

गलत वीडियो डालने वाले अब नहीं बचेंगे: संसद के अगले सत्र में ‘डिजिटल इंडिया बिल’ ला सकती है मोदी सरकार, डीपफेक पर लगाम की...

नरेंद्र मोदी सरकार आगामी संसद सत्र में डीपफेक वीडियो और यूट्यूब कंटेंट को लेकर डिजिटल इंडिया बिल के नाम से पेश किया जाएगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -