Wednesday, June 16, 2021
Home देश-समाज भारत में दूसरी लहर नहीं आने की भविष्यवाणी करने वाले वायरोलॉजिस्ट शाहिद जमील ने...

भारत में दूसरी लहर नहीं आने की भविष्यवाणी करने वाले वायरोलॉजिस्ट शाहिद जमील ने सरकारी पैनल से दिया इस्तीफा

जमील और उनके नेतृत्व वाला समूह सक्रिय कोरोना वायरस स्ट्रेनों के देश भर में फैलने के बाद भी पता नहीं लगा पाया, जिसकी वजह से कोरोना वायरस का यह प्रकोप फिर से सामने आया।

वरिष्ठ वायरोलॉजिस्ट शाहिद जमील ने भारत में कोविड-19 के प्रकोप की गंभीरता की भविष्यवाणी करने में विफल रहने के बाद भारतीय SARS-CoV-2 जीनोम सीक्वेंसिंग कंसोर्टिया (INSACOG) के वैज्ञानिक सलाहकार समूह के अध्यक्ष के पद से इस्तीफा दे दिया

बता दें कि INSACOG का वैज्ञानिक सलाहकार समूह, पिछले साल केंद्र सरकार द्वारा देश में COVID-19 महामारी विज्ञान निगरानी के लिए स्थापित किया गया था। समूह के तहत, भारत में COVID-19 के प्रचलित स्ट्रेनों का अध्ययन करने के लिए राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र के तत्वाधान में 10 राष्ट्रीय प्रयोगशालाओं को एक साथ लाया गया था।

यह कदम तब सामने आया है, जब भारत विनाशकारी कोरोना वायरस महामारी से बुरी तरह जूझ रहा है। कोरोना के नए वैरिएंट सामने आ रहे हैं। अस्पताल मरीजों से भरा हुआ है। बीमार लोगों को इलाज के लिए काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। जमील और उनके नेतृत्व वाला समूह सक्रिय कोरोना वायरस स्ट्रेनों के देश भर में फैलने के बाद भी पता नहीं लगा पाया, जिसकी वजह से कोरोना वायरस का यह प्रकोप फिर से सामने आया।

विशेषज्ञों का दावा है कि भारत का कोरोना वायरस संकट B.1.617 स्ट्रेन और B.1.17 स्ट्रेन के मिश्रण से हुआ है, जिसे यूके स्ट्रेन के रूप में जाना जाता है। जीनोम मैपिंग समूह के रूप में, INSACOG देश में फैल रहे स्ट्रेन पर नजर रखने के लिए जिम्मेदार था। हालाँकि, देश भर में कोरोना वायरस के मामलों में वृद्धि के साथ, जमील के नेतृत्व वाला समूह, प्रकोप की गंभीरता की भविष्यवाणी करने के अपने प्रयास में स्पष्ट रूप से विफल रहा।

जमील ने अपनी विफलता के लिए केंद्र को दोषी ठहराया

हाल ही में, जमील ने केंद्र सरकार पर कोरोना वायरस प्रकोप की गंभीरता की पहचान करने में अपनी विफलता के दोष को हटाने की कोशिश की। केंद्र द्वारा उन्हें दी गए काम में गड़बड़ी करने के बाद, उन्होंने न्यूयॉर्क टाइम्स में एक लेख लिखा, जिसमें उन्होंने कहा कि भारत में वैज्ञानिक ‘साक्ष्य-आधारित नीति निर्माण के लिए सख्त प्रतिक्रिया’ का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने लिखा, “डेटा के आधार पर निर्णय लेना फिलहाल एक और आपदा है, क्योंकि भारत में महामारी नियंत्रण से बाहर हो गई है।” 

साभार: न्यूयॉर्क टाइम्स

अपने लेख में, जमील, जो वर्तमान में अशोका विश्वविद्यालय में त्रिवेदी स्कूल ऑफ बायोसाइंसेज के निदेशक हैं, ने सुझाव दिया कि उन्हें केंद्र सरकार को INSACOG के वैज्ञानिक सलाहकार समूह के प्रमुख के रूप में प्रस्तावित करना चाहिए था। उन्होंने टेस्टिंग और आइसोलेशन को बढ़ाने, अधिक अस्थायी सुविधाओं का निर्माण करके अस्पताल के बिस्तरों को बढ़ाने, सेवानिवृत्त डॉक्टरों और नर्सों को शामिल करने और महत्वपूर्ण दवाओं एवं ऑक्सीजन की आपूर्ति श्रृंखला को मजबूत करने की आवश्यकता पर बल दिया।

वायरोलॉजिस्ट ने टीकाकरण की गति बढ़ाने की आवश्यकता पर भी जोर दिया। उन्होंने कहा कि भारत को अपने टीकाकरण अभियान को बढ़ाना चाहिए, जिसका लक्ष्य हर दिन 7.5 मिलियन से 10 मिलियन खुराक का टीकाकरण होना चाहिए। इस उपलब्धि को हासिल करने के लिए उन्होंने केंद्र को वैक्सीन की आपूर्ति बढ़ाने और डिलीवरी प्वाइंट को दोगुना करने का सुझाव दिया था। जमील ने टीकाकरण की पहुँच बढ़ाने के लिए निजी क्षेत्र को शामिल करने का भी प्रस्ताव रखा।

हालाँकि ये सभी सिफारिशें सीधे तौर पर केंद्र से करना चाहिए था न कि किसी विदेशी मीडिया आउटलेट में प्रकाशित कॉलम में। यह ध्यान देने योग्य है कि जमील ने पहले देश के सामने आने वाले कोरोना वायरस खतरे को कम बताया था और COVID-19 के प्रकोप को समाप्त घोषित कर दिया था।

जमील ने पहले कोरोना वायरस के प्रकोप की दूसरी लहर की संभावना को खारिज कर दिया था

जनवरी 2021 में एक इंटरव्यू में, जमील ने देश में कोरोना वायरस की स्थिति के बारे में बोलते हुए कहा था कि वह मोटे तौर पर इस बात से सहमत हैं कि देश के लिए सबसे बुरा समय खत्म हो गया है। जमील ने साक्षात्कार में कहा था, “सबसे बुरा दौर खत्म हो सकता है लेकिन हम निश्चित रूप से इससे बाहर नहीं निकले हैं। मेरी सलाह होगी कि लोग सावधानी बरतते रहें।”

यह पूछे जाने पर कि क्या भारत में कोरोना वायरस के प्रकोप की दूसरी लहर होगी, जमील ने नकारात्मक प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि उन्हें नहीं लगता कि देश कोरोना वायरस प्रकोप की दूसरी लहर का सामना करेगा। जमील ने कहा, “भारत की पहली लहर काफी व्यापक थी। पीक बहुत तेज नहीं थी। नतीजतन, मुझे लगता है कि भारत में दूसरी लहर नहीं हो सकती है।” उन्होंने अनुमान लगाया कि भारत में लगभग 300-400 मिलियन लोग पहले ही संक्रमित हो चुके हैं इसलिए देश कोरोना वायरस की दूसरी लहर के संकट से बच जाएगा।

Source: Health Analytics Asia

इतना ही नहीं, वायरोलॉजिस्ट ने सीरम इंस्टीट्यूट के कोविशील्ड और भारत बायोटेक के कोवैक्सिन को मिली आपात मंजूरी पर भी सवाल उठाए थे। उन्होंने दोनों टीकों के परीक्षण डेटा पर संदेह व्यक्त किया था। कोविशील्ड के बारे में, जमील ने कहा था कि वैक्सीन ने ब्राजील और यूके में किए गए ट्रायल से परस्पर विरोधी प्रभावकारिता डेटा दिया। भारत बायोटेक के कोवैक्सिन के संबंध में वायरोलॉजिस्ट ने कहा कि इसकी प्रभावकारिता के बारे में डेटा उपलब्ध नहीं था।

Source: Health Analytics Asia

ऐसे समय में जब जीनोम मैपिंग समूह को देश में सक्रिय विभिन्न स्ट्रेनों और प्रकोप की दूसरी लहर पैदा करने के लिए उनके संभावित विषाणु को ट्रैक करने का प्रयास करना चाहिए था, सलाहकार समूह के प्रमुख शाहिद जमील वैज्ञानिक समुदाय और जनता को गलत संदेश बेजने में व्यस्त थे कि भारत में कोरोना वायरस प्रकोप का एक और लहर नहीं आएगा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अविवाहित रहे, राम मंदिर के लिए जीवन खपा दिया, आपातकाल में 18 महीने की जेल झेली: जानिए कौन हैं VHP के चंपत राय

धामपुर के RSM डिग्री कॉलेज में रसायन विज्ञान के प्रोफेसर रहे चंपत राय सुप्रीम कोर्ट में चली राम मंदिर के मुकदमे की सुनवाई में मुख्य पैरोकार एवं पक्षकार रहे हैं।

यूपी में एक्शन ट्विटर का सुरक्षा कवच हटने का आधिकारिक प्रमाण: IT और कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने 9 ट्वीट में लताड़ा

यह एक्शन इस बात का प्रमाण भी है कि मध्यस्थता प्लेटफार्म के रूप में ट्विटर को जो कानूनी छूट प्रदान की गई थी, वह अब आधिकारिक रूप से समाप्त हो गई है।

हत्या, बच्चे को गोली मारी, छात्रों को सस्पेंड किया: 15 घटनाएँ, जब ‘जय श्री राम’ कहने पर हिन्दुओं के साथ हुई क्रूरता

अब ऐसी घटनाओं को देखिए, जहाँ 'जय श्री राम' कहने पर हिन्दुओं की हत्या तक कर दी गई। गौर करने वाली बात ये कि इस तरह की घटनाओं पर कोई आउटरेज नहीं हुआ।

3 कॉन्ग्रेसी, 2 प्रोपेगंडा पत्रकार: जुबैर के अलावा इन 5 पर भी यूपी में FIR, ‘जय श्रीराम’ पर फैलाया था झूठ

डॉक्टर शमा मोहम्मद कॉन्ग्रेस की राष्ट्रीय प्रवक्ता हैं। सबा नकवी खुद को राजनीतिक विश्लेषक बताती हैं। राना अयूब को 'वाशिंगटन पोस्ट' ने ग्लोबल एडिटर बना रखा है। कॉन्ग्रेसी मशकूर अहमद AMU छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष हैं। पीएम मोदी के माता-पिता पर टिप्पणी कर चुके सलमान निजामी जम्मू कश्मीर के कॉन्ग्रेस नेता हैं।

2038 तक मियाँ-मुस्लिम होंगे बहुसंख्यक, हिंदुओं के मुकाबले ट्रिपल रेट से बढ़ रही आबादी: असम CM के पॉलिटिकल सेक्रेटरी ने चेताया

असम बीजेपी के विधायक जयंत बरुआ ने कहा है कि जनसंख्या वृद्धि की यही रफ्तार बनी रही तो 2037-38 तक राज्य में हिंदू अल्पसंख्यक हो जाएँगे।

35 मौके, जब AltNews वाले मोहम्मद जुबैर ने फैलाई फेक न्यूज़: बच्चियों को करता है टारगेट, कट्टरपंथियों का है ढाल

यहाँ हम उन मौकों की बात कर रहे हैं, जब-जब उसने फेक खबरों के सहारे प्रोपेगंडा रचा। अधिकांश उसने भाजपा और हिन्दू धर्म को बदनाम करने के लिए ऐसा किया।

प्रचलित ख़बरें

‘राजदंड कैसा होना चाहिए, महाराज ने दिखा दिया’: लोनी घटना के ट्वीट पर नहीं लगा ‘मैनिपुलेटेड मीडिया’ टैग, ट्विटर सहित 8 पर FIR

"लोनी घटना के बाद आए ट्विट्स के मद्देनजर योगी सरकार ने ट्विटर के विरुद्ध मुकदमा दायर किया है और कहा है कि ट्विटर ऐसे ट्वीट पर मैनिपुलेटेड मीडिया का टैग नहीं लगा पाया। राजदंड कैसा होना चाहिए, महाराज ने दिखा दिया है।"

‘जो मस्जिद शहीद कर रहे, उसी के हाथों बिक गए, 20 दिलवा दूँगा- इज्जत बचा लो’: सपा सांसद ST हसन का ऑडियो वायरल

10 मिनट 34 सेकंड के इस ऑडियो में सांसद डॉ. एस.टी. हसन कह रहे हैं, "तुम मुझे बेवकूफ समझ रहे हो या तुम अधिक चालाक हो... अगर तुम बिक गए हो तो बताया क्यों नहीं कि मैं भी बिक गया।

‘मुस्लिम बुजुर्ग को पीटा-दाढ़ी काटी, बुलवाया जय श्री राम’: आरोपितों में आरिफ, आदिल और मुशाहिद भी, ज़ुबैर-ओवैसी ने छिपाया

ओवैसी ने लिखा कि मुस्लिमों की प्रतिष्ठा 'हिंदूवादी गुंडों' द्वारा छीनी जा रहीहै । इसी तरह ज़ुबैर ने भी इस खबर को शेयर कर झूठ फैलाया।

राम मंदिर की जमीन पर ‘खेल’ के दो सूत्र: अखिलेश यादव के करीबी हैं सुल्तान अंसारी और पवन पांडेय, 10 साल में बढ़े दाम

भ्रष्टाचार का आरोप लगाने वाले पूर्व मंत्री तेज नारायण पांडेय 'पवन' और समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव से सुल्तान के काफी अच्छे रिश्ते हैं।

‘इस बार माफी पर न छोड़े’: राम मंदिर पर गुमराह करने वाली AAP के नेताओं ने जब ‘सॉरी’ कह बचाई जान

राम मंदिर में जमीन घोटाले के बेबुनियाद आरोपों के बाद आप नेताओं पर कड़ी कार्रवाई की माँग हो रही है।

फाइव स्टार होटल से पकड़ी गई हिरोइन नायरा शाह, आशिक हुसैन के साथ चरस फूँक रही थी

मुंबई पुलिस ने ड्रग्स का सेवन करने के आरोप में एक्ट्रेस नायरा नेहल शाह और उनके दोस्त आशिक साजिद हुसैन को गिरफ्तार किया।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
104,239FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe