Monday, March 8, 2021
Home देश-समाज ममता-राज में TMC की हिंसक सच्चाई इंटरनेट पर 'आमार भॉय लागे' के नाम से...

ममता-राज में TMC की हिंसक सच्चाई इंटरनेट पर ‘आमार भॉय लागे’ के नाम से आई सामने

सभी एपिसोड दहशत की घुटन से लबालब हैं। सभी तृणमूल के काडर के सताए हैं, और हर एक केस में न्याय मिलना शेष है। सभी पीड़ितों ने पुलिस के असहयोग की भी बात की, और कुछ ने तो यह भी कहा है कि पुलिस ने उल्टा उन्हें ही और भी प्रताड़ित किया, जबकि आरोपितों को खुला छोड़ दिया।

बंगाल में तृणमूल के काडर ने किस तरह की दहशत हवा में घोल रखी है, इसे आपके फोन पर, आपकी आँखों के आगे नंगा सच दिखाती, एक वेब-सीरीज़ बांग्लभाषी नेट सर्कलों में और सोशल मीडिया पर शेयर हो रही है। 5 से 7 मिनट प्रति एपिसोड की यह साक्षात्कार सीरीज़ राज्य के विभिन्न हिस्सों में लोगों में गहरे पैठ चुके तृणमूल आतंक को बयाँ करती है।

तेजाब, शराब: सबमें डूबी है तृणमूल

स्वराज्य पत्रिका में प्रकाशित एक रिपोर्ट के मुताबिक ‘आमार भॉय लागे’ (मुझे डर लगता है) नाम की इस वेब-सीरीज़ के एपिसोड यूट्यूब पर अपलोड होने के साथ तेज़ी से शेयर हो रहे हैं और भारी संख्या में देखे जा रहे हैं। पहला एपिसोड मोनिशा पईलान नामक युवती पर है, जो कि एसिड-अटैक-सर्वाइवर (चेहरे पर तेज़ाब फेंके जाने से उबर रही) है। हमले का आरोपी सलीम हलदर नामक तृणमूल कार्यकर्ता है। दक्षिण 24-परगना के हसनपुर में मोनिशा पर हमला रात के दस बजे हुआ, जब वह एक कंप्यूटर-सेंटर से लौट रहीं थीं। जैसे ही वह हसनपुरा पहुँचीं, किसी ने उनका नाम पुकारा और जैसे ही मोनिशा ने मुड़ कर देखा, हमलावरों ने चेहरे पर तेजाब फेंक दिया।

चेहरा बुरी तरह जल जाने के अलावा मोनिशा ने एक आँख की पूरी रोशनी भी खो दी। 23-वर्षीया मोनिशा सलीम की पूर्व-पत्नी है और दोनों का तलाक हमले के पहले ही हो चुका था। वीडियो का description यह भी कहता है कि यह शादी मोनिशा के 18 साल के होने पर जोर-जबर्दस्ती से हुई थी, पर पति-पत्नी की नहीं बनी और जल्दी ही तलाक हो गया।

पर सलीम ने मोनिशा को अपना माल-असबाब समझना नहीं छोड़ा। उन्हें पुरुषों से बात करते देख कर उसे ईर्ष्या होने लगी और उसने मोनिशा को प्रताड़ित करना शुरू कर दिया। दो बार पिस्तौल तान कर भी धमकी दी। रिपोर्ट के अनुसार उसे इस गुनाह के दो साल बाद गिरफ्तार किया गया और वह एक महीने में ही जेल से छूट भी गया।

दूसरा एपिसोड तापोश मंडल नामक एक भाजपा कार्यकर्ता पर है जिस पर तृणमूल कार्यकर्ताओं ने हमला किया था। तापोश 2016 के विधानसभा चुनावों से पहले भाजपा का प्रचार कर रहे थे।

तीसरे एपिसोड में एक युवक की कहानी है जिसपर अवैध शराब का व्यापार कर रहे गुंडों ने हमला कर उसके साथ निर्मम मारपीट की। आरोप है कि वह गुंडे स्थानीय तृणमूल नेताओं के पाले हुए थे।

सभी एपिसोड ऐसी ही दहशत की घुटन से लबालब हैं। सभी तृणमूल कॉन्ग्रेस के काडर के सताए हैं, और हर एक केस में न्याय मिलना शेष है। सभी पीड़ितों ने पुलिस के असहयोग की भी बात की, और कुछ ने तो यह भी कहा है कि पुलिस ने उल्टा उन्हें ही और भी प्रताड़ित किया, जबकि आरोपितों को खुला छोड़ दिया।

दीदी की समुदाय विशेष में भी केवल वोट देने वालों के प्रति है ममता

अमित हसन नामक युवक की कहानी का विशेष ज़िक्र जरूरी है। सातवें एपिसोड में उन्हीं की कहानी है और दिखाती है कि कैसे ‘दीदी’ के लिए दूसरे समुदाय वालों में भी केवल खुद को वोट देने वाले हिन्दुतानी जिहादी-कठमुल्ले और बांग्लादेशी-रोहिंग्या घुसपैठिए ही जरूरी हैं। अमित भाजपा की छात्र इकाई ABVP (अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद) के सदस्य हैं और 2013 से ही तृणमूल के निशाने पर हैं।

2016 में उनके साथ भी तापोश की ही तरह बेरहमी से मारपीट हुई। इसके अलावा उन्हें जबरन जहरीली शराब भी पिलाई गई। उनकी जान किसी तरह बच पाई लेकिन पुलिस ने उनका केस दर्ज करने से साफ इंकार कर दिया। इसके बावजूद वह आगामी लोकसभा चुनावों में भाजपा के प्रचार के लिए मैदान में हैं। उनके अनुसार यदि सभी लोग डरे रहेंगे तो तृणमूल वालों की हिम्मत बढ़ती जाएगी और यह आतंक का राज कभी खत्म नहीं होगा। इसलिए उन्हें तृणमूल के आतंक का सामना करने का खतरा उठाना ही पड़ेगा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

राजस्थान: FIR दर्ज कराने गई थी महिला, सब-इंस्पेक्टर ने थाना परिसर में ही 3 दिन तक किया रेप

एक महिला खड़ेली थाना में अपने पति के खिलाफ FIR लिखवाने गई थी। वहाँ तैनात सब-इंस्पेक्टर ने थाना परिसर में ही उसके साथ रेप किया।

सबसे आगे उत्तर प्रदेश: 20 लाख कोरोना वैक्सीन की डोज लगाने वाला पहला राज्य बना

उत्तर प्रदेश देश का पहला ऐसा राज्य बन गया है, जहाँ 20 लाख लोगों को कोरोना वैक्सीन का लाभ मिला है।

रेल इंजनों पर देश की महिला वीरांगनाओं के नाम: अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर भारतीय रेलवे ने दिया सम्मान

झाँसी की रानी लक्ष्मीबाई, इंदौर की रानी अहिल्याबाई और रामगढ़ की रानी अवंतीबाई इनमें प्रमुख हैं। ऐसे ही दक्षिण भारत में कित्तूर की रानी चिन्नम्मा, शिवगंगा की रानी वेलु नचियार को सम्मान दिया गया।

बुर्का बैन करने के लिए स्विट्जरलैंड तैयार, 51% से अधिक वोटरों का समर्थन: एमनेस्टी और इस्लामी संगठनों ने बताया खतरनाक

स्विट्जरलैंड में हुए रेफेरेंडम में 51% वोटरों ने सार्वजनिक जगहों पर बुर्का और हिजाब पहनने पर प्रतिबंध के पक्ष में वोट दिया है।

BJP पैसे दे तो ले लो… वोट TMC के लिए करो: ‘अकेली महिला ममता बहन’ को मिला शरद पवार का साथ

“मैं आमना-सामना करने के लिए तैयार हूँ। अगर वे (भाजपा) वोट खरीदना चाहते हैं तो पैसे ले लो और वोट टीएमसी के लिए करो।”

‘सबसे बड़ा रक्षक’ नक्सल नेता का दोस्त गौरांग क्यों बना मिथुन? 1.2 करोड़ रुपए के लिए क्यों छोड़ा TMC का साथ?

तब मिथुन नक्सली थे। उनके एकलौते भाई की करंट लगने से मौत हो गई थी। फिर परिवार के पास उन्हें वापस लौटना पड़ा था। लेकिन खतरा था...

प्रचलित ख़बरें

मौलाना पर सवाल तो लगाया कुरान के अपमान का आरोप: मॉब लिंचिंग पर उतारू इस्लामी भीड़ का Video

पुलिस देखती रही और 'नारा-ए-तकबीर' और 'अल्लाहु अकबर' के नारे लगा रही भीड़ पीड़ित को बाहर खींच लाई।

14 साल के किशोर से 23 साल की महिला ने किया रेप, अदालत से कहा- मैं उसके बच्ची की माँ बनने वाली हूँ

अमेरिका में 14 साल के किशोर से रेप के आरोप में गिरफ्तार की गई ब्रिटनी ग्रे ने दावा किया है कि वह पीड़ित के बच्चे की माँ बनने वाली है।

आज मनसुख हिरेन, 12 साल पहले भरत बोर्गे: अंबानी के खिलाफ साजिश में संदिग्ध मौतों का ये कैसा संयोग!

मनसुख हिरेन की मौत के पीछे साजिश की आशंका जताई जा रही है। 2009 में ऐसे ही भरत बोर्गे की भी संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हुई थी।

‘ठकबाजी गीता’: हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस अकील कुरैशी ने FIR रद्द की, नहीं माना धार्मिक भावनाओं का अपमान

चीफ जस्टिस अकील कुरैशी ने कहा, "धारा 295 ए धर्म और धार्मिक विश्वासों के अपमान या अपमान की कोशिश के किसी और प्रत्येक कृत्य को दंडित नहीं करता है।"

‘मासूमियत और गरिमा के साथ Kiss करो’: महेश भट्ट ने अपनी बेटी को साइड ले जाकर समझाया – ‘इसे वल्गर मत समझो’

संजय दत्त के साथ किसिंग सीन को करने में पूजा भट्ट असहज थीं। तब निर्देशक महेश भट्ट ने अपनी बेटी की सारी शंकाएँ दूर कीं।

‘सबसे बड़ा रक्षक’ नक्सल नेता का दोस्त गौरांग क्यों बना मिथुन? 1.2 करोड़ रुपए के लिए क्यों छोड़ा TMC का साथ?

तब मिथुन नक्सली थे। उनके एकलौते भाई की करंट लगने से मौत हो गई थी। फिर परिवार के पास उन्हें वापस लौटना पड़ा था। लेकिन खतरा था...
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,301FansLike
81,966FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe