Monday, July 15, 2024
Homeदेश-समाज20 साल की लड़की की होनी थी शादी, पश्चिम बंगाल की पुलिस ने 'बांग्लादेशी'...

20 साल की लड़की की होनी थी शादी, पश्चिम बंगाल की पुलिस ने ‘बांग्लादेशी’ बताकर पकड़ा: 4 साल की जेल, 7 साल बाद हाई कोर्ट ने ‘भारतीय’ माना

इस महिला को 2015 में मह‍िला पश्चिम बंगाल में बांग्‍लादेश अंतर्राष्‍ट्रीय चेकपोस्‍ट के पास से गिरफ्तार क‍िया गया था। उसने खुद को भारतीय बताया। लेकिन उसकी नहीं सुनी गई। बाद में ट्रायल कोर्ट ने उसे घुसपैठ के आरोप में चार साल की सजा सुनी दी।

पश्चिम बंगाल की पुलिस ने जब ‘बांग्लादेशी घुसपैठिया’ बताकर उसे पकड़ा था, तब उसकी उम्र 20 साल थी। उसकी शादी होनी थी। अब हाई कोर्ट ने जब उसे ‘भारतीय’ माना है, तब वह 27 साल की हो चुकी है। इस बीच उसके कई महीने जेल में कटे। ट्रायल कोर्ट ने तो 4 साल की सजा भी सुना दी थी।

टाइम्‍स ऑफ इंड‍िया की र‍िपोर्ट के मुताबिक जाँच में लापरवाही की वजह से इस महिला को यह साबित करने में सात साल लगे कि वह बांग्लादेशी नहीं, बल्कि भारतीय है। कलकत्ता हाई कोर्ट ने उसके पक्ष में फैसला सुनाते हुए कहा है क‍ि ‘जीने के अध‍िकार में न‍िष्‍पक्ष जाँच और न‍िष्‍पक्ष सुनवाई का अधिकार’ भी शाम‍िल है।

इस महिला को 2015 में मह‍िला पश्चिम बंगाल में बांग्‍लादेश अंतर्राष्‍ट्रीय चेकपोस्‍ट के पास से गिरफ्तार क‍िया गया था। उसने खुद को भारतीय बताया। लेकिन उसकी नहीं सुनी गई। बाद में ट्रायल कोर्ट ने उसे घुसपैठ के आरोप में चार साल की सजा सुनी दी।

9 पन्नों के आदेश में जस्टिस सिद्धार्थ रॉय चौधरी ने कहा है, ”जीने के अध‍िकार में न‍िष्‍पक्ष जाँच और न‍िष्‍पक्ष सुनवाई का अधिकार भी शाम‍िल है। इस मामले में दोनों का पालन नहीं हुआ। युवा लड़की को प्रताड़ित होना पड़ा।” साथ ही यह भी कहा क‍ि जाँच अध‍िकारी को यह पता था क‍ि लड़की भारतीय है। फ‍िर भी उसका केस ट्रायल के ल‍िए भेजा गया। जाँच में घाेर लापरवाही की गई।

मह‍िला का केस लड़ने वाले वकील आशीष चक्रवर्ती ने बताया कि गिरफ्तारी के समय पुल‍िस ने उसकी एक भी दलील नहीं मानी। पुल‍िस ने उस पर विदेशी अधिनियम, 1946 के तहत आरोप लगाया। मह‍िला के प‍िता ने अपनी बेटी की गुमशुदगी की र‍िपोर्ट ल‍िखाई थी। बाद में उन्‍होंने ट्रायल कोर्ट को बताया था क‍ि उसने मैट्रिक की परीक्षा पास की है और उसके पास राशन कार्ड भी है। मह‍िला के प‍िता के दावाें का तीन सरकारी अधिकारी ने समर्थन भी क‍िया था।

गिरफ्तारी के बाद महिला को डेढ़ महीना जेल में रहना पड़ा। सजा सुनाए जाने के बाद भी 11 महीने से ज्यादा समय तक वह जेल में रही। बाद में कोविड के कारण उसे जमानत मिल गई। महिला के अनुसार उसके मंगेतर ने भी सात साल तक उसका इंतजार किया।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘जम्मू-कश्मीर की पार्टियों ने वोट के लिए आतंक को दिया बढ़ावा’: DGP ने घाटी के सिविल सोसाइटी में PAK के घुसपैठ की खोली पोल,...

जम्मू कश्मीर के DGP RR स्वेन ने कहा है कि एक राजनीतिक पार्टी ने यहाँ आतंक का नेटवर्क बढ़ाया और उनके आका तैयार किए ताकि उन्हें वोट मिल सकें।

कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री DK शिवकुमार को सुप्रीम कोर्ट से झटका, चलती रहेगी आय से अधिक संपत्ति मामले CBI की जाँच: दौलत के 5 साल...

सुप्रीम कोर्ट ने कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री डीके शिवकुमार को आय से अधिक संपत्ति मामले में CBI जाँच से राहत देने से मना कर दिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -