Sunday, October 17, 2021
Homeदेश-समाजकोरोना इलाज के लिए 500 की जगह सिर्फ 80 बेड: ममता बनर्जी के झूठ...

कोरोना इलाज के लिए 500 की जगह सिर्फ 80 बेड: ममता बनर्जी के झूठ का वहीं के डॉक्टर ने किया पर्दाफाश

पश्चिम बंगाल में राज्य सरकार के ख़िलाफ़ डॉ गुप्ता का ये बयान, बेहद चौंकाने वाला खुलासा इसलिए भी है क्योंकि इससे पहले वहाँ के स्वास्थ्य विभाग ने दावा किया था कि सागर दत्त मेडिकल कॉलेज में हर हफ्ते 50 बेड जोड़े जा रहे हैं। लेकिन सागर दत्त के ही ये डॉक्टर अब कह रहे हैं कि वहाँ 500 नहीं सिर्फ़ 80 बेड है।

पश्चिम बंगाल के कामरहाटी में एक अस्पताल है-सागर दत्त अस्पताल। इस अस्पताल के एक डॉक्टर ने बंगाल सरकार पर आरोप लगाया है कि वे स्वास्थ्य सुविधाओं को लेकर सही दावे नहीं कर रहे और कोरोना के सही आँकड़े भी पेश नहीं कर रहे।

एबीपी न्यूज से बात करते हुए डॉ गुप्ता ने कहा कि बंगाल सरकार कोरोना से जुड़े अपडेट पर राज्य सरकार की वेबसाइट पर भ्रामक जानकारी प्रकाशित कर रही है।

डॉक्टर के इस साक्षात्कार की क्लिप को भाजपा के राष्ट्रीय सचिव सुनील देवधर ने भी अपनी टाइमलाइन पर साझा किया है। उन्होंने लिखा, “डॉक्टर आगे आकर बंगाल सरकार के झूठ को उजागर कर रहे हैं। ममता सरकार, लोगों से स्वास्थ्य संरचना और केसों के बारे में झूठ बोल रही है।”

इस साक्षात्कार में हम देख सकते हैं कि एंकर डॉक्टर से पूछता है कि आखिर सागर दत्त अस्पताल, जिसे राज्य सरकार ने कोविड-19 मरीजों के इलाज के लिए सेंटर में तब्दील कर दिया है। वहाँ पर 417-420 बेड खाली होने के बावजूद लोगों को भर्ती करने से क्यों मना किया जा रहा है? जिस पर डॉक्टर गुप्ता एंकर को जवाब देते हुए कहते हैं कि ये बहुत दुखद है कि राज्य सरकार वास्तविक आँकड़ों पर और स्वास्थ्य सुविधाओं पर झूठ बोल कर लोगों को भ्रमित कर रही है।

डॉक्टर आगे कहते हैं कि राज्य सरकार की वेबसाइट पर लिखा है कि कोरोना के मरीजों का इलाज करने वाले सेंटर्स में 500 बेड हैं। लेकिन बावजूद इसके सागर दत्त मेडिकल कॉलेज में जरूरत के मुताबिक 500 बेड नहीं हैं। वहाँ केवल 80 बेड हैं जिनपर उपचार हो रहा है। इसके अलावा अस्पातल में कोई सीसीयू भी नहीं है कि मरीज की गंभीर हालात होने पर उसका इलाज किया जा सके।

डॉ गुप्ता इस साक्षात्कार को देते हुए अपनी चिंता भी जाहिर करते हैं। वे कहते कि अगर सरकार इसी तरह झूठे दावे करेगी और सही आँकड़े नहीं पेश करेगी तो इससे और ज्यादा पैनिक क्रिएट होगा। उनका कहना है कि राज्य की स्वास्थ्य स्थिति बेहद गंभीर हालत में है।

गौरतलब है कि पश्चिम बंगाल में राज्य सरकार के ख़िलाफ़ डॉ गुप्ता का ये बयान, बेहद चौंकाने वाला खुलासा इसलिए भी है क्योंकि इससे पहले वहाँ के स्वास्थ्य विभाग ने दावा किया था कि सागर दत्त मेडिकल कॉलेज में हर हफ्ते 50 बेड जोड़े जा रहे हैं। लेकिन सागर दत्त के ही ये डॉक्टर अब कह रहे हैं कि वहाँ 500 नहीं सिर्फ़ 80 बेड है।

इतना ही नहीं, सागर दत्त अस्पताल के इस डॉक्टर का ये भी मानना है कि ये स्थिति सिर्फ़ उनके सेंटर तक सीमित नहीं होगी। बल्कि कई अन्य कोविड सेंटर्स का भी बंगाल में यही हाल होगा और वह भी इसी परेशानी से जूझ रहे होंगे। लेकिन, फिर भी राज्य सरकार ने इस मामले पर अपनी आँखों पर पट्टी बाँधी हुई है। वे कहते हैं कि राज्य के डॉक्टरों का मानना है कि आने वाले समय में बंगाल की स्थिति और भी बद्तर होने वाली है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बेअदबी करने वालों को यही सज़ा मिलेगी, हम गुरु की फौज और आदि ग्रन्थ ही हमारा कानून’: हथियारबंद निहंगों को दलित की हत्या पर...

हथियारबंद निहंग सिखों ने खुद को गुरू ग्रंथ साहिब की सेना बताया। साथ ही कहा कि गुरु की फौजें किसानों और पुलिस के बीच की दीवार हैं।

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,137FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe