शादीशुदा रहमान ने ख़ुद को हिन्दू बता लड़की को प्रेम-पाश में फँसाया, दोस्तों संग मिल रेप कर नदी में फेंका

सात सितम्बर को जहाँगीरपुर के पुनर्भाबा नदी में लड़की की लाश मिली थी। उसके अधिकतर कपड़े गायब थे। गला रेत कर उसकी हत्या की गई थी और चेहरे पर कई निशानों से पता चला की हत्या से पहले उसके साथ काफ़ी दरिंदगी की गई थी।

क़रीब 1 सप्ताह पहले पश्चिम बंगाल के दक्षिण दिनाजपुर जिले के गंगरापुर क्षेत्र में नदी में एक युवती की लाश मिली थी। युवती के शरीर पर कपड़े भी ठीक से नहीं थे। इस मामले में 2 आरोपितों को गिरफ़्तार किया गया था। दोनों ही आरोपितों ने युवती का बलात्कार और हत्या करने के आरोपों को स्वीकार कर लिया है। एक आरोपित का नाम मजिदुर रहमान है, जिसने अपनी पहचान पिंटू सरकार बता कर लड़की से प्रेम सम्बन्ध स्थापित किया और अपना मज़हब छिपाया

शनिवार (सितम्बर 7, 2019) को जहाँगीरपुर के पुनर्भाबा नदी में लड़की की लाश मिली थी। उसके अधिकतर कपड़े गायब थे। गला रेत कर उसकी हत्या की गई थी और चेहरे पर कई निशानों से पता चला की हत्या से पहले उसके साथ काफ़ी दरिंदगी की गई थी। कुछ दिनों बाद पता चला कि लड़की का नाम जबा रॉय था। बुधवार (सितम्बर 11, 2019) को मजिदुर रहमान को भारत-बांग्लादेश सीमा से गिरफ़्तार किया गया।

अब यह पता चला है कि मजिदुर न सिर्फ़ पहले से ही शादीशुदा है बल्कि उसने जबा से प्रेम सम्बन्ध बनाने के लिए अपना मज़हब भी छिपाया। मजिदुर एक मेडिकल लेबोरेटरी में काम करता था और उक्त युवती वहीं पर इलाज कराने के लिए आया करती थी। इसी दौरान दोनों में जान-पहचान हुई और वे रिलेशनशिप में आ गए। बाद में जबा गर्भवती हो गई और उसके बाद उसे मजिदुर की सच्चाई पता चली। वह मजिदुर से शादी करने की ज़िद करने लगी लेकिन वह टालता रहा।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

6 सितम्बर को उसने युवती को शादी के बारे में बात करने के बहाने से बुलाया और नदी किनारे एक सुनसान जगह पर ले गया। वहाँ उसके दो अन्य साथी पहले से ही इंतजार कर रहे थे। उनमें से एक मजिदुर के साथ ही लेबोरेटरी में काम करता था। वहाँ उन तीनों ने मिल कर युवती के साथ बलात्कार किया और फिर मार कर उसे नदी में फेंक दिया।

मजिदुर के अलावा एक अन्य आरोपित को गिरफ़्तार कर कोर्ट में पेश किया गया, जहाँ से उन्हें पुलिस रिमांड में भेज दिया गया। तीसरा आरोपित अभी भी फरार है। इस घटना के ख़िलाफ़ क्षेत्र में ख़ूब विरोध प्रदर्शन भी हुए। विश्व हिन्दू परिषद सहित अन्य संगठनों ने हाइवे जाम कर विरोध प्रदर्शन किया, जिसके बाद पुलिस की कार्रवाई में कई प्रदर्शनकारी घायल हो गए। कइयों को गिरफ़्तार भी किया गया।

भाजपा सांसद लॉकेट चटर्जी ने पीड़िता के परिवार वालों से मिल कर उन्हें ढाँढस बँधाया। उन्होंने पीड़ित परिवार को आश्वासन दिया कि उन्हें हर प्रकार की क़ानूनी मदद मुहैया कराई जाएगी। क्षेत्र में लोगों की माँग है कि आरोपितों को फाँसी की सज़ा दी जाए। भरी पुलिस बल की तैनाती के कारण शांति है लेकिन इलाक़े में अभी भी तनाव व्याप्त है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

कमलेश तिवारी हत्याकांड
आपसी दुश्मनी में लोग कई बार क्रूरता की हदें पार कर देते हैं। लेकिन ये दुश्मनी आपसी नहीं थी। ये दुश्मनी तो एक हिंसक विचारधारा और मजहबी उन्माद से सनी हुई उस सोच से उत्पन्न हुई, जहाँ कोई फतवा जारी कर देता है, और लाख लोग किसी की हत्या करने के लिए, बेखौफ तैयार हो जाते हैं।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

107,076फैंसलाइक करें
19,472फॉलोवर्सफॉलो करें
110,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: