Saturday, July 20, 2024
Homeदेश-समाजबंगाल में 697 बूथों पर फिर से हो रही वोटिंग, सुरक्षा में हर जगह...

बंगाल में 697 बूथों पर फिर से हो रही वोटिंग, सुरक्षा में हर जगह केंद्रीय बल तैनात: विरोध देख SEC का फैसला, हिंसा में मरने वालों की संख्या 19 हुई

एक अधिकारी ने बताया कि राज्य चुनाव आयोग ने रविवार शाम को बैठक के बाद वोटिंग वाले दिन हुई हिंसा की खबरों पर गौर किया और आदेश पारित किया कि दोबा री-पोलिंग होगी।

पश्चिम बंगाल में पंचायत चुनाव वाले दिन जमकर हिंसा होने के कारण आज बंगाल के कई जिलों में दोबारा मतदान हो रहा है। राज्य चुनाव आयोग ने बताया कि 5 जिलों के करीबन 697 बूथों पर यह वोट डाले जा रहे हैं। इस दौरान बूथों की सुरक्षा के लिए वहाँ केंद्रीय बल भी तैनात है।

जी हिंदुस्तान की रिपोर्ट के अनुसार, एक अधिकारी ने बताया कि राज्य चुनाव आयोग ने रविवार शाम को बैठक के बाद वोटिंग वाले दिन हुई हिंसा की खबरों पर गौर किया था और आदेश पारित किया था कि दोबारा री-पोलिंग होगी। अब केंद्रीय बल की कड़ी सुरक्षा में 600 से ज्यादा बूथों पर वोटिंग की जा रही है।

बता दें कि पंचायत चुनाव में दोबारा वोटिंग सोमवार को मुर्शिदाबाद में 175 बूथों पर, मालदा में 112 बूथों पर की जा रही है। इसी तरह नादिया में 89, नॉर्थ 24 परगना में 46 बूथों पर दोबारा मतदान कराया जा रहा है। इसके अलावा साउथ 24 परगना में 36, पूर्व मेदिनीपुर में 31, हुगली में 29, साउथ दिनाजपुर में 18, जलपाईगुड़ी में 14, बीरभूम में 14, पश्चिम मेदिनीपुर में 10, बांकुरा में 8, हावड़ा में 8, पश्चिम बर्धमान में 6, पुरुलिया में 4, 3 पूर्व बर्धमान में, और 1 अलीपुरद्वार में बूथ पर दोबारा वोटिंग हो रही है।

उल्लेखनीय है कि बंगाल में 8 जुलाई को पंचायत चुनाव के लिए मतदान के दौरान भारी हिंसा हुई थी। कही बम फेंके गए थे तो कहीं पोलिंग बूथ पर आगजनी हुई थी। कई मामले आए थे जब लोग बैलट बॉक्स और बैलट पेपर ही तोड़कर भाग गए। ऐसे में राज्य में चुनाव आयोग का काफी विरोध हुआ और फिर जाकर उन्होंने इन सब मामलों पर संज्ञान लिया।

राज्य चुनाव आयोग ने जिलाधिकारियों से विस्तृत रिपोर्ट माँगी। वहीं पश्चिम बंगाल के राज्यपाल सीवी आनंद भी रविवार को नई दिल्ली आए। संभव है कि वो यहाँ केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह से मिलकर उन्हें राज्य में पंचायत चुनाव के दौरान हुई हिंसा पर एक रिपोर्ट देंगें। इससे पहले वह ग्रामीण चुनावों की पृष्ठभूमि में हिंसा प्रभावित क्षेत्रों का दौरा करने के बाद एक रिपोर्ट तैयार कर चुके हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बांग्लादेशी महिला के 5 छोटे बच्चे, 3 लड़कियाँ… इसलिए इलाहाबाद हाई कोर्ट ने दे दी जमानत: सपा विधायक की मदद से भारत में रहने...

इलाहाबाद हाई कोर्ट ने जेल में बंद एक बांग्लादेशी महिला हिना रिजवान को जमानत दे दी। महिला अपने बच्चों के साथ अवैध रूप से भारत में रही थी।

घुमंतू (खानाबदोश) पूजा खेडकर: जिसका बाप IAS, वो गुलगुलिया की तरह जगह-जगह भटक बिताई जिंदगी… इसी आधार पर बन गई MBBS डॉक्टर

पूजा खेडकर ने MBBS में नाम लिखवाने से लेकर IAS की नौकरी पास करने तक में नाम, उम्र, दिव्यांगता, अटेंप्ट और आय प्रमाण पत्र में फर्जीवाड़ा किया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -