Monday, April 12, 2021
Home देश-समाज पिता MP, पति DM, खुद SP: मुंगेर की 'जनरल डायर', जिस पर लगा था...

पिता MP, पति DM, खुद SP: मुंगेर की ‘जनरल डायर’, जिस पर लगा था पुलिस के काम के लिए नेता की गाड़ी के इस्तेमाल का आरोप

लिपि सिंह ने पुलिस द्वारा फायरिंग की बात से साफ़ इनकार कर दिया और इसके लिए 'असामाजिक तत्वों' को जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने 'बदमाशों' पर पत्थरबाजी के आरोप लगाए। अब लोगों का सवाल ये है कि ये 'असामाजिक तत्व' हैं कौन? श्रद्धालु? हिन्दू? माँ दुर्गा की पूजा करने वाले उनके भक्त?

मुंगेर में दुर्गा पूजा के बाद माता की प्रतिमा के विसर्जन के दौरान पुलिस पर बर्बरता के आरोप लगे। इस घटना में दो लोगों के मरने की बात कही जा रही है और दो दर्जन के करीब घायल हैं। पुलिस की इस कार्रवाई के बीच एक नाम जो बार-बार उछल कर सामने आ रहा है और जिसकी तुलना लोग जालियाँवाला बाग़ नरसंहार के जनरल डायर से कर रहे हैं, वो हैं मुंगेर की एसपी और जदयू सांसद रामचंद्र प्रसाद (RCP) सिंह की बेटी लिपि सिंह का।

इस घटना के बाद लिपि सिंह ने जिस तरह के बयान दिए, उससे पुलिस के प्रति लोगों के गुस्से में और उछाल ही आया। उन्होंने पुलिस द्वारा फायरिंग की बात से साफ़ इनकार कर दिया और इसके लिए ‘असामाजिक तत्वों’ को जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने ‘बदमाशों’ पर पत्थरबाजी के आरोप लगाए। अब लोगों का सवाल ये है कि ये ‘असामाजिक तत्व’ हैं कौन? श्रद्धालु? हिन्दू? माँ दुर्गा की पूजा करने वाले उनके भक्त?

लिपि सिंह काफी चर्चे में रहती आई है और मीडिया का एक धड़ा उन्हें ‘लेडी सिंघम’ कह कर भी पुकारता है। बिहार में वैसे भी पिछले कुछ वर्षों में गुप्तेश्वर पांडेय, मनु महाराज और शिवदीप लांडे जैसे आईपीएस अधिकारी काफी चर्चित रहे हैं। लिपि सिंह की छवि भी मीडिया ने कुछ वैसी ही बनाई है। उनकी कार्रवाइयाँ खबरें बनती हैं और उनके बयान स्थानीय मीडिया में चर्चा का विषय। लेकिन, इस बार वो जबर्दस्त आलोचना का शिकार हो रही हैं।

कौन हैं मुंगेर एसपी लिपि सिंह के पिता RCP सिंह?

लिपि सिंह के बारे में जानने से पहले हमें ये समझना पड़ेगा कि उनके पिता RCP सिंह कौन हैं। उन्हें जदयू का संकटमोचक माना जाता है, जो नीतीश कुमार के दाएँ हाथ कहे जाते हैं। यूपी कैडर के आईएएस अधिकारी रहे आरसीपी सिंह ने 2010 में राजनीति में कदम रखा था और उन्हें राज्यसभा सांसद बनाया गया था। 2016 में उनका कार्यकाल पूरा होने के बाद फिर से उन पर भरोसा जताया गया।

आरसीपी सिंह नीतीश कुमार के प्रधान सचिव रह चुके हैं। दोनों का गृह जिला नालंदा ही है। 62 वर्षीय आरसीपी सिंह ने उत्तर प्रदेश के कई विभागों में बड़े पद संभाले थे। जब नीतीश कुमार केंद्रीय रेल मंत्री थे, तब उन्होंने उनके सचिव के रूप में काम किया था और यहीं से दोनों की घनिष्ठता बढ़ती चली गई। नीतीश कुमार के हर फैसले में उनकी राय ज़रूर ली जाती है। 2017 में मोदी मंत्रिमंडल के विस्तार के दौरान तो उन्हें केंद्रीय मंत्री बनाए जाने की भी चर्चा थी।

जदयू के राष्ट्रीय महासचिव और राज्यसभा सांसद आरसीपी सिंह

एक समय तो दोनों में अनबन की बातें भी सामने आई थीं, जब बिहार में प्रशांत किशोर की एंट्री हुई थी। मीडिया में चर्चा थी कि आरसीपी सिंह पर निर्भरता कम करने और उनके दबदबे को घटाने के लिए ही प्रशांत किशोर को मंत्री के स्तर का दर्जा दिया गया है। इस बार भी वो विधानसभा चुनाव की तैयारियों में लगे हुए हैं और जदयू नेताओं के साथ बैठक कर फीडबैक लेते रहते हैं। उनके अलावा एक ललन सिंह ही हैं, जिन्हें नीतीश का इतना करीबी माना जाता है। ललन सिंह मुंगेर से दूसरी बार सांसद बने हैं।

मीडिया में अक्सर चर्चा में रहती हैं लिपि सिंह

बिहार में कई पुलिस अधिकारी ऐसे हैं, जिन्हें किसी खास क्षेत्र में सिर्फ इसीलिए भेजा गया, ताकि वो किसी खास ‘बाहुबली’ पर लगाम लगा सकें। बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने बेगूसराय में माफिया अशोक सम्राट के खिलाफ कार्रवाई की। लिपि सिंह बिहार के बाहुबली नेता अनंत सिंह के ठिकानों पर छापेमारी के बाद चर्चा में आई थीं। उन्होंने अनंत सिंह के खिलाफ यूएपीए के तहत एफआईआर दर्ज की थी, जिसके बाद विधायक अनंत सिंह को फरार होना पड़ा था।

बिहार में ‘छोटे सरकार’ कहे जाने वाले अनंत पटना के मोकामा से बतौर MLA हैट्रिक लगा चुके हैं। अनंत सिंह की पत्नी नीलम देवी ने आरोप लगाया था कि वो जानबूझ कर उनके करीबियों को परेशान कर रही हैं, जिसके बाद उनका ट्रांसफर हुआ था। इस छापेमारी में एक एके-47 राइफल सहित कई कारतूस व खोखे भी मिले थे। 2019 लोकसभा चुनाव के बाद लिपि सिंह को बाढ़ का एसडीपीओ बना कर भेजा गया।

हालाँकि, नीलम देवी लोकसभा चुनाव हार गईं और जदयू के ललन सिंह विजयी रहे। इसके बाद उन्होंने भी लिपि सिंह को अनंत सिंह के खिलाफ कार्रवाई के लिए खुली छूट दे दी। उन्होंने एक-एक कर के अनंत समर्थकों व उनके गिरोह के लोगों पर शिकंजा कसना शुरू कर दिया। हालाँकि, बाद में मोकामा से पिछले 15 साल से विधायक अनंत सिंह ने भी आत्मसमर्पण कर दिया और उन्हें जेल भेज दिया गया।

लिपि सिंह के पति सुहर्ष भगत भी आईएएस अधिकारी हैं और वो फ़िलहाल बाँका के डीएम हैं। ये चर्चा आम है कि चुनाव के दौरान ट्रांसफर के क्रम में लिपि सिंह का स्थानांतरण क्यों नहीं किया गया? उनके जदयू कनेक्शंस के बावजूद उन्हें चुनावी ड्यूटी पर लगाने को लेकर भी सवाल खड़े हो रहे हैं। अनंत सिंह पर कार्रवाई के कुछ महीने बाद वो एएसपी से एसपी बनी थीं। अनंत ने भी आरोप लगाया था कि वो अपने पिता के इशारों पर उनके खिलाफ कार्रवाई कर रही थीं।

लिपि सिंह 2016 बैच की आईपीएस अधिकारी हैं। 2019 लोकसभा चुनाव के दौरान जब आयोग ने उनके ट्रांसफर किया था, तब उन्हें ‘एंटी टेररिज्म स्क्वाड’ में एएसपी बनाया गया था। एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा था कि बिहार एक पुरुष प्रधान राज्य है। उनका कहना था कि एक महिला होने के कारण किसी को नहीं लगता कि वो रात में छापेमारी कर सकती हैं और ऐसा होने पर लोग आश्चर्य में पड़ जाते हैं।

अगस्त 2019 में लिपि सिंह पर आरोप लगा था कि वो दिल्ली के साकेत कोर्ट में अनंत सिंह के लिए जब ट्रांजिट रिमांड लेने गई थीं, तो उन्होंने जदयू नेता की गाड़ी का इस्तेमाल किया था। मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया था कि वो जदयू के विधान पार्षद रणवीर नंदन की गाड़ी से दिल्ली गई थीं। तब कॉन्ग्रेस एमएलसी प्रेमचंद मिश्रा ने भी यही आरोप लगाए थे। कॉन्ग्रेस ने जाँच की माँग उठाते हुए पूछा था कि उन्होंने पुलिस की गाड़ी का उपयोग क्यों नहीं किया?

हालाँकि, तब जदयू प्रवक्ता ने इसका बचाव करते हुए पूछा था कि क्या किसी नेता की गाड़ी का प्रयोग करना गुनाह है? सत्ताधारी पार्टी के नेताओं को इसमें कुछ भी गलत नहीं लगा था। नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने भी अब नीतीश कुमार से सवाल दागा है कि पुलिस को जनरल डायर बन निर्दोषों पर क्रूरतापूर्वक गोली चलाने की अनुमति किसने दी? साथ ही अपनी सरकार बनने पर दोषियों को सज़ा देने की बात कही है।

इधर भाजपा आईटी सेल के अध्यक्ष अमित मालवीय का कहना है कि बिहार में हुई इस दुर्भाग्यपूर्ण घटना का राजद राजनीतिकरण कर रहा है। उनका कहना है कि बिहार में फ़िलहाल चुनाव चल रहे हैं और वहाँ प्रशासन की जिम्मेदारी चुनाव आयोग के पास है। उन्होंने आरोप लगाया कि राजद के ही एक स्थानीय गुट ने क्षेत्र में चुनाव से पहले तनाव फैलाने के इरादे से फायरिंग की। जो भी हो, मुंगेर में जनता ने मतदान में सक्रियता न दिखा कर अपना आक्रोश सभी राजनीतिक दलों के सामने प्रकट कर दिया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘भारत को इस्लामी मुल्क बनाने का लक्ष्य लेकर चल रहे सभी मुस्लिम, अब घोषित हो हिंदू राष्ट्र’: केरल के 7 बार के MLA ने...

"भारत को तुरंत 'हिन्दू राष्ट्र' घोषित किया जाना चाहिए, क्योंकि मुस्लिम समाज 2030 तक इसे इस्लामी मुल्क बनाने के काम पर लगा हुआ है।"

महादेव की नगरी काशी बनेगी विश्‍व की सबसे बड़ी संस्‍कृत नगरी: CM योगी की बड़ी पहल

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की पहल के बाद देवलोक व महादेव की धर्मनगरी कही जाने वाली काशी अब विश्व में संस्कृत नगरी के रूप में जानी जाएगी।

‘आत्मनिर्भर भारत’ के लिए साथ आए फ्लिपकार्ट और अडानी: लिबरल गिरोह को लगी मिर्ची, कहा- Flipkart का करेंगे बहिष्कार

इससे लघु, मध्यम उद्योग और हजारों विक्रेताओं को मदद मिलेगी। रोजगार के नए अवसर पैदा होंगे। फ्लिपकार्ट का सप्लाई चेन इंस्फ्रास्ट्रक्टर मजबूत होगा। ग्राहकों तक पहुँच आसान होगी।

SHO अश्विनी की हत्या के लिए मस्जिद से जुटाई गई थी भीड़: बेटी की CBI जाँच की माँग, पत्नी ने कहा- सर्किल इंस्पेक्टर पर...

बिहार के किशनगंज जिला के नगर थाना प्रभारी अश्विनी कुमार की शनिवार को पश्चिम बंगाल में हत्या के मामले में उनकी बेटी ने इसे षड़यंत्र करार देते हुए सीबीआई जाँच की माँग की है। वहीं उनकी पत्नी ने सर्किल इंस्पेक्टर पर केस दर्ज करने की माँग की है।

कुरान की 26 आयतों को हटाने वाली याचिका सुप्रीम कोर्ट में खारिज, वसीम रिजवी पर 50000 रुपए का जुर्माना

वसीम रिजवी ने सुप्रीम कोर्ट में कुरान की 26 आयतों को हटाने के संबंध में याचिका दाखिल की थी। इस याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया है।

‘बीजेपी की सेंचुरी पूरी, आधे चुनाव में ही TMC पूरी साफ’: बर्धमान में PM मोदी ने उठाया बिहार के SHO की मॉब लिंचिंग का...

"वो राजा राम मोहन राय जिन्होंने जाति प्रथा के खिलाफ देश को झकझोरा, इस कुरीति को मिटाने के लिए देश को दिशा दिखाई, उनके बंगाल में दीदी ने दलितों को इतना बड़ा अपमान किया है।"

प्रचलित ख़बरें

राजस्थान: छबड़ा में सांप्रदायिक हिंसा, दुकानों को फूँका; पुलिस-दमकल सब पर पत्थरबाजी

राजस्थान के बारां जिले के छाबड़ा में सांप्रदायिक हिसा के बाद कर्फ्यू लगा दिया गया गया है। चाकूबाजी की घटना के बाद स्थानीय लोगों ने...

बंगाल: मतदान देने आई महिला से ‘कुल्हाड़ी वाली’ मुस्लिम औरतों ने छीना बच्चा, कहा- नहीं दिया तो मार देंगे

वीडियो में तृणमूल कॉन्ग्रेस पार्टी के नेता को उस पीड़िता को डराते हुए देखा जा सकता है। टीएमसी नेता मामले में संज्ञान लेने की बजाय महिला पर आरोप लगा रहे हैं और पुलिस अधिकारी को उस महिला को वहाँ से भगाने का निर्देश दे रहे हैं।

SHO बेटे का शव देख माँ ने तोड़ा दम, बंगाल में पीट-पीटकर कर दी गई थी हत्या: आलम सहित 3 गिरफ्तार, 7 पुलिसकर्मी भी...

बिहार पुलिस के अधिकारी अश्विनी कुमार का शव देख उनकी माँ ने भी दम तोड़ दिया। SHO की पश्चिम बंगाल में पीट-पीटकर हत्या कर दी गई थी।

जुमे की नमाज के बाद हिफाजत-ए-इस्लाम के कट्टरपंथियों ने हिंसा के लिए उकसाया: हमले में 12 घायल

मस्जिद के इमाम ने बताया कि उग्र लोगों ने जुमे की नमाज के बाद उनसे माइक छीना और नमाजियों को बाहर जाकर हिंसा का समर्थन करने को कहने लगे। इसी बीच नमाजियों ने उन्हें रोका तो सभी हमलावरों ने हमला बोल दिया।

‘ASI वाले ज्ञानवापी में घुस नहीं पाएँगे, आप मारे जाओगे’: काशी विश्वनाथ के पक्षकार हरिहर पांडेय को धमकी

ज्ञानवापी केस में काशी विश्वनाथ के पक्षकार हरिहर पांडेय को जान से मारने की धमकी मिली है। धमकी देने वाले का नाम यासीन बताया जा रहा।

‘हमें बार-बार जाना पड़ता है, वो वॉशरूम कब जाती हैं’: साक्षी जोशी का PK से सवाल- क्या है ममता बनर्जी का टॉयलेट शेड्यूल

क्लबहाउस पर बातचीत में ‘स्वतंत्र पत्रकार’ साक्षी जोशी ने ममता बनर्जी की शौचालय की दिनचर्या के बारे में उनके चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर से पूछताछ की।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,172FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe