Wednesday, June 19, 2024
Homeदेश-समाजहाथरस कांड में SIT के सदस्य DIG चंद्र प्रकाश की पत्नी ने लगाई फाँसी,...

हाथरस कांड में SIT के सदस्य DIG चंद्र प्रकाश की पत्नी ने लगाई फाँसी, तहकीकात में जुटी पुलिस

डीआईजी चंद्र प्रकाश वर्तमान में उन्नाव में तैनात हैं। वह यूपी के गृह सचिव भगवन स्वरूप की अध्यक्षता वाली तीन सदस्यीय एसआईटी के सदस्य भी हैं, जिसे हाथरस मामले के संबंध में गठित किया गया था।

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में आज हैरान करने वाली घटना घटित हुई। जहाँ पुलिस उप महानिरीक्षक चंद्र प्रकाश की पत्नी ने कथित तौर पर फाँसी लगाकर आत्महत्या कर ली। रिपोर्ट्स के मुताबिक, डीआईजी चंद्र प्रकाश की पत्नी पुष्पा प्रकाश ने सुशांत गोल्फ सिटी इलाके में आज शनिवार (अक्टूबर 24, 2020) सुबह करीब 11 बजे घर में फंदे से लटककर सुसाइड कर लिया।

खबरों के अनुसार, आनन-फानन में कुछ लोगों द्वारा डीआइजी की 36 वर्षीय पत्नी पुष्पा प्रकाश को लोहिया अस्पताल ले जाया गया, जहाँ पर डॉक्टरों ने चेकअप के बाद उन्हें मृत घोषित कर दिया। पुलिस ने शव को कब्जे में ले लिया और जाँच शुरू कर दी है। पुष्पा प्रकाश की आत्महत्या लगाने की वजह अभी साफ नहीं हो पाई है और न ही मौके से सुसाइड नोट बरामद हुआ है।

हाथरस कांड में SIT के सदस्य हैं DIG चंद्र प्रकाश

2004-बैच के आईपीएस अधिकारी डीआईजी चंद्र प्रकाश वर्तमान में उन्नाव में तैनात हैं। वह यूपी के गृह सचिव भगवन स्वरूप की अध्यक्षता वाली उस तीन सदस्यीय एसआईटी के सदस्य भी हैं, जिसे हाथरस मामले के संबंध में गठित किया गया था।

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश के हाथरस में 19 साल की एक दलित लड़की का चार लोगों ने कथित तौर पर गला घोंटकर हत्या कर दी थी। जिसके बाद पीड़िता की हालत बिगड़ने के बाद उसे दिल्ली के अस्पताल में स्थानांतरित कर दिया गया जहाँ उसने दम तोड़ दिया। मरने से पहले उसने चार लोगों पर बलात्कार का आरोप लगाया था।

पीड़िता की मौत के बाद विपक्षी दलों ने अपनी राजनीतिक रोटियाँ सेकने के लिए घटना को चुनावी मुद्दे की तरह इस्तेमाल किया। जहाँ जाति के नाम पर राजनेताओं द्वारा लोगों को बरगलाने का काम भी किया गया। मामले के बढ़ता देख और निष्पक्ष जाँच के लिए योगी सरकार ने आखिरकार अपराध की जाँच के लिए एक सीबीआई जाँच के निर्देश दिए।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पेट्रोल-डीजल के बाद पानी-बस किराए की बारी, कर्नाटक में जनता पर बोझ खटाखट: कॉन्ग्रेस की ‘रेवड़ी’ से खजाना खाली, अब कमाई के लिए विदेशी...

कर्नाटक की कॉन्ग्रेस सरकार की रेवड़ी योजनाएँ राज्य को महँगी पड़ रही हैं। पेट्रोल-डीजल के बाद अब पानी के दाम और बसों के किराए बढ़ाने की योजना है।

पूरी हुई 832 साल की प्रतीक्षा, राष्ट्र को PM मोदी ने समर्पित की नालंदा की विरासत: कहा- आग की लपटें ज्ञान को नहीं मिटा...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बिहार के राजगीर में नालंदा विश्वविद्यालय के नए परिसर का उद्धघाटन किया। नया परिसर नालंदा विश्वविद्यालय के प्राचीन खंडहरों के पास है

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -