Thursday, July 29, 2021
Homeदेश-समाजखून की कमी से मर गई गुलशन, नईम बेग ने परिवार के साथ मिलकर...

खून की कमी से मर गई गुलशन, नईम बेग ने परिवार के साथ मिलकर डॉक्टर को पीटा

नईम बेग की 30 वर्षीय पत्नी गुलशन ने अपने घर पर 4 सितंबर को बच्चे को जन्म दिया था। प्रसव के दौरान ज्यादा खून बहने की वजह से उसकी तबीयत बिगड़ गई थी। गंभीर हालत में उसे अस्पताल लाया गया, जहाँ उसकी मौत हो गई।

उत्तर प्रदेश के रामनगर के गाँव हरदासपुर में नईम बेग नाम के शख्स ने अपनी बीवी की मौत के बाद डॉक्टर को सड़क पर घसीटकर जमके पीटा। इसमें नईम के साथ उसका परिवार भी शामिल था। पुलिस ने बड़ी मुश्किल डॉक्टर को बचाकर अपनी जीप में बैठाया, लेकिन नईम और उसके परिवार वालों ने उन्हें जीप से भी खींच लिया। बाद में एसडीएम और सीओ के साथ कई थानों की फोर्स पहुँची तो डॉक्टर की जान बची।

आखिर डॉक्टर की गलती क्या थी? दरअसल, हरदासपुर गाँव में नईम बेग की 30 वर्षीय पत्नी गुलशन ने अपने घर पर 4 सितंबर को बच्चे को जन्म दिया था। प्रसव के दौरान ज्यादा खून बहने की वजह से उसकी तबीयत बिगड़ गई। शुक्रवार को उसे नईम ने अस्पताल में भर्ती करवाया। जाँच के बाद मालूम चला कि उसका हेमोग्लोबिन 3.9 है। डॉक्टर ने गुलशन के उपचार के लिए 36 हजार रुपए जमा करने को कहा। नईम ने 25 हजार रुपए जमा करवाए और उसे अस्पताल में भर्ती करवा दिया।

शनिवार की सुबह 11 बजे खून चढाने के दौरान गुलशन की मौत हो गई। इसके बाद नईम अपने परिवार और अन्य लोगों के साथ अस्पताल पहुँचा और हंगामा शुरू कर दिया।

कुछ देर बाद भीड़ डॉक्टर को खींचकर सड़क पर ले आई और बुरी तरह पीटने लगी। बवाल की सूचना मिलते ही पुलिस वहाँ पहुँची और डॉक्टर को गाड़ी में बैठाने की कोशिश की। किंतु गुस्साई भीड़ ने डॉक्टर को जीप से भी खींच लिया और फिर मारना शुरू कर दिया। इस दौरान भीड़ में मौजूद महिलाओं ने पुलिस से धक्का-मुक्की भी की। एसडीएम और सीओ के अलावा कई थानों की फोर्स आने के बाद मामला काबू हुआ। दोनों पक्षों में बात करवाकर मामले को शाँत करवाया गया। करीब 4 घंटे बाद दोनों पक्षों में समझौता हुआ।

जानकारी के मुताबिक अभी तक दोनों पक्षों में से किसी ने भी इस घटना की शिकायत पुलिस से नहीं की है, इसलिए पुलिस ने किसी भी पक्ष पर कार्रवाई नहीं की है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कोरोना से अनाथ हुई लड़कियों के विवाह का खर्च उठाएगी योगी सरकार: शादी से 90 दिन पहले/बाद ऐसे करें आवेदन

योजना का लाभ पाने के लिए लड़कियाँ खुद या उनके माता/पिता या फिर अभिभावक ऑफलाइन आवेदन करेंगे। इसके साथ ही कुछ जरूरी दस्तावेज लगाने आवश्यक होंगे।

बंगाल की गद्दी किसे सौंपेंगी? गाँधी-पवार की राजनीति को साधने के लिए कौन सा खेला खेलेंगी सुश्री ममता बनर्जी?

ममता बनर्जी का यह दौरा पानी नापने की एक कोशिश से अधिक नहीं। इसका राजनीतिक परिणाम विपक्ष को एकजुट करेगा, इसे लेकर संदेह बना रहेगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,780FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe