Monday, June 17, 2024
Homeदेश-समाजहरियाणा को 'धमकी', खालिस्तान का समर्थन... YouTube ने हटाया सिद्धू मूसेवाला का नया गाना,...

हरियाणा को ‘धमकी’, खालिस्तान का समर्थन… YouTube ने हटाया सिद्धू मूसेवाला का नया गाना, हत्या के बाद किया गया था रिलीज

सिद्धू मूसेवाला का ये गाना रिलीज के बाद से ही विवादों में घिर गया है। इसकी वजह गाने का मनोरंजक होने की बजाय पॉलिटिकल होना है। इस गाने का शीर्षक (एसवाईएल) पंजाब और हरियाणा के उस विवाद का जिक्र करता है, जो कि दोनों राज्यों के बीच लंबे समय से खटास में है।

पंजाबी सिंगर और कॉन्ग्रेस के नेता सिद्धू मूसेवाला (Sidhu moosewala) का एक नया गाना SYL (सतलुज, यमुना लिंक नहर) रिलीज होने के बाद यूट्यूब से हटा दिया गया है। इस गाने के लेखक और गायक सिद्धू मूसेवाला ही थे। यूट्यूब (You Tube) द्वारा हटाए जाने के बाद इस गाने के लिंक पर लिखा दिख रहा है कि सरकार की शिकायतों के बाद इस कंटेंट को भारत के डोमेन से हटा दिया गया है।

सिद्धू मूसेवाला का यह गाना म्यूजिक प्रोड्यूसर MXRCI ने 23 जून 2022 को ही रिलीज किया था। वीडियो स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म पर इसे अब तक रिलीज होने के बाद से अब तक इसे 2.3 करोड़ से अधिक बार देखा जा चुका है। इसे 31 लाख से अधिक लोगों ने लाइक किया है।

विवादों में घिरा ये गाना

सिद्धू मूसेवाला का ये गाना रिलीज के बाद से ही विवादों में घिर गया है। इसकी वजह गाने का मनोरंजक होने की बजाय पॉलिटिकल होना है। इस गाने का शीर्षक (एसवाईएल) पंजाब और हरियाणा के उस विवाद का जिक्र करता है, जो कि दोनों राज्यों के बीच लंबे समय से खटास में है। दरअसल, एसवाईएल (सतलुज यमुना लिंक नहर) की कुल लंबाई 214 किलोमीटर की है। इसमें 122 किलोमीटर का काम पंजाब को पूरा करना था और 92 किलोमीटर का काम हरियाणा के हिस्से था। हरियाणा ने अपने हिस्से में नहर का निर्माण कर भी लिया है, लेकिन पंजाब में यह लटकी पड़ी है। सिद्धू मूसेवाला अपने गाने में कहते हैं ‘जब तक तुम हमें संप्रभुता की राह नहीं देते हो, तब तक पानी तो छोड़ो एक बूँद भी नहीं देंगे।’

गाने में दिवंगत सिंगर ने 1980 के दशक में पंजाब के उग्रवाद का भी जिक्र करते हुए आतंकी गतिविधियों के आरोप में जेल में बंद खालिस्तान समर्थकों की रिहाई की भी माँग करते हैं। (इन्हें पंजाब में बंदी सिख कहा जाता है)। इसके अलावा सिंगर ने एसवाईएल गाने में उन्होंने किसान आंदोलन और लाल किले के मुद्दे को भी उठाया था।

गौरतलब है कि 29 मई 2022 को सिद्धू मूसेवाला की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। हत्या से एक दिन पहले ही पंजाब की भगवंत मान सरकार ने उनकी सुरक्षा वापस ले ली थी। उनकी हत्या के मामले में लॉरेंस बिश्नोई गैंग का नाम सामने आया था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बकरों के कटने से दिक्कत नहीं, दिवाली पर ‘राम-सीता बचाने नहीं आएँगे’ कह रही थी पत्रकार तनुश्री पांडे: वायर-प्रिंट में कर चुकी हैं काम,...

तनुश्री पांडे ने लिखा था, "राम-सीता तुम्हें प्रदूषण से बचाने के लिए नहीं आएँगे। अगली बार साफ़-स्वच्छ दिवाली मनाइए।" बकरीद पर बदल गए सुर।

पावागढ़ की पहाड़ी पर ध्वस्त हुईं तीर्थंकरों की जो प्रतिमाएँ, उन्हें फिर से करेंगे स्थापित: गुजरात के गृह मंत्री का आश्वासन, महाकाली मंदिर ने...

गुजरात के गृह मंत्री हर्ष संघवी ने कहा कि किसी भी ट्रस्ट, संस्था या व्यक्ति को अधिकार नहीं है कि इस पवित्र स्थल पर जैन तीर्थंकरों की ऐतिहासिक प्रतिमाओं को ध्वस्त करे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -