Friday, August 7, 2020
Home राजनीति कौन किसके साथ? ख़ुद में ही कन्फ़्यूज़्ड हैं महागठबंधन के नेता

कौन किसके साथ? ख़ुद में ही कन्फ़्यूज़्ड हैं महागठबंधन के नेता

कभी ख़ुद को प्रधानमंत्री के तौर पर पेश करने वाले नेता आज अपने राजनीतिक अस्तित्व को बचाने के लिए समझौते करने को हैं मज़बूर

आजकल मीडिया में एक शब्द जो बार-बार प्रयोग किया जा रहा है, वो है- महागठबंधन। ये शब्द लोगों को इतनी ज़्यादा बार सुनने और पढ़ने के लिए मिल रहा है कि उन्हें ये तक पता नहीं चल पा रहा कि आख़िर महागठबंधन में कौन शामिल हैं और कौन नहीं। महागठबंधन का स्क्रिप्ट 1981 में आई यश चोपड़ा की क्लासिक फ़िल्म सिलसिला से भी ज्यादा जटिल है।

दरअसल, सिलसिला में रिश्तों का ऐसा ताना-बाना बुना गया है, जो असल ज़िन्दगी में शायद ही कहीं देखने को मिले। इस फ़िल्म में जया भादुरी प्रेमिका तो होती हैं शशि कपूर की पर उनकी शादी हो जाती है अमिताभ बच्चन से लेकिन अमिताभ जया से प्रेम नहीं करते और उनकी प्रेमिका रेखा होती हैं। रेखा भी अमिताभ से ही प्रेम करती हैं लेकिन उनकी शादी संजीव कुमार से हो जाती है। फ़िल्मी परदे पर तो ये कहानी काफ़ी अच्छी लगती है, लोग कहानी में खो जाते हैं और उनका मनोरंजन हो जाता है। लेकिन, असल ज़िंदगी में अगर ऐसी खिचड़ी पकती रहे तो लोग पसंद न करें। महागठबंधन के रूप में हमें ऐसी ही खिचड़ी पकती दिख रही है।

सबसे पहले बात मायावती की। कभी भाजपा के सहयोग से उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री रह चुकीं मायावती आज राजस्थान और मध्य प्रदेश में तो कॉन्ग्रेस के साथ हैं लेकिन उत्तर प्रदेश में उन्होंने कॉन्ग्रेस से किनारा कर लिया है। राजस्थान में बहुजन समाज पार्टी के छह विधायक हैं जबकि मध्य प्रदेश में उनके दो विधायक हैं। दोनों ही राज्यों में बसपा कॉन्ग्रेस के साथ है और सत्ता के मजे ले रही है। वहीं उत्तर प्रदेश में पासा पलट जाता है। यहाँ ‘बहन’ जी ने अपने ‘भतीजे’ अखिलेश के साथ मिल कर कॉन्ग्रेस को नज़रअंदाज़ कर दिया। अर्थात यूपी में उनकी लड़ाई कॉन्ग्रेस और भाजपा- दोनों से ही होगी।

मायावती के ताजा बयानों से ये साफ़ है कि वो कॉन्ग्रेस और भाजपा- दोनों राष्ट्रीय दलों से समान दूरी बना कर चल रही हैं। हाल ही में उन्होंने दोनों को ही दलित-विरोधी पार्टी बताया था। मायावती जब भी कोई बयान देती हैं तो वह भाजपा और कॉन्ग्रेस- दोनों को ही लपेटे में लेती हैं। ऐसे में महागठबंधन रूपी खिचड़ी में यह जानना मुश्किल हो गया है कि आखिर बहन जी हैं किसके साथ? अगर वो कॉन्ग्रेस के विरोध में हैं तो फिर दो राज्यों में कॉन्ग्रेस के साथ मिलकर सत्ता का स्वाद क्यों चख रहीं हैं? अगर वो कॉन्ग्रेस की विरोधी नहीं हैं तो फिर उत्तर प्रदेश में उन्होंने कॉन्ग्रेस पार्टी के भाजपा के खिलाफ एक बड़ा मोर्चा बनाने के इरादों पर पानी क्यों फेर दिया?

कभी प्रधानमंत्री की दौर में शामिल रहीं मायावती को आज राज्य में सत्ता पाने के लिए भी समझौते करने पर रहे हों तो इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता कि उन्हें अपने सामने मोदी के रूप में एक ऐसा ख़तरा नज़र आ रहा है, जो उनके राजनीतिक अस्तित्व के लिए संकट बन गया है। हाल ही में अखिलेश यादव के साथ हुए प्रेस कॉन्फ्रेंस में उन्होंने कहा कि कॉन्ग्रेस पार्टी से गठबंधन करने में उनका फायदा नहीं है। उनके शब्दों पर गौर करें तो हम पाएँगे कि मायावती सिर्फ़ और सिर्फ़ फ़ायदे के लिए ही अखिलेश के साथ गठबंधन में शामिल हुई हैं। अब ये फ़ायदा कुछ भी हो सकता है- किसी भी तरह सत्ता की मलाई चखना, अपना अस्तित्व बचाना और आगामी लोकसभा चुनाव के बाद किंगमेकर बनना।

अब बात सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव की। राहुल गाँधी ने कभी सपा-कॉन्ग्रेस गठबंधन की तुलना प्रयागराज के गंगा-यमुना संगम से की थी। आगामी आम चनाव के लिए बने ताजा हालात में वो गंगा-यमुना का संगम बिख़र गया है। अखिलेश यादव और मायावती के महागठबंधन ने ये साबित कर दिया कि इन इन क्षणिक गठबंधनों और इन्हें जनता के बीच पहुँचाने के लिए प्रयोग में लाए जाने वाले ‘गंगा-यमुना संगम’ जैसे मुहावरों का कोई मोल नहीं है। अवसरवाद की पराकाष्ठा को पार कर रहे ये गठबंधन सिर्फ और सिर्फ चुनावी होते हैं और एक हार के बाद ही बिखर जाते हैं।

सपा का समीकरण भी कुछ खिचड़ी की तरह ही है। अखिलेश यादव भाजपा के ख़िलाफ़ तो काफ़ी मुख़र हैं लेकिन कॉन्ग्रेस या फिर राहुल गाँधी के विरोध में बोलने से बचते रहे हैं। मायावती की तरह उनकी पार्टी में राजस्थान और मध्य प्रदेश में कॉन्ग्रेस के साथ सत्ता भोग रही है लेकिन यूपी में हालात अलग हो गए हैं। प्रयागराज में तो आज भी गंगा और यमुना का संगम धाराप्रवाह है और शायद अनंतकाल तक रहे लेकिन राजनीति में ख़ुद को गंगा-यमुना बताने वाली ज़मात आज़ दो अलग दिशा में खड़ी है, कम से कम चुनाव परिणाम आने तक।

दोनों दलों ने कॉन्ग्रेस के लिए अमेठी और रायबरेली की सीटें छोड़ने का फ़ैसला लिया है क्योंकि इन दोनों क्षेत्रों से क्रमशः यूपीए अध्यक्षा सोनिया गाँधी और कॉन्ग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी चुनाव लड़ते रहे हैं। कुल मिलाकर देखें तो इस खिचड़ी में जनता को यह समझना मुश्किल हो रहा है कि कौन किसके कितना साथ है और कौन किसके कितने विरोध में। राहुल गाँधी की बात करें तो वो सपा-बसपा का सम्मान करने की बात तो करते हैं लेकिन फिर उनके ख़िलाफ़ पूरी ताक़त से चुनाव में उतरने की बात भी करते हैं।

बिहार में भी स्थिति कुछ ऐसी ही है। यहाँ चेहरे की लड़ाई थमने का नाम नहीं ले रही। राजद के वरिष्ठ नेता शिवानंद तिवारी ने ये कह कर कॉन्ग्रेस को सकते में डाल दिया है कि बिहार में महागठबंधन का चेहरा राहुल नहीं बल्कि लालू यादव होंगे। जीतन राम माँझी की ‘हम’ पार्टी ने भी इस मामले में राजद का समर्थन किया है।

इन सभी वाक़यों को देखने के बाद ये साफ़ प्रतीत होता है कि महागठबंधन की दशा व दिशा, समय, जगह और परिस्थिति पर निर्भर है यानी कि इन तीनों के हिसाब से वो बदलती रहती है और भविष्य में भी बदलती रहेगी। कहीं ये पार्टियाँ एक-दूसरे का विरोध करेंगी तो कहीं समर्थन। आज ये किसी और के साथ रहेंगे और कल किसी और के साथ। साथ ही, किसी राष्ट्रीय दल या गठबंधन को बहुमत न मिलने की स्थिति में किंगमेकर बनने का दिवास्वप्न देख रहे ये दल चुनाव बाद किस पाले में होंगे- इसका अनुमान कोई भविष्यद्रष्टा भी न लगा सके।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘घुस के मारो सालों को’: बंगाल में मुस्लिम भीड़ ने राम की पूजा कर रहे हिंदुओं को बनाया निशाना, देखें Video

राम मंदिर भूमिपूजन के मौके पर बंगाल में कई जगहों पर पूजा आयोजित की गई थी। इन्हें मुस्लिम भीड़ ने चुन-चुनकर निशाना बनाया।

बच्चों का इस्तेमाल कैसे कर सकते, वे कैसी संस्कृति सीखेंगे: अधनंगे बदन पर पेंटिंग करवाने वाली रेहाना फातिमा से SC

केरल की रेहाना फातिमा को सुप्रीम कोर्ट ने अग्रिम जमानत देने से इनकार कर दिया है। मामला अर्ध नग्न शरीर पर बच्चों से पेटिंग करवाते हुए एक वीडियो जारी करने से जुड़ा है।

कॉल रिकॉर्ड से खुली रिया चकवर्ती की कुंडली: मुंबई के DCP के संपर्क में थी, महेश भट्ट का भी नाम

रिया चक्रवर्ती की कॉल डिटेल से पता चला है कि वह मुंबई पुलिस के एक टॉप अधिकारी के संपर्क में थी।

ऑल्टन्यूज के जुबैर ने छोटी बच्ची की तस्वीर कर दी पब्लिक, मिल रही है रेप की धमकियाँ, नहीं मान रहा गलती

स्वघोषित फैक्ट चेकर मोहम्मद जुबैर ने एक ट्विटर यूजर को निशाना बनाते हुए एक नाबालिग लड़की की तस्वीर सार्वजानिक करने का नया घटिया कारनामा किया है।

कुंभ में पैर धोने से भूमिपूजन का प्रथम प्रसाद तक, मोदी राज में दलितों का बज रहा डंका

कोई दिन नहीं जाता जब वामपंथी मीडिया और विपक्ष मोदी सरकार को दलित विरोधी न बताता हो। पर जमीनी हकीकत कुछ अलग ही तस्वीर पेश करते हैं।

भूमिपूजन के दिन धार्मिक उन्माद फैलाने की PFI ने रची थी साजिश: बहराइच से साहिबे आलम, डॉ.अलीम, कमरुद्दीन गिरफ्तार

खुफिया एजेंसियों ने जरवल में छापेमारी कर डॉ. अलीम अहमद की क्लीनिक से उन्हें दो अन्य लोगों को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने डॉ. अलीम और उसके क्लीनिक में मौजूद कमरुद्दीन और साहिबे आलम को गिरफ्तार किया था।

प्रचलित ख़बरें

असम: राम मंदिर का जश्न मना रहे बजरंगदल कार्यकर्ताओं से मुस्लिमों ने की हिंसक झड़प, 25 को बनाया बंधक, कर्फ्यू

झड़प के दौरान पाकिस्तान के समर्थन में भी नारे लगे गए और मुस्लिम युवकों ने बजरंगदल के करीब 25 कार्यकर्ताओं को बंधक भी बना दिया।

मरते हुए सड़क पर रक्त से लिखा सीताराम, मरने के बाद भी खोपड़ी में मारी गई 7 गोलियाँ… वो एक रामभक्त था

वो गोली लगते ही गिरे और अपने खून से लिखा "सीताराम"। शायद भगवान का स्मरण या अपना नाम! CRPF वाले ने 7 गोलियाँ और मार कर...

कॉल रिकॉर्ड से खुली रिया चकवर्ती की कुंडली: मुंबई के DCP के संपर्क में थी, महेश भट्ट का भी नाम

रिया चक्रवर्ती की कॉल डिटेल से पता चला है कि वह मुंबई पुलिस के एक टॉप अधिकारी के संपर्क में थी।

‘खड़े-खड़े रेप कर दूँगा, फाड़ कर चार कर दूँगा’ – ‘देवांशी’ को समीर अहमद की धमकी, दिल्ली दंगों वाला इलाका

"अपने कुत्ते को यहाँ पेशाब मत करवाना नहीं तो मैं तुझे फाड़ कर चार कर दूँगा, तेरा यहीं खड़े-खड़े रेप कर दूँगा।" - समीर ने 'देवांशी' को यही कहा था।

भूमिपूजन पर इस्लाम छोड़ 250 लोग बने हिंदू, कहा- मुगलों ने डरा-धमकाकर पूर्वजों को बनाया था मुसलमान

भूमिपूजन के मौके पर राजस्थान के बाड़मेर में 50 मुस्लिम परिवारों ने हिंदू धर्म में वापसी की। उन्होंने बताया कि इसके लिए उन पर कोई दबाव नहीं था।

‘राम मंदिर बन गया, कपिल सिब्बल कब करेंगे आत्महत्या’: रामलला के वकील रहे के पराशरण नहीं हैं ट्विटर पर

पराशरण रामलला विराजमान के वकील थे। पिछले कुछ दिनों से उनके नाम का एक ट्विटर अकाउंट सक्रिय है। जानिए क्या है इस अकाउंट की हकीकत।

सुशांत सिंह के अकाउंट से रिया चकवर्ती के भाई के खाते में ट्रांसफर हुआ था पैसा: बैंक स्टेटमेंट के हवाले से मीडिया रिपोर्ट में...

सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में एक नया खुलासा हुआ है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार सुशांत के बैंक अकाउंट से रिया चकवर्ती के भाई के खाते में पैसे ट्रांसफर किए गए थे।

रैपर बादशाह से मुंबई पुलिस ने पूछे 238 सवाल, 175 सितारों ने पैसे देकर बनाए फेक फॉलोवर्स: 50 कंपनी फर्जीवाड़े में शामिल

फर्जी फॉलोवर्स घोटाले में शुक्रवार को मुंबई पुलिस की क्राइम ब्रांच ने रैपर बादशाह से पूछताछ की। उनसे करीब 238 सवाल ​किए गए।

सुल्तानपुर: भूमिपूजन पर बॉंटी मिठाई तो घर पर समुदाय विशेष के लोगों ने बोला हमला, दुकान में तोड़फोड़

यूपी के सुल्तानपुर में रामभक्तों पर हमला किया गया। वहीं लखीमपुर में विवादित पोस्ट के जरिए माहौल बिगाड़ने की समुदाय विशेष के लोगों ने कोशिश की।

राम मंदिर पर अपने ही दावे से पीछे हटी यूथ कॉन्ग्रेस, राजीव गाँधी के गान वाला ट्वीट डिलीट

लगता है कि सॉफ्ट हिंदू का पैंतरा फेल होने पर कॉन्ग्रेस मुस्लिम तुष्टिकरण के पुराने तरीके पर लौट आई है। राम मंदिर और राजीव गॉंधी से जुड़ा ट्वीट उसने डिलीट कर​ दिया है।

‘घुस के मारो सालों को’: बंगाल में मुस्लिम भीड़ ने राम की पूजा कर रहे हिंदुओं को बनाया निशाना, देखें Video

राम मंदिर भूमिपूजन के मौके पर बंगाल में कई जगहों पर पूजा आयोजित की गई थी। इन्हें मुस्लिम भीड़ ने चुन-चुनकर निशाना बनाया।

बच्चों का इस्तेमाल कैसे कर सकते, वे कैसी संस्कृति सीखेंगे: अधनंगे बदन पर पेंटिंग करवाने वाली रेहाना फातिमा से SC

केरल की रेहाना फातिमा को सुप्रीम कोर्ट ने अग्रिम जमानत देने से इनकार कर दिया है। मामला अर्ध नग्न शरीर पर बच्चों से पेटिंग करवाते हुए एक वीडियो जारी करने से जुड़ा है।

सोमनाथ और अक्षरधाम मंदिरों से भी भव्य होगा राम मंदिर: लार्सन एंड टुब्रो जल्द शुरू करेगा निर्माण, 36-40 महीनों में पूर्ण होगा कार्य

राम मंदिर की पहली मंजिल अगले डेढ़ साल में बन कर तैयार हो जाएगी। संभावना है कि मंदिर स्थल की खुदाई का काम मॉनसून खत्म होने के बाद शुरू हो सकता है।

कॉल रिकॉर्ड से खुली रिया चकवर्ती की कुंडली: मुंबई के DCP के संपर्क में थी, महेश भट्ट का भी नाम

रिया चक्रवर्ती की कॉल डिटेल से पता चला है कि वह मुंबई पुलिस के एक टॉप अधिकारी के संपर्क में थी।

कमलनाथ ने कहा था वह हिंदुओं से निपट लेंगे तो भरोसा किया: जामिया निजामिया ने कॉन्ग्रेस से रिश्ता तोड़ा

राम मंदिर भूमिपूजन के बाद जामिया निजामिया ने एक बयान जारी कर समुदाय के लोगों से कॉन्ग्रेस और कमलनाथ पर ​भरोसा नहीं करने को कहा है।

ऑल्टन्यूज के जुबैर ने छोटी बच्ची की तस्वीर कर दी पब्लिक, मिल रही है रेप की धमकियाँ, नहीं मान रहा गलती

स्वघोषित फैक्ट चेकर मोहम्मद जुबैर ने एक ट्विटर यूजर को निशाना बनाते हुए एक नाबालिग लड़की की तस्वीर सार्वजानिक करने का नया घटिया कारनामा किया है।

हमसे जुड़ें

244,817FansLike
64,456FollowersFollow
292,000SubscribersSubscribe
Advertisements