Thursday, April 15, 2021
Home राजनीति कौन किसके साथ? ख़ुद में ही कन्फ़्यूज़्ड हैं महागठबंधन के नेता

कौन किसके साथ? ख़ुद में ही कन्फ़्यूज़्ड हैं महागठबंधन के नेता

कभी ख़ुद को प्रधानमंत्री के तौर पर पेश करने वाले नेता आज अपने राजनीतिक अस्तित्व को बचाने के लिए समझौते करने को हैं मज़बूर

आजकल मीडिया में एक शब्द जो बार-बार प्रयोग किया जा रहा है, वो है- महागठबंधन। ये शब्द लोगों को इतनी ज़्यादा बार सुनने और पढ़ने के लिए मिल रहा है कि उन्हें ये तक पता नहीं चल पा रहा कि आख़िर महागठबंधन में कौन शामिल हैं और कौन नहीं। महागठबंधन का स्क्रिप्ट 1981 में आई यश चोपड़ा की क्लासिक फ़िल्म सिलसिला से भी ज्यादा जटिल है।

दरअसल, सिलसिला में रिश्तों का ऐसा ताना-बाना बुना गया है, जो असल ज़िन्दगी में शायद ही कहीं देखने को मिले। इस फ़िल्म में जया भादुरी प्रेमिका तो होती हैं शशि कपूर की पर उनकी शादी हो जाती है अमिताभ बच्चन से लेकिन अमिताभ जया से प्रेम नहीं करते और उनकी प्रेमिका रेखा होती हैं। रेखा भी अमिताभ से ही प्रेम करती हैं लेकिन उनकी शादी संजीव कुमार से हो जाती है। फ़िल्मी परदे पर तो ये कहानी काफ़ी अच्छी लगती है, लोग कहानी में खो जाते हैं और उनका मनोरंजन हो जाता है। लेकिन, असल ज़िंदगी में अगर ऐसी खिचड़ी पकती रहे तो लोग पसंद न करें। महागठबंधन के रूप में हमें ऐसी ही खिचड़ी पकती दिख रही है।

सबसे पहले बात मायावती की। कभी भाजपा के सहयोग से उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री रह चुकीं मायावती आज राजस्थान और मध्य प्रदेश में तो कॉन्ग्रेस के साथ हैं लेकिन उत्तर प्रदेश में उन्होंने कॉन्ग्रेस से किनारा कर लिया है। राजस्थान में बहुजन समाज पार्टी के छह विधायक हैं जबकि मध्य प्रदेश में उनके दो विधायक हैं। दोनों ही राज्यों में बसपा कॉन्ग्रेस के साथ है और सत्ता के मजे ले रही है। वहीं उत्तर प्रदेश में पासा पलट जाता है। यहाँ ‘बहन’ जी ने अपने ‘भतीजे’ अखिलेश के साथ मिल कर कॉन्ग्रेस को नज़रअंदाज़ कर दिया। अर्थात यूपी में उनकी लड़ाई कॉन्ग्रेस और भाजपा- दोनों से ही होगी।

मायावती के ताजा बयानों से ये साफ़ है कि वो कॉन्ग्रेस और भाजपा- दोनों राष्ट्रीय दलों से समान दूरी बना कर चल रही हैं। हाल ही में उन्होंने दोनों को ही दलित-विरोधी पार्टी बताया था। मायावती जब भी कोई बयान देती हैं तो वह भाजपा और कॉन्ग्रेस- दोनों को ही लपेटे में लेती हैं। ऐसे में महागठबंधन रूपी खिचड़ी में यह जानना मुश्किल हो गया है कि आखिर बहन जी हैं किसके साथ? अगर वो कॉन्ग्रेस के विरोध में हैं तो फिर दो राज्यों में कॉन्ग्रेस के साथ मिलकर सत्ता का स्वाद क्यों चख रहीं हैं? अगर वो कॉन्ग्रेस की विरोधी नहीं हैं तो फिर उत्तर प्रदेश में उन्होंने कॉन्ग्रेस पार्टी के भाजपा के खिलाफ एक बड़ा मोर्चा बनाने के इरादों पर पानी क्यों फेर दिया?

कभी प्रधानमंत्री की दौर में शामिल रहीं मायावती को आज राज्य में सत्ता पाने के लिए भी समझौते करने पर रहे हों तो इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता कि उन्हें अपने सामने मोदी के रूप में एक ऐसा ख़तरा नज़र आ रहा है, जो उनके राजनीतिक अस्तित्व के लिए संकट बन गया है। हाल ही में अखिलेश यादव के साथ हुए प्रेस कॉन्फ्रेंस में उन्होंने कहा कि कॉन्ग्रेस पार्टी से गठबंधन करने में उनका फायदा नहीं है। उनके शब्दों पर गौर करें तो हम पाएँगे कि मायावती सिर्फ़ और सिर्फ़ फ़ायदे के लिए ही अखिलेश के साथ गठबंधन में शामिल हुई हैं। अब ये फ़ायदा कुछ भी हो सकता है- किसी भी तरह सत्ता की मलाई चखना, अपना अस्तित्व बचाना और आगामी लोकसभा चुनाव के बाद किंगमेकर बनना।

अब बात सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव की। राहुल गाँधी ने कभी सपा-कॉन्ग्रेस गठबंधन की तुलना प्रयागराज के गंगा-यमुना संगम से की थी। आगामी आम चनाव के लिए बने ताजा हालात में वो गंगा-यमुना का संगम बिख़र गया है। अखिलेश यादव और मायावती के महागठबंधन ने ये साबित कर दिया कि इन इन क्षणिक गठबंधनों और इन्हें जनता के बीच पहुँचाने के लिए प्रयोग में लाए जाने वाले ‘गंगा-यमुना संगम’ जैसे मुहावरों का कोई मोल नहीं है। अवसरवाद की पराकाष्ठा को पार कर रहे ये गठबंधन सिर्फ और सिर्फ चुनावी होते हैं और एक हार के बाद ही बिखर जाते हैं।

सपा का समीकरण भी कुछ खिचड़ी की तरह ही है। अखिलेश यादव भाजपा के ख़िलाफ़ तो काफ़ी मुख़र हैं लेकिन कॉन्ग्रेस या फिर राहुल गाँधी के विरोध में बोलने से बचते रहे हैं। मायावती की तरह उनकी पार्टी में राजस्थान और मध्य प्रदेश में कॉन्ग्रेस के साथ सत्ता भोग रही है लेकिन यूपी में हालात अलग हो गए हैं। प्रयागराज में तो आज भी गंगा और यमुना का संगम धाराप्रवाह है और शायद अनंतकाल तक रहे लेकिन राजनीति में ख़ुद को गंगा-यमुना बताने वाली ज़मात आज़ दो अलग दिशा में खड़ी है, कम से कम चुनाव परिणाम आने तक।

दोनों दलों ने कॉन्ग्रेस के लिए अमेठी और रायबरेली की सीटें छोड़ने का फ़ैसला लिया है क्योंकि इन दोनों क्षेत्रों से क्रमशः यूपीए अध्यक्षा सोनिया गाँधी और कॉन्ग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी चुनाव लड़ते रहे हैं। कुल मिलाकर देखें तो इस खिचड़ी में जनता को यह समझना मुश्किल हो रहा है कि कौन किसके कितना साथ है और कौन किसके कितने विरोध में। राहुल गाँधी की बात करें तो वो सपा-बसपा का सम्मान करने की बात तो करते हैं लेकिन फिर उनके ख़िलाफ़ पूरी ताक़त से चुनाव में उतरने की बात भी करते हैं।

बिहार में भी स्थिति कुछ ऐसी ही है। यहाँ चेहरे की लड़ाई थमने का नाम नहीं ले रही। राजद के वरिष्ठ नेता शिवानंद तिवारी ने ये कह कर कॉन्ग्रेस को सकते में डाल दिया है कि बिहार में महागठबंधन का चेहरा राहुल नहीं बल्कि लालू यादव होंगे। जीतन राम माँझी की ‘हम’ पार्टी ने भी इस मामले में राजद का समर्थन किया है।

इन सभी वाक़यों को देखने के बाद ये साफ़ प्रतीत होता है कि महागठबंधन की दशा व दिशा, समय, जगह और परिस्थिति पर निर्भर है यानी कि इन तीनों के हिसाब से वो बदलती रहती है और भविष्य में भी बदलती रहेगी। कहीं ये पार्टियाँ एक-दूसरे का विरोध करेंगी तो कहीं समर्थन। आज ये किसी और के साथ रहेंगे और कल किसी और के साथ। साथ ही, किसी राष्ट्रीय दल या गठबंधन को बहुमत न मिलने की स्थिति में किंगमेकर बनने का दिवास्वप्न देख रहे ये दल चुनाव बाद किस पाले में होंगे- इसका अनुमान कोई भविष्यद्रष्टा भी न लगा सके।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘अब या तो गुस्ताख रहेंगे या हम, क्योंकि ये गर्दन नबी की अजमत के लिए है’: तहरीक फरोग-ए-इस्लाम की लिस्ट, नरसिंहानंद को बताया ‘वहशी’

मौलवियों ने कहा कि 'जेल भरो आंदोलन' के दौरान लाठी-गोलियाँ चलेंगी, लेकिन हिंदुस्तान की जेलें भर जाएंगी, क्योंकि सवाल नबी की अजमत का है।

चीन के लिए बैटिंग या 4200 करोड़ रुपए पर ध्यान: CM ठाकरे क्यों चाहते हैं कोरोना घोषित हो प्राकृतिक आपदा?

COVID19 यदि प्राकृतिक आपदा घोषित हो जाए तो स्टेट डिज़ैस्टर रिलीफ़ फंड में इकट्ठा हुए क़रीब 4200 करोड़ रुपए को खर्च करने का रास्ता खुल जाएगा।

कोरोना पर कुंभ और दूसरे राज्यों को कोसा, खुद रोड शो कर जुटाई भीड़: संजय राउत भी निकले ‘नॉटी’

संजय राउत ने महाराष्ट्र में कोरोना के भयावह हालात के लिए दूसरे राज्यों को कोसा था। कुंभ पर निशाना साधा था। अब वे खुद रोड शो कर भीड़ जुटाते पकड़े गए हैं।

‘वीडियो और तस्वीरों ने कोर्ट की अंतरात्मा को हिला दिया है…’: दिल्ली दंगों में पिस्टल लहराने वाले शाहरुख को जमानत नहीं

दिल्ली हाई कोर्ट ने दिल्ली दंगों के आरोपित शाहरुख पठान को जमानत देने से इनकार कर दिया है।

ESPN की क्रांति, धार्मिक-जातिगत पहचान खत्म: दिल्ली कैपिटल्स और राजस्थान रॉयल्स के मैच की कॉमेंट्री में रिकॉर्ड

ESPN के द्वारा ‘बैट्समैन’ के स्थान पर ‘बैटर’ और ‘मैन ऑफ द मैच’ के स्थान पर ‘प्लेयर ऑफ द मैच’ जैसे शब्दों का उपयोग होगा।

‘बेड दीजिए, नहीं तो इंजेक्शन देकर उन्हें मार डालिए’: महाराष्ट्र में कोरोना+ पिता को लेकर 3 दिन से भटक रहा बेटा

किशोर 13 अप्रैल की दोपहर से ही अपने कोरोना पॉजिटिव पिता का इलाज कराने के लिए भटक रहे हैं।

प्रचलित ख़बरें

छबड़ा में मुस्लिम भीड़ के सामने पुलिस भी थी बेबस: अब चारों ओर तबाही का मंजर, बिजली-पानी भी ठप

हिन्दुओं की दुकानों को निशाना बनाया गया। आँसू गैस के गोले दागे जाने पर हिंसक भीड़ ने पुलिस को ही दौड़ा-दौड़ा कर पीटा।

बेटी के साथ रेप का बदला? पीड़ित पिता ने एक ही परिवार के 6 लोगों की लाश बिछा दी, 6 महीने के बच्चे को...

मृतकों के परिवार के जिस व्यक्ति पर रेप का आरोप है वह फरार है। पुलिस ने हत्या के आरोपित को हिरासत में ले लिया है।

‘कल के कायर आज के मुस्लिम’: यति नरसिंहानंद को गाली देती भीड़ को हिन्दुओं ने ऐसे दिया जवाब

यमुनानगर में माइक लेकर भड़काऊ बयानबाजी करती भीड़ को पीछे हटना पड़ा। जानिए हिन्दू कार्यकर्ताओं ने कैसे किया प्रतिकार?

थूको और उसी को चाटो… बिहार में दलित के साथ सवर्ण का अत्याचार: NDTV पत्रकार और साक्षी जोशी ने ऐसे फैलाई फेक न्यूज

सोशल मीडिया पर इस वीडियो के बारे में कहा जा रहा है कि बिहार में नीतीश कुमार के राज में एक दलित के साथ सवर्ण अत्याचार कर रहे।

जानी-मानी सिंगर की नाबालिग बेटी का 8 सालों तक यौन उत्पीड़न, 4 आरोपितों में से एक पादरी

हैदराबाद की एक नामी प्लेबैक सिंगर ने अपनी बेटी के यौन उत्पीड़न को लेकर चेन्नई में शिकायत दर्ज कराई है। चार आरोपितों में एक पादरी है।

पहले कमल के साथ चाकूबाजी, अगले दिन मुस्लिम इलाके में एक और हिंदू पर हमला: छबड़ा में गुर्जर थे निशाने पर

राजस्थान के छबड़ा में हिंसा क्यों? कमल के साथ फरीद, आबिद और समीर की चाकूबाजी के अगले दिन क्या हुआ? बैंसला ने ऑपइंडिया को सब कुछ बताया।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,216FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe