Saturday, January 23, 2021
Home रिपोर्ट मीडिया प्रिय बीबीसी, वेश्यावृति या BC में से एक चुन लो, पत्रकारिता तो तुमसे हो...

प्रिय बीबीसी, वेश्यावृति या BC में से एक चुन लो, पत्रकारिता तो तुमसे हो नहीं रही

बीबीसी को चाहिए कि वो 'बालकनी' ही खोल ले। जब पत्रकारिता की जगह 'रोलप्ले' ही करना है, तो फिर इतनी टायपिंग की क्या ज़रूरत है। ट्वीट घुसाकर, विचारों जैसे हेडलाइन के साथ, ट्विटर रिएक्शन्स वाली पत्रकारिता ही करनी है, तो वेश्यावृति या सॉफ़्ट पोर्न वाली हेडलाइन से करें, उसमें ज़्यादा हिट्स मिलेंगे।

सबसे पहले तो यह बात साफ कर देना आवश्यक है कि वेश्यावृति से मुझे कोई समस्या नहीं रही। लोगों के सामने ऐसी परिस्थितियाँ आती हैं, या वो उनमें ढकेल दिए जाते हैं कि उन्हें वो भी करना पड़ता है जो वो करना नहीं चाहते। कुछ के लिए बेहतर विकल्प के अभाव में ऐसा करना उचित जान पड़ता है, कुछ के पास कोई भी विकल्प होता ही नहीं, कुछ लोग (कई देशों में) शायद थोड़े समय में कुछ पैसों के लिए ऐसा करना चाहते हैं। ये मजबूरी हो सकती, विकल्पहीनता हो सकती है, चुनाव हो सकती है।

कारण जो भी हो, उसकी परिणति जैसी भी रही हो, लेकिन जब आप वेश्यालय की ओर रुख़ करते हैं तो आपको पता होता है कि आपको वहाँ क्या मिलेगा। वेश्यालय ईमानदारी से चलता है कि आप वहाँ जो करने जा रहे हैं, वही होगा, न कि आपको जबरदस्ती टूथपेस्ट बेच दिया जाएगा।

ज़्याँ जेने एक फ्रान्सिसी नाटककार हैं जिन्होंने एक नाटक लिखा था ‘ले बालकन’ या ‘द बालकनी’। फ़्रान्स में ‘बालकनी’ शब्द का प्रयोग वेश्यालयों के लिए भी होता है। यह नाटक वेश्यालयों पर आधारित है, लेकिन ये थोड़ा अलग क़िस्म का वेश्यालय है। यहाँ कई तरह के लोग, पावरफुल व्यक्ति आते हैं और अपनी कुंठा को मिटाते हैं। कुंठा कैसे मिटाते हैं? कोई जज बन कर एक चोर को सजा देता है, कोई सेनाधीश बन जाता है, कोई पादरी आदि। ये एक तरह से रोल-प्ले होता है जिसमें आप भीतरी इच्छाओं को नाटकीयता के ज़रिए बाहर निकालते हैं। इसके दूसरे हिस्से में कुछ और होता रहता है, जिससे नाटक के और भी मायने निकल कर आते हैं, लेकिन बीबीसी के कुकृत्यों के लिए इतना ही जानना ज़रूरी है।

बीबीसी, या Big BC, ज़्याँ जेने की इसी बालकनी में फँसा हुआ एक चरित्र सदृश हो गया है। यह मीडिया संस्थान कुंठित है, और यह कुंठा शायद इनके मालिकों द्वारा भारत को अभी भी ग़ुलाम की ही तरह समझने की अभिजात्यता से विकसित होती है। इन्हें लगता है कि ये तो ब्रिटिश ब्रॉडकास्टिंग कॉरपोरेशन हैं जिनकी मोनेपॉली ऐसी थी कि जो ये लिखते थे, वही सत्य हुआ करता था, तो अब भी जो भी BC या BS करेंगे, वो लोग कान में रेडियो सटा कर सुनेंगे और कहेंगे ‘आह बीबीसी, वाह बीबीसी’।

खैर, भारत में जब से सत्ता परिवर्तन हुआ है, तब से अपनी ज़हर और घृणा को इन्होंने और तेज कर दिया है। हाल ही में इन्होंने एक फर्जी रिसर्च जारी किया था जिसे हमारी टीम ने तथ्यों और तर्कों से इतना बींध दिया कि उन्हें वो पूरी तथाकथित रिसर्च हटानी पड़ी थी। उसके बाद, हमारी टीम ने उनके द्वारा फैलाए गए फेक न्यूज की लिस्ट जारी की तो वो इतनी लम्बी हो गई कि हमने सोचा कि जो फेक न्यूज ही छाप रहा हो, कितने हिस्सों में उसके कुकर्मों को गिनाते रहें! हमने कुछ आर्टिकल लिख कर छोड़ दिया।

साथ ही, बीबीसी की स्थिति अब ऐसी है, खास कर हिन्दी की, कि ये किसी को भी पत्रकार बना देते हैं। योग्यता के लिए पत्रकारिता का अनुभव या ज्ञान नहीं, ‘आप मोदी या भारत से कितना घृणा करते हैं’, का जवाब आपके पास होना चाहिए। यही कारण है कि इन्होंने एक के बाद एक घटिया खबरें लिखीं, बेशर्मी से उसे चलाया और झूठ साबित होने पर माफ़ी नहीं माँगी। इसीलिए, इसे अब Big BC भी कहा जाता है क्योंकि वहाँ खबरें नहीं, BC ही चल रही हैं।

कल आईपीएल फ़ाइनल में मुंबई इंडियन्स की टीम ने चेन्नई को एक रन से हरा दिया। जिसने भी मैच देखा वो जानता है कि ये मैच दोनों में से कोई भी टीम जीत सकती थी, और अधिकतर बार ऐसा लगा कि चेन्नई जीतेगी।

चूँकि ये बीबीसी वाले हैं, और हिन्दी में खबरें बेचने पर उतरे हुए हैं जहाँ इन्हें भारतीय समाचार पोर्टलों से लगातार कम्पटीशन मिल रहा है, तो क्या करेंगे? ऐसे में अपने चमन चिंटुओं पर विश्वास दिखाना जरूरी हो जाता है। फिर, एक खेल के मैच रिपोर्ट की ख़बर इस तरीके से आती है जिसमें किसी भी तरह से मोदी को खींच लिया जाता है।

पत्रकारिता में हेडलाइन से बहुत खेला जाता है। ‘सिंगल कोट्स’ का प्रयोग करते हुए, आप टेक्निकली बच जाते हैं यह कह कर कि आपने जो हेडलाइन लगाया है, वो आपके संस्थान के विचार नहीं बल्कि किसी व्यक्ति के हैं। फिर आप ट्विटर पर जाते हैं, और जहाँ आपके मतलब का ट्वीट दिखता है, जो आपके पूर्वग्रहों पर सटीक बैठता हो, उस चुटकुले को आप हेडलाइन में डाल कर बेच लेते हैं।

किसी अनजान व्यक्ति का ट्वीट, बिना किसी टिप्पणी के लगाना, जो उस आर्टिकल के साथ शेयरिंग के वक्त दिया जाता है, बताता है कि आपकी मंशा क्या है। एक आईपीएल के मैच की रिपोर्ट में मोदी और अम्बानी को घुसाना बताता है कि एडिटर की जगह कोई निहायत ही बेशर्म चिरकुट व्यक्ति बैठा हुआ है जिसे मैच से कुछ नहीं, सस्ती लोकप्रियता से ज़्यादा लेना-देना है।

इस हेडलाइन को बाद में बदल दिया गया, क्योंकि लिंक पर क्लिक करने पर आपको दूसरी हेडलाइन दिखेगी (नीचे तस्वीर में देखें) जो मैच रिपोर्ट जैसी है। लेकिन ट्विटर पर ऐसे शेयर किया है जैसे ये एक रिपोर्ट नहीं, बीबीसी के विचार हों जहाँ यह बताया जा रहा है कि मैच में खिलाड़ियों और टीम का योगदान नहीं था, बल्कि टीम अम्बानी की थी, और राहुल गाँधी कहते हैं कि अम्बानी मोदी का दोस्त है, तो मोदी के कार्यकाल में आखिर अम्बानी की टीम नहीं जीतेगी तो कौन जीतेगा!

BBC हिन्दी का वह ट्वीट जो इन्होंने डिलीट कर दिया।

और, अब तो इन्होंने वो ट्वीट ही डिलीट कर दिया! लेकिन, सोशल मीडिया या इंटरनेट पर जो एक बार लग गया, सो लग गया। ये अब माफ़ी भी नहीं माँगेंगे क्योंकि भारत के ग़ुलाम लोगों की भाषा में ब्रिटेन की किसी बड़ी संस्था ने कुछ लिखा, और गलत लिखा, तो भी क्या! इसके लिए ग़ुलामों से माफ़ी थोड़े माँगेंगे! अरे श्वेत चमड़ी वालों की संस्था है!

ये पत्रकारिता नहीं, ये दोगलापन कहा जा सकता है। मेरे शब्दों के चुनाव पर आपको आपत्ति हो सकती है लेकिन इससे बेहतर शब्द मेरे पास नहीं हैं। ये मेरे निजी विचार हैं जो बीबीसी जैसे घटिया न्यूज पोर्टलों के कारण पूरी पत्रकरिता को ‘प्रेश्या’ या ‘प्रेस्टीट्यूट’ जैसे संबोधनों का शिकार बनाने के कारण उपजे हैं।

बीबीसी को चाहिए कि वो ‘बालकनी’ ही खोल ले। जब पत्रकारिता की जगह ‘रोलप्ले’ ही करना है, तो फिर इतनी टायपिंग की क्या ज़रूरत है। ट्वीट घुसाकर, विचारों जैसे हेडलाइन के साथ, ट्विटर रिएक्शन्स वाली पत्रकारिता ही करनी है, तो वेश्यावृति या सॉफ़्ट पोर्न वाली हेडलाइन से करें, उसमें ज़्यादा हिट्स मिलेंगे।

लेकिन कैसे करेंगे! व्हाइट मेन्स बर्डन है, व्हाइट सुप्रीमैसिज्म का अलग रूप है इनके भीतर। पत्रकारिता के बीकन लाइट हैं ये, पोर्न कैसे बेचेंगे! लेकिन हिट्स भी तो चाहिए। फिर, धूर्त आदमी क्रिकेट की खबरों में मोदी को ले आता है क्योंकि मोदी इनकी दुकान चला देगा।

बीबीसी हिन्दी वालो, विकल्प है तुम्हारे पास: वेश्यावृति की ईमानदारी या पत्रकारिता के नाम पर वैचारिक दोगलापन, चुन लो। प्लीज!

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत भारतीhttp://www.ajeetbharti.com
सम्पादक (ऑपइंडिया) | लेखक (बकर पुराण, घर वापसी, There Will Be No Love)

 

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पवन पुत्र की तस्वीर साझा कर ब्राजील के राष्ट्रपति ने भारत को कहा Thank You, बोले- हम सम्मानित महसूस कर रहे

कोरोना वैक्सीन देने के लिए ब्राजील के राष्ट्रपति जैर बोलसोनारो ने पवन पुत्र हनुमान की तस्वीर साझा कर भारत का आभार जताया है।

लगातार तीसरे साल सबसे लोकप्रिय CM योगी आदित्यनाथ, चौथे नंबर पर फिसलीं ममता बनर्जी: इंडिया टुडे ने बताया देश का मूड

इंडिया टुडे के 'Mood of the Nation' सर्वे में उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ तीसरी बार देश के सबसे लोकप्रिय मुख्यमंत्री चुने गए हैं।

बायकॉट, ब्लैकआउट और अब ट्रैक्टर परेड: 26 जनवरी पर अराजकता फैलाने का लिबरल-कट्टरपंथियों का पैंतरा पुराना

दिल्ली पुलिस की इजाजत नहीं मिलने के बावजूद किसान संगठनों की 26 जनवरी को ट्रैक्टरों संग परेड निकालने की जिद के क्या मायने हैं?
01:00:09

रूस में हिन्दू धर्म: इतिहास, रूसी समाज में स्वीकार्यता और कट्टरपंथी ईसाई द्वोरकिन के हमले

क्या है रूस का श्री प्रकाश धाम? अलेक्ज़ेंडर द्वोरकिन क्यों पड़ा है हिन्दुओं के पीछे? मॉस्को में रह रहे प्रसून प्रकाश से बातचीत

जून डो हजार इख्खीस टक लोखटांट्रिक टरीखे से चूना जाएगा खाँग्रेस पारटी का प्रेसीडेंट….

राहुल गाँधी ने लिखा था: तारीख पे तारीख देना स्ट्रैटेजी है उनकी। सोनिया गाँधी दे रहीं, कॉन्ग्रेसियों को बस तारीख पर तारीख।

JNU के ‘पढ़ाकू’ वामपंथियों को फसाद की नई वजह मिली, आइशी घोष पर जुर्माना; शेहला भी कूदी

जेएनयू हिंसा का चेहरा रही आइशी घोष और अन्य छात्रों पर ताले तोड़ हॉस्टल में घुसने के लिए जुर्माना लगाया गया है।

प्रचलित ख़बरें

शाहजहाँ: जिसने अपनी हवस के लिए बेटी का नहीं होने दिया निकाह, वामपंथियों ने बना दिया ‘महान’

असलियत में मुगल इस देश में धर्मान्तरण, लूट-खसोट और अय्याशी ही करते रहे परन्तु नेहरू के आदेश पर हमारे इतिहासकारों नें इन्हें जबरदस्ती महान बनाया और ये सब हुआ झूठी धर्मनिरपेक्षता के नाम पर।

मटन-चिकेन-मछली वाली थाली 1 घंटे में खाइए, FREE में ₹1.65 लाख की बुलेट ले जाइए: पुणे के होटल का शानदार ऑफर

पुणे के शिवराज होटल ने 'विन अ बुलेट बाइक' नामक प्रतियोगिता के जरिए निकाला ऑफर। 4 Kg की थाली को ख़त्म कीजिए और बुलेट बाइक घर लेकर जाइए।

‘अल्लाह का मजाक उड़ाने की है हिम्मत’ – तांडव के डायरेक्टर अली से कंगना रनौत ने पूछा, राजू श्रीवास्तव ने बनाया वीडियो

कंगना रनौत ने सीरीज के मेकर्स से पूछा कि क्या उनमें 'अल्लाह' का मजाक बनाने की हिम्मत है? उन्होंने और राजू श्रीवास्तव ने अली अब्बास जफर को...

‘उसने पैंट से लिंग निकाला और मुझे फील करने को कहा’: साजिद खान पर शर्लिन चोपड़ा ने लगाया यौन उत्पीड़न का आरोप

अभिनेत्री-मॉडल शर्लिन चोपड़ा ने फिल्म मेकर फराह खान के भाई साजिद खान पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है।

मंदिर की दानपेटी में कंडोम, आपत्तिजनक संदेश वाले पोस्टर; पुजारी का खून से लथपथ शव मिला

कर्नाटक के एक मंदिर की दानपेटी से कंडोम और आपत्तिजनक संदेश वाला पोस्टर मिला है। उत्तर प्रदेश में पुजारी का खून से लथपथ शव मिला है।

‘कोहली के बिना इनका क्या होगा… ऑस्ट्रेलिया 4-0 से जीतेगा’: 5 बड़बोले, जिनकी आश्विन ने लगाई क्लास

अब जब भारत ने ऑस्ट्रेलिया में जाकर ही ऑस्ट्रेलिया को धूल चटा दिया है, आइए हम 5 बड़बोलों की बात करते हैं। आश्विन ने इन सबकी क्लास ली है।
- विज्ञापन -

 

पवन पुत्र की तस्वीर साझा कर ब्राजील के राष्ट्रपति ने भारत को कहा Thank You, बोले- हम सम्मानित महसूस कर रहे

कोरोना वैक्सीन देने के लिए ब्राजील के राष्ट्रपति जैर बोलसोनारो ने पवन पुत्र हनुमान की तस्वीर साझा कर भारत का आभार जताया है।

लगातार तीसरे साल सबसे लोकप्रिय CM योगी आदित्यनाथ, चौथे नंबर पर फिसलीं ममता बनर्जी: इंडिया टुडे ने बताया देश का मूड

इंडिया टुडे के 'Mood of the Nation' सर्वे में उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ तीसरी बार देश के सबसे लोकप्रिय मुख्यमंत्री चुने गए हैं।

राम मंदिर, महर्षि वाल्मीकि और दीपोत्सव के दीये… गणतंत्र दिवस पर यूपी की झाँकी में दिखेगी अयोध्या की धरोहर

गणतंत्र दिवस परेड में इस बार उत्तर प्रदेश की झाँकी में राम मंदिर की महिमा और भव्यता का प्रदर्शन किया जाएगा।

बायकॉट, ब्लैकआउट और अब ट्रैक्टर परेड: 26 जनवरी पर अराजकता फैलाने का लिबरल-कट्टरपंथियों का पैंतरा पुराना

दिल्ली पुलिस की इजाजत नहीं मिलने के बावजूद किसान संगठनों की 26 जनवरी को ट्रैक्टरों संग परेड निकालने की जिद के क्या मायने हैं?

हाथी पर जलता कपड़ा फेंका, दर्द से छटपटाया फिर तोड़ दिया दम: Video वायरल

तमिलनाडु के नीलगिरी में एक हाथी की मौत ने सभी को झकझोर कर रख दिया है। बताया जा रहा है कि किसी शख्स ने जलते कपड़े को हाथी के ऊपर फेंक दिया था।

कोरोना की वैक्सीन बनाने वाली सीरम को आग से ₹1000 करोड़ का नुकसान, उद्धव बोले- चल रही जाँच

पुणे के सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया की इमारत में लगी आग के बाद सीएम उद्धव ठाकरे ने प्लांट का दौरा किया।

बातचीत फिर बेनतीजा, किसान संगठनों पर सरकार सख्त: जानिए, क्यों ट्रेंड कर रहा है #खालिस्तानी_माँगे_कुटाई

केंद्र सरकार और कथित किसान संगठनों के बीच 11वें दौर की बातचीत भी बेनतीजा रही। इस बीच ट्विटर पर #खालिस्तानी_माँगे_कुटाई ट्रेंड कर रहा है।
01:00:09

रूस में हिन्दू धर्म: इतिहास, रूसी समाज में स्वीकार्यता और कट्टरपंथी ईसाई द्वोरकिन के हमले

क्या है रूस का श्री प्रकाश धाम? अलेक्ज़ेंडर द्वोरकिन क्यों पड़ा है हिन्दुओं के पीछे? मॉस्को में रह रहे प्रसून प्रकाश से बातचीत

मंदिर की दानपेटी में कंडोम, आपत्तिजनक संदेश वाले पोस्टर; पुजारी का खून से लथपथ शव मिला

कर्नाटक के एक मंदिर की दानपेटी से कंडोम और आपत्तिजनक संदेश वाला पोस्टर मिला है। उत्तर प्रदेश में पुजारी का खून से लथपथ शव मिला है।

जून डो हजार इख्खीस टक लोखटांट्रिक टरीखे से चूना जाएगा खाँग्रेस पारटी का प्रेसीडेंट….

राहुल गाँधी ने लिखा था: तारीख पे तारीख देना स्ट्रैटेजी है उनकी। सोनिया गाँधी दे रहीं, कॉन्ग्रेसियों को बस तारीख पर तारीख।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
385,000SubscribersSubscribe