Tuesday, September 29, 2020
Home विचार डु प्लेसी जी, जिस IPL को आप कोस रहे हैं, उसी से रशीद खान...

डु प्लेसी जी, जिस IPL को आप कोस रहे हैं, उसी से रशीद खान और नबी स्टार बन रहे हैं

इसी विश्व कप में एक भी मैच न जीतने वाली अफगानिस्तान भी है, जो शायद सबसे ज़्यादा दिल जीत रही है- क्योंकि वह लड़ती हुई दिख रही है, संघर्ष करती दिख रही है। यहीं इसके उलट डु प्लेसी के खिलाड़ी जीतने के लिए नहीं, खेलने के लिए संघर्ष करते दिख रहे हैं।

एक कहावत है, “धोबी से पार न पाए, गदहे के कान मरोड़े”। यह पूरी तरह से चरितार्थ होता है विश्व कप से बाहर होने के मुहाने पर खड़ी दक्षिण अफ़्रीकी क्रिकेट टीम के कप्तान फाफ डु प्लेसी पर, जो अपनी टीम के खराब प्रदर्शन का ठीकरा आईपीएल के सर फोड़ना चाहते हैं। पाकिस्तान के हाथों सात में से अपना पाँचवाँ मैच हारने के बाद दक्षिण अफ़्रीकी कप्तान ने कहा कि आईपीएल के चलते उनके खिलाड़ी, और खासकर उनके मुख्य गेंदबाज कैगिसो रबादा को ठीक से आराम करने का मौका नहीं मिला और इसीलिए रबादा की गेंदबाजी सुस्त रही।

थके ज़रूर हैं आपके खिलाड़ी, लेकिन आईपीएल से नहीं, ‘बोझ’ से

यह पूरी तरह सच है कि रबादा ही नहीं, मौजूदा विश्व कप में सबसे थके, सुस्त खिलाड़ियों की पूरी जमात दक्षिण अफ्रीकियों की ही है। लेकिन इसके लिए किस हद तक आईपीएल दोषी है, और कितना दोष इस तथ्य का है कि आधी से अधिक दक्षिण अफ़्रीकी टीम ही ‘नौसिखिया’ है, और बेंच स्ट्रेंथ बनाने पर दक्षिण अफ्रीका के खेल प्रशासकों ने ध्यान ही नहीं दिया? पिछले विश्व कप के पहले जैक्स कैलिस के रिटायरमेंट के बाद से ही बड़े खिलाड़ियों की टीम से विदाई एक-एक कर हो रही है, और उनकी जगह लेने के लिए नए खिलाड़ी नहीं आए।

अगर पिछले विश्व कप से ही तुलना करें तो इस बार कई बड़े दक्षिण अफ़्रीकी नाम टीम का हिस्सा नहीं हैं- मोर्ने मोर्केल, डेल स्टेन, एबी डिविलियर्स, वेन पर्नेल, वर्नोन फिलेंडर। यह सब केवल स्टार भर ही नहीं थे- इन बड़े खिलाड़ियों की जमात के होने का मतलब था कि अगर एक कोई किसी दिन न भी चले तो उस दिन कोई दूसरा तो है प्रदर्शन करने के लिए। इस बार दक्षिण अफ्रीका के साथ ऐसा नहीं है। इस बार अगर रबादा मान लिया जाए कि आईपीएल खेल-खेल कर थक गए, तो उनकी जगह कोई नहीं था उनके स्तर का प्रदर्शन कर सकने वाला। और यह बेंच स्ट्रेंथ बनाना, यह एक ही खिलाड़ी पर से निर्भरता कम करना, वेन पर्नेल और वर्नोन फिलेंडर जैसे खिलाड़ियों को विश्व कप से बाहर करते समय यह जिम्मेदारी लेना कि जिसे बदले में ला रहे हैं, वह भी गच्चा न दे जाए- यह सब रबादा की नहीं, बोर्ड की, चयनकर्ताओं की जिम्मेदारी होती है।

इसी आईपीएल की पैदाइश मुहम्मद नबी और रशीद खान भी हैं

इसी विश्व कप में एक भी मैच न जीतने वाली अफगानिस्तान भी है, जो शायद सबसे ज़्यादा दिल जीत रही है- क्योंकि वह लड़ती हुई दिख रही है, संघर्ष करती दिख रही है। यहीं इसके उलट डु प्लेसी के खिलाड़ी जीतने के लिए नहीं, खेलने के लिए संघर्ष करते दिख रहे हैं। और इसी आईपीएल में सबका ध्यान खींचने वाले मुहम्मद नबी और रशीद खान अपनी राष्ट्रीय टीमों के लिए भी वैसा ही प्रदर्शन कर रहे हैं। डु प्लेसी को सोचना चाहिए ऐसा क्यों है।

संक्रमण काल के लिए सही तैयारी न करना है असली वजह

दक्षिण अफ्रीका की पतली हालत की असली वजह है संक्रमण काल, जो हर टीम के साथ लगभग एक-डेढ़ दशक बाद आता रहता है। एक साथ कई सारे बड़े खिलाड़ी या तो ढलान पर होते हैं, या रिटायर होने लगते हैं, और युवाओं की फ़ौज उनकी जगह लेने के लिए तुरंत-तुरंत तैयार नहीं होती। ऐसे में चयनकर्ताओं और बोर्ड की जिम्मेदारी होती है कि बड़े खिलाड़ियों के साथ बैठकर उनके भविष्य पर बात करें, उनके लिए बाकायदा ‘रिटायरमेंट प्लान’ तैयार करें, और उनके कैरियर के अंतिम दौर में उन्हें अधर में छोड़ने या टीम से पूरी तरह बाहर करने की बजाय उस दौर को थोड़ा लम्बा खींचने की कोशिश करें, ताकि वह खिलाड़ी भले ही पूरे समय उपलब्ध न हो लेकिन अहम मौकों पर जब तक उसका विकल्प नहीं मिलता, वह रहे।

यही भारत में सचिन, द्रविड़ जैसे खिलाड़ियों के साथ किया गया। उन्हें अपनी मर्जी की महत्वपूर्ण सीरीजों में खेलने की छूट थी, न कि ‘या तो हर मैच के लिए उपलब्ध रहो, या निकल जाओ’ का दबाव। सहवाग को सर्वश्रेष्ठ फॉर्म में न होने के बावजूद 2011 के अहम विश्व कप में रखा गया, और टीम की खिताबी जीत में उनका योगदान रहा। और यह केवल भारत नहीं, कमोबेश हर टीम ऐसा ही करती है। इसका इकलौता अपवाद ऑस्ट्रेलिया है, जो बड़े-से-बड़े कप्तान और खिलाड़ी को उसका चरम निकल जाने के बाद नहीं बर्दाश्त करता। लेकिन इसके लिए उसके पास योजना होती है, बेंच स्ट्रेंथ होती है। इसीलिए ऑस्ट्रेलिया के ‘स्वर्णिम प्रतिमान’ (गिलक्रिस्ट, वॉ बंधु, पोंटिंग, शेन वॉर्न, मैक्ग्रा) आदि के बिना भी, ऑस्ट्रेलिया के खुद के मानक पर कमज़ोर होते हुए भी माइकल क्लार्क की टीम विश्व कप जीत ले गई।

अब दक्षिण अफ्रीका के पास ऑस्ट्रेलिया जैसी बेंच स्ट्रेंथ भी नहीं है, और जब टीम की ख़राब हालत का पूर्वानुमान कर रिटायर हो चुके एबी ने विश्व कप के लिए लौटने का प्रस्ताव दिया तो उसे भी प्रबंधन ने ठुकरा दिया। वह भी तब जबकि कप्तान डु प्लेसी और कोच ओटिस गिब्सन एबी की वापसी चाहते थे। दुधारू गाय की लात खाई जाती है, अपने भूखे होने पर उसके सींग की नुक्ताचीनी नहीं की जाती। गांगुली, जवागल श्रीनाथ को रिटायरमेंट से निकाल कर ले आए और 2003 विश्व कप में वह भारत को फाइनल तक पहुँचाने वाले सबसे अहम खिलाड़ियों में एक साबित हुए। आईपीएल को दोष देना असली समस्याओं को नकारना होगा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बिहार के एक और बॉलीवुड अभिनेता की संदिग्ध मौत, परिजनों ने कहा – सहयोग नहीं कर रही मुंबई पुलिस

सुशांत सिंह राजपूत की मौत से देश अभी उबरा भी नहीं था कि मुंबई में बिहार के एक और अभिनेता अक्षत उत्कर्ष की संदिग्ध मौत का मामला सामने आया है।

आतंकी डेविड हेडली ने शिवसेना के लिए जुटाए थे फंड्स? बाल ठाकरे को कार्यक्रम में बुलाया था? – फैक्ट चेक

एक मीडिया पोर्टल की खबर का स्क्रीनशॉट शेयर किया गया, जिसमें दावा किया गया था कि डेविड हेडली ने शिवसेना के लिए फंड्स जुटाने की कोशिश की थी।

‘एक ही ट्रैक्टर को कितनी बार फूँकोगे भाई?’: कॉन्ग्रेस ने जिस ट्रैक्टर को दिल्ली में जलाया, 8 दिन पहले अम्बाला में भी जलाया था

ट्रैक्टर जलाने के मामले में जिन कॉन्ग्रेस नेताओं के खिलाफ FIR दर्ज हुई है, वो दिल्ली के इंडिया गेट पर भी मौजूद थे और अम्बाला में भी मौजूद थे।

‘कॉन्ग्रेसी राज्य कृषि कानूनों को रद्द करें’ – सोनिया गाँधी का ‘फर्जी’ निर्देश, क्योंकि इसमें है राष्ट्रपति की मंजूरी का पेंच

सोनिया गाँधी ने कॉन्ग्रेस शासित राज्यों को निर्देश दिया है कि वो वो ऐसे विकल्प आजमाएँ, जिससे केंद्र के कृषि कानूनों को रद्द किया जा सके।

बिहार चुनाव की वो 40+ सीटें, जहाँ ओवैसी कर सकते हैं खेल: राजनीति की प्रयोगशाला में चलेगा दलित-मुस्लिम कार्ड

किशनगंज (करीब 68%), कटिहार (करीब 45%), अररिया (करीब 43%) और पुर्णिया (करीब 39%) में कम से कम 20 सीटें ऐसी हैं, जहाँ से...

तिलक लगा, भगवा पहन एंकरिंग करना अपराध है? सुदर्शन न्यूज ने केंद्र के शो-कॉज नोटिस का दिया जवाब

‘यूपीएससी जिहाद’ कार्यक्रम को लेकर सूचना प्रसारण मंत्रालय की ओर से जारी शो-कॉज नोटिस का सुदर्शन न्यूज ने जवाब दे दिया है।

प्रचलित ख़बरें

बेच चुका हूँ सारे गहने, पत्नी और बेटे चला रहे हैं खर्चा-पानी: अनिल अंबानी ने लंदन हाईकोर्ट को बताया

मामला 2012 में रिलायंस कम्युनिकेशन को दिए गए 90 करोड़ डॉलर के ऋण से जुड़ा हुआ है, जिसके लिए अनिल अंबानी ने व्यक्तिगत गारंटी दी थी।

‘दीपिका के भीतर घुसे रणवीर’: गालियों पर हँसने वाले, यौन अपराध का मजाक बनाने वाले आज ऑफेंड क्यों हो रहे?

दीपिका पादुकोण महिलाओं को पड़ रही गालियों पर ठहाके लगा रही थीं। अनुष्का शर्मा के लिए यह 'गुड ह्यूमर' था। करण जौहर खुलेआम गालियाँ बक रहे थे। तब ऑफेंड नहीं हुए, तो अब क्यों?

एंबुलेंस से सप्लाई, गोवा में दीपिका की बॉडी डिटॉक्स: इनसाइडर ने खोल दिए बॉलीवुड ड्रग्स पार्टियों के सारे राज

दीपिका की फिल्म की शूटिंग के वक्त हुई पार्टी में क्या हुआ था? कौन सा बड़ा निर्माता-निर्देशक ड्रग्स पार्टी के लिए अपनी विला देता है? कौन सा स्टार पत्नी के साथ मिल ड्रग्स का धंधा करता है? जानें सब कुछ।

व्यंग्य: दीपिका के NCB पूछताछ की वीडियो हुई लीक, ऑपइंडिया ने पूरी ट्रांसक्रिप्ट कर दी पब्लिक

"अरे सर! कुछ ले-दे कर सेटल करो न सर। आपको तो पता ही है कि ये सब तो चलता ही है सर!" - दीपिका के साथ चोली-प्लाज्जो पहन कर आए रणवीर ने...

आजतक के कैमरे से नहीं बच पाएगी दीपिका: रिपब्लिक को ज्ञान दे राजदीप के इंडिया टुडे पर वही ‘सनसनी’

'आजतक' का एक पत्रकार कहता दिखता है, "हमारे कैमरों से नहीं बच पाएँगी दीपिका पादुकोण"। इसके बाद वह उनके फेस मास्क से लेकर कपड़ों तक पर टिप्पणी करने लगा।

‘नहीं हटना चाहिए मथुरा का शाही ईदगाह मस्जिद’ – कॉन्ग्रेस नेता ने की श्रीकृष्ण जन्मभूमि मुक्ति याचिका की निंदा

कॉन्ग्रेस नेता महेश पाठक ने उस याचिका की निंदा की, जिसमें मथुरा कोर्ट से श्रीकृष्ण जन्मभूमि में अतिक्रमण से मुक्ति की माँग की गई है।

‘अमेरिका कर सकता है चीन पर हमला, हमारी सेना लड़ेगी’ – चीनी मुखपत्र के एडिटर ने ट्वीट कर बताया

अपनी नापाक हरकतों से LAC पर जमीन हथियाने की नाकाम कोशिश करने वाले चीन को अमेरिका का डर सता रहा है। ग्लोबल टाइम्स के एडिटर ने...

बिहार के एक और बॉलीवुड अभिनेता की संदिग्ध मौत, परिजनों ने कहा – सहयोग नहीं कर रही मुंबई पुलिस

सुशांत सिंह राजपूत की मौत से देश अभी उबरा भी नहीं था कि मुंबई में बिहार के एक और अभिनेता अक्षत उत्कर्ष की संदिग्ध मौत का मामला सामने आया है।

‘डर का माहौल है’: ‘Amnesty इंटरनेशनल इंडिया’ ने भारत से समेटा कारोबार, कर्मचारियों की छुट्टी

'एमनेस्टी इंटरनेशनल इंडिया' ने भारत में अपने सभी कर्मचारियों को मुक्त करने के साथ-साथ अभी अभियान और 'रिसर्च' पर भी ताला मार दिया है।

आतंकी डेविड हेडली ने शिवसेना के लिए जुटाए थे फंड्स? बाल ठाकरे को कार्यक्रम में बुलाया था? – फैक्ट चेक

एक मीडिया पोर्टल की खबर का स्क्रीनशॉट शेयर किया गया, जिसमें दावा किया गया था कि डेविड हेडली ने शिवसेना के लिए फंड्स जुटाने की कोशिश की थी।

‘एक ही ट्रैक्टर को कितनी बार फूँकोगे भाई?’: कॉन्ग्रेस ने जिस ट्रैक्टर को दिल्ली में जलाया, 8 दिन पहले अम्बाला में भी जलाया था

ट्रैक्टर जलाने के मामले में जिन कॉन्ग्रेस नेताओं के खिलाफ FIR दर्ज हुई है, वो दिल्ली के इंडिया गेट पर भी मौजूद थे और अम्बाला में भी मौजूद थे।

2,50,000 से घट कर अब बस 700… अफगानिस्तान से सिखों और हिंदुओं का पलायन हुआ तेज

अगस्त में 176 अफगान सिख और हिंदू स्पेशल वीजा पर भारत आए। मार्च से यह दूसरा जत्था था। जुलाई में 11 सदस्य भारत पहुँचे थे।

‘कॉन्ग्रेसी राज्य कृषि कानूनों को रद्द करें’ – सोनिया गाँधी का ‘फर्जी’ निर्देश, क्योंकि इसमें है राष्ट्रपति की मंजूरी का पेंच

सोनिया गाँधी ने कॉन्ग्रेस शासित राज्यों को निर्देश दिया है कि वो वो ऐसे विकल्प आजमाएँ, जिससे केंद्र के कृषि कानूनों को रद्द किया जा सके।

बिहार चुनाव की वो 40+ सीटें, जहाँ ओवैसी कर सकते हैं खेल: राजनीति की प्रयोगशाला में चलेगा दलित-मुस्लिम कार्ड

किशनगंज (करीब 68%), कटिहार (करीब 45%), अररिया (करीब 43%) और पुर्णिया (करीब 39%) में कम से कम 20 सीटें ऐसी हैं, जहाँ से...

‘केस वापस ले, वरना ठोक देंगे’: करण जौहर की ‘ड्रग्स पार्टी’ की शिकायत करने वाले सिरसा को पाकिस्तान से धमकी

करण जौहर के घर पर ड्रग्स पार्टी होने का दावा करने वाले सिरसा को पाकिस्तान से जान से मारने की धमकी मिली है।

तिलक लगा, भगवा पहन एंकरिंग करना अपराध है? सुदर्शन न्यूज ने केंद्र के शो-कॉज नोटिस का दिया जवाब

‘यूपीएससी जिहाद’ कार्यक्रम को लेकर सूचना प्रसारण मंत्रालय की ओर से जारी शो-कॉज नोटिस का सुदर्शन न्यूज ने जवाब दे दिया है।

हमसे जुड़ें

264,935FansLike
78,070FollowersFollow
325,000SubscribersSubscribe