Thursday, April 22, 2021
Home विचार जब अम्मी-अब्बू ही 'वेश्या' कहकर हत्या कर दें, तो जहाँ में 'बेटियोंं' के लिए...

जब अम्मी-अब्बू ही ‘वेश्या’ कहकर हत्या कर दें, तो जहाँ में ‘बेटियोंं’ के लिए कोई जगह महफ़ूज़ नहीं

अपनी ही औलाद का दम घोटते इफ्तिख़ार अहमद के हाथ उस वक़्त कैसे नहीं काँपे, यह अत्यंत ही पीड़ादायी प्रश्न है? इसे सहजता से नहीं स्वीकारा जा सकता।

आज़ादी भला किसे नहीं पसंद क्योंकि वो किसी की जागिर नहीं होती। इस पर सबका एकसमान हक़ होता है, फिर चाहे वो महिला हो या पुरुष। लेकिन पितृसत्ता कभी-कभी इतनी हावी हो जाती है कि अपनी पसंद के कपड़े पहनना भी किसी ग़ुनाह से कम नहीं होता। और इसके लिए जान देकर चुकानी पड़ जाती है भारी क़ीमत।

अपनी पसंद से कपड़े पहनना 17 साल की शैफिला के लिए जानलेवा बन गया। उसके पिता इफ्तिख़ार अहमद और अम्मी फरजाना को बेटी के चाल-चलन पर शक़ था, जिसके चलते उसके मुँह में प्लास्टिक का बैग ठूंसकर उसकी निर्मम हत्या कर दी गई। उसके माता-पिता को लगता था कि उनकी बेटी छोटे कपड़े पहनती है और वो ज़रूर कोई ग़लत काम करने लगी है। इसी शक़ ने शैफिला की जान ले ली।

सवाल यह है कि अपनी पसंद के कपड़े पहनना क्या किसी माता-पिता को इतना नागवार लग सकता है कि वो अपनी ही संतान की जान तक ले लें, अगर ऐसा है तो फिर आज़ादी के क्या मायने?

शैफिला की हत्या करने के बाद पिता ने उसकी लाश को अपनी कार के पीछे रखा और वैरिंगटन (Warrington) के घर से 70 किलोमीटर जाकर दूर फेंक दिया। पुलिस की हरक़त के बाद माता-पिता ने जवाब दिया कि उनकी लड़की घर से भाग गई है। लेकिन झूठ की बुनियाद आख़िर कब तक टिकी रह सकती थी, सच सामने आ ही गया।

दरअसल, यह मामला 2003 का है। Cheshire (चेशायर) के वैरिंगटन में इस निर्मम हत्या को अंजाम दिया गया था। हत्या की इस घटना की अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी कड़ी निंदा हुई थी। मामला भले ही 2003 का हो लेकिन इसमें अब एक नया मोड़ आया है। वो यह कि शैफिला के क़रीबी दोस्तों में से एक शनिन मुनीर ने ख़ुलासा किया कि शैफिला अक्सर ख़ुद पर होने वाले अत्याचार के बारे में बताती थी। इसमें वो बताती थी कि उसके माता-पिता उसके साथ दुर्व्यवहार करते हैं। उसे धमकाया जाता है और मारने तक की धमकी दी जाती थी। उसके दोस्त ने बताया कि शैफिला के माता-पिता उसको ‘वेश्या’ तक कहते थे और कभी-कभी हालात इतने विपरीत हो जाते थे कि वो घर से भाग जाने के बारे में भी सोचा करती थी।

आमतौर पर यह कहा जाता है कि महिलाओं की सुरक्षा उनके घर की दहलीज़ के भीतर होती है, यानी अगर महिलाएँ घर के अंदर हैं तो वो सुरक्षित हैं और यदि बाहर हैं तो उनकी सुरक्षा की कोई गारंटी नहीं। ऐसे में सवाल आता है कि जब घर की चार दीवारी में ही बेरहमी से हत्या हो जाए तो उसे सुरक्षा के किस दायरे में रखा जाए?

शैफिला के माता-पिता ने समाज के सामने अपना एक ऐसा रूप रखा जिसकी एक सभ्य समाज में कल्पना भी नहीं की जा सकती। अपनी ही औलाद का दम घोटते इफ्तिख़ार अहमद के हाथ उस वक़्त कैसे नहीं काँपे, यह अत्यंत ही पीड़ादायी प्रश्न है? इसे सहजता से नहीं स्वीकारा जा सकता।

निक़ाह-हलाला और ट्रिपल तलाक़ जैसी कुप्रथाएँ क्या कम पड़ गईं थी, जो अपनी पसंद के कपड़े पहनने को भी इस प्रताड़ना के दायरे में ला दिया गया! 17 साल की बच्ची पर ये ज़ुल्म किस हद तक सही है, इस पर समय रहते विचार किया जाना चाहिए। अन्यथा अपनी कुंठित सोच के चलते न जाने कितनी शैफिला ऐसी ही निर्मम हत्या का शिकार होती रहेंगी।

एक तरफ दुनिया आगे बढ़ने की दिशा में नित नए इतिहास रचने में लगी हुई है और नई बुलंदियों पर क़दम रख रही है, वहीं दूसरी तरफ इस तरह की घटना यह सोचने पर मजबूर कर देती है कि इफ़्तिखार और फरजाना जैसे लोग इस तरक्की की राह में रोड़े हैं, जो अपनी दूषित सोच के ज़रिए समाज में ज़हर घोलने का काम करते हैं। आज भी जब महिला वर्ग पर उनके कपड़ों और बिंदास छवि को चाल-चलन के तराजू पर तौला जाता है तो ऐसी मानसिकता पर तरस आता है जो आज भी अपनी रुढ़िवादी और कुंठित सोच का खुला प्रदर्शन करते हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मतुआ समुदाय, चिकेन्स नेक और बांग्लादेश से लगे इलाके: छठे चरण में कौन से फैक्टर करेंगे काम, BJP से लोगों को हैं उम्मीदें

पश्चिम बंगाल की जनता उद्योग चाहती है, जो उसके हिसाब से सिर्फ भाजपा ही दे सकती है। बेरोजगारी मुद्दा है। घुसपैठ और मुस्लिम तुष्टिकरण पर TMC कोई जवाब नहीं दे पाई है।

अंबानी-अडानी के बाद अब अदार पूनावाला के पीछे पड़े राहुल गाँधी, कहा-‘आपदा में मोदी ने दिया अपने मित्रों को अवसर’

राहुल गाँधी पीएम मोदी पर देश को उद्योगपतियों को बेचने का आरोप लगाते ही रहते हैं। बस इस बार अंबानी-अडानी की लिस्ट में अदार पूनावाला का नाम जोड़ दिया है।

‘सरकार ने संकट में भी किया ऑक्सीजन निर्यात’- NDTV समेत मीडिया गिरोह ने फैलाई फेक न्यूज: पोल खुलने पर किया डिलीट

हालाँकि सरकार के सूत्रों ने इन मीडिया रिपोर्ट्स को भ्रांतिपूर्ण बताया क्योंकि इन रिपोर्ट्स में जिस ऑक्सीजन की बात की गई है वह औद्योगिक ऑक्सीजन है जो कि मेडिकल ऑक्सीजन से कहीं अलग होती है।

देश के 3 सबसे बड़े डॉक्टर की 35 बातें: कोरोना में Remdesivir रामबाण नहीं, अस्पताल एक विकल्प… एकमात्र नहीं

देश में कोरोना वायरस तेजी से फैल रहा है। 2.95 लाख नए मामले सामने आने के बाद देश में कुल संक्रमितों की संख्या बढ़ कर...

‘गैर मुस्लिम नहीं कर सकते अल्लाह शब्द का इस्तेमाल, किसी अन्य ईश्वर से तुलना गुनाह’: इस्लामी संस्था ने कहा- फतवे के हिसाब से चलें

मलेशिया की एक इस्लामी संस्था ने कहा है कि 'अल्लाह' एक बेहद ही पवित्र शब्द है और इसका इस्तेमाल सिर्फ इस्लाम के लिए और मुस्लिमों द्वारा ही होना चाहिए।

आज वैक्सीन का शोर, फरवरी में था बेकारः कोरोना टीके पर छत्तीसगढ़ में कॉन्ग्रेसी सरकार ने ही रचा प्रोपेगेंडा

आज छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री इस बात से नाखुश हैं कि पीएम ने राज्यों को कोरोना वैक्सीन देने की बात नहीं की। लेकिन, फरवरी में वही इसके असर पर सवाल उठा रहे थे।

प्रचलित ख़बरें

रेप में नाकाम रहने पर शकील ने बेटी को कर दिया गंजा, जैसे ही बीवी पढ़ने लगती नमाज शुरू कर देता था गंदी हरकतें

मेरठ पुलिस ने शकील को गिरफ्तार किया है। उस पर अपनी ही बेटी ने रेप करने की कोशिश का आरोप लगाया है।

मधुबनी: धरोहर नाथ मंदिर में सोए दो साधुओं का गला कुदाल से काटा, ‘लव जिहाद’ का विरोध करने वाले महंत के आश्रम पर हमला

बिहार के मधुबनी जिला स्थित खिरहर गाँव में 2 साधुओं की गला काट हत्या कर दी गई है। इससे पहले पास के ही बिसौली कुटी के महंत के आश्रम पर रात के वक्त हमला हुआ था।

रेमडेसिविर खेप को लेकर महाराष्ट्र के FDA मंत्री ने किया उद्धव सरकार को शर्मिंदा, कहा- ‘हमने दी थी बीजेपी को परमीशन’

महाविकास अघाड़ी को और शर्मिंदा करते हुए राजेंद्र शिंगणे ने पुष्टि की कि ये इंजेक्शन किसी अन्य उद्देश्य के लिए इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है। उन्हें भाजपा नेताओं ने भी इसके बारे में आश्वासन दिया था।

रवीश और बरखा की लाश पत्रकारिताः निशाने पर धर्म और श्मशान, ‘सर तन से जुदा’ रैलियाँ और कब्रिस्तान नदारद

अचानक लग रहा है जैसे पत्रकारों को लाश से प्यार हो गया है। बरखा दत्त श्मशान में बैठकर रिपोर्टिंग कर रही हैं। रवीश कुमार लखनऊ को लाशनऊ बता रहे हैं।

गुजरात: अली मस्जिद में सामूहिक नमाज से रोका तो भीड़ ने पुलिस पर किया हमला, वाहनों को फूँका

गुजरात के कपड़वंज में पुलिस ने जब सामूहिक नमाज पढ़ने से रोका तो भीड़ ने पुलिस पर हमला कर दिया। चौकी और थाने में तोड़फोड़ की।

पाकिस्तानी फ्री होकर रहें, इसलिए रेप की गईं बच्चियाँ चुप रहें: महिला सांसद नाज शाह के कारण 60 साल के बुजुर्ग जेल में

"ग्रूमिंग गैंग के शिकार लोग आपकी (सासंद की) नियुक्ति पर खुश होंगे।" - पाकिस्तानी मूल के सांसद नाज शाह ने इस चिट्ठी के आधार पर...
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

293,787FansLike
82,856FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe