जब अम्मी-अब्बू ही ‘वेश्या’ कहकर हत्या कर दें, तो जहाँ में ‘बेटियोंं’ के लिए कोई जगह महफ़ूज़ नहीं

अपनी ही औलाद का दम घोटते इफ्तिख़ार अहमद के हाथ उस वक़्त कैसे नहीं काँपे, यह अत्यंत ही पीड़ादायी प्रश्न है? इसे सहजता से नहीं स्वीकारा जा सकता।

आज़ादी भला किसे नहीं पसंद क्योंकि वो किसी की जागिर नहीं होती। इस पर सबका एकसमान हक़ होता है, फिर चाहे वो महिला हो या पुरुष। लेकिन पितृसत्ता कभी-कभी इतनी हावी हो जाती है कि अपनी पसंद के कपड़े पहनना भी किसी ग़ुनाह से कम नहीं होता। और इसके लिए जान देकर चुकानी पड़ जाती है भारी क़ीमत।

अपनी पसंद से कपड़े पहनना 17 साल की शैफिला के लिए जानलेवा बन गया। उसके पिता इफ्तिख़ार अहमद और अम्मी फरजाना को बेटी के चाल-चलन पर शक़ था, जिसके चलते उसके मुँह में प्लास्टिक का बैग ठूंसकर उसकी निर्मम हत्या कर दी गई। उसके माता-पिता को लगता था कि उनकी बेटी छोटे कपड़े पहनती है और वो ज़रूर कोई ग़लत काम करने लगी है। इसी शक़ ने शैफिला की जान ले ली।

सवाल यह है कि अपनी पसंद के कपड़े पहनना क्या किसी माता-पिता को इतना नागवार लग सकता है कि वो अपनी ही संतान की जान तक ले लें, अगर ऐसा है तो फिर आज़ादी के क्या मायने?

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

शैफिला की हत्या करने के बाद पिता ने उसकी लाश को अपनी कार के पीछे रखा और वैरिंगटन (Warrington) के घर से 70 किलोमीटर जाकर दूर फेंक दिया। पुलिस की हरक़त के बाद माता-पिता ने जवाब दिया कि उनकी लड़की घर से भाग गई है। लेकिन झूठ की बुनियाद आख़िर कब तक टिकी रह सकती थी, सच सामने आ ही गया।

दरअसल, यह मामला 2003 का है। Cheshire (चेशायर) के वैरिंगटन में इस निर्मम हत्या को अंजाम दिया गया था। हत्या की इस घटना की अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी कड़ी निंदा हुई थी। मामला भले ही 2003 का हो लेकिन इसमें अब एक नया मोड़ आया है। वो यह कि शैफिला के क़रीबी दोस्तों में से एक शनिन मुनीर ने ख़ुलासा किया कि शैफिला अक्सर ख़ुद पर होने वाले अत्याचार के बारे में बताती थी। इसमें वो बताती थी कि उसके माता-पिता उसके साथ दुर्व्यवहार करते हैं। उसे धमकाया जाता है और मारने तक की धमकी दी जाती थी। उसके दोस्त ने बताया कि शैफिला के माता-पिता उसको ‘वेश्या’ तक कहते थे और कभी-कभी हालात इतने विपरीत हो जाते थे कि वो घर से भाग जाने के बारे में भी सोचा करती थी।

आमतौर पर यह कहा जाता है कि महिलाओं की सुरक्षा उनके घर की दहलीज़ के भीतर होती है, यानी अगर महिलाएँ घर के अंदर हैं तो वो सुरक्षित हैं और यदि बाहर हैं तो उनकी सुरक्षा की कोई गारंटी नहीं। ऐसे में सवाल आता है कि जब घर की चार दीवारी में ही बेरहमी से हत्या हो जाए तो उसे सुरक्षा के किस दायरे में रखा जाए?

शैफिला के माता-पिता ने समाज के सामने अपना एक ऐसा रूप रखा जिसकी एक सभ्य समाज में कल्पना भी नहीं की जा सकती। अपनी ही औलाद का दम घोटते इफ्तिख़ार अहमद के हाथ उस वक़्त कैसे नहीं काँपे, यह अत्यंत ही पीड़ादायी प्रश्न है? इसे सहजता से नहीं स्वीकारा जा सकता।

निक़ाह-हलाला और ट्रिपल तलाक़ जैसी कुप्रथाएँ क्या कम पड़ गईं थी, जो अपनी पसंद के कपड़े पहनने को भी इस प्रताड़ना के दायरे में ला दिया गया! 17 साल की बच्ची पर ये ज़ुल्म किस हद तक सही है, इस पर समय रहते विचार किया जाना चाहिए। अन्यथा अपनी कुंठित सोच के चलते न जाने कितनी शैफिला ऐसी ही निर्मम हत्या का शिकार होती रहेंगी।

एक तरफ दुनिया आगे बढ़ने की दिशा में नित नए इतिहास रचने में लगी हुई है और नई बुलंदियों पर क़दम रख रही है, वहीं दूसरी तरफ इस तरह की घटना यह सोचने पर मजबूर कर देती है कि इफ़्तिखार और फरजाना जैसे लोग इस तरक्की की राह में रोड़े हैं, जो अपनी दूषित सोच के ज़रिए समाज में ज़हर घोलने का काम करते हैं। आज भी जब महिला वर्ग पर उनके कपड़ों और बिंदास छवि को चाल-चलन के तराजू पर तौला जाता है तो ऐसी मानसिकता पर तरस आता है जो आज भी अपनी रुढ़िवादी और कुंठित सोच का खुला प्रदर्शन करते हैं।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by paying for content

यू-ट्यूब से

बड़ी ख़बर

इनकी सावरकर से दुश्मनी केवल इसलिए है क्योंकि वह हिंदूवादी थे, और कॉन्ग्रेस की राजनीति मुस्लिम तुष्टिकरण की है। हिन्दूफ़ोबिया इनकी वैचारिक नसों में है, तो इसलिए हिन्दू हितों की बात करने वाले को खलनायक या कमज़ोर दिखाना तो हिन्दूफ़ोबिया की तार्किक परिणति होगा ही।

ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

पति ने TIK-TOK चलाने से किया मना, पत्नी ने की आत्महत्या, रिकॉर्ड किया मौत का वीडियो

24 वर्षीय अनीता की शादी 29 साल के पलानीवेल के साथ हुई थी। उनके चार साल की एक बेटी और दो साल का एक बेटा भी है।
दीदी, सुरक्षा दो या इस्तीफा

सईद की मौत पर 200 दंगाईयों को बुलाकर डॉक्टरों पर हमला करने वालों को ममता क्यों बचा रही है?

पथराव शुरू हुआ, डॉक्टरों पर जानलेवा हमले हुए तो पुलिस ने क्यों नहीं रोका? क्यों डॉक्टरों की जान बचाने के लिए दंगाईयों पर नियंत्रण के लिए कड़ी कार्रवाई नहीं की गई? जवाब हम सब को पता है। क्योंकि हमलावर मुसलमान थे- अगर उन्हें कुछ हो जाता तो ममता के वोट बैंक को खतरा था।
कमांडो निराला (फाइल फोटो)

देश के लिए बलिदान हुए थे कॉर्पोरल निराला, गरुड़ कमांडो ने पैसे जुटाकर कराई बहन की शादी

कमांडो निराला की बहन की शादी के लिए गरुड़ कमांडो यूनिट ने आपस में चंदा कर ₹5 लाख इकठ्ठा किए थे। यही नहीं, शादी की रस्म पूरी करने के लिए कमांडोज़ ने शादी में शिरकत भी की।
दि प्रिंट और दीपक कल्लाल

सेक्स ही सेक्स… भाई साहब आप देखते किधर हैं, दि प्रिंट का सेक्सी आर्टिकल इधर है

बढ़ते कम्पटीशन के दौर में सर्वाइवल और नाम का भार ढोते इन पोर्टलों के पास नग्नता और वैचारिक नकारात्मकता के अलावा फर्जीवाड़ा और सेक्स ही बचता है जिसे हर तरह की जनता पढ़ती है। लल्लनपॉट यूनिवर्सिटी से समाज शास्त्र में पीएचडी करने वाले ही ऐसा लिख सकते हैं।

NDTV के प्रणय रॉय और राधिका रॉय को झटका, SEBI ने 2 साल के लिए किया बैन

NDTV पिछले कई सालों से वित्तीय अनियमितताओं और टैक्स फ्रॉड के कारण जाँच एजेंसियों के रडार पर थी। सेबी ने सिक्योरिटी एक्सचेंज मार्केट में लेन-देन और NDTV मैनेजमेंट में किसी भी पोस्ट से 2 साल के लिए बाहर कर दिया है।
सावरकर (साभार: इंडियन एक्सप्रेस)

सावरकर ‘वीर’ तब तक नहीं होंगे जब तक हिन्दू अपनी कहानियाँ खुद सुनाना नहीं सीखते

इनकी सावरकर से दुश्मनी केवल इसलिए है क्योंकि वह हिंदूवादी थे, और कॉन्ग्रेस की राजनीति मुस्लिम तुष्टिकरण की है। हिन्दूफ़ोबिया इनकी वैचारिक नसों में है, तो इसलिए हिन्दू हितों की बात करने वाले को खलनायक या कमज़ोर दिखाना तो हिन्दूफ़ोबिया की तार्किक परिणति होगा ही।

सरकारी डॉक्टर की जान बनाम मुस्लिम वोटबैंक को निहारती निर्मम ममता जो दंगे पीती, खाती और सोती है

ये भीड़ इतनी जल्दी कैसे आती है, कहाँ हमला करती है और किधर गायब हो जाती है? क्या पुलिस ने नहीं देखा इन्हें? क्या हॉस्पिटल में सुरक्षा के लिए पुलिस आदि नहीं होती या फिर इस पहचानहीन भीड़ का सामूहिक चेहरा ममता की पुलिस ने पहचान लिया और उन्हें वो करने दिया जो वो कर गए?
ममता बनर्जी

घमंडी, फासीवादी, सांप्रदायिक, स्वेच्छाचारी, हिंसक, असंवैधानिक, तानाशाह, भ्रष्ट, अलगाववादी: यही हैं ममता

यह इकोसिस्टम कुतर्क में उस्ताद है। बंगाल की हर हिंसा में तृणमूल के साथ बराबर का भागीदार भाजपा को बना देता है। सांप्रदायिकता में भी यही रवैया अपनाता है।
अमित शाह, जदयू प्रवक्ता

अमित शाह और BSF को कोसने के बाद JDU प्रवक्ता ने खुद दिया इस्तीफ़ा

11 तारीख़ को आलोक ने ट्विटर पर एक पोस्ट किया था। इस पोस्ट में उन्होंने बांग्लादेशी शरणार्थियों के मुद्दे पर गृह मंत्री अमित शाह पर तंज कसा था। साथ ही एक ट्वीट में उन्होंने बीएसएफ अधिकारियों पर भी निशाना साधा था।
अक्षय पात्र, पुरस्कार

Akshay-Patra को मिला ग्लोबल अवॉर्ड, द हिंदू खोजता रह गया लहसुन-प्याज

इस पुरस्कार को देने के दौरान निर्णायक पैनल के प्रमुख शेफ़ सामीन नोसरात ने कहा कि स्कूलों में भोजन उपलब्ध कराना अद्भुत और शानदार कार्य है। बच्चों को भोजन करवाना सबसे महत्तवपूर्ण हैं। इस प्रकार के प्रयासों की सराहना की जानी चाहिए।

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

50,115फैंसलाइक करें
8,751फॉलोवर्सफॉलो करें
69,712सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

शेयर करें, मदद करें: