Wednesday, March 3, 2021
Home बड़ी ख़बर जावेद साहब! प्रेमगीत लिखिए, वीर रस आपको शोभा नहीं देता

जावेद साहब! प्रेमगीत लिखिए, वीर रस आपको शोभा नहीं देता

यदि भारतीय सेना में गुजरात रेजिमेंट नहीं है तो इसका अर्थ यह नहीं है कि गुजराती लोगों का देश की प्रगति में कोई योगदान नहीं है। वस्तुतः देश की आर्थिक प्रगति में गुजरातियों का सबसे बड़ा हाथ है।

जावेद अख्तर अल्फ़ाज़ों के अच्छे जादूगर हैं। हाल ही में उन्होंने एक बार फिर जादू दिखाया है। इस बार उन्होंने भारतीय सेना के कंधे पर कमान रखकर मोदी के तीर से संघ को निशाना बनाया है। अख्तर का कहना है कि नरेंद्र मोदी को भारतीय सेना में गुजराती रेजिमेंट बनानी चाहिए ताकि उसमें स्वयंसेवक भर्ती हो सकें।

जावेद अख्तर अपने इस कथन से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के ‘स्वयंसेवकों’ को निशाना बना रहे थे। लेकिन शायद उन्हें इस बात का ज्ञान नहीं है कि भारतीय सेना में रेजिमेंट सिस्टम अंग्रेज़ों का बनाया हुआ है। अंग्रेज़ों ने कुछ क्षेत्रों और जातियों के लोगों को ‘मार्शल कास्ट’ घोषित किया था। ब्रिटिश अधिकारी नस्लभेदी विचारधारा से ग्रसित होते थे इसीलिए कुछ क्षेत्र विशेष या जाति के लोगों के प्रति उनकी यह धारणा थी कि उस जाति के लोगों का जन्म युद्ध लड़ने के लिए ही हुआ है।

क्षेत्र और जाति विशेष के आधार पर ही अंग्रेज़ों ने सेना की इन्फैंट्री में रेजिमेंट बनाई थी। आज की भारतीय सेना एक मॉडर्न फ़ोर्स है और वह उस पुरातन औपनिवेशिक अवधारणा में विश्वास नहीं करती। हालाँकि रेजीमेंट सिस्टम आज भी हैं और प्रत्येक रेजिमेंट का अपना गौरवशाली इतिहास है। लेकिन यह भी सत्य है कि सेना में देश के प्रत्येक क्षेत्र की अपनी एक रेजिमेंट नहीं है। और यदि किसी क्षेत्र या जाति के नाम पर रेजिमेंट नहीं है तो इसका अर्थ यह नहीं है कि उस क्षेत्र अथवा जाति, समुदाय, पंथ के लोग हीन हैं। वास्तव में स्वतंत्रता के बाद भारतीय सेना ने यह निर्णय लिया था कि रेजिमेंट का नाम किसी क्षेत्र या समुदाय के नाम पर नहीं रखा जाएगा।

यदि भारतीय सेना में गुजरात रेजिमेंट नहीं है तो इसका अर्थ यह नहीं है कि गुजराती लोगों का देश की प्रगति में कोई योगदान नहीं है। वस्तुतः देश की आर्थिक प्रगति में गुजरातियों का सबसे बड़ा हाथ है। सेना जहाँ देश की अखंडता सुनिश्चित करती है वहीं अर्थ जगत प्रगति का कारक है। सेना में गुजराती रेजिमेंट भले न हो लेकिन गुजराती लोग सेना में हैं और उनका पराक्रम किसी से कम नहीं है।

जावेद अख्तर ने सेना में गुजरातियों के बहाने संघ के स्वयंसेवकों पर निशाना साधा है। नरेंद्र मोदी को यह सलाह देने से पहले कि आरएसएस के स्वयंसेवकों को सेना में लिया जाए अख्तर को अपनी योग्यता जाँच लेनी चाहिए थी। क्या जावेद अख्तर इस योग्य हैं कि वे प्रधानमंत्री को सलाह दें कि देश की सेना कैसे चलानी है? देश कोई एक व्यक्ति नहीं चलाता। यहाँ सेना, व्यवसायी, लेखक, पत्रकार, सिनेमा के लोग सबका योगदान होता है और एक प्रधानमंत्री को सबको साथ लेकर चलना होता है। वह किसी संगठन के लोगों को किसी दूसरे संस्थान का हिस्सा बनने पर मजबूर नहीं कर सकता।

जावेद अख्तर को यह समझना चाहिए कि लोकतंत्र में हर किसी का अपना काम होता है। एक गीतकार गाने लिखता है, सैनिक युद्ध लड़ता है, शिक्षक पढ़ाता है और प्रधानमंत्री शासन करता है। ऐसे में संघ का जो काम है वह संघ बखूबी समझता है और करता है। एक गाना लिखने वाला व्यक्ति जिसने कभी किसी संगठन की कमान नहीं संभाली वह क्या जानेगा कि आरएसएस कैसे काम करता है? क्या कोई सॉफ्टवेयर इंजीनियर किसी कलाकार को यह बता सकता है कि उसे अभिनय कैसे करना है?

जावेद अख्तर ने खुद को इतना काबिल कैसे मान लिया कि अब वह देश के प्रधानमंत्री को समझाएंगे कि सेना में फलाने रेजिमेंट होनी चाहिए? प्रधानमंत्री भी सेना से संबंधित निर्णय स्वयं नहीं लेते। सेना से संबंधित निर्णय लेने के लिए सेना से पूछा जाता है। मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारियों तथा सेनाध्यक्ष की राय ली जाती है तब कोई निर्णय होता है। इसलिए जावेद साहब आप गाने लिखते हैं तो वही काम कीजिए। देश कैसे चलाना है यह शासन व्यवस्था पर छोड़ दीजिए।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अमेजन प्राइम ने तांडव पर माँगी माफी, कहा- भावनाओं को ठेस पहुँचाना ध्येय नहीं, हटाए विवादित दृश्य

हिंदूफोबिक कंटेट को लेकर विवादों में आई वेब सीरिज 'तांडव' को लेकर ओटीटी प्लेटफॉर्म अमेजन प्राइम वीडियो ने माफी माँगी है।

ट्विटर पर जलाकर मारे गए कारसेवकों की बात करना मना है: गोधरा नरसंहार से जुड़े पोस्ट डिलीट करने को कर रहा मजबूर

गोधरा नरसंहार के हिंदू पीड़ितों की बात करने वाले पोस्ट डिलीट करने के लिए ट्विटर यूजर्स को मजबूर कर रहा है।

हिंदू अराध्य स्थल पर क्रिश्चियन क्रॉस, माँ सीता के पद​ चिह्नों को नुकसान: ईसाई प्रचारकों की करतूत से बीजेपी बिफरी

मंदिरों को निशाना बनाए जाने के बाद अब आंध्र प्रदेश में हिंदू पवित्र स्थल के पास अतिक्रमण कर विशालकाय क्रॉस लगाए जाने का मामला सामने आया है।

भगवान श्रीकृष्ण को व्यभिचारी और पागल F#ckboi कहने वाली सृष्टि को न्यूजलॉन्ड्री ने दिया प्लेटफॉर्म

भगवान श्रीकृष्ण पर अपमानजनक टिप्पणी के बाद HT से निकाली गई सृष्टि जसवाल न्यूजलॉन्ड्री के साथ जुड़ गई है।

‘बिके हुए आदमी हो तुम’ – हाथरस मामले में पत्रकार ने पूछे सवाल तो भड़के अखिलेश यादव

हाथरस मामले में सवाल पूछने पर पत्रकार पर अखिलेश यादव ने आपत्तिजनक टिप्पणी की। सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल होने के बाद उनकी किरकिरी हुई।

काम पर लग गए ‘कॉन्ग्रेसी’ पत्रकार: पश्चिम बंगाल में ‘मौत’ वाले मौलाना से गठबंधन और कलह से दूर कर रहे असम की बातें

बंगाल में कॉन्ग्रेस ने कट्टरवादी मौलाना के साथ गठबंधन किया, रोहिणी सिंह जैसे पत्रकारों ने ध्यान भटका कर असम की बातें करनी शुरू कर दी।

प्रचलित ख़बरें

‘प्राइवेट पार्ट में हाथ घुसाया, कहा पेड़ रोप रही हूँ… 6 घंटे तक बंधक बना कर रेप’: LGBTQ एक्टिविस्ट महिला पर आरोप

LGBTQ+ एक्टिविस्ट और TEDx स्पीकर दिव्या दुरेजा पर पर होटल में यौन शोषण के आरोप लगे हैं। एक योग शिक्षिका Elodie ने उनके ऊपर ये आरोप लगाए।

‘बिके हुए आदमी हो तुम’ – हाथरस मामले में पत्रकार ने पूछे सवाल तो भड़के अखिलेश यादव

हाथरस मामले में सवाल पूछने पर पत्रकार पर अखिलेश यादव ने आपत्तिजनक टिप्पणी की। सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल होने के बाद उनकी किरकिरी हुई।

‘बीवी के सामने गर्लफ्रेंड को वीडियो कॉल करता था शौहर, गर्भ में ही मर गया था बच्चा’: आयशा की आत्महत्या के पीछे की कहानी

राजस्थान की ही एक लड़की से आयशा के शौहर आरिफ का अफेयर था और आयशा के सामने ही वो वीडियो कॉल पर उससे बातें करता था। आयशा ने कर ली आत्महत्या।

आगरा से बुर्के में अगवा हुई लड़की दिल्ली के पीजी में मिली: खुद ही रचा ड्रामा, जानिए कौन थे साझेदार

आगरा के एक अस्पताल से हुई अपहरण की यह घटना सीसीटीवी फुटेज वायरल होने के बाद सामने आई थी।

सपा नेता छेड़खानी भी करता है, हत्या भी… और अखिलेश घेर रहे योगी सरकार को! आरोपित के खिलाफ लगेगा NSA

मृतक ने गौरव शर्मा नाम के आरोपित (जो सपा नेता भी है) के खिलाफ अपनी बेटी के साथ छेड़छाड़ की शिकायत पुलिस थाने में दर्ज कराई थी।

जरासंध की जेल में मकबरा क्यों? मजार की तस्वीर और फेसबुक पर सवाल को लेकर भड़का PFI, दर्ज हुई FIR

ये मामला नालंदा जिले के बिहारशरीफ में स्थित हिरण्य पर्वत (बड़ी पहाड़ी) पर स्थित एक मंदिर और मकबरे से जुड़ा हुआ है। PFI ने की शिकायत।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,216FansLike
81,876FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe