Thursday, May 30, 2024
Homeविचारराजनैतिक मुद्देबजट 2021 में OPC: अकेला व्यक्ति भी शुरू कर पाएगा अब अपनी खुद की...

बजट 2021 में OPC: अकेला व्यक्ति भी शुरू कर पाएगा अब अपनी खुद की कंपनी, सरकार ने दी सहूलियत

अक्सर प्रवासी भारतीय अपनी बुद्धि और धन का उपयोग करके भारत में कुछ करने को लालायित रहते हैं। लेकिन वे यहाँ के झमेलों से बचना चाहते थे। बजट 2021 के बाद वे सुगमता से एकल स्वामित्व वाली ऐसी कम्पनी बना पाएँगे।

वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण के वर्ष 2021-22 के बजट में कई नई बातें हैं। जैसे कि यह पहला डिजिटल बजट है। कृषि और ग्रामीण विकास की आधारभूत संरचना में निवेश के लिए एक अलग कोष बनाना भी बिलकुल नया प्रयास है। इस बजट के द्वारा उन्होंने कोरोना महामारी के बाद एक नए भारत की नींव की कई ईंटें लगाई हैं। इस नाते यह बजट बिल्कुल नई सोच वाला बजट लगा।

मुझे सबसे ज्यादा प्रभावित किया बजट में प्रस्तावित ओपीसी यानी वन पर्सन कंपनी के प्रावधान ने। अभी तक आपको कोई भी नया धंधा शुरू करना होता था तो आप पार्टनरशिप फर्म, प्राइवेट लिमिटेड कंपनी, पब्लिक लिमिटेड आदि बनाते थे। इनके कई झमेले भी थे। जैसे कि आपको अपने अलावा डायरेक्टर खोजने पड़ते थे।

ये आसान नहीं होता था। लेकिन अब स्टार्टअप संस्कृति को बढ़ावा देने के लिए एक अकेला व्यक्ति भी एक कंपनी आरंभ कर सकता है। इसकी घोषणा बजट में की गई। इसमें कितनी पूंजी लगेगी कितनी नहीं लगेगी, इसकी कोई भी सीमा नहीं रखी गई है।

इस कंपनी को जब चाहे आप किसी दूसरी तरह कंपनी में बदल सकते हैं। यानी किसी ने अकेले व्यक्ति की कंपनी बनाई और कुछ समय बाद उसे लगा कि उसे साझेदार चाहिए या कम्पनी का काम बढ़ गया है तो जब चाहे उसे प्राइवेट लिमिटेड कंपनी या पब्लिक लिमिटेड में बदल सकता है। इससे नया धंधा चालू करना और उसे बढ़ाना पहले से काफी आसान हो जाएगा।

मुझे लगता है इससे बहुत बढ़ावा मिलेगा विदेशों में बसे भारतीयों को अपनी उद्यमशीलता दिखाने में। अक्सर प्रवासी भारतीय अपनी बुद्धि और धन का उपयोग करके भारत में कुछ करने को लालायित रहते हैं। लेकिन वे यहाँ के झमेलों से बचना चाहते थे। इसके बाद वे सुगमता से एकल स्वामित्व वाली ऐसी कम्पनी बना पाएँगे।

अभी तक उनके लिए एक और शर्त थी कि अगर वे भारत में धंधा करना चाहें तो उनको 180 दिन कम से कम भारत में रहना पड़ता था। इस समयावधि को भी कम करके 120 दिन कर दिया गया है। इसका अर्थ हुआ कि प्रवासी भारतीय अगर चाहें तो भारत में आकर ओपीसी शुरू कर सकते हैं। उम्मीद की जानी चाहिए कि इससे बिना तामझाम के लोग कंपनियाँ खोल पाएँगे और ज्यादा रोजगार दे पाएँगे।

बजट का एक अन्य प्रावधान जो स्वागत योग्य है, वह है वित्त मंत्री द्वारा शोध के लिए 50000 करोड़ रुपए की व्यवस्था। ये राशि अगले पाँच साल में भारत के उच्च शिक्षा संस्थानों में शोध और नई चीजों के लिए खर्च होगी।

भारत को दुनिया में आगे बढ़ना है तो शोध और नए प्रयोगों की बहुत आवश्यकता है। इस नाते ये 50000 करोड़ की राशि बहुत महत्वपूर्ण है। आशा है कि इससे भारत में शोध और नई-नई चीजें विकसित करने के नवाचार को बढ़ावा मिलेगा।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

केजरीवाल ने अब माँगी नियमित जमानत, 1 जून को सुनवाई: कोर्ट ने ED से माँगा जवाब, एजेंसी ने बताया- दिल्ली के CM फिट, पंजाब...

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने दिल्ली की राउज अवेन्यु कोर्ट में शराब घोटाला मामले में नियमित जमानत के लिए याचिका लगाई है।

3 साल में 4 गुना हुआ बैंक फ्रॉड, लेकिन नुकसान की रकम एक तिहाई हुई: RBI रिपोर्ट से खुलासा, प्राइवेट बैंक के कस्टमर झाँसे...

वित्त वर्ष 2023-24 में लोगों से बैंक धोखाधड़ी के 36,075 मामले हुए। इस धोखाधड़ी के कारण लोगों का ₹13,930 करोड़ का नुकसान हुआ है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -