Sunday, October 25, 2020
Home रिपोर्ट अंतरराष्ट्रीय 'द वायर' वालो, इतिहास पढ़ो, संदर्भ देखो और तब ज्ञान छाँटो कि जर्मन राजदूत...

‘द वायर’ वालो, इतिहास पढ़ो, संदर्भ देखो और तब ज्ञान छाँटो कि जर्मन राजदूत के संघ जाने का क्या अर्थ है

'द वासर' के भाटिया जी बताएँगे कि हिटलर के हाथों मारे गए यहूदियों की आत्माएँ जर्मनी के राजदूत के उस संघ के दरवाज़े जाने से नाराज़ होंगी, जिसने इज़राइल को सम्मान देने वाला मोदी बनाया, या उन गाँधी की समाधि पर राजघाट जाने से, जिनका दिल इज़राइल के लिए नहीं पिघला।

The Wire वाले भाटिया जी बहुत दुःखी हैं- बहुत ही ज़्यादा। जर्मनी के राजदूत संघ वालों से मिलने नागपुर चले गए न! भाटिया जी याद दिला रहे हैं कि संघ के दो पितृ-पुरुषों सावरकर और गोलवलकर ने हिटलर की तारीफ़ कर दी थी, और इसलिए जर्मनी के राजदूत वॉल्टर जे लिंडनर का संघ के लोगों से मिलना न केवल हिटलर के हाथों मारे गए यहूदियों का अपमान है बल्कि बिना सीधे-सीधे कहे यह भी समझा रहे हैं कि इससे जर्मनी के सत्तर साल का प्रायश्चित मिट्टी में मिल गया।

दो बार प्रतिबंधित होने के बाद भी आज तक जारी कैसे है RSS?

भाटिया जी बताते हैं कि संघ पर दो-दो बार प्रतिबंध लग चुका है। पहले तो उनका इतिहास-ज्ञान ही सुधारा जाए- संघ दो नहीं, तीन बार प्रतिबंधित हुआ है। एक बार गाँधी-वध के बाद, एक बार आपातकाल में, और तीसरी बार बाबरी-ध्वंस के बाद। कारणों पर मैं बाद में आऊँगा, पहले भाटिया जी ये बताएँ कि इतनी बार प्रतिबंधित होने के बावजूद संघ आज तक काम कैसे कर रहा है?

अगर यह सवाल भाटिया जी से बगलें झाँकने के अलावा कोई जवाब नहीं होगा। क्योंकि जवाब यह है कि हर बार संघ को प्रतिबंधित करने के बाद भी, कोई भी सरकार उसके द्वारा कोई गैर-क़ानूनी काम साबित नहीं कर पाई है। न गाँधी-वध में सरदार पटेल संघ का हाथ साबित कर पाए, न ही नरसिम्हा राव बाबरी-ध्वंस में संघ का हाथ साबित कर पाए। इसके अलावा संघ पर तीसरा प्रतिबंध इंदिरा गाँधी के उस आपातकाल में लगा, जिसके लिए जेल जाना या प्रतिबंधित होना शर्म नहीं, गर्व की बात है।

हिटलर, ‘सांस्कृतिक राष्ट्रवाद’

यह सच है कि हिटलर की तारीफ़ गोलवलकर और सावरकर ने की थी। लेकिन हिटलर को ‘मेरे मित्र हिटलर’ तो गाँधी ने भी कहा था। उन्होंने तो हिटलर को ‘वीर’, ‘अपनी पितृभूमि से प्रेम करने वाला’ भी कहा था, और कहा था कि उन्हें नहीं लगता कि हिटलर वह दैत्य है जो उसके दुश्मन उसे बताते हैं। तो क्या गाँधी को केवल इतना कह देने के लिए भारत के हृदय से हटा दें? भाटिया जी बताएँगे कि गाँधी जी की बात तो ‘परिप्रेक्ष्य’ में देखा जाना चाहिए, अलग से उठा कर नहीं; भाटिया जी यह भी बताएँगे कि बाद में गाँधी की धारणा हिटलर के बारे में बदल गई। तो धारणाएँ तो गोलवलकर की भी जीवन में सतत रूप से बदलतीं रहीं थीं– जैसा कि किसी भी ऐसे विचारक के साथ होता ही है जिसने वैचारिक स्वातंत्र्य अक्षुण्ण रखा हो न कि किसी विचारधारा के आगे गिरवी रख दिया हो, जैसे वायर वाले कर चुके हैं।

तो या गाँधी और सावरकर-गोलवलकर के लिए मापदण्ड अलग-अलग हैं, कि गाँधी के विचारों में परिवर्तन ठीक है, गोलवलकर-सावरकर के नहीं; और अगर ऐसा नहीं है तो भाटिया जी बताएँ वह क्या हैं- वैचारिक दोगले, जिसने यह जानकर भी गोलवलकर का दानवीकरण किया, या फिर इतिहास से अनभिज्ञ, जिस स्थिति में सवाल यह उठेगा कि खुद इतिहास ठीक से न जानने वाला व्यक्ति किस नैतिक अधिकार से किसी देश के राजदूत को ज्ञान दे रहा है, और 50-60 लाख लोगों की तुलना इतिहास के सबसे क्रूर व्यक्तियों में से एक से कर रहा है?

हिटलर के सांस्कृतिक राष्ट्रवाद की तुलना संघ के और हिन्दुओं के सांस्कृतिक राष्ट्रवाद से करने वाले भाटिया जी को यह भी जान लेना चाहिए कि ‘सांस्कृतिक राष्ट्रवाद’ की संघ की अवधारणा नेहरू की ‘डिस्कवरी ऑफ़ इंडिया’ में दी गई अवधारणा से बहुत अलग नहीं है। वह भी अपनी किताब में ‘हिन्दुस्तानियत’ को परिभाषित संस्कृति से ही करते हैं, भौगोलिकता से नहीं– और हिंदुस्तान की राष्ट्रीय संस्कृति तो वही होगी जो हिंदुस्तान में पैदा हुई हो, यानि हिन्दू संस्कृति। अब सिद्धार्थ भाटिया बताएँ कि नेहरू फ़ासिस्ट थे या नाज़ी?

यहूदियों का दोस्त कौन?

जब हिटलर की बात होती है तो यहूदियों की बात होना लाज़मी है। यह देख लेना ज़रूरी है कि यहूदियों को दो हज़ार साल दुनिया में दर-दर भटकने के बाद अपना राज्य, अपना राष्ट्र मिला तो उसके बारे में और उसके साथ हिंदुस्तान में किसने क्या व्यवहार किया। 1920 के दशक में सावरकर ने लिखा कि अगर यहूदियों के अपने राज्य, अपने राष्ट्र का ज़ियोनिस्ट सपना पूरा होता है तो उन्हें यहूदियों जितनी ही ख़ुशी होगी। 1947 में जब यहूदियों को अपना खुद का राज्य, अपना देश मिलने में भारत ने टाँग मारी तो सावरकर बिफ़र उठे। गोलवलकर ने इजराइल को अपने सपनों के हिन्दू राष्ट्र के लिए एक आदर्श ‘मॉडल’ माना था। और इसके उलटे, गाँधी ने फ़िलिस्तीन को यहूदियों नहीं अरबी फ़िलिस्तीनियों का बताया था

इज़राइल के साथ नेहरूवियन हिंदुस्तान के कैसे रिश्ते रहे, इसे इस एक कथन से समझा जा सकता है: “हिंदुस्तान के साथ इज़राइल का रिश्ता रखैल का है– आप आड़ में यह अफेयर चलाने में तो खुश हैं, लेकिन सबके सामने इस संबंध को स्वीकार करने को तैयार नहीं।” मैं भाटिया जी को चुनौती देता हूँ कि इस कथन को वह गलत साबित करके दिखाएँ। यह सच्चाई बदलने वाला भी एक ‘संघी’ मोदी ही था। भाटिया जी बताएँगे कि हिटलर के हाथों मारे गए यहूदियों की आत्माएँ जर्मनी के राजदूत के उस संघ के दरवाज़े जाने से नाराज़ होंगी, जिसने इज़राइल को सम्मान देने वाला मोदी बनाया, या उन गाँधी की समाधि पर राजघाट जाने से, जिनका दिल इज़राइल के लिए नहीं पिघला।

इसमें कोई शक नहीं कि गोलवलकर-सावरकर के कई विचार गलत भी थे। कुछ उस समय गलत नहीं भी रहे होंगे लेकिन हो सकता है आज के परिप्रेक्ष्य में उनकी प्रासंगिकता न हो- यह मोहन भगवत ने भी माना है कि संघ केवल गोलवलकर या सावरकर की उस समय कही गई बातों तक सीमित नहीं है। लेकिन उन विचारों को बिना परिप्रेक्ष्य, बिना देश-काल-परिस्थिति के, उठा कर उसके आधार पर न केवल किसी व्यक्ति का बल्कि उस व्यक्ति से जुड़े हर व्यक्ति का भी मूल्यांकन करना या तो घृणित है, या फिर बौद्धिक दीवालियापन। यह भाटिया जी तय कर लें कि उनकी श्रेणी क्या हो सकती है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शिवहर: जिस दिन एक कैंडिडेट को गोलियों से भून दिया गया, उसी दिन हमने क्या देखा…

गाँव में तनाव पसरा हुआ है। लोग बात करने को तैयार नहीं होते। लोगों ने हाथ जोड़ लिए और कहा कि आप गाँव की दूसरी तरफ चले जाइए। इधर माहौल ठीक नहीं है।

बिहार में NDA बनाएगी सरकार, BJP जीत सकती है अधिकतम सीटें: ABP-CVoter ओपिनियन पोल के नतीजे

ओपिनियन पोल के अनुसार, नीतीश के नेतृत्व वाले NDA को 47%, महागठबंधन को 29% और पासवान को 4% अंग प्रदेश में वोट मिल सकते हैं।

गुपकार गठबंधन के लीडर बने फारूक अब्दुल्ला: 370 की बहाली के लिए महबूबा, सज्जाद के साथ मिलकर खाई कसम

गुपकार गठबंधन का उद्देश्य अनुच्छेद 370 और 35A की बहाली के साथ ही जम्मू-कश्मीर को राज्य का दर्जा वापस दिलाने का है।

दाढ़ी कटाकर ड्यूटी पर ‘चकाचक’ होकर लौटे सब इंस्पेक्टर इंतसार अली, एसपी ने लिया सस्पेंशन वापस

निलंबित SI इंतसार अली ने दाढ़ी कटवा ली है। दाढ़ी कटवाने के बाद उन्हें बहाल कर दिया गया है। इंतसार अली को दाढ़ी रखने के मामले में निलंबित कर दिया गया था।

दिल्ली की जनता को मुफ्त कोरोना वैक्सीन देने को लेकर केजरीवाल ने नहीं दिखाया ‘इंट्रेस्ट’, कहा- ‘सोचेंगे’

दिल्ली के लोगों को मुफ्त टीके उपलब्ध कराने के बारे में केजरीवाल ने कहा कि टीका विकसित होने के बाद सरकार इस पर निर्णय करेगी।

मुंबई: अस्पताल के शौचालय में मिला 14 दिन से लापता कोरोना मरीज का सड़ा हुआ शव

14 दिन तक शौचालय में पडे़ रहने की वजह से मरीज का शव इतना खराब हो चुका था, कि उसके लिंग की पहचान करना भी मुश्किल हो गया।

प्रचलित ख़बरें

Video: मजार के अंदर सेक्स रैकेट, नासिर उर्फ़ काले बाबा को लोगों ने रंगे-हाथ पकड़ा

नासिर उर्फ काले बाबा मजार में लंबे समय से देह व्यापार का धंधा चला रहा था। स्थानीय लोगों ने वहाँ देखा कि एक महिला और युवक आपत्तिजनक हालत में लिप्त थे।

मजार के अंदर सेक्स रैकेट, मौलाना नासिर पकड़ाया भी रंगे-हाथ… लेकिन TOI ने ‘तांत्रिक’ (हिंदू) लिख कर फैलाया भ्रम

पूरी खबर में एक बात शुरू से ही स्पष्ट है कि आरोपित मजार में रहता है और उसका नाम नासिर है। लेकिन टाइम्स ऑफ इंडिया उसे तांत्रिक लिख कर...

वो इंडस्ट्री का डॉन है.. कितनों की जिंदगी बर्बाद की, भाँजा ड्रग्स-लड़कियाँ सप्लाई करता है: महेश भट्ट की रिश्तेदार का आरोप

लवीना लोध ने वीडियो शेयर करके दावा किया है महेश भट्ट और उनका पूरा परिवार गलत कामों में लिप्त रहता है। लवीना ने महेश भट्ट को इंडस्ट्री का डॉन बताया है।

फ्रांस के राष्ट्रपति ने इस्लाम के बारे में जो कहा, वही बात हर राष्ट्राध्यक्ष को खुल कर बोलनी चाहिए

इमैनुअल मैक्राँ ने वह कहा जो सत्य है। इस्लाम को उसके मूल रूप में जानना और समझना, उससे घृणा करना कैसे हो गया!

AajTak बड़े-बड़े अक्षरों में लिख कर और बोल कर Live माफी माँगे: सुशांत के फेक ट्वीट पर NBSA का आदेश

सुशांत मामले में फेक न्यूज़ चलाने के लिए 'न्यूज़ ब्रॉडकास्टर्स एसोसिएशन (NBSA)' ने 'आज तक' न्यूज़ चैनल को निर्देश दिया है कि वो माफ़ी माँगे।

‘ये पत्थर की पूजा है’: दुर्गा पूजा पंडाल में TMC सांसद नुसरत जहाँ के नृत्य व पूजा करने पर भड़के इस्लामी कट्टरपंथी

तृणमूल कॉन्ग्रेस सांसद नुसरत जहाँ ने कोलकाता में दुर्गा पूजा में हिस्सा लिया। उन्होंने सुरुचि संघ दुर्गा पूजा पंडाल में जाकर पूजा-अर्चना की।
- विज्ञापन -

शिवहर: जिस दिन एक कैंडिडेट को गोलियों से भून दिया गया, उसी दिन हमने क्या देखा…

गाँव में तनाव पसरा हुआ है। लोग बात करने को तैयार नहीं होते। लोगों ने हाथ जोड़ लिए और कहा कि आप गाँव की दूसरी तरफ चले जाइए। इधर माहौल ठीक नहीं है।

बिहार में NDA बनाएगी सरकार, BJP जीत सकती है अधिकतम सीटें: ABP-CVoter ओपिनियन पोल के नतीजे

ओपिनियन पोल के अनुसार, नीतीश के नेतृत्व वाले NDA को 47%, महागठबंधन को 29% और पासवान को 4% अंग प्रदेश में वोट मिल सकते हैं।

गुपकार गठबंधन के लीडर बने फारूक अब्दुल्ला: 370 की बहाली के लिए महबूबा, सज्जाद के साथ मिलकर खाई कसम

गुपकार गठबंधन का उद्देश्य अनुच्छेद 370 और 35A की बहाली के साथ ही जम्मू-कश्मीर को राज्य का दर्जा वापस दिलाने का है।

दाढ़ी कटाकर ड्यूटी पर ‘चकाचक’ होकर लौटे सब इंस्पेक्टर इंतसार अली, एसपी ने लिया सस्पेंशन वापस

निलंबित SI इंतसार अली ने दाढ़ी कटवा ली है। दाढ़ी कटवाने के बाद उन्हें बहाल कर दिया गया है। इंतसार अली को दाढ़ी रखने के मामले में निलंबित कर दिया गया था।

दिल्ली की जनता को मुफ्त कोरोना वैक्सीन देने को लेकर केजरीवाल ने नहीं दिखाया ‘इंट्रेस्ट’, कहा- ‘सोचेंगे’

दिल्ली के लोगों को मुफ्त टीके उपलब्ध कराने के बारे में केजरीवाल ने कहा कि टीका विकसित होने के बाद सरकार इस पर निर्णय करेगी।

मुंबई: अस्पताल के शौचालय में मिला 14 दिन से लापता कोरोना मरीज का सड़ा हुआ शव

14 दिन तक शौचालय में पडे़ रहने की वजह से मरीज का शव इतना खराब हो चुका था, कि उसके लिंग की पहचान करना भी मुश्किल हो गया।

फैक्ट चेक: शिवसेना मुखपत्र ‘सामना’ का आरोप- सरकार सिर्फ बिहार को देगी मुफ्त COVID-19 वैक्सीन

'सामना' ने यह झूठ बिहार विधानसभा चुनाव के दौरान बीजेपी द्वारा किए गए वादों में बिहार के लोगों के लिए मुफ्त कोरोना की वैक्सीन की घोषणा को लेकर फैलाया है।

हाथरस कांड में SIT के सदस्य DIG चंद्र प्रकाश की पत्नी ने लगाई फाँसी, तहकीकात में जुटी पुलिस

यूपी पुलिस के DIG चंद्र प्रकाश की पत्नी पुष्पा प्रकाश ने सुशांत गोल्फ सिटी इलाके में आज सुबह करीब 11 बजे घर में फाँसी के फंदे से लटककर आत्महत्या कर ली।

गाली-गलौज करने पर महिला ने की मुंबई पुलिस की बीच सड़क पर पिटाई, संजय राउत ने कहा- प्रतिष्ठा का सवाल

कालबादेवी इलाके में ड्यूटी पर मौजूद मुंबई ट्रैफिक पुलिस कॉन्सटेबल की एक महिला ने जमकर पिटाई कर दी। महिला का कहना है कि उनके साथ अभद्र भाषा का इस्तेमाल किया गया।

महबूबा मुफ्ती को भगा-भगा कर पाकिस्तान क्यों भेजना चाहते हैं कश्मीर के जावेद कुरैशी, देखें Video

वीडियो में जावेद कुरैशी कपड़े फाड़ते हुए महबूबा मुफ़्ती से कहते हैं, "ये कपड़े फाड़ के देख, हिंदुस्तान कहाँ पर बसता है, दिल में। तिरंगे की इज्जत इस दिल में है।"

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
79,142FollowersFollow
337,000SubscribersSubscribe