Sunday, October 25, 2020
Home विचार राजनैतिक मुद्दे कॉन्ग्रेस जिस कारण से शिवसेना से बचना चाहती थी, उसी हिंदुत्व का लालच बना...

कॉन्ग्रेस जिस कारण से शिवसेना से बचना चाहती थी, उसी हिंदुत्व का लालच बना गठबंधन का गोंद?

"मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने हस्तक्षेप किया। उन्होंने कथित तौर पर तर्क यह दिया कि एक हिंदूवादी इतिहास वाली पार्टी के साथ गठबंधन कर लेने से कॉन्ग्रेस पर लगा 'हिन्दू विरोधी' का ठप्पा कमज़ोर पड़ जाएगा। उन्होंने अपना उदाहरण भी दिया कि...."

अगर मीडिया में आ रही खबरों और मध्य प्रदेश कॉन्ग्रेस के नेताओं के दावो पर यकीन करें तो महाराष्ट्र में ‘महा विकास अघाड़ी’ का असली चाणक्य तो इस पूरे शतरंजनुमा खेल के दौरान महाराष्ट्र में आया ही नहीं। कमलनाथ ने भोपाल में बैठकर ही कथित तौर पर ऐसी लॉबिंग की कि मातोश्री के ‘महल’ से निकल कर सरकार बनाने के लालच में होटलों के पिछले दरवाजे तक पहुँच गए उद्धव ठाकरे की सीएम पद की गोटी फिट हो गई।

‘वादाखिलाफ़ी’ का ताव देकर बेटे की राजनीति में ओपनिंग ही सीएम पद से कराने के इच्छुक उद्धव ठाकरे राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन से निकल तो आए थे, लेकिन समस्या यह थी कि महज़ 56 विधायक लेकर जाएँ किसके दर पर। हिंदुत्व के नाम से उल्टियाँ करने वाली कॉन्ग्रेस (44 विधायक) के पास जाने का विकल्प (उस समय तक) था नहीं, एनसीपी (54) भी उसी खेमे की थी, और निर्दलीय और अन्य केवल 30 थे- वे भी फडणवीस के पाले में अधिक दिख रहे थे। उनमें भी एक नाराज़ भाई राज ठाकरे की मनसे का था, दो हिन्दुओं के सबसे बड़े विरोधी ओवैसी की पार्टी के। और अगर कहीं न जाते तो भी दिक्कत थी- भाजपा (105 विधायक) देर-सबेर येद्दियुरप्पा फॉर्मूले के तहत किसी न किसी पार्टी के विधायकों से सदन में इस्तीफ़ा दिलाकर बहुमत के लिए ज़रूरी संख्या गिराकर सरकार बना लेती, और इस्तीफ़ा देने वालों को अपने टिकट पर स्थिर सरकार और नैतिक-ईमानदार राजनीति के हवाले से जिता कर पूर्ण सदन में भी संख्याबल का पाला छू लेती।

ऐसे में उद्धव ने तो विचारधारा को तिलांजलि देकर कॉन्ग्रेस के साथ जाने का फैसला कर लिया था, लेकिन पेंच यह फँसा कि भले ही महाराष्ट्र कॉन्ग्रेस कमेटी सबसे लचर प्रदर्शन के बावजूद मुफ्त में मिल रही सत्ता की मलाई के लिए लालयित थी, लेकिन इसमें राष्ट्रीय आलाकमान को फ़ायदा कम और नुकसान ज़्यादा दिख रहा था। चिंता यह थी कि हिंदुत्व वाली शिवसेना के साथ जाने से मोदी-शाह के राजनीतिक ‘नरसंहार’ में गाजर-मूली की तरह कट रहे कॉन्ग्रेसी वोटों में और कमी न हो जाए- बीच के एकाध अपवादों को छोड़ कर 2012-13 के मोदी-उदय के बाद से कॉन्ग्रेस का वोट-शेयर लगातार गोते खा रहा है, और मज़हब के आधार पर वोट करने वाले लोग भी कहीं ‘हिन्दू हृदय सम्राट’ माने जाने वाले बाला साहेब की पार्टी देख कर अलविदा न कह दे। गोटी यहीं अटक गई थी। सामने दिल्ली, बिहार, झारखंड के चुनाव थे जहाँ कॉन्ग्रेस बिना ‘अल्पसंख्यक’ वोटबैंक के बहुत मुश्किल में होगी।

एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार जब ‘अस्थाई’ कॉन्ग्रेस अध्यक्षा सोनिया गाँधी से मिलने पहुँचे थे तो लोगों को उम्मीद थी कि इस पार या उस पार की कोई बात हो जाएगी- शरद पवार न केवल पुराने कॉन्ग्रेसी रह चुके हैं, बल्कि जिस सोनिया गाँधी के विदेशी मूल के मुद्दे पर उन्होंने कॉन्ग्रेस छोड़ी, उन्हीं सोनिया ने यूपीए में डॉ. मनमोहन सिंह के बाद दूसरे नंबर का मंत्री बनाया, तत्कालीन गृह मंत्री को यह पद देने के प्रोटोकॉल को ताक पर रखते हुए। लेकिन वे भी सोनिया गाँधी को तैयार पूरी तरह नहीं कर पाए।

ऐसे में कथित तौर पर मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने हस्तक्षेप किया। उन्होंने कथित तौर पर तर्क यह दिया कि एक हिंदूवादी इतिहास वाली पार्टी के साथ गठबंधन कर लेने से कॉन्ग्रेस पर लगा ‘हिन्दू विरोधी’ का ठप्पा कमज़ोर पड़ जाएगा। उन्होंने अपना उदाहरण भी दिया कि कैसे उन्होंने शिवराज सिंह चौहान की पूर्ववर्ती भाजपा सरकार की लकीर छोटी करने के लिए एक साल में इतनी गौसेवा कर डाली है कि उन्हें ‘गौभक्त’ कमलनाथ के नाम से जाना जाने लगा है। यानी जिस हिंदूवाद के नाम से सोनिया गाँधी को एलर्जी हो रही थी, कमलनाथ ने समझाया कि उन्हीं हिंदूवादियों के साथ गठबंधन कर के कॉन्ग्रेस गाँधी-नेहरू के समय से चले आ रहे हिन्दू-विरोधी होने के दाग को हल्का कर सकती है।

मीडिया की खबरों के अनुसार इसके बाद भी सोनिया गाँधी को आश्वस्त होने में 4 दिन लग गए। कमलनाथ के बारे में यह जान लेना ज़रूरी है कि वे न केवल सोनिया गाँधी के खास हैं, बल्कि पूर्व प्रधानमंत्रियों राजीव गाँधी और इंदिरा गाँधी के भी नज़दीकी रहे। इंदिरा उन्हें राजीव-संजय के बाद अपना तीसरा बेटा कहतीं थीं, और उनकी हत्या के बाद हुए सिख दंगों में हत्यारी भीड़ का नेतृत्व करने का आरोप भी कमलनाथ पर लग चुका है

बहरहाल, येन-केन-प्रकारेण सोनिया गाँधी मान गईं- और आज सीएम की कुर्सी को ताकत का स्रोत नहीं बल्कि उस पर एक अवांछित बाँध मानने वाले बाला साहेब ठाकरे का बेटा उसी कुर्सी के लिए हिंदूवाद को ही राम-राम कर कॉन्ग्रेस के समर्थन से मुख्यमंत्री बनने जा रहा है। और इस अहसान के लिए उद्धव कमलनाथ के कृतज्ञ भी हैं। मध्य प्रदेश कॉन्ग्रेस के नेताओं का दावा है कि उन्होंने खुद फ़ोन कर के कमलनाथ को अपने शपथ ग्रहण समारोह में आने के लिए आमंत्रित किया है। और कमलनाथ मान भी गए हैं। फुटबॉल के नॉन-प्लेइंग कैप्टेन की तरह बिना मैदान में उतरे ही इस प्रकरण के अहम वार्ताकार के रूप में उनकी भूमिका पर शायद किसी दिन एक पूरी किताब लिखी जाएगी!

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लालू यादव के 3 बकरों की बलि, मुझे मारने के लिए कराई थी तांत्रिक पूजा: सुशील मोदी

"लालू को जनता पर भरोसा नहीं, इसलिए वे तंत्र-मंत्र, पशुबलि और प्रेत साधना जैसे कर्म-कांड कराते रहे हैं।" - सुशील मोदी के इस ट्वीट के बाद...

मंदिर तोड़ कर मूर्ति तोड़ी… नवरात्र की पूजा नहीं होने दी: मेवात की घटना, पुलिस ने कहा – ‘सिर्फ मूर्ति चोरी हुई है’

2016 में भी ऐसी ही घटना घटी थी। तब लोगों ने समझौता कर लिया था और मुस्लिम समुदाय ने हिंदुओं के सामने घटना का खेद प्रकट किया था

एक ही रात में 3 अलग-अलग जगह लड़कियों के साथ छेड़छाड़ करने वाला लालू का 2 बेटा: अब मिलेगी बिहार की गद्दी?

आज से लगभग 13 साल पहले ऐसा समय भी आया था, जब राजद सुप्रीमो लालू यादव के दोनों बेटों तेज प्रताप और तेजस्वी यादव पर छेड़खानी के आरोप लगे थे।

पुलवामा का वो गाँव जिसने पूरे भारत को लिखना सिखाया: PM मोदी ने ‘मन की बात’ में किया जिक्र

PM मोदी ने 'मन की बात' कार्यक्रम में बताया कि देश में 90% से अधिक पेंसिलों में प्रयोग होने वाली लकड़ी अकेले जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले से जाती है।

‘6 वर्जिन हूर आपके लिए, लेकिन चाहिए 72 तो… अपग्रेड करना पड़ेगा’ – इस्लाम और आतंक पर वीर दास

वीर दास ने कहा कि दुनिया के सभी बड़े मजहबों को 'अपडेट' किए जाने के जाने की ज़रूरत है, इसीलिए इन सभी मजहबों को लेकर एप्पल कम्पनी को दे देना चाहिए।

एक दीया सैनिकों के लिए भी जलाएँ, खरीददारी में स्‍थानीय उत्पादों को दें प्राथमिकता: PM मोदी

पीएम मोदी ने कहा कि आज जब हम लोकल के लिए वोकल हो रहे हैं तो दुनिया भी हमारे लोकल उत्पादों की फैन हो रही है। हमारे कई स्थानीय उत्पादों में वैश्विक होने की बहुत बड़ी शक्ति है।

प्रचलित ख़बरें

जब रावण ने पत्थर पर लिटा कर अपनी बहू का ही बलात्कार किया… वो श्राप जो हमेशा उसके साथ रहा

जानिए वाल्मीकि रामायण की उस कहानी के बारे में, जो 'रावण ने सीता को छुआ तक नहीं' वाले नैरेटिव को ध्वस्त करती है। रावण विद्वान था, संगीत का ज्ञानी था और शिवभक्त था। लेकिन, उसने स्त्रियों को कभी सम्मान नहीं दिया और उन्हें उपभोग की वस्तु समझा।

Video: मजार के अंदर सेक्स रैकेट, नासिर उर्फ़ काले बाबा को लोगों ने रंगे-हाथ पकड़ा

नासिर उर्फ काले बाबा मजार में लंबे समय से देह व्यापार का धंधा चला रहा था। स्थानीय लोगों ने वहाँ देखा कि एक महिला और युवक आपत्तिजनक हालत में लिप्त थे।

वो इंडस्ट्री का डॉन है.. कितनों की जिंदगी बर्बाद की, भाँजा ड्रग्स-लड़कियाँ सप्लाई करता है: महेश भट्ट की रिश्तेदार का आरोप

लवीना लोध ने वीडियो शेयर करके दावा किया है महेश भट्ट और उनका पूरा परिवार गलत कामों में लिप्त रहता है। लवीना ने महेश भट्ट को इंडस्ट्री का डॉन बताया है।

मजार के अंदर सेक्स रैकेट, मौलाना नासिर पकड़ाया भी रंगे-हाथ… लेकिन TOI ने ‘तांत्रिक’ (हिंदू) लिख कर फैलाया भ्रम

पूरी खबर में एक बात शुरू से ही स्पष्ट है कि आरोपित मजार में रहता है और उसका नाम नासिर है। लेकिन टाइम्स ऑफ इंडिया उसे तांत्रिक लिख कर...

फ्रांस के राष्ट्रपति ने इस्लाम के बारे में जो कहा, वही बात हर राष्ट्राध्यक्ष को खुल कर बोलनी चाहिए

इमैनुअल मैक्राँ ने वह कहा जो सत्य है। इस्लाम को उसके मूल रूप में जानना और समझना, उससे घृणा करना कैसे हो गया!

AajTak बड़े-बड़े अक्षरों में लिख कर और बोल कर Live माफी माँगे: सुशांत के फेक ट्वीट पर NBSA का आदेश

सुशांत मामले में फेक न्यूज़ चलाने के लिए 'न्यूज़ ब्रॉडकास्टर्स एसोसिएशन (NBSA)' ने 'आज तक' न्यूज़ चैनल को निर्देश दिया है कि वो माफ़ी माँगे।
- विज्ञापन -

लालू यादव के 3 बकरों की बलि, मुझे मारने के लिए कराई थी तांत्रिक पूजा: सुशील मोदी

"लालू को जनता पर भरोसा नहीं, इसलिए वे तंत्र-मंत्र, पशुबलि और प्रेत साधना जैसे कर्म-कांड कराते रहे हैं।" - सुशील मोदी के इस ट्वीट के बाद...

कंगना जब हवाई जहाज में थीं तो 9 रिपोर्टर-कैमरामैन टूट पड़े थे कुछ बुलवाने को, इंडिगो ने लगाया सभी पर बैन

डीजीसीए ने विमानन कंपनी को कहा था कि चंडीगढ़ से मुंबई जा रही फ्लाइट में हंगामा करने वाले लोगों के खिलाफ उचित कार्रवाई की जाए। कंगना इसी से...

Xitler: ओलम्पिक को चीन से बाहर कराने की माँग, लोगों को सता रहा 1936 के हिटलर का डर

वैश्विक शक्ति घोषित करने की होड़ में चीन ने हर उस आवाज़ को दबाने का प्रयास किया है, जो उसके विरोध में उठाई गई। यहाँ तक कि...

मंदिर तोड़ कर मूर्ति तोड़ी… नवरात्र की पूजा नहीं होने दी: मेवात की घटना, पुलिस ने कहा – ‘सिर्फ मूर्ति चोरी हुई है’

2016 में भी ऐसी ही घटना घटी थी। तब लोगों ने समझौता कर लिया था और मुस्लिम समुदाय ने हिंदुओं के सामने घटना का खेद प्रकट किया था

‘यहाँ के लोगों को बताया हिंसक, फैलाई जातीय वैमनस्यता’: ‘मिर्जापुर’ के खिलाफ उतरीं मिर्जापुर की सांसद

उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर की सांसद और अपना दल (एस) अध्यक्ष अनुप्रिया पटेल ने 'अमेज़न प्राइम' की वेब सीरीज 'मिर्जापुर' को लेकर आपत्ति जताई।

एक ही रात में 3 अलग-अलग जगह लड़कियों के साथ छेड़छाड़ करने वाला लालू का 2 बेटा: अब मिलेगी बिहार की गद्दी?

आज से लगभग 13 साल पहले ऐसा समय भी आया था, जब राजद सुप्रीमो लालू यादव के दोनों बेटों तेज प्रताप और तेजस्वी यादव पर छेड़खानी के आरोप लगे थे।

पुलवामा का वो गाँव जिसने पूरे भारत को लिखना सिखाया: PM मोदी ने ‘मन की बात’ में किया जिक्र

PM मोदी ने 'मन की बात' कार्यक्रम में बताया कि देश में 90% से अधिक पेंसिलों में प्रयोग होने वाली लकड़ी अकेले जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले से जाती है।

‘शैतान, रं#$ अपना धंधा बढ़ा रही है…अल्लाह जहन्नुम में जलाएगा’ – हिंदू पति के साथ दुर्गा पूजा पर सांसद नुसरत को गाली

अली नामक यूजर ने नुसरत 'रं#* की औलाद' बताया। शैफुद्दीन कहता है - "शैतान की नस्ल हो तुम, तुमको शर्म नहीं आती, इतना गंदा काम करने से।"

‘6 वर्जिन हूर आपके लिए, लेकिन चाहिए 72 तो… अपग्रेड करना पड़ेगा’ – इस्लाम और आतंक पर वीर दास

वीर दास ने कहा कि दुनिया के सभी बड़े मजहबों को 'अपडेट' किए जाने के जाने की ज़रूरत है, इसीलिए इन सभी मजहबों को लेकर एप्पल कम्पनी को दे देना चाहिए।

एक दीया सैनिकों के लिए भी जलाएँ, खरीददारी में स्‍थानीय उत्पादों को दें प्राथमिकता: PM मोदी

पीएम मोदी ने कहा कि आज जब हम लोकल के लिए वोकल हो रहे हैं तो दुनिया भी हमारे लोकल उत्पादों की फैन हो रही है। हमारे कई स्थानीय उत्पादों में वैश्विक होने की बहुत बड़ी शक्ति है।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
79,185FollowersFollow
337,000SubscribersSubscribe