Monday, January 25, 2021
Home विचार राजनैतिक मुद्दे कश्मीरी औरतें जो हवस और जहन्नुम झेलने को मजबूर हैं

कश्मीरी औरतें जो हवस और जहन्नुम झेलने को मजबूर हैं

आज जब कश्मीरी लड़कियों से शादी वगैरह की बातें हो रही हैं तो समाज को यह समझना चाहिए कि कश्मीरी लड़कियाँ और महिलाएँ शेष भारत से अलग जीवन नहीं जीतीं बल्कि कुछ ज्यादा ही वेदना झेलती हैं।

‘ग़र फ़िरदौस बर-रू-ए-ज़मीं अस्त, हमीं अस्त ओ हमीं अस्त ओ हमीं अस्त’- यह कहकर किसी ने कश्मीर को स्वर्ग बताया था। जिसने भी यह कहा था उसको शायद यह इल्म नहीं था कि आने वाले समय में आज़ादी की चाह रखने वाले कुछ कश्मीरी ही कश्मीर को नर्क बना देंगे। दहशतगर्द तंज़ीमों के साए में रहने वाली औरतों के लिए तो कम से कम कश्मीर जहन्नुम से कम नहीं। प्रोफेसर कविता सूरी ने अपनी पुस्तक Voices Unheard में उन कश्मीरी औरतों की कहानियाँ लिखी हैं जिनका जीवन आतंक के साए में जीते जी नर्क बन गया।

अनंतनाग में रहने वाली हसीना बानो की ज़िंदगी खुशहाल थी। पिता डाक विभाग में काम करते थे और हसीना अपनी माँ के साथ घर के कामों में हाथ बंटाती थीं। फिर एक दिन हसीना की माँ अल्लाह को प्यारी हो गई और बाप के कंधे पर बेटी की ज़िम्मेदारियों का आसमान टूट पड़ा। धीरे-धीरे पाल पोस कर बाप ने बेटी को बड़ा किया और एक दिन कारपेंटरी का काम करने वाले मोहम्मद अमीन शाह के साथ हसीना का निकाह हो गया।

हसीना ने सोचा कि अब खुशियाँ उसका दामन नहीं छोड़ेंगी लेकिन कुछ ही सालों बाद अमीन शाह ने घर परिवार छोड़कर दहशतगर्दी की राह पकड़ ली। वह आतंकी संगठन हरकत-उल-मुजाहिदीन में शामिल होकर ‘तहरीक़’ की खूनी मुहीम का हिस्सा बन गया। अमीन ने बंदूक उठाई थी तो अंत भी एक दिन वैसा ही हुआ। सुरक्षा बलों के हाथों अमीन मारा गया और पीछे रह गई हसीना बानो और उसकी बेटियाँ। आज हसीना किसी तरह अपनी बेटियों को पाल रही हैं। कश्मीर में ऐसी न जाने कितनी औरतें हैं जिन्होंने दहशतगर्दी के कारण अपने पति, बेटे और बाप खोए हैं।

शहज़ादा युसूफ बेग़म का निकाह इदरीस खान से हुआ था। इदरीस खान जम्मू कश्मीर लिबरेशन फ्रंट (JKLF) के सरगना यासीन मलिक का दाहिना हाथ हुआ करता था। सन 1995 में इदरीस मारा गया और पीछे छोड़ गया अपनी बीवी शहज़ादा और दो बेटियाँ। आज शहज़ादा कहती है, “मेरे शौहर ने यासीन मलिक के लिए जान दे दी लेकिन पार्टी (JKLF) ने उसके लिए कुछ नहीं किया।” शहज़ादा के ससुरालवालों ने भी उसे बुरे वक़्त में घर से निकाल दिया था। उस वक़्त कोई भी आज़ादी चाहने या दिलाने का दिलासा देने वाला उसकी मदद के लिए नहीं खड़ा हुआ था।  

ऐसी अनेकों कहानियाँ हैं जब किसी कश्मीरी औरत का बाप, बेटा, भाई या शौहर दहशतगर्द बन सुरक्षाबलों के हाथों मारा जाता है तब उन औरतों का साथ निभाने के लिए कोई खड़ा नहीं होता। ऐसी औरतें दहशतगर्दों के हाथों बलात्कार, हिंसा समेत हर तरह के सितम का शिकार होती हैं। बाइस साल की गुलशन बानो के दो भाई हिज़्ब-उल-मुजाहिदीन में शामिल होकर आतंकी बन गए थे। उनके मारे जाने के बाद गुलशन को सिलाई कढ़ाई कर मात्र ₹1000 महीने पर परिवार चलाने को मजबूर होना पड़ा था।

ज़िंदगी केवल उनकी ही बर्बाद नहीं होती जिनके परिवार के मर्द दहशतगर्द बनते हैं। आतंकियों के हाथों मारे गए लोगों के परिवारवालों की भी सुनने वाला कोई नहीं होता। कुलसुम जान के बाप अब्दुल जब्बार डार कुपवाड़ा में कॉन्ग्रेस के जिला अध्यक्ष थे जब उन्हें 1996 में गोली मार दी गई थी। डार की मौत के बाद उनकी दिव्यांग पत्नी और बच्चों को देखने वाला कोई नहीं था।

दहशतगर्दों ने केवल मर्दों को आतंकी ही नहीं बनाया, उन्होंने सैकड़ों कश्मीरी लड़कियों को अपनी हवस का शिकार भी बनाया। डोडा ज़िले की रहने वाली चौबीस साल की शमा बेगम का अंत 2006 में बड़ा भयानक हुआ था। जावेद इक़बाल उर्फ़ जीशान नामक हिज़्ब-उल-मुजाहिदीन का एक आतंकवादी शमा का पीछा करता था और उसे अपनी हवस मिटाने का ज़रिया समझता था। जब शमा ने अपना शरीर उसे सौंपने से इनकार किया तो जीशान ने उसके परिवार को मार डालने की धमकी दी। आखिरकार उस दरिंदे ने बेबस शमा का दो महीने तक बलात्कार किया और एक दिन जब वह सुरक्षा बलों से भाग रहा था तब शमा उसके सामने आ गई। जीशान ने पुलिस का ध्यान भटकाने के लिए शमा को ऊंचाई से नीचे फेंक दिया जिसके कारण उसकी मौत हो गई।     

दहशतगर्दी के शुरुआती दिनों में आतंकियों को हीरो समझा जाता था। उन्हें मुजाहिद कहकर सम्मान भी दिया जाता था। लोग अपनी बेटियों की शादी इनसे करवाते थे लेकिन जब ये मुजाहिद निकाह के साल दो साल बाद ही अपनी बीवियों को छोड़ सीमापार चले जाने लगे तब कश्मीरियों को यह एहसास हुआ कि आज़ादी की बंदूक थामे ये लड़ाके असल में जिस्म को नोचने वाले भेड़िये हैं।

डोडा की ही रहने वाली मरियम बेगम का भाई अब्दुल लतीफ हरक़त-उल-मुजाहिदीन का आतंकवादी था। एक दिन हिंसा और आज़ादी के खोखले वादों से ऊबकर उसने बंदूक छोड़ने की ठानी। लेकिन उसके दहशतगर्द आकाओं ने उसे ऐसे नहीं छोड़ा। उन्होंने उसकी मासूम छोटी बहन मरियम और पिता को भी पकड़ लिया। आतंकियों ने उन दोनों को बंदूक के बट से बेइंतहा मारा और जलती सिगरेट से दागा। उन्होंने बाप बेटी को अब्दुल के सरेंडर करने का कसूरवार ठहराया और ऐसा टॉर्चर किया कि शैतान की भी रूह काँप गई। मरियम के साथ बलात्कार करने के बाद बाप बेटी के नाक और कान काटकर मरने के लिए छोड़ दिया गया। वह तो ईश्वरीय कृपा से पेट्रोलिंग करती सेना की एक टुकड़ी पहुँच गई, जिसके बाद मरियम की जान बची।

प्रोफेसर कविता सूरी ने कश्मीरी महिलाओं की तकलीफों पर लिखी अपनी पुस्तक में कश्मीर में चल रही वेश्यावृत्ति पर भी लिखा है। इसका कारण भी दहशतगर्दी ही है। जो औरतें विधवा हो जाती हैं और लड़कियाँ अनाथ हो जाती हैं उन्हें मजबूरन जिस्मफरोशी के धंधे में उतरना पड़ता है। इसका एक कारण इस्लामी चरमपंथी विचारधारा को थोपना भी है। लश्कर-ए-जब्बार और दुख्तरन-ए-मिल्लत जैसे संगठन ज़बरदस्ती बुर्क़े और हिज़ाब को थोपने पर आमादा हैं। इस प्रकार की घुटन और दबाव के कारण भी विधवा औरतें मनोवैज्ञानिक विरोधस्वरूप इस पेशे से जुड़ जाती हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

 

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

15 साल छोटी हिन्दू से निकाह कर परवीन बनाया, अब ‘लव जिहाद’ विरोधी कानून को ‘तमाशा’ बता रहे नसीरुद्दीन शाह

नसरुद्दीन शाह ने कहा कि उत्तर प्रदेश में 'लव जिहाद' को लेकर तमाशा चल रहा है। कहा कि लोगों को 'जिहाद' का सही अर्थ ही नहीं पता है।

इंडियन आर्मी ने कश्मीर ही नहीं बचाया, खुद भी बची: सेना को खत्म करना चाहते थे नेहरू

आज शायद यकीन नहीं हो, लेकिन मेजर जनरल डीके पालित ने अपनी किताब में बताया है कि नेहरू सेना को भंग करने के पक्ष में थे।

राम मंदिर के लिए ₹20 का दान (मृत बेटे के नाम से भी) – गरीब महिला की भावना अमीरों से ज्यादा – वायरल हुआ...

दान की मात्रा अहम नहीं बल्कि दान की भावना देखी जाती है। इस वीडियो से एक बात साफ है कि 80 वर्षीय वृद्ध महिला की भगवान राम के प्रति आस्था...

राम मंदिर के लिए दे रहे हैं दान तो इन 13 फ्रॉड UPI IDs को ध्यान से देख लीजिए, कहीं और न चला जाए...

राम मंदिर के आधिकारिक विवरण से मिलती-जुलती कई फ्रॉड UPI IDs बना ली गई हैं, जिसके माध्यम से श्रद्धालुओं को ठगने की कोशिश हो रही है।

ममता बनर्जी ने मुगल हरम पर रिसर्च कर पाई थी PhD ‘डिग्री’… बस वो यूनिवर्सिटी दुनिया में नहीं है

ममता बनर्जी 1982 में 'अमेरिका के 'ईस्ट जॉर्जिया यूनिवर्सिटी' से PhD होने का दावा करती थीं और अपने नाम में 'डॉक्टर' भी लगाती थीं।

FREE में UPSC/NDA/JEE/NEET की कोचिंग: UP सरकार का बड़ा फैसला, IAS-IPS लेंगे क्लास

मंडल स्तर पर अभ्युदय कोचिंग सेंटर खुलेंगे। योगी सरकार की 'अभ्युदय' योजना के तहत, UPSC, NEET व JEE के छात्रों को फ्री कोचिंग मिलेगी।

प्रचलित ख़बरें

12 साल की लड़की का स्तन दबाया, महिला जज ने कहा – ‘नहीं है यौन शोषण’: बॉम्बे HC का मामला

बॉम्बे हाई कोर्ट की नागपुर बेंच ने शारीरिक संपर्क या ‘यौन शोषण के इरादे से किया गया शरीर से शरीर का स्पर्श’ (स्किन टू स्किन) के आधार पर...

राहुल गाँधी बोले- किसान मजबूत होते तो सेना की जरूरत नहीं होती… अनुवादक मोहम्मद इमरान बेहोश हो गए

इरोड में राहुल गाँधी के अंग्रेजी भाषण का तमिल में अनुवाद करने वाले प्रोफेसर मोहम्मद इमरान मंच पर ही बेहोश होकर गिर पड़े।

मदरसा सील करने पहुँची महिला तहसीलदार, काजी ने कहा- शहर का माहौल बिगड़ने में देर नहीं लगेगी, देखें वीडियो

महिला तहसीलदार बार-बार वहाँ मौजूद मुस्लिम लोगों को मामले में कलेक्टर से बात करने के लिए कह रही है। इसके बावजूद लोग उसकी बात को दरकिनार करते हुए उसे धमकाते हुए नजर आ रहे हैं।

निकिता तोमर को गोली मारते कैमरे में कैद हुआ था तौसीफ, HC से कहा- मैं निर्दोष, यह ऑनर किलिंग

निकिता तोमर हत्याकांड के मुख्य आरोपित तौसीफ ने हाई कोर्ट से घटना की दोबारा जाँच की माँग की है। उसने कहा कि यह मामला ऑनर किलिंग का है।

‘जिस लिफ्ट में ऑस्ट्रेलियन, उसमें हमें घुसने भी नहीं देते थे’ – IND Vs AUS सीरीज की सबसे ‘गंदी’ कहानी, वीडियो वायरल

भारतीय क्रिकेटरों को सिडनी में लिफ्ट में प्रवेश करने की अनुमति सिर्फ तब थी, अगर उसके अंदर पहले से कोई ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी न हो। एक भी...

छठी बीवी ने सेक्स से किया इनकार तो 7वीं की खोज में निकला 63 साल का अयूब: कई बीमारियों से है पीड़ित, FIR दर्ज

गुजरात में अयूब देगिया की छठी बीवी ने उसके साथ सेक्स करने से इनकार कर दिया, जब उसे पता चला कि उसके शौहर की पहले से ही 5 बीवियाँ हैं।
- विज्ञापन -

 

TikTok स्टार रफी शेख ने की आत्महत्या: दोस्त मुस्तफा पर मारपीट और आपत्तिजनक वीडियो का आरोप

आंध्र प्रदेश के टिक टॉकर रफी शेख ने नेल्लोर जिले में अपने निवास पर आत्महत्या कर ली। पुलिस आत्महत्या के पीछे के कारणों का पता लगाने के लिए...

15 साल छोटी हिन्दू से निकाह कर परवीन बनाया, अब ‘लव जिहाद’ विरोधी कानून को ‘तमाशा’ बता रहे नसीरुद्दीन शाह

नसरुद्दीन शाह ने कहा कि उत्तर प्रदेश में 'लव जिहाद' को लेकर तमाशा चल रहा है। कहा कि लोगों को 'जिहाद' का सही अर्थ ही नहीं पता है।

इंडियन आर्मी ने कश्मीर ही नहीं बचाया, खुद भी बची: सेना को खत्म करना चाहते थे नेहरू

आज शायद यकीन नहीं हो, लेकिन मेजर जनरल डीके पालित ने अपनी किताब में बताया है कि नेहरू सेना को भंग करने के पक्ष में थे।

Bigg Boss वाली हिरोइन जयश्री की संदिग्ध मौत, अपने ही फ्लैट में फंदे से लटका मिला शव

कन्नड़ अभिनेत्री जयश्री रमैया की मौत हो गई है। उनका शव उनके बेंगलुरु स्थित फ्लैट में फाँसी के फंदे से लटका हुआ संदिग्ध अवस्था में मिला है।

क्योंकि मेरी दुकान नहीं चली: कॉन्ट्रैक्ट किलर इम्तियाज ने बताया अपराध में वापसी का कारण

कॉन्ट्रैक्ट किलर रहे मोहम्मद इम्तियाज ने ऐसा कदम दुकान से होने वाली कम आमदनी और 'पीयर प्रेशर' यानी, अन्य गुर्गों द्वारा बनाए जा रहे दबाव के कारण उठाया।

राम मंदिर के लिए ₹20 का दान (मृत बेटे के नाम से भी) – गरीब महिला की भावना अमीरों से ज्यादा – वायरल हुआ...

दान की मात्रा अहम नहीं बल्कि दान की भावना देखी जाती है। इस वीडियो से एक बात साफ है कि 80 वर्षीय वृद्ध महिला की भगवान राम के प्रति आस्था...

मदरसे बंद करना सही, मुल्ले-मौलवी की कौन सुनता है: अजमल के ‘टोपी-बुर्का’ पर हिमांत बिस्वा सरमा का पलटवार

बदरुद्दीन अजमल ने भाजपा के खिलाफ मुस्लिमों में डर पैदा करने की कोशिश की थी। हिमांत बिस्वा सरमा ने इसका जवाब दिया है।

भारतीय सेना ने 20 चीनी फौजियों को जख्मी कर खदेड़ा, सीमा में घुसने का कर रहे थे प्रयास

सिक्किम के नाकु ला में यह झड़प हुई, जिसके कारण वहाँ हालात तनावपूर्ण हैं लेकिन स्थिति अब काबू में हैं। झड़प के दौरान हथियारों का इस्तेमाल नहीं हुआ।

‘खुद हाथ-पैर बाँध डैम में कूदी पूजा भारती’: झारखंड पुलिस के दावे को ठुकरा परिजनों ने माँगी CBI जाँच

हजारीबाग मेडिकल कॉलेज की छात्रा पूजा भारती पूर्वे के घरवालों ने पुलिस द्वारा कही गई आत्महत्या की बात मानने से साफ़ इनकार कर दिया है।

किसान रैली के लिए 308 पाकिस्तानी ट्विटर अकाउंट सक्रिय, ट्रैक्टर रैली की भी अनुमति… किसान नेता फिर भी नाखुश

दिल्ली पुलिस के साथ कई दौर की बातचीत के बाद किसानों को 26 जनवरी पर ट्रैक्टर रैली निकालने की अनुमति मिल गई है। पुलिस की शर्त है कि...

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
385,000SubscribersSubscribe