Sunday, July 3, 2022
Homeविचारराजनैतिक मुद्देBJP ने नूपुर शर्मा को सस्पेंड किया: मैं दुखी और चिंतित हूँ... हतोत्साहित भी

BJP ने नूपुर शर्मा को सस्पेंड किया: मैं दुखी और चिंतित हूँ… हतोत्साहित भी

इस्लामिक समुदाय के पास 50 से अधिक राष्ट्र हैं जो अपने उद्देश्य के लिए एकजुट होते हैं और यह सुनिश्चित करते हैं कि हर छोटी बात, हर टिप्पणी, और हर घटना जिसे वे अपने रेजिमेंटल विश्वास के अपमान के रूप में देखते हैं, को चुनौती दी जाती है।

सोमवार (5 जून, 2022) की सुबह थी जब नूपुर शर्मा (अब पूर्व भाजपा प्रवक्ता) और मैं एक-दूसरे के आमने-सामने बैठे थे। उन्हें पहले से ही समुदाय विशेष (कट्टरपंथी मुस्लिमों) के सदस्यों से जान से मारने और बलात्कार की धमकियाँ मिल रही थीं, ये ऐसे लोग हैं जो उन धमकियों का अंजाम भी देखने में यकीन रखते हैं। हमारी बातचीत के दौरान ही, जिसे हमारे YouTube पर देखा जा सकता है, मैं स्वीकार करती हूँ कि लगातार मेरे चेहरे पर चिंता की एक अजीब सी लकीर थी, मैंने चाहे ‘सामान्य’ दिखने की कितनी भी कोशिश की हो।

ऑपइंडिया और मैंने व्यक्तिगत रूप से पहले भी “ईशनिंदा हिंसा” की बहुत सी घटनाओं को कवर किया है, जिसका यहाँ उल्लेख करने से कोई खास संबंध नहीं है। पर मैं झूठ नहीं बोलूँगी, लेकिन मेरे ज़ेहन में एक छोटी सी आवाज थी कि नुपुर शर्मा की किस्मत पर कमलेश तिवारी की तरह ही मुहर लग गई। जिन्हें उनके बोलने की वजह से ही पहले गिरफ्तार किया गया था और बाद में इसी वजह से उनका सिर भी कलम कर दिया गया था।

वहीं इंटरव्यू के दौरान, नूपुर शर्मा ने मुझे बताया कि वह एचएमओ, पीएमओ के साथ लगातार संपर्क में थीं और यहाँ तक ​​कि श्री देवेंद्र फडणवीस ने भी उन्हें यह बताने के लिए फोन किया था कि वे उनके पीछे मजबूती से खड़े हैं। “मेरी पार्टी मेरी सुरक्षा को लेकर बेहद चिंतित है”, ऐसा उन्होंने मुझे बताया और इससे मेरी चिंता कुछ हद तक कम हो गई। निश्चित रूप से सुरक्षा की ऐसी कोई कीमत नहीं है जिसे पर्याप्त माना जा सकता है जब आपके खिलाफ सिर काटने के लिए दो धमकी भरे कॉल आते हैं। हालाँकि, यह कुछ सांत्वना थी कि जिन संस्थागत शक्तियों ने संज्ञान लिया था, नूपुर को इस समय ऐसे मजबूत समर्थन की इतनी सख्त जरूरत भी थी।

हालाँकि, उनके साथ इंटरव्यू के ठीक बाद ही, ये खबर सामने आई कि नुपुर शर्मा को पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से निलंबित कर दिया गया है। उसमें लिखा था, “आपने विभिन्न मामलों पर पार्टी की स्थिति के विपरीत विचार व्यक्त किए हैं।” इस तरह से आगे की जाँच लंबित रहने तक नूपुर शर्मा को पार्टी से निलंबित कर दिया गया था।

ऐसे में जहाँ सोशल मीडिया समर्थकों में पार्टी के प्रति निंदा और आक्रोश था, वहीं उनके जीवन पर पार्टी के प्रवक्ता के रूप में कौन होगा, इससे कोई फर्क नहीं पड़ने वाला था। लगभग तुरंत ही मन ख़राब हो गया। नूपुर को जिस संस्थागत समर्थन की सख्त जरूरत थी, वह उससे छीन लिया गया था। कोई यह तर्क दे सकता है कि यह पूरी तरह से संभव है कि उसे अभी भी संरक्षित किया जा रहा है, लेकिन इस्लामवादियों के लिए जो उसका सिर चाहते थे, इस निर्णय ने भूखे शेर के मुँह पर खून की तरह काम किया। नूपुर को अकेले भेड़ियों को सौंप दिया गया था, अलग कर दिया गया था, अपमानित और बदनाम किया गया था। उसके खून के लिए तरस रहे इस्लामवादियों के लिए, संदेश आसान था – भाजपा इस्लाम की आलोचना का समर्थन नहीं करती है- नहीं – यहाँ तक ​​कि हदीसों को पढ़ना भी – क्योंकि यह असहिष्णु अल्पसंख्यकों को नाराज कर सकता है।

पार्टी का समर्थन करने वालों ने बेशक दावा किया कि यह कदम ‘राष्ट्रीय हित’ में उठाया गया है। यह पता चला है कि कुछ इस्लामी देशों ने भी नुपुर शर्मा की टिप्पणियों के बारे में टिका-टिप्पणी शुरू कर दिया था, अगर उनके खिलाफ कार्रवाई नहीं की गई तो भारतीय उत्पादों का बहिष्कार करने की धमकी दी गई थी। कतर ने पैगंबर मुहम्मद के खिलाफ टिप्पणियों के लिए स्पष्ट रूप से माफी माँगने की माँग करते हुए भारतीय राजदूत को भी तलब किया था। कुवैत, सऊदी अरब और ईरान ने भी बयान दिए थे।

वहीं ऑल्टन्यूज के जुबैर ने इसका जश्न मनाया था।

ज़ुबैर ने निलंबन के बाद न सिर्फ भारतीय मुस्लिमों के साथ जश्न मनाया बल्कि दुनिया भर में फैले उम्माह (मुस्लिमों), इस्लामी राष्ट्रों को भी संज्ञान लेने के लिए उकसाया। मोहम्मद जुबैर ने दोहा के भारतीय दूतावास को टैग किया और कहा कि वह ऐसे कई ट्वीट उदाहरण के तौर पर दे सकता है जहाँ हिंदुओं ने ‘अपमानजनक’ टिप्पणी की थी। इन तत्वों के जश्न के ट्वीट में जीत का एक अलग ही संकेत था। आतंकियों तक का समर्थन करने वाले ऐसे लोगों ने खूब शोर मचाया, “उसे पैगंबर मुहम्मद का अपमान करने के लिए निलंबित कर दिया गया था।”

इस शोर में, नूपुर शर्मा की वास्तविक टिप्पणी को दबा दिया गया था। खारिज कर दिया गया था कि मेरे साथ अपने साक्षात्कार में भी उन्होंने स्पष्ट रूप से कहा था कि उन्होंने पैगंबर मुहम्मद पर कोई अपनी राय नहीं दी थी, उन्होंने जो कुछ भी कहा, उसका उल्लेख उनकी अपनी हदीस में पहले से ही है। शिवलिंग पर टिप्पणियों से नाराज होने के बाद, उन्होंने केवल इतना ही पूछा था कि क्या उनको भी उनकी आस्था का मजाक उड़ाना शुरू कर देना चाहिए, जैसे वे हमारा मजाक उड़ाते हैं। उन्होंने यह भी कहा था कि अगर कोई स्थापित इस्लामी विद्वान उसे ठीक करने के लिए आगे आएगा तो उन्हें अपनी टिप्पणी वापस लेने में खुशी होगी – “अगर मैं तथ्यात्मक रूप से गलत हूँ, तो मुझे अपने बयान वापस लेने में खुशी होगी।”

इससे कोई फर्क नहीं पड़ा

दुनिया भर में इस्लामवादी, खासतौर से जो तथ्यों और सबूतों पर भरोसा नहीं करते हैं। उन्हें केवल ‘निन्दा’ शब्द की आवश्यकता है जो उनके कान में फुसफुसाए और वे अचानक उन नासमझ ज़ॉम्बी में बदल जाते हैं जो अपनी बाहें फैलाए घूमते हैं और अपनी प्यास बुझाने के लिए ताजा मांस और खून की तलाश में रहते हैं। बांग्लादेश में उस घटना को याद कीजिए जहाँ इकबाल हुसैन ने एक दुर्गा पूजा पंडाल में कुरान रख दिया था और इससे बाद हिंदुओं और उनके पूजा स्थलों के खिलाफ व्यापक हिंसा हुई थी।

पाकिस्तान के सियालकोट में एक अन्य घटना में, जहाँ श्रीलंका के एक हिंदू व्यक्ति को मौत के घाट उतार दिया गया था और जला दिया गया। जबकि उस मामले में चश्मदीदों ने इस बात से इनकार किया था कि उसने कोई ईशनिंदा की थी। लेकिन उन्मादी भीड़ ने एक व्यक्ति को लिंचिंग तक ले जाने और एक हिंदू व्यक्ति को जिंदा जलाने के लिए यह सब ईशनिंदा का आरोप मढ़ा था। एक ऐसे समुदाय के साथ कोई कैसे तर्क वितर्क करे जो बात-बे-बात भड़क जाता हो। सच कहूँ तो ईशनिंदा एक मात्र बहाना है, वे बस काफिरों की हत्या करना चाहते हैं और झूठी कानाफूसी को भी अपने मतलब के हिसाब से ईशनिंदा का नाम देकर उनके जानलेवा सपनों को साकार करने का एक अच्छा बहाना मिल जाता है।

नूपुर शर्मा आज इस उन्मादी भीड़ से निपट रही हैं। उन्हें इस्लामवादियों द्वारा, खून के प्यासे ज़ॉम्बीज़ द्वारा ईशनिंदा करने वाला घोषित किया गया है। बस उसे उस आखिरी चीज की उसे जरूरत थी कि उससे संस्थागत समर्थन छीन लिया जाए और उसे उसी पार्टी द्वारा दोषी घोषित किया जाए जो उसकी रक्षा करने वाली थी। जो लोग भाजपा का बचाव करना चाहते हैं, वे कह सकते हैं कि पार्टी को खाड़ी देशों के बयानों पर ‘कार्रवाई करनी पड़ी’ और उन्होंने “आधिकारिक तौर पर उसे हटाया नहीं” बल्कि “उसे लंबित जाँच तक निलंबित कर दिया”, लेकिन तथ्य यह है कि जाँच की गई है। आदेश दिया गया है और उन्हें उस जाँच की अवधि के लिए निलंबित कर दिया गया है, जो उन्हें दोषी घोषित करती है।

उनके सिर की माँग करने वाले इस्लामवादियों को अब पता चल गया है कि भाजपा अपनी आधिकारिक क्षमता में एक बयान की जाँच के लिए भी विचार कर रही है कि यह इस्लाम का अपमान हो सकता था और अगर ऐसा होता है तो उसे पार्टी से समर्थन नहीं मिलता। अनिवार्य रूप से, भाजपा ने एक त्वरित कदम के साथ, इस्लाम के खिलाफ सभी टिप्पणियों को या यहाँ तक ​​कि कुरान और हदीस से उद्धृत करने को भी इस्लामवादियों की तरह एक ईशनिंदा कृत्य के रूप में घोषित कर दिया है, जिसे माफ नहीं किया जाना चाहिए। इसलिए आज जब आलोचक कहते हैं कि नुपुर शर्मा को बस के नीचे फेंक दिया गया है, तो वे अपने कहे से बहुत दूर भी नहीं हैं।

व्यक्तिगत रूप से भी , और एक ऐसे व्यक्ति के रूप में भी, जिसे जब मैं बंगाल में थी तो ऐसी धमकियों का सामना करना पड़ रहा था, ऐसे में खुद से अलग कर देने के भाजपा के आचरण से दुखी, क्रोधित और ख़राब महसूस करती हूँ, जो स्पष्ट रूप से यह भी नहीं कहता की कुछ ग़लत है। उन्होंने उसे भेड़ियों के पास फेंक दिया, खुद को बचाने के लिए और न केवल उनके खिलाफ, बल्कि हम सभी के खिलाफ बर्बर लोगों को कई गुना बढ़ा दिया है।

उन्होंने कहा, इस मुद्दे को अब ‘भाजपा ने जो किया वह गलत था’ की तुलना में कहीं अधिक बड़े अहसास की ओर ले जाने की जरूरत है। यह घटना जहाँ भारतीय मुस्लिमों के साथ उम्मा के तहत इस्लामी राष्ट्र भी एक साथ आए, हमें यह साबित करता है कि वैश्विक उम्माह के खिलाफ होने पर हम वास्तव में कितने शक्तिहीन हैं। इस्लामिक समुदाय के पास 50 से अधिक राष्ट्र हैं जो अपने उद्देश्य के लिए एकजुट होते हैं और यह सुनिश्चित करते हैं कि हर छोटी बात, हर टिप्पणी, और हर घटना जिसे वे अपने रेजिमेंटल विश्वास के अपमान के रूप में देखते हैं, को चुनौती दी जाती है।

हिंदुओं का कोई मुकाबला नहीं है और अभी, यह लगभग असंभव लगता है कि हम कभी उस मुकाम पर पहुँचे जहाँ हम उनके प्रोपेगेंडा को चुनौती दे सकें। हमें यह समझना होगा कि इस्लामवादियों के पास गठजोड़ बनाने के कई रास्ते हैं। उनका अपना उम्माह है, जो अनिवार्य रूप से सभी मुसलमानों को एक अलग राष्ट्र के रूप में काफिरों के साथ रहने में असमर्थ मानता है और फिर उनके पास वैश्विक वामपंथी गैंग है जो किसी भी सभ्यतागत राज्य के खिलाफ इस्लामवादियों के साथ सहयोग करने के लिए तैयार बैठा है। जिसे उन्हें तोड़ने की जरूरत है। दूसरी ओर, हिंदुओं को अपनी रक्षा खुद करनी होगी। हिंदू संभवत: पूरी तरह से, कम से कम, पश्चिम के ईसाइयों के साथ भी सहयोगी नहीं हो सकते क्योंकि वे जिस अब्राहमिक दृष्टिकोण से आते हैं, वह उस भारतीय दृष्टिकोण से बिलकुल भिन्न है जिस पर हिंदू भरोसा करते हैं।

इसलिए, यह एक असमान लड़ाई है जिससे हिंदू लड़ रहे हैं। इसे पेंसिल से तलवार की लड़ाई में उतर जाने के रूप में सोचें। जब राणा अय्यूब, मोहम्मद जुबैर आदि जैसे इस्लामवादी एक साथ लोगों को भड़काते हैं, तो उन्हें कतर, ईरान, सऊदी अरब आदि का समर्थन करने के लिए, यहाँ तक ​​​​कि पाकिस्तान और अन्य मुस्लिम देशों के साथ-साथ वैश्विक वामपंथियों का भी साथ मिलता है। वहीं जब हिन्दुओं को आक्रोश की जरूरत होती है तो वे मेरे जैसे लेखकों के साथ फँस जाते हैं। जहाँ मैदान भी नहीं है। और लड़ाई बेहद असमान है।

विभाजन से पहले, जिस चीज ने हिंदुओं को कम से कम कुछ हद तक बचाया, वह यह था कि सभ्यतागत लड़ाई भौगोलिक रूप से भारत तक ही सीमित थी। यहाँ तक ​​कि जब मुसलमान तुर्की खिलाफत के लिए लड़ रहे थे, तब भी उनकी लड़ाई भौगोलिक रूप से सीमित थी। उन्होंने हमारी सीमाओं के भीतर हिंदुओं का नरसंहार किया और जब तक हम सुरक्षित रूप से एमके गाँधी जैसे अपने नेताओं को हिंदुओं को मरने देने के लिए दोषी ठहरा सकते हैं, यह तब भी एक लड़ाई थी जिसे भारत घर पर लड़ रहा था।

आज, वह बदल गया है। हम अब मोपला मुस्लिमों या उन मुसलमानों जैसे कट्टर इस्लामवादियों से नहीं लड़ रहे हैं जिन्होंने प्रत्यक्ष कार्रवाई दिवस के दौरान हिंदुओं का नरसंहार किया था, हम आज एक अनदेखे दुश्मन के खिलाफ हैं। वैश्विक वामपंथियों, इस्लामवादियों, नास्तिकों, काफी हद तक, पूर्व-मुसलमानों (जो अक्सर हिंदुओं को बदनाम करने के लिए चुनते हैं), पेरियारिस्ट, अम्बेडकरवादी, चर्च, और इसी तरह के बीच गठबंधन से लड़ रहे हैं।

आज अधिकांश लोगों के लिए जो आवश्यक है, वह है मुझे एक आशावादी के तौर पर सुनना। “हम रात में चुपचाप नहीं जाएँगे”, मुझे ऐसे कहना चाहिए जबकि हम बिना किसी लड़ाई के हार नहीं जाएँगे, यह लगभग ऐसा लगता है जैसे “हार जाना” एक ऐसी घटना है जिससे बचना मुश्किल लगता है। मैं अक्सर कहती हूँ कि मुझे ऐसा लगता है कि हर दिन मैं अपने अंत का दस्तावेजीकरण कर रही हूँ। एक भव्य, प्राचीन सभ्यता का अंत जैसा कि हम जानते हैं।

निराशा के इस रसातल में से, मेरी विशलिस्ट काफी सरल है। हिंदुओं को जागने और यह महसूस करने की जरूरत है कि वे एक राजनीतिक दल के लाभ के लिए काल्पनिक लड़ाई में नहीं हैं, बल्कि अपने जीवन के लिए, अपने अस्तित्व के लिए लड़ाई में हैं। जबकि हमने खुद को वहाँ पहुँचा दिया है जिसे पहले असंभव समझा जाता था। जबकि वास्तविक दुनिया में, कोई अभी भी बेदखल और बेख़बर हिंदुओं को यह कहते हुए सुनता है कि नूपुर शर्मा को “अनावश्यक रूप से पैगंबर का अपमान नहीं करना चाहिए था।” तो आश्चर्य नहीं होता। काश, वे समझ जाते कि अगर आप एक इंच भी झुकेंगे तो वे एक मील लगेंगे।

आज, आप कह सकते हैं कि इस्लाम पर टिप्पणी करना और ‘उन्हें उकसाना’ अनावश्यक है। एक बार जब आप हिंदुओं को ऐसा करने से रोकते हैं, तो कल वे कहेंगे कि आपकी ‘मूर्ति पूजा अनावश्यक है’ क्योंकि यह उन मुसलमानों को उकसाती है जो मूर्ति पूजा के खिलाफ मजहबी तौर पर उत्साही और उन्मादी हैं। हमारे मंदिर, हमारे संस्कार, हमारे रीति-रिवाज, हमारी परंपराएँ और हमारा पूरा अस्तित्व एक अनावश्यक उत्तेजना के रूप में समझा जाएगा। यह रवैया पराजयवादी है। इस रवैये के साथ, हम इस युद्ध को हारने के लिए बाध्य हैं और उस नुकसान के लिए हम जो कीमत चुकाएँगे वह हमारी सभ्यतागत मृत्यु होगी। यह एक ऐसा रवैया है जो हमें हमारे अंत तक ले जाएगा। और यही एक रवैया, जो दुर्भाग्य से, आज नुपुर शर्मा की दुर्दशा में भी दिखाई दे रहा है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Nupur J Sharma
Nupur J Sharma
Editor, OpIndia.com since October 2017

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सिर कलम करने में जिस डॉ युसूफ का हाथ, वो 16 साल से था दोस्त: अमरावती हत्याकांड में कश्मीर नरसंहार वाला पैटर्न, उदयपुर में...

अमरावती में उमेश कोल्हे की हत्या में उनका 16 साल पुराना वेटेनरी डॉक्टर दोस्त यूसुफ खान भी शामिल था। उसी ने कोल्हे की पोस्ट को वायरल किया था।

‘1 बार दलित को और 1 बार महिला आदिवासी को चुना राष्ट्रपति’: BJP की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में भारत को पुनः विश्वगुरु बनाने की बात

"सर्जिकल स्ट्राइक, एयर स्ट्राइक, अनुच्छेद 370 खत्म करने, GST, आयुष्मान भारत, कोरोना टीकाकरण, CAA, राम मंदिर - कॉन्ग्रेस ने सबका विरोध किया।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
202,752FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe