Thursday, September 24, 2020
Home विचार सामाजिक मुद्दे किसानों को MSP से भी ज्यादा कीमत... लेकिन 'गैंग' बना रहा भय का माहौल,...

किसानों को MSP से भी ज्यादा कीमत… लेकिन ‘गैंग’ बना रहा भय का माहौल, कर रहा खेतिहरों का नुकसान

अगर किसान दोषी तो उससे सिर्फ उतना ही पैसा लिया जाएगा, जो उस पर देय होगा। लेकिन अगर व्यापारी दोषी तो उस पर 50% तक अधिक जुर्माना वसूला जा सकता है। अगर किसान की फ़सल बाढ़, आग या किसी भी प्राकृतिक आपदा से नष्ट हो जाती है, तो उस पर कोई कार्यवाही नहीं होगी और ना ही पैसों की उगाही होगी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र सरकार किसानों से जुड़े तीन अध्यादेश जून 2020 में लेकर आई, जिन्हें राष्ट्रपति की मंजूरी मिल गई है। कृषि उपज, वाणिज्य और व्यापार (संवर्धन व सुविधा) अध्यादेश, दूसरा मूल्य आश्वासन एवं कृषि समझौता अध्यादेश और तीसरा आवश्यक वस्तु (संशोधन) अध्यादेश।

पहला अध्यादेश किसानों को मंडी व्यवस्था से अलग फसल बेचने की वैकल्पिक व्यवस्था देगी। जिसकी माँग लंबे अर्से से किसान संगठन कर रहे थे। किसानों की माँग थी कि उन्हें अपनी फसल अपनी मर्जी के भाव बेचने की आजादी मिलनी चाहिए। दूसरे में किसान कम्पनियों के साथ कॉन्ट्रैक्ट कर सकेंगे। ताकि मुनाफा देने वाली फसलों की खेती की जा सके और तीसरे में खेती उत्पादों के 1955 के एक्ट को सुधारा गया है। जिसमें खेती उत्पाद को संग्रह नहीं करने के कठोर नियम थे, उनमें छूट दी गई है। हालाँकि इस छूट लेकर जमाखोरी और कालाबाजारी की चिंता जाहिर की जा रही है।

दरअसल खेती में सबसे ज्यादा मुश्किल उसकी मार्केटिंग में आती है। खेत में कुछ भी उगाना उतना मुश्किल नहीं होता। मुश्किल होता है, उस फसल का बढ़िया दाम मिलना। दाम नहीं मिलने की स्थिति में किसान अपनी फसलों को विरोध स्वरूप सड़कों तक पर डाल देते थे।

इस बढ़िया दाम को लेकर राजनीति ज्यादा होती रही है, दामों की असल चिंता कम होती है। या यूँ कह सकते हैं कि किसानों को उनकी फसलों का उचित दाम कैसे मिल सकता है, इसको लेकर गंभीरता से विचार-विमर्श कम होता है। खैर, इन अध्यादेशों से एक उम्मीद बढ़ी है कि खेती उत्पादों के बिक्री और खरीद में इजाफा होगा और किसानों की खुशहाली का रास्ता खुलेगा।

- विज्ञापन -

इन अध्यादेशों का विरोध करने वालों का आरोप है कि ये तीनों अध्यादेश मंडी व्यवस्था को खत्म कर देंगे। पर तीनों अध्यादेश पढ़कर ऐसा कहीं से नहीं लगता। उनकी इस शंका का कोई ठोस आधार नजर नहीं आता, बल्कि विरोध तथ्यात्मक होने के बजाय विचाराधारा से प्रेरित नजर आ रहा है।

दूसरे जब मंडी व्यवस्था जारी रहेगी तो MSP का सवाल भी बेमानी लगता है, क्योंकि मंडी व्यवस्था में एमएसपी ऐसे ही लागू रहेगा। हैरानी इस बात से होती है कि जो संगठन अब तक मंडी व्यवस्था को शोषण का केंद्र मानती थी, वही संगठन अब मंडी व्यवस्था के गुणगान में लगे हुए हैं।

कुछ जगह यह भी विरोध उभरकर सामने आया है कि कंपनियाँ किसानों को बढ़िया कीमत देने से मुकर जाएँगी। जबकि अध्यादेश में साफ है कि सभी कमिटमेंट (समझौते) लिखित रूप में होंगे। जिसका उद्देश्य यह है कि किसान अपने कृषि उत्पादों को स्पॉन्सर्स को आसानी से बेच सकें।

स्पॉन्सर में व्यक्ति, पार्टनरशिप फर्म्स, कंपनियाँ, लिमिटेड लायबिलिटी ग्रुप्स और सोसाइटियाँ कोई भी शामिल हो सकते हैं। ये समझौते निम्नलिखित के बीच हो सकते हैं:

1. किसान और स्पॉन्सर

2. किसान, स्पॉन्सर और तीसरा पक्ष

तीसरे पक्ष में एग्रीगेटर भी शामिल हैं। जबकि एग्रीगेटर वे होते हैं, जो एग्रीगेशन से संबंधित सेवाएँ प्रदान करने के लिए किसान और स्पॉन्सर के बीच बिचौलिए का काम करते हैं। राज्य सरकार कृषि समझौते की इलेक्ट्रॉनिक रजिस्ट्री के लिए एक रजिस्ट्रेशन अथॉरिटी स्थापित करेगी।

कृषि समझौते में उनकी भूमिका और सेवाओं का स्पष्ट रूप से उल्लेख होगा। समझौते में दोनों पक्ष मिलकर कृषि उत्पाद की सप्लाई, गुणवत्ता, मानदंड और मूल्य से संबंधित नियमों और शर्तों तथा कृषि सेवाओं की सप्लाई से संबंधित नियमों का उल्लेख कर सकते हैं।

ये नियम और शर्तें खेती और पालन की प्रक्रिया के दौरान, या डिलीवरी के समय निरीक्षण और सर्टिफिकेशन का विषय हो सकते हैं। ये समझौता एक फसल से लेकर अधिकतम पाँच साल के लिए होगा।

एक चिंता यह भी जताई जा रही है कि कंपनियाँ या खरीदार खरीदते वक्त किसानों से पहले से तय मूल्य देने से मुकर सकते हैं। जबकि इसमें साफ है कि मूल्य पहले से निर्धारित होंगे और लिखित में होंगे। मूल्य में बदलाव की स्थिति में समझौते में निम्नलिखित चीजें शामिल होनी चाहिए:

1. ऐसे उत्पाद के लिए गारंटीशुदा मूल्य

2. गारंटीशुदा मूल्य के अतिरिक्त राशि, जैसे बोनस या प्रीमियम का स्पष्ट संदर्भ

यह संदर्भ मौजूदा मूल्यों या दूसरे निर्धारित मूल्यों से संबंधित हो सकता है। गारंटीशुदा मूल्य सहित किसी अन्य मूल्य के निर्धारण के तरीके और अतिरिक्त राशि का उल्लेख भी कृषि समझैते में होगा।

सबसे बड़ी चिंता यह जाहिर की जा रही है कि किसान कोर्ट में अपना केस नहीं ले जा सकते, जबकि किसान और कंपनियाँ दोनों ही के बीच उठे विवाद को निपटाने के लिए एक प्रक्रिया जरूर निर्धारित की गई है। विवाद निपटारे के लिए कन्सीलिएशन बोर्ड और सुलह की प्रक्रिया के लिए कृषि समझौता प्रदान किया है।

अगर तीस दिनों में बोर्ड विवाद का निपटारा नहीं कर पाता, तो पक्ष समाधान के लिए सब डिविजनल मेजिस्ट्रेट (SDM) से संपर्क कर सकते हैं। उनके पास यह अधिकार होगा कि मेजिस्ट्रेट के फैसले के खिलाफ अपीलीय अथॉरिटी (कलेक्टर या एडिशनल कलेक्टड की अध्यक्षता वाली) में अपील कर सकते हैं।

मेजिस्ट्रेट और अपीलीय अथॉरिटी को आवेदन प्राप्त होने के तीस दिनों के भीतर विवाद का निपटारा करना होगा। मेजिस्ट्रेट या अपीलीय अथॉरिटी समझौते का उल्लंघन करने वाले पक्ष पर जुर्माना लगा सकते हैं। हालाँकि किसी बकाए की वसूली के लिए किसान की खेती की जमीन के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की जा सकती।

बाकी फिलहाल तो अध्यादेश किसान और कंपनियों दोनों के लिए फायदे का ही सौदा लग रहा है। बाकी अमल में आने के बाद की समस्याओं को लेकर अभी से भय खड़ा करना किसानों को डरा सकता है। जिसके कारण किसान इस दिशा में आगे बढ़ने से पीछे हट सकते हैं। इसलिए किसानों के भीतर भय का माहौल बनाकर किसानों का नुकसान नहीं करना चाहिए।

खेती में उत्पादन की अधिकता ने इसके अर्थशास्त्र को बिगाड़ा हुआ है। विविधता इसमें अप्रत्याशित सुधार ला सकती है। मंडी व्यवस्था इसे ऑपन मार्केट बनाने में बड़ी बाधक थी, जिसे अध्यादेश के जरिए वैकल्पिक बनाया गया है।

अब यह किसान पर निर्भर करता है कि वह मंडी में सरकार द्वारा निर्धारित एमएसपी पर बेचते हैं या खुले बाजार में बेहतर भाव पर बेचते हैं। उसके सामने ये दो विकल्प खुल गए हैं। दूसरा वैकल्पिक व्यवस्था से सरकार के बजट पर अतिरिक्त बोझ कम होगा और जो युवा खेती से जुड़े क्षेत्रों में बिजनेस करना चाहते हैं, उनके लिए अपार संभावनाएँ खुलेंगी।

छोटे और मझले किसान खेती में रिस्क लेने की हालत में नहीं होते और न उनके पास ज्यादा बजट की खेती करने के लिए बजट होता है। ऐसे में कंपनियाँ रिस्क उठाने और पैसा लगाने में नहीं हिचकेंगी। एक सवाल यह आ रहा है कि किसान तो पहले भी मंडी से बाहर बेच देते थे। अब क्या बदल जाएगा? पहले किसान व्यक्तिगत तौर पर बेच देते थे, पर कंपनियाँ कानूनी तौर पर खरीद सकेंगी और उन्हें मार्केट में अपने अनुसार उतार सकेंगी। संग्रह कर सकेंगी। जिसकी कानूनी मान्यता अब मिली है। जो मंडी व्यवस्था उन्हें देती थी।

The Farmers (Empowerment and protection) agreement on price Assurance and Farm services ordinance, 2020

यह अध्यादेश मूलतः किसानों और व्यापारियों के बीच कृषि उत्पादों के व्यापार को लेकर बनाया गया है, क्योंकि खेती में उत्पादन से बड़ी समस्या इसकी मार्केटिंग में आती है। इस अध्यादेशों से जुड़े उन बिंदुओं पर विस्तार से चर्चा करेंगे, जिन्हें लेकर किसानों में अनर्गल भय का वातावरण क्रिएट किया जा रहा है। इसे आप पहले जो ‘भय का माहौल’ है कहा जाता है, का अगला चरण भी कह सकते हैं।

तथाकथित विद्वानों द्वारा कहा जा रहा है कि इससे केवल व्यापारियों का फायदा होगा और किसान तो केवल मजदूर भर बनकर रह जाएँगे। जबकि अध्यादेश का सेक्शन 3.3 के अनुसार, “इस लिखित समझौते की अवधि एक फसल चक्र से लेकर अधिक से अधिक 5 साल तक ही हो सकती है।” सेक्शन 4 के मुताबिक- दोनो पार्टी यानी किसान और व्यापारी आपस में मिलकर समझौते का पत्र तैयार करेंगे।

जिसमें हर चीज़ के बारे में साफ-साफ उत्पाद की क्वालिटी, ग्रेड और स्टैंर्ड के बारे में लिखा होगा। जहाँ समझौता होगा। वहाँ की मिट्टी व मौसम आदि को ध्यान में रखकर ही समझौते होंगे। इसमें सरकार या सरकारी एजेंसी की मदद ली जा सकती है। इस समझौते में दोनों पार्टी कौन-से पेस्टिसाइड का प्रयोग करेंगे और उनकी क्या मात्रा व गुणवत्ता होगी, सुरक्षा क्या होगी। ये सभी लिखित रूप में होंगे।

दोनो पार्टियाँ आपस में मिलकर किसी भी तीसरी पार्टी से बुआई से लेकर फसल पकने तक और बीच-बीच में मुआयना करवा सकती हैं। फसल पकने के बाद व्यापारी फसल की डिलीवरी के लिए बाध्य होगा।

एक बात जो बहुत जोर देकर विरोध में कही जा रही है कि कंपनियाँ फसल पकने के बाद किसान को कम दाम देने के लिए बाध्य करेंगी और इस तरह किसान का शोषण होगा। जबकि फसल का क्या भाव होगा, ये सब पहले से ही लिखित रूप में होगा।

जैसे ही उत्पाद व्यापारी के पास पहुँचेगा, उसी समय भुगतान पूरा हो जाएगा। अगर बीज-उत्पाद के लिए अगर समझौता हुआ है तो 2/3rd भुगतान डिलीवरी के टाइम और बाकी 1/3rd 30 दिन के अंदर-अंदर होगा। किसान पर स्टॉक लिमिट का कोई कानून लागू नहीं होगा। सिर्फ उन फसलों पर जिन पर समझौता किया गया है।

इसी अध्यादेश के सेक्शन 8 के अनुसार- “फसल समझौते के सिवाय, किसान और व्यापारी में किसान की जमीन की खरीद-फरोख्त, लिज या गिरवी जैसा कोई और समझौता नहीं हो सकता। व्यापारी संस्था किसान की जमीन पर कोई भी ढाँचा या कुछ भी ऐसा चेंज नहीं कर सकती, जिसे समझौता खत्म होने पर ठीक ना किया जा सके। ये व्यापारी की जिम्मेदारी होगी कि जैसी जमीन उसे मिली उसी अवस्था मे उसे वापस करे।”

सेक्शन 11 के अनुसार- किसान और व्यापारी किसी भी समय आंतरिक समझौते को रद्द कर सकते हैं।

सेक्शन 14 के अनुसार: कोई भी विवाद सबसे पहले एसडीएम के द्वारा बनाई गई कमिटी करेगी, जिसे यह विवाद 30 दिन में खत्म करना होगा।

अगर किसान दोषी मिलता है, तो उससे सिर्फ उतना ही पैसा लिया जाएगा, जो उस पर देय होगा। लेकिन अगर व्यापारी दोषी मिलता है तो उस पर 50% तक अधिक जुर्माना वसूला जा सकता है। इसके साथ-साथ अगर व्यापारी चालाकी से अध्यादेश से अलग नियमों पर समझौता करता है तो किसान से किसी तरह की भी उगाही नहीं होगी। इसके अलावा अगर किसान की फ़सल बाढ़, आग या किसी भी प्राकृतिक आपदा से नष्ट हो जाती है, तो समझौते के तहत उस पर कोई कार्यवाही नहीं होगी और ना ही पैसों की उगाही होगी।

सेक्शन 15 के अनुसार- अगर किसान डिफॉल्टर होता है और समझौते की शर्तें पूरी नहीं करता, तब भी किसी भी सिचुएशन में किसान की जमीन से उगाही नहीं हो सकती। यानी जमीन किसान की ही रहनी है।

इस अध्यादेश को किन नियमों व रेगुलशन के तहत चलाएँगे, यह सरकार लोकसभा और राज्यसभा में विचार-विमर्श करने के बाद तय करेंगे।

The farmers produce trade and commerce (promotion and facilitation) ordinance, 2020

मुख्य तौर पर यह अध्यादेश पहले वाले अध्यादेश का ही एक हिस्सा है। इसका जो मुख्य मकसद है “एक देश एक मार्केट”

इसके तहत कोई भी किसान अपनी फसल अपने प्रदेश में या दूसरे प्रदेश में बेच सकता है। उसी तरीके से कोई भी व्यापारी अपने प्रदेश के किसानों से या दूसरे प्रदेश के किसानों से व्यापार कर सकता है। इसे राज्य से बाहर और राज्य के भीतर किसान-व्यापारी समझौता कह सकते हैं। ये इस चीज को मद्देनजर रख कर बनाया गया है कि मार्केट में जितनी प्रतिस्पर्धा होगी, अच्छे किसान और अच्छे व्यापारी को उतनी ही अच्छी क़ीमत मिल सकती है।


इस अध्यादेश के सेक्शन 4 के अनुसार– कोई भी व्यापारी या किसान किसी भी प्रदेश के व्यापारी के साथ व्यापार कर सकते हैं। हर वो व्यक्ति जिसके पास PAN कार्ड नम्बर है, वो भी व्यापार कर सकता है। एकाध जगह किसानों के पेन कार्ड को लेकर ही विरोध किया जा रहा है।

सेक्शन 4.3 के अनुसार- जो भी व्यापारी किसान से उसका उत्पाद खरीदेगा, वो डिलीवरी के टाइम पूरा पेमेंट करेगा या फिर अधिक से अधिक 3 दिन के अंदर किसान को पूरा पैसा देना पड़ेगा।

सेक्शन 5 के अनुसार- “कोई भी संगठन, एग्रीकल्चर कोऑपरेटिव सोसायटी, राज्य के भीतर या राज्य के बाहर या इलैक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग कर सकते हैं। इसके लिए वो क्या प्रोसीजर अपनाएँगे, क्या फीस होगी, कौन-सी तकनीक या सॉफ्टवेयर इस्तेमाल करेंगे, कैसे किसान को पेमेंट करेंगे, किसानों के लिए क्या गाइड लाइन होगी, वो भी साफ-साफ कैसे किसान तक पहुँचेगी, ये सब व्यापारी को पहले से ही तैयार रखना होगा और इस पर सरकार की नजर रहेगी।”

सेक्शन 6 के अनुसार- “जो व्यापारी और किसान (जो अलग-अलग प्रदेश से हैं) व्यापार करेंगे उन पर कोई भी प्रदेश की मार्किट फीस, टैक्स कर वगैरह नहीं लगेगा।”

केंद्रीय सरकार किसानों के लिए एक सेंटरलाइज प्राइस इनफोर्मेशन और मार्किट इनटेलिजेंस सिस्टम बनाएगी, ताकि किसान और व्यापारी के पास अलग-अलग किस्म की फसलों के दामों का ब्यौरा रहे और व्यापार में पारदर्शिता रहे।

किसी भी विवाद का उसी तरह से समाधान होगा जैसा कि पहले वाले अध्यादेश में जिसकी चर्चा की गई है। अगर कोई व्यापारी कानून के तहत नहीं चलता तो उस पर व्यापारिक प्रतिबंध लगाया जा सकता है।

एसडीम के बाद, केस एग्रीकल्चर मार्किटिंग एडवाइजर से होते हुए, जॉइंट सेक्रेटरी तक जा सकता है। कुल मिला कर किसी भी विवाद का फैसला 30 दिन से 90 दिन (अधिकतम) में देना होगा।

सेक्शन 11 के अनुसार- “जो भी व्यापारी सेक्शन 4 के रूल के तहत काम नहीं करेगा, उस पर 25000-5,00,000 तक जुर्माना किया जा सकता है। उसी तरह जो व्यापारी इलैक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग करेगा और सेक्शन 5 ओर 7 के बनाए नियम को तोड़ेगा, या धोखाधड़ी करेगा, तो उस पर 50,000 से 10 लाख तक जुर्माना हो सकता है। साथ ही साथ व्यापार पर प्रतिबंध भी लग सकता है।”

इस अध्यादेश को किन नियमों और रेगुलेशन के तहत चलाएँगे। इन सभी नियमों को सरकार लोकसभा और राज्यसभा में विचार-विमर्श के बाद तय करेगी।

अगर दोनों अध्यादेशों का सूक्ष्म अध्ययन करने पर एक बात तो साफ है कि इसमें कुछ भी किसान विरोधी नहीं है, बल्कि किसानों के प्रोटेक्शन का विशेष ध्यान रखा गया है। बल्कि सरकार ने किसानों को इन अध्यादेशों के माध्यम से एक वैकल्पिक व्यवस्था मुहैया कराई है। ताकि किसान अपनी फसल मंडी व्यवस्था या ऑपन मार्केट जहाँ मन करे और जहाँ ज्यादा मुनाफा मिले बेच सकता है।

ऐसा भी नहीं है कि इससे पहले इस तरह की कॉन्ट्रेक्ट फार्मिंग या राज्य के भीतर व बाहर एग्रीकल्चर व्यापार नहीं होता था। बस फर्क यह है कि अबकी बार सरकार सीधे तौर पर किसान और व्यापारी के साथ खड़ी होकर इस व्यवसाय को मोनिटर कर सकेगी। जो प्रगतिशील किसान हैं, जो डिमांड के अनुसार फसलों को पैदा करने में दिलचस्पी लेते हैं। उनको अब कानून के तहत काम करना पड़ेगा और दोनों तरफ के लोगों यानी किसान और व्यापारी दोनों पर पारदर्शिता का दवाब बना रहेगा।

कुछ संगठनों ने यह भी आरोप लगाया है कि इससे एमएसपी खत्म होगा। लेकिन किसी ने भी ये नहीं बताया कि कैसे खत्म होगा? इसलिए उनके कहे में सच कम और राजनीतिक अंध विरोध ज्यादा है। एक तपका यह भी आवाज उठा रहा है कि ऑपन मार्केट से किसानों को उनकी फसल के रेट कम मिलेंगे। जबकि बहुत से किसान प्राइवेट व्यापारियों से व्यापार करेंगे तो सरकार पर आर्थिक बोझ कम होगा। सरकार का अतिरिक्त बोझ कम होगा तो सरकार भी किसानों को बढ़िया रेट (एमएसपी) देने के लिए बाध्य होगी।

हालाँकि इन अध्यादेशों का एमएसपी से सीधा कोई संबंध नहीं है, क्योंकि यह सभी किसानों पर लागू नहीं होगा। जो किसान स्वैच्छिक तौर पर वैकल्पिक व्यवस्था का हिस्सा बनना चाहते हैं। उनके लिए ही ये अध्यादेश लाए गए हैं। अब यह तो किसानों को तय करना है कि वह अपनी फसल सरकार को बेचता है या व्यापारी या कंपनी को।

दरअसल ये अध्यादेश पारंपरिक तरीके से खेती करने वालों के लिए नहीं बल्कि उन प्रगतिशील किसानों के लिए है, जो जोखिम उठाते हैं और प्रयोगिक खेती के माध्यम से इसे सफल व्यवसाय में बदलने का जुनून रखते हैं। ऐसे किसान अभी तक बिना किसी सरकारी सरंक्षण या ढाल के यह काम कर रहे थे, उन्हें अब सरकारी संरक्षण देने का काम ये अध्यादेश करेंगे।

किसान और व्यापारी के बीच डील में किसानों के ठगे जाने के डर को लेकर भी चिंता व्यक्त की जा रही है। जो कि वाजिब भी हैं। परंतु इन समझौतों में अगर जागरूक संस्थाएँ या गाँव के प्रतिनिधि अपनी जिम्मेदारी का निर्वाह करेंगे तो लिखित समझौतों में किसानों के साथ होने वाले किसी भी प्रकार के छल से उन्हें बचाया जा सकता है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

डॉ. नवीन रमण
मीडिया सलाहकार, महिला एवं बाल विकास मंत्री, हरियाणा सरकार

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

टाइम्स में शामिल ‘दादी’ की सराहना जरूर कीजिए, आखिर उनको क्या पता था शाहीन बाग का अंजाम, वो तो देश बचाने निकली थीं!

आज उन्हें टाइम्स ने साल 2020 की 100 सबसे प्रभावशाली शख्सियतों की सूची में शामिल कर लिया है। खास बात यह है कि टाइम्स पर बिलकिस को लेकर टिप्पणी करने वाली राणा अय्यूब स्वयं हैं।

मेरी झोरा-बोरा की औकात, मौका मिले तो चुनाव लड़ने का निर्णय लूँगा, लोगों की सेवा के लिए राजनीति में आऊँगा: पूर्व DGP गुप्तेश्वर पांडेय

मैंने अभी कोई पार्टी ज्वाइन करने का ऐलान तो नहीं किया। मैं चुनाव लड़ूँगा, यह भी कहीं नहीं कहा। इस्तीफा तो दे दिया। चुनाव लड़ना कोई पाप है?

‘बोतल डॉन’ खान मुबारक की 20 दुकान वाले कॉम्प्लेक्स पर चला योगी सरकार का बुलडोजर: करोड़ों की स्कॉर्पियो, जेसीबी, डंपर भी जब्त

माफिया सरगना के नेटवर्क को ध्वस्त करने के क्रम में फरार चल रहे खान मुबारक के करीबी शातिर बदमाश परवेज की मखदूमपुर गाँव स्थित करीब 50 लाख की संपत्ति को अंबेडकर नगर पुलिस द्वारा ध्वस्त कर दिया गया।

विदेशी लेखक वीजा पर यहाँ आता है और भारत के ही खिलाफ प्रोपेगेंडा फैलाता है: वीजा रद्द करने की माँग

मोनिका अरोड़ा ने आरोप लगाया है कि स्कॉटिश लेखक विलयम डेलरिम्पल लगातार जानबूझ कर यहाँ के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप कर रहे हैं।

‘सुशांत को थी ड्रग्स की लत, अपने करीबी लोगों का फायदा उठाता था’ – बेल के लिए रिया चक्रवर्ती ने कहा

"सुशांत सिंह राजपूत ड्रग्स लेते थे। वह अपने स्टाफ को ड्रग्स खरीद कर लाने के लिए कहते थे। वो जीवित होते, तो उन पर ड्रग्स लेने का आरोप..."

बच्चे को मोलेस्ट किया, पता ही नहीं था सेक्सुअलिटी क्या होती है: अनुराग कश्यप ने स्वीकारा, शब्दों से पाप छुपाने की कोशिश

कैसे अनुराग कश्यप पर पायल घोष के यौन शोषण के आरोपों के बावजूद खुद को फेमनिस्ट कहने वाले गैंग के एक भी व्यक्ति ने पायल का समर्थन नहीं किया।

प्रचलित ख़बरें

‘ये लोग मुझे फँसा सकते हैं, मुझे डर लग रहा है, मुझे मार देंगे’: मौत से 5 दिन पहले सुशांत का परिवार को SOS

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार मौत से 5 दिन पहले सुशांत ने अपनी बहन को एसओएस भेजकर जान का खतरा बताया था।

शो नहीं देखना चाहते तो उपन्यास पढ़ें या फिर टीवी कर लें बंद: ‘UPSC जिहाद’ पर सुनवाई के दौरान जस्टिस चंद्रचूड़

'UPSC जिहाद' पर रोक को लेकर हुई सुनवाई के दौरान जस्टिस चंद्रचूड़ ने कहा कि जिनलोगों को परेशानी है, वे टीवी को नज़रअंदाज़ कर सकते हैं।

नेपाल में 2 km भीतर तक घुसा चीन, उखाड़ फेंके पिलर: स्थानीय लोग और जाँच करने गई टीम को भगाया

चीन द्वारा नेपाल की जमीन पर कब्जा करने का ताजा मामला हुमला जिले में स्थित नामखा-6 के लाप्चा गाँव का है। ये कर्णाली प्रान्त का हिस्सा है।

आफ़ताब दोस्तों के साथ सोने के लिए बनाता था दबाव, भगवान भी आलमारी में रखने पड़ते थे: प्रताड़ना से तंग आकर हिंदू महिला ने...

“कई बार मेरे पति आफ़ताब के द्वारा मुझपर अपने दोस्तों के साथ हमबिस्तर होने का दबाव बनाया गया लेकिन मैं अडिग रहीं। हर रोज मेरे साथ मारपीट हुई। मैं अपना नाम तक भूल गई थी। मेरा नाम तो हरामी और कुतिया पड़ गया था।"

व्हिस्की पिलाते हुए… 7 बार न्यूड सीन: अनुराग कश्यप ने कुबरा सैत को सेक्रेड गेम्स में ऐसे किया यूज

पक्के 'फेमिनिस्ट' अनुराग पर 2018 में भी यौन उत्पीड़न तो नहीं लेकिन बार-बार एक ही तरह का सीन (न्यूड सीन करवाने) करवाने का आरोप लग चुका है।

‘शिव भी तो लेते हैं ड्रग्स, फिल्मी सितारों ने लिया तो कौन सी बड़ी बात?’ – लेखिका का तंज, संबित पात्रा ने लताड़ा

मेघना का कहना था कि जब हिन्दुओं के भगवान ड्रग्स लेते हैं तो फिर बॉलीवुड सेलेब्स के लेने में कौन सी बड़ी बात हो गई? संबित पात्रा ने इसे घृणित करार दिया।

यूपी में माफियाओं पर ताबड़तोड़ एक्शन जारी: अब मुख्तार अंसारी गिरोह के नजदीकी रजनीश सिंह की 39 लाख की संपत्ति जब्त

योगी सरकार ने मुख्तार अंसारी गिरोह आईएस 191 के नजदीकी व मन्ना सिंह हत्याकांड में नामजद हिस्ट्रीशीटर एवं पूर्व सभासद रजनीश सिंह की 39 लाख रुपए की सम्पत्ति गैंगेस्टर एक्ट के तहत जब्त की है।

जम्मू कश्मीर में नहीं थम रहा बीजेपी नेताओं की हत्या का सिलसिला: अब BDC चेयरमैन की आतंकियों ने की गोली मार कर हत्या

मध्य कश्मीर के बडगाम जिले में बीजेपी बीडीसी खग के चेयरमैन भूपेंद्र सिंह को कथित तौर पर आतंकियों ने उनके घर पर ही हमला करके जान से मार दिया।

बनारस की शिवांगी बनी राफेल की पहली महिला फाइटर पायलट: अम्बाला में ले रही हैं ट्रेंनिंग, पिता ने जताई ख़ुशी

शिवांगी की सफलता पर न केवल घरवालों, बल्कि पूरे शहर को नाज हो रहा है। काशी में पली-बढ़ीं और BHU से पढ़ीं शिवांगी राफेल की पहली फीमेल फाइटर पायलट बनी हैं।

दिल्ली दंगा केस में राज्य विधानसभा पैनल को झटका: SC ने दिया फेसबुक को राहत, कहा- 15 अक्टूबर तक कोई कार्रवाई नहीं

सुप्रीम कोर्ट ने फेसबुक के वाइस प्रेसिडेंट अजित मोहन के खिलाफ 15 अक्टूबर तक कोई दंडात्मक कार्रवाई नहीं किए जाने का आदेश दिया है।

प्रभावी टेस्टिंग, ट्रेसिंग, ट्रीटमेंट, सर्विलांस, स्पष्ट मैसेजिंग पर फोकस और बढ़ाना होगा: खास 7 राज्यों के CM के साथ बैठक में PM मोदी

पीएम मोदी ने कहा कि देश में 700 से अधिक जिले हैं, लेकिन कोरोना के जो बड़े आँकड़े हैं वो सिर्फ 60 जिलों में हैं, वो भी 7 राज्यों में। मुख्यमंत्रियों को सुझाव है कि एक 7 दिन का कार्यक्रम बनाएँ और प्रतिदिन 1 घंटा दें।

टाइम्स में शामिल ‘दादी’ की सराहना जरूर कीजिए, आखिर उनको क्या पता था शाहीन बाग का अंजाम, वो तो देश बचाने निकली थीं!

आज उन्हें टाइम्स ने साल 2020 की 100 सबसे प्रभावशाली शख्सियतों की सूची में शामिल कर लिया है। खास बात यह है कि टाइम्स पर बिलकिस को लेकर टिप्पणी करने वाली राणा अय्यूब स्वयं हैं।

मेरी झोरा-बोरा की औकात, मौका मिले तो चुनाव लड़ने का निर्णय लूँगा, लोगों की सेवा के लिए राजनीति में आऊँगा: पूर्व DGP गुप्तेश्वर पांडेय

मैंने अभी कोई पार्टी ज्वाइन करने का ऐलान तो नहीं किया। मैं चुनाव लड़ूँगा, यह भी कहीं नहीं कहा। इस्तीफा तो दे दिया। चुनाव लड़ना कोई पाप है?

दिल्ली बार काउंसिल ने वकील प्रशांत भूषण को भेजा नोटिस: 23 अक्टूबर को पेश होने का निर्देश, हो सकती है बड़ी कार्रवाई

दिल्ली बार काउंसिल (BCD) ने विवादास्पद वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण को अवमानना मामले में सुप्रीम कोर्ट द्वारा दोषी करार दिए जाने के मद्देनजर 23 अक्टूबर को उसके सामने पेश होने का निर्देश दिया है।

NCB ने ड्रग्स मामले में दीपिका, सारा अली खान, श्रद्धा समेत टॉप 4 हीरोइन को भेजा समन, जल्द होगी पूछताछ

रिया चक्रवर्ती से पूछताछ के दौरान दीपिका, दीया, सारा अली खान, रकुलप्रीत सिंह और श्रद्धा कपूर का नाम सामने आया था। दीया का नाम पूछताछ के दौरान ड्रग तस्कर अनुज केशवानी ने लिया था।

‘बोतल डॉन’ खान मुबारक की 20 दुकान वाले कॉम्प्लेक्स पर चला योगी सरकार का बुलडोजर: करोड़ों की स्कॉर्पियो, जेसीबी, डंपर भी जब्त

माफिया सरगना के नेटवर्क को ध्वस्त करने के क्रम में फरार चल रहे खान मुबारक के करीबी शातिर बदमाश परवेज की मखदूमपुर गाँव स्थित करीब 50 लाख की संपत्ति को अंबेडकर नगर पुलिस द्वारा ध्वस्त कर दिया गया।

हमसे जुड़ें

264,935FansLike
77,964FollowersFollow
323,000SubscribersSubscribe
Advertisements