Sunday, January 17, 2021
Home विचार सामाजिक मुद्दे सस्ते सौदे में कोरोना से जंग... लेकिन देर करेंगे तो समस्या विकराल होती जाएगी

सस्ते सौदे में कोरोना से जंग… लेकिन देर करेंगे तो समस्या विकराल होती जाएगी

हमारा अभी सँभल जाना बहुत ही सस्ता सौदा है। सस्ती कीमतों पर ही महँगा सुकून खरीद लें वर्ना बाद में जान को दाँव पर लगाकर भी कुछ हासिल नहीं हो पाएगा। आखिर अपनी गलती पर आहें भरने के लिए भी साँसों की ज़रूरत होती है और आप जानते हैं कोरोना इसकी इजाजत नहीं देता।

बच्चों की परीक्षाएँ स्थगित हो गईं क्योंकि हमें इससे भी बड़ी परीक्षा देने के लिए बाध्य होना पड़ा। पाठशालाएँ बंद हो गईं क्योंकि ज़िंदगी की पाठशाला कुछ ऐसा पाठ लेकर हमारे सम्मुख उपस्थित है, जिसे पढ़ना उनके लिए भी बाक़ी था, जो अब तक दूसरों को पढ़ाते या अनुशासित करते आए थे। ऐसा पहली बार हुआ है। हो सकता है कि ऐसी विकट स्थितियाँ तब भी आई हों जब दुनिया ने दो विश्वयुद्ध देखे, लेकिन तब विश्व दो खेमों में बँटा हुआ था और हर एक खेमे के अन्दर अपने-अपने फायदों को देखने वाले कुछ छोटे-छोटे समूह भी थे लेकिन इस बार सम्पूर्ण मानवता एक गुट का हिस्सा है और शत्रु है एक विश्वव्यापी महामारी, जिससे किसी की संधि तब तक संभव नहीं जब तक वो स्वयं उसका प्रवर्तक न हो। यानी जैविक हथियार की सुगबुगाहट के अलावा सम्पूर्ण मानवता इसके खिलाफ एकजुट है। सचमुच एक बड़ी परीक्षा है, जिसमें कुछ छोटे-छोटे सवाल पूछे गए हैं जैसे- अपने हाथों को अच्छी प्रकार कैसे धोएँ? कैसे किफायत से चीजों का प्रयोग करें? क्या मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है? खुश और संतुष्ट रहने के लिए हम खुद के अतिरिक्त और किन-किन चीजों पर निर्भर करते हैं? अच्छे विद्यार्थी सदा परीक्षा में उत्तीर्ण हो जाते हैं और कुछ असावधान विद्यार्थी असफल रह जाते हैं, लेकिन कई मामलों में ये परीक्षा आम परीक्षाओं से अलग है- यहाँ अपेक्षाकृत छोटे सवालों में ही हम मात खा जाते हैं और जो परीक्षार्थी अनुत्तीर्ण होने वाले हैं, उनकी असफलता आम परीक्षाओं की तरह मात्र उनका व्यक्तिगत नुकसान नहीं करेगी बल्कि उसका असर बाक़ी लोगों तक भी जाएगा।

हममें से प्रत्येक ने कितनी ही बार ये चाहा होगा कि काश हम फिर से बच्चे बन जाएँ। अब वो समय आ गया है कि हम बच्चों की तरह ही छोटी-छोटी बातें मानें, छोटी-छोटी चीजों में अपनी खुशियाँ ढूँढें, खुद को एंजॉय करें, परिवार के साथ समय बिताएँ। इस समय एक आज्ञाकारी बच्चा ही इस गंभीर समस्या का समझदारी भरा समाधान कर सकता है। अतिरिक्त होशियारी या तिकड़म जो बाल-मन के खिलाफ है, उससे काम नहीं चलने वाला बल्कि वो हम पर उलटा पड़ सकता है।

अपेक्षित चीजें करने में अक्सर कठिन होती हैं लेकिन जब वो आसान होती हैं, क्या तब हम उन्हें ठीक से करते हैं? नहीं। मतलब जागरूकता सबसे कठिन चीज़ है चाहे वो बिल्कुल छोटी-छोटी चीजों के बारे में ही क्यों न हो। मन के हिसाब से नहीं बल्कि ज़रूरत के हिसाब से काम या विश्राम करना कठिन है। और अगर हम इसे कठिन मान भी लें तो क्या कठिन कार्यों को करने की अनुमति सिर्फ सीमाओं-अस्पतालों में ही है? घर पर नहीं? सच बात तो ये है कि आसान या कठिन मानना इसे न करने का बहाना नहीं हो सकता। घर पर बने रहकर खुद को सुरक्षित रखना अगर आसान है तो करें, अगर कठिन है तो अवश्य करें क्योंकि इससे न केवल कोरोना से बचाव होगा बल्कि कठिन कार्यों को करने से उत्साह और खुशी भी मिलती है। इस समय सामाजिक दूरी बनाए रखना ही सामाजिक प्राणी मनुष्य का सबसे बड़ा कर्त्तव्य है। जब हमें तन से दूर रहने के लिए कहा गया तब हम मन से निकट आए, जनता कर्फ्यू के दिन शाम पाँच बजे हममें से न जाने कितने लोगों ने पहली बार अपने पड़ोसियों को उनकी बालकनी में देखा होगा। स्पष्ट है कि ये दूरी हमें समीप लाने के लिए है और ये निष्क्रियता हमें फिर से सबल बनाने के लिए ज़रूरी है। इसलिए खुद को घर पर ही बनाए रखें और अपने हाथों को स्वच्छ रखें। इस छोटी-सी बात को समझने में हम जीतनी देर लगाएँगे, ये समस्या उतनी ही विकराल होती जाएगी।

ये तो हुई परीक्षा की बात, लेकिन ये परिस्थितियाँ न केवल हमारी परीक्षा ले रही हैं बल्कि हमें बहुत कुछ सिखा भी रही हैं। अक्सर यही होता है कि जब हम किसी चीज़ को औपचारिक तरीकों से नहीं सीखते तो फिर लगती है परिस्थिति मैडम की आपातकालीन क्लास। परिस्थिति मैडम बड़ी सख्त हैं, जो उनकी बात नहीं मानता वो नुकसान भी उठाता है। तो हमें बस इतना करना है कि परिस्थितियाँ हमें जो कुछ सिखा रही हैं, उन शिक्षाओं को हमें जाया नहीं होने देना है। बाक़ी पाठशालाओं की तरह ही जीवन की पाठशाला में भी हमें सभी विषयों में चयन की सुविधा उपलब्ध नहीं है। कुछ विषय अनिवार्य होते हैं चाहे आप उन्हें पढ़ना चाहें या नहीं लेकिन ज़िंदगी अपना पाठ पढ़ाती है। आम भाषा में इसे सबक कहते हैं। यद्यपि अधिकतर लोग लॉकडाउन का पालन कर रहे हैं लेकिन इसका सबके द्वारा एक साथ पालन न किया जाना इसे कहीं नहीं पहुँचाएगा और निश्चित रूप से इसकी अवधि को बढ़ाएगा। अगर ये स्थिति लम्बी खिंची तो समस्या हो जाएगी। इस बात को ध्यान में रखते हुए अब हमें किफायत बरतना भी सीखना होगा, चाहे आर्थिक दृष्टि से हम कितने ही सबल क्यों न हों। लाखों की संख्या में मजदूरों का संक्रमित क्षेत्रों से असंक्रमित क्षेत्रों की ओर पलायन और इसके संभावित परिणाम इसे कितना भयावह बनाने वाले हैं ये देखना अभी बाक़ी है। ऐसी हालत में यथास्थिति स्थायी नहीं है। बर्फ के पिघलने के दौरान यानी उसकी अवस्था परिवर्तन के समय तो तापमान स्थिर ही रहता है जबकि ऊष्मा लगातार दी जाती है, लेकिन ऐसा सिर्फ उसके गलनांक तक पहुँचने से पहले तक ही संभव है। इसलिए हमें लगातार बदलती परिस्थितियों की गुप्त ऊष्मा को पहचानना होगा।

इंसानों की जान के अलावा दुनिया भर के समृद्धिशाली देशों की अर्थव्यवस्था को करारा झटका मारने वाली यह परिस्थिति, हमें कुछ अन्य शाश्वत नियमों की सीख भी देती है जैसे कि शक्तिशाली देश जब संसाधनहीनता की स्थिति में पहुँचते हैं तो दूसरों के लिए खतरा बन जाते हैं, क्योंकि अंतत: भैंस तो लाठी वाला ही हाँक कर ले जाता है। जीवन की मूलभूत आवश्यकताओं के आगे वैश्विक हित, अन्तरराष्ट्रीय सद्भाव-सामंजस्य और यहाँ तक कि शक्ति संतुलन की कवायदें भी धराशाई हो जाती हैं क्योंकि भूखे पेट का एकमात्र तर्क रोटी ही है, येन केनापि प्रकारेण। आज भले ही हमें ये बातें दूर लगती हों लेकिन कुछ महीनों का लॉकडाउन (अगर हमारी लापरवाही इसे इतना लंबा खींच दे तो) सब कुछ स्पष्ट दिखा देगा। इसलिए ज़रूरी है कि हम कम से कम समय में सोशल डिस्टेंसिंग की ज़रूरी अवधि को पूर्ण सफल बनाएँ क्योंकि आगे की कठिनाइयाँ दोनों दृष्टियों से बहुत खराब हैं- एक तो ये कि जिन लोगों को वर्त्तमान के शिथिल कर्फ्यू का पालन करना भी भारी पड़ रहा है, क्या उन्हें भविष्य में आपातकाल जैसा प्रतिबन्ध झेलना आसान लगेगा? और दूसरा कोरोना का जंगल की आग की तरह फ़ैलने का रिकॉर्ड। इन दोनों स्थितियों में से किसी का भी सामना करने की बजाय हमारा अभी सँभल जाना बहुत ही सस्ता सौदा है। सस्ती कीमतों पर ही महँगा सुकून खरीद लें वर्ना बाद में जान को दाँव पर लगाकर भी कुछ हासिल नहीं हो पाएगा। आखिर अपनी गलती पर आहें भरने के लिए भी साँसों की ज़रूरत होती है और आप जानते हैं कोरोना इसकी इजाजत नहीं देता। इसलिए हमें एक सनकी इंसान की तरह सभी दिशा-निर्देशों का पालन करते हुए खुद को, अपने परिवार को और देश-दुनिया को सुरक्षित रखना होगा।

संभलिए, मान जाइए, घर पर रह कर जंग लड़ने के इस आसान से अवसर को गँवा कर बड़ी जंग मत हारिए। सारा विश्व इस साझी समस्या का शिकार है और इस रूप में ही सही, सम्पूर्ण मानवता अब एक परिवार की तरह नज़र आ रही है। यानी मजबूरियाँ हमें ‘वसुधैव कुटुम्बकम्’ तक ले आई हैं, अब हमें अपने प्रयासों से इसे ‘सर्वे भवन्तु सुखिन: सर्वे सन्तु निरामया:’ की ओर ले जाना है।

लेखिका: डॉ. अमिता

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Dr. Amita
डॉ. अमिता गुरुकुल महाविद्यालय चोटीपुरा, अमरोहा (उ.प्र.) में संस्कृत की सहायक आचार्या हैं.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

#BanTandavNow: अमेज़ॉन प्राइम के हिंदूफोबिक प्रोपेगेंडा से भरे वेब-सीरीज़ तांडव के बहिष्कार की लोगों ने की अपील

अमेज़न प्राइम पर हालिया रिलीज सैफ अली खान स्टारर राजनीतिक ड्रामा सीरीज़ ‘तांडव’, जिसे निर्देशित किया है अली अब्बास ज़फ़र ने। अली की इस सीरीज में हिंदू देवी-देवताओं का अपमान किया गया है।

‘अगर तलोजा वापस गए तो मुझे मार डालेंगे, अर्नब का नाम लेने तक वे कर रहे हैं किसी को टॉर्चर के लिए भुगतान’: पूर्व...

पत्नी समरजनी कहती हैं कि पार्थो ने पुकारा, "मुझे छोड़कर मत जाओ... अगर वे मुझे तलोजा जेल वापस ले जाते हैं, तो वे मुझे मार डालेंगे। वे कहेंगे कि सब कुछ ठीक है और मुझे वापस ले जाएँगे और मार डालेंगे।”

राम मंदिर निर्माण की तारीख से क्यों अटकने लगी विपक्षियों की साँसें, बदलते चुनावी माहौल का किस पर कितना होगा असर?

अब जबकि राम मंदिर निर्माण के पूरा होने की तिथि सामने आ गई है तो उन्हीं भाजपा विरोधियों की साँस अटकने लगी है। विपक्षी दल यह मानकर बैठे हैं कि भाजपा मंदिर निर्माण 2024 के ठीक पहले पूरा करवाकर इसे आगामी लोकसभा चुनाव में मुद्दा बनाएगी।

वीडियो: ग्लास-कैरी बैग पर ‘अली’ लिखा होने से मुस्लिम भीड़ का हंगामा, कहा- ‘इस्लाम को लेकर ऐसी हरकतें, बर्दाश्त नहीं करेंगे’

“हम अपने बुजुर्गों की शान में की गई गुस्ताखी को कतई बर्दाश्त नहीं करेंगे। ये यहाँ पर रखा क्यों गया है? 10 लाख- 15 लाख, जितने भी रुपए का है ये, हम तत्काल देंगें, यहीं पर।"

पालघर नागा साधु मॉब लिंचिंग केस में कोर्ट ने गिरफ्तार 89 आरोपितों को दी जमानत: बताई ये वजह

पालघर भीड़ हिंसा (मॉब लिंचिंग) मामले में गिरफ्तार किए गए सभी 89 लोगों पर जमानत के लिए 15 हजार रुपए की राशि जमा कराने का निर्देश दिया है। अदालत ने इन्हें इस आधार पर जमानत दी कि ये लोग केवल घटनास्थल पर मौजूद थे।

घोटालेबाज, खालिस्तान समर्थक, चीनी कंपनियों का पैरोकार: नवदीप बैंस के चेहरे कई

कनाडा के भारतीय मूल के हाई-प्रोफाइल सिख मंत्री नवदीप बैंस ने अपने पद से इस्तीफा देते हुए राजनीति छोड़ दी है।

प्रचलित ख़बरें

निधि राजदान की ‘प्रोफेसरी’ से संस्थानों ने भी झाड़ा पल्ला, हार्वर्ड ने कहा- हमारे यहाँ जर्नलिज्म डिपार्टमेंट नहीं

निधि राजदान द्वारा खुद को 'फिशिंग अटैक' का शिकार बताने के बाद हार्वर्ड ने कहा है कि उसके कैम्पस में न तो पत्रकारिता का कोई विभाग और न ही कोई कॉलेज है।

अब्बू करते हैं गंदा काम… मना करने पर चुभाते हैं सेफ्टी पिन: बच्चियों ने रो-रोकर माँ को सुनाई आपबीती, शिकायत दर्ज

माँ कहती हैं कि उन्होंने इस संबंध में अपने शौहर से बात की थी लेकिन जवाब में उसने कहा कि अगर ये सब किसी को पता चली तो वह जान से मार देगा।

मारपीट से रोका तो शाहबाज अंसारी ने भीम आर्मी के नेता रंजीत पासवान को चाकुओं से गोदा, मौत

शाहबाज अंसारी ने भीम आर्मी नेता रंजीत पासवान की चाकू घोंप कर हत्या कर दी, जिसके बाद गुस्साए ग्रामीणों ने आरोपित के घर को जला दिया।

मंच पर माँ सरस्वती की तस्वीर से भड़का मराठी कवि, हटाई नहीं तो ठुकराया अवॉर्ड

मराठी कवि यशवंत मनोहर का कहना था कि उन्होंने सम्मान समारोह के मंच पर रखी गई सरस्वती की तस्वीर पर आपत्ति जताई थी। फिर भी तस्वीर नहीं हटाई गई थी इसलिए उन्होंने पुरस्कार लेने से मना कर दिया।

केंद्रीय मंत्री को झूठा साबित करने के लिए रवीश ने फैलाई फेक न्यूज: NDTV की घटिया पत्रकारिता के लिए सरकार ने लगाई लताड़

पत्र में लिखा गया कि ऐसे संवेदनशील समय में जब किसान दिल्ली के पास विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं, उस समय रवीश कुमार ने महत्वपूर्ण तथ्यों को गलत तरीके से प्रस्तुत किया है, जो किसानों को भ्रमित करता है और समाज में नकारात्मक भावनाओं को उकसाता है।

‘अगर तलोजा वापस गए तो मुझे मार डालेंगे, अर्नब का नाम लेने तक वे कर रहे हैं किसी को टॉर्चर के लिए भुगतान’: पूर्व...

पत्नी समरजनी कहती हैं कि पार्थो ने पुकारा, "मुझे छोड़कर मत जाओ... अगर वे मुझे तलोजा जेल वापस ले जाते हैं, तो वे मुझे मार डालेंगे। वे कहेंगे कि सब कुछ ठीक है और मुझे वापस ले जाएँगे और मार डालेंगे।”

#BanTandavNow: अमेज़ॉन प्राइम के हिंदूफोबिक प्रोपेगेंडा से भरे वेब-सीरीज़ तांडव के बहिष्कार की लोगों ने की अपील

अमेज़न प्राइम पर हालिया रिलीज सैफ अली खान स्टारर राजनीतिक ड्रामा सीरीज़ ‘तांडव’, जिसे निर्देशित किया है अली अब्बास ज़फ़र ने। अली की इस सीरीज में हिंदू देवी-देवताओं का अपमान किया गया है।

‘अगर तलोजा वापस गए तो मुझे मार डालेंगे, अर्नब का नाम लेने तक वे कर रहे हैं किसी को टॉर्चर के लिए भुगतान’: पूर्व...

पत्नी समरजनी कहती हैं कि पार्थो ने पुकारा, "मुझे छोड़कर मत जाओ... अगर वे मुझे तलोजा जेल वापस ले जाते हैं, तो वे मुझे मार डालेंगे। वे कहेंगे कि सब कुछ ठीक है और मुझे वापस ले जाएँगे और मार डालेंगे।”

राम मंदिर निर्माण की तारीख से क्यों अटकने लगी विपक्षियों की साँसें, बदलते चुनावी माहौल का किस पर कितना होगा असर?

अब जबकि राम मंदिर निर्माण के पूरा होने की तिथि सामने आ गई है तो उन्हीं भाजपा विरोधियों की साँस अटकने लगी है। विपक्षी दल यह मानकर बैठे हैं कि भाजपा मंदिर निर्माण 2024 के ठीक पहले पूरा करवाकर इसे आगामी लोकसभा चुनाव में मुद्दा बनाएगी।

वीडियो: ग्लास-कैरी बैग पर ‘अली’ लिखा होने से मुस्लिम भीड़ का हंगामा, कहा- ‘इस्लाम को लेकर ऐसी हरकतें, बर्दाश्त नहीं करेंगे’

“हम अपने बुजुर्गों की शान में की गई गुस्ताखी को कतई बर्दाश्त नहीं करेंगे। ये यहाँ पर रखा क्यों गया है? 10 लाख- 15 लाख, जितने भी रुपए का है ये, हम तत्काल देंगें, यहीं पर।"

रक्षा विशेषज्ञ के तिब्बत पर दिए सुझाव से बौखलाया चीन: सिक्किम और कश्मीर के मुद्दे पर दी भारत को ‘गीदड़भभकी’

अगर भारत ने तिब्बत को लेकर अपनी यथास्थिति में बदलाव किया, तो चीन सिक्किम को भारत का हिस्सा मानने से इंकार कर देगा। इसके अलावा चीन कश्मीर के मुद्दे पर भी अपना कथित तटस्थ रवैया बरकरार नहीं रखेगा।

जानिए कौन है जो बायडेन की टीम में इस्लामी संगठन से जुड़ी महिला और CIA का वो डायरेक्टर जिसे हिन्दुओं से है परेशानी

जो बायडेन द्वारा चुनी गई समीरा, कश्मीरी अलगाववाद को बढ़ावा देने वाले इस्लामी संगठन स्टैंड विथ कश्मीर (SWK) की कथित तौर पर सदस्य हैं।

पालघर नागा साधु मॉब लिंचिंग केस में कोर्ट ने गिरफ्तार 89 आरोपितों को दी जमानत: बताई ये वजह

पालघर भीड़ हिंसा (मॉब लिंचिंग) मामले में गिरफ्तार किए गए सभी 89 लोगों पर जमानत के लिए 15 हजार रुपए की राशि जमा कराने का निर्देश दिया है। अदालत ने इन्हें इस आधार पर जमानत दी कि ये लोग केवल घटनास्थल पर मौजूद थे।

तब अलर्ट हो जाती निधि राजदान तो आज हार्वर्ड पर नहीं पड़ता रोना

खुद को ‘फिशिंग अटैक’ की पीड़ित बता रहीं निधि राजदान ने 2018 में भी ऑनलाइन फर्जीवाड़े को लेकर ट्वीट किया था।

‘ICU में भर्ती मेरे पिता को बचा लीजिए, मुंबई पुलिस ने दी घोर प्रताड़ना’: पूर्व BARC सीईओ की बेटी ने PM से लगाई गुहार

"हम सब जब अस्पताल पहुँचे तो वो आधी बेहोशी की ही अवस्था में थे। मेरे पिता कुछ कहना चाहते थे और बातें करना चाहते थे, लेकिन वो कुछ बोल नहीं पा रहे थे।"

घोटालेबाज, खालिस्तान समर्थक, चीनी कंपनियों का पैरोकार: नवदीप बैंस के चेहरे कई

कनाडा के भारतीय मूल के हाई-प्रोफाइल सिख मंत्री नवदीप बैंस ने अपने पद से इस्तीफा देते हुए राजनीति छोड़ दी है।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
381,000SubscribersSubscribe