जब मुसलमान खुद को स्वतः घुसपैठिया समझ कर सोशल मीडिया पर बकवास करता है

आखिर, किसने और कब कहा कि सारे मुसलमानों को भगा दिया जाएगा? किसी ने नहीं। ये कहने वाले या तो स्वयं मुसलमान हैं, या गुहा टाइप के सड़कछाप लुच्चे उपन्यासकार जिन्हें इस समाज में दुर्भावना और मजहबी घृणा फैलाने से फ़ुरसत नहीं है।

अमित शाह का एक बयान खूब चर्चा में रहा जहाँ उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार पूरे देश में NRC (राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर) लागू करवाएगी और हर एक घुसपैठिए को यहाँ से निकाल बाहर करेगी सिवाय बौद्ध, हिन्दू और सिक्खों के। इस बयान में क्या समस्या है, मुझे नहीं पता, लेकिन इस बयान को तोड़-मरोड़ कर हर जगह शेयर करते हुए, मुसलमानों में एक दुर्भावना फैलाने की बात करने वालों में क्या समस्या है, यह मुझे बख़ूबी पता है।

जब साफ-साफ घुसपैठियों की बात की है, और उसमें यह कहा है कि बौद्ध, सिक्खों और हिन्दुओं के अलावा जो भी बाहर से आए लोग हैं, उन्हें बाहर किया जाएगा, तो इसमें मुसलमान खुद को कहाँ से देख रहा है? उसमें भी वह मुसलमान क्यों चिंतित है जो इस देश का नागरिक है? न तो अमित शाह ने ऐसा कहा, न मोदी ने, न ही इस बयान में मुसलमानों का कोई ज़िक्र है, फिर कुछ मुसलमान दूसरे मुसलमानों को यह क्यों बता रहे हैं कि उन्हें देश से बाहर निकालने की साज़िश हो रही है?

We will ensure implementation of NRC in the entire country. We will remove every single infiltrator from the country, except Buddha, Hindus and Sikhs: Shri @AmitShah #NaMoForNewIndia— BJP (@BJP4India) April 11, 2019

एक बात और, जब आप संदर्भ ले आएँगे तो चीज़ें और साफ हो जाएँगी कि आखिर अमित शाह ने हिन्दुओं, सिक्खों और बौद्धों की ही बात क्यों की। क्योंकि ये लोग बाहर के देशों में अल्पसंख्यक हैं, जो बहुसंख्यकों के अत्याचार या सरकार की उदासीनता के शिकार हैं। पाकिस्तान, बंग्लादेश आदि जगहों पर हिन्दुओं, सिक्खों या बौद्धों की हालत बहुत खराब है। इनकी संख्या लगातार घट रही है, और चूँकि इन तीनों धर्मों का उदय भारत में हुआ है, तो ये उनका नैसर्गिक घर है।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

अगर बौद्धों, हिन्दुओं और सिक्खों को भारत शरण नहीं देगा तो आखिर वो जाएगा कहाँ? अब इसे रोहिंग्या और बंग्लादेशी मुसलमानों के संदर्भ में देखा जाए तो पता चलता है कि एक आबादी अपने देश से भारत में, यहाँ के कुछ नेताओं द्वारा ग़ैरक़ानूनी रूप से बसाए गए हैं ताकि इनका वोट इन्हें मिलता रहे। इनकी संख्या बहुत ज़्यादा है, और इन्हें अपने देश में इसलिए रहना चाहिए क्योंकि वहाँ का मज़हब, वहाँ की संस्कृति और सरकार उनके लिए ज़्यादा उपयुक्त है।

भारत में रोहिंग्या और बंग्लादेशी मुसलमान घुसपैठियों ने काफी समय से कैंसर की तरह जकड़ बना रखी है। ये लोग व्यवस्थित तरीक़ों से आधार कार्ड और वोटर कार्ड बनवा ले रहे हैं। ये लोग उत्तरपूर्व से भारत में घुसते हुए कश्मीर और राजस्थान कैसे पहुँच रहे हैं, ये कोई नहीं जानता। दक्षिण भारत की ट्रेनों में बैठ कर उधर घुसपैठ करने की कोशिशें नाकाम की गई हैं हमारी एजेंसियों के द्वारा।

मानवतावाद का दृष्टिकोण तब लगता है, और उसके लिए लगता है, जब शरण देने वाला देश स्वयं उन्हें पालने में सक्षम हो। दूसरी बात, शरण लेने वाला देश स्वयं यह बताता है कि वो किसे रखना चाहता है, किसे नहीं। उसकी शर्तें देश तय करता है, सुरक्षा के लिहाज से और इस लिहाज से भी कि क्या उनकी संख्या जितनी है, उतनी वो झेल पाएँगे। इसलिए, बहुत ही कम संख्या में आए हिन्दुओं, सिक्खों और बौद्धों के लिए भारत उनका सहज आवास है, लेकिन मुसलमानों के लिए नहीं क्योंकि वो एक बहुत बड़ी आबादी बन कर घुसपैठ कर रहे हैं।

अगर बंग्लादेशी घुसपैठियों की बात करें तो लगभग 40 लाख नाम तो सिर्फ असम में निकले हैं जो NRC की शर्तों पर सही नहीं उतरते। 2007 की एक रिपोर्ट के अनुसार, भारत में तिब्बत के बौद्ध शरणार्थियों की संख्या लगभग 1,92,000 है, और श्रीलंका से भागे और तमिलनाडु में रहने वाले लोगों की संख्या एक लाख के क़रीब बताई जाती है। पाकिस्तान से, अगर बँटवारे को अलग रखें, आए हिन्दुओं की संख्या लगभग 20,000 है, जिसमें से 13,000 को भारतीय नागरिकता दी जा चुकी है। ये सारी संख्या 2007 तक की ही है। हाल-फ़िलहाल में सिर्फ बंग्लादेशी और रोहिंग्या मुसलमानों का घुसपैठ अचानक से बढ़ा है, जिनमें बंग्लादेशी तो लगातार लाए और बसाए जाते रहे हैं। वहीं वर्तमान में अफ़ग़ानिस्तान में हिन्दुओं और सिक्खों की संख्या सिमट कर 5000 रह गई है। पाकिस्तान में हिन्दुओं का क्या हाल है, यह किसी से छुपा नहीं है।

लेकिन आज के समय में यह समस्या अतिविकट हो चुकी है। असम, मणिपुर, त्रिपुरा जैसे राज्यों में वहाँ के स्थानीय लोग स्वयं अल्पसंख्यक बन कर रह रहे हैं, और दंगे आम हो गए हैं। यहाँ हिंसक झड़पें होती हैं और यहाँ की सामाजिक संरचना पूरी तरह से बिगड़ चुकी है। 2012 का कोकराझार दंगा इसी कारण से हुए था जिसमें 80 लोगों की मौत हुई थी। इन सारे समयों में आप इन राज्यों की सरकारों को देखेंगे तो आपको वही लोग मिलेंगे जिनके लिए ‘राष्ट्रीय सुरक्षा’ महज़ दो शब्द हैं, जिसको ताक पर रख कर लगातार घुसपैठ कराए गए, कैम्प बनाए गए, और हालात यह हैं कि वो कई जगहों पर किंगमेकर की भूमिका में हैं।

रोहिंग्या मुसलमानों को उनकी अपनी सरकार ही राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए ख़तरा मानती है, तो फिर भारत उन्हें कैसे अपने पास रख ले? इस्लामी आतंक का जितना दंश भारत ने सहा है, उसके बाद भी मानवीय आधार पर इन्हें लेने की गलती करना जीती मक्खी निगलने जैसा है। रोहिंग्या को बर्मा वाले अपना नहीं मानते क्योंकि वो लोग बंग्लादेशी हैं जिन्होंने बर्मा में बौद्धों को भी हिंसा के लिए मजबूर कर दिया था। इनका इतिहास इतना क्रूर है कि इनका वर्तमान में विक्टिमहुड खेलना मजाक लगता है।

एमनेस्टी इंटरनेशनल ने मई 2018 की एक रिपोर्ट में स्वीकार किया है कि रोहिंग्या मुसलमानों ने राखिने में हिन्दू अल्पसंख्यकों को समूहों में काटने की वारदातों को अंजाम दिया है। ये हिन्दू अंग्रेज़ों द्वारा कामगारों के रूप में भारत से ले जाए गए थे और फिर वही हुआ जो हर मुसलमान देश में किसी भी अल्पसंख्यक समुदाय के साथ होता है।

रोहिंग्या की मिलिटेंट आर्मी ने हिन्दुओं को जगह-जगह जाकर काटना शुरु किया और बौद्ध धर्मावलम्बियों तक अपनी हिंसा की छाप छोड़ते हुए ऐसा आतंक मचाया कि वहाँ के बौद्ध लोगों को हथियार उठाना पड़ गया। बौद्ध लोगों को वर्चस्व के लिए नहीं, अस्तित्व के लिए हथियार उठाना पड़ा, वहीं इस्लामी आतंक वर्चस्व और ‘हम दुनिया को क़दमों में और इस्लाम की ख़िलाफ़त के अंदर लाना चाहते हैं’ की तर्ज़ पर चलता है।

फिर इन लोगों को आखिर भारत क्यों जगह दे? भारत के प्रसिद्ध उपन्यासकार, कहानीकार और फ़िक्शन राइटर रामचंद्र गुहा ने, जो कॉन्ग्रेसियों के फ़ेवरेट इतिहासकार भी माने जाते हैं, ने अमित शाह के बयान में वह भी पढ़ लिया जो कहा ही नहीं गया। लेकिन, गुहा जैसे कहानीकारों ने भारत के इतिहास के साथ भी तो वही किया है कि जो कहीं है नहीं, उसे इतिहास बनाकर पढ़ा दिया हमें। अमित शाह ने घुसपैठियों की बात की है, और भारत में 15 करोड़ आबादी है मुसलमानों की, जो भारतीय हैं। क़ायदे से देखा जाए तो राम चंद्र गुहा ऐसा मानते हैं कि भारत के सारे मुसलमान घुसपैठिए हैं, जो कि निहायत ही निंदनीय और बकवास बात है।

Amit Shah’s insinuation, that Muslims shall not and cannot be safe and secure in India, will be widely acclaimed in one country: Pakistan. Shah’s majoritarian bigotry is music to the ears of those who rule that country.— Ramachandra Guha (@Ram_Guha) April 11, 2019

इसलिए, गुहा की तो मजबूरी है कि वो भारतीय मुसलमानों में डर भरना चाहते हैं ताकि वो चुनावों में भाजपा या मोदी को वोट न दें, लेकिन उन मुसलमानों की बात मेरी समझ से बाहर है जो स्वयं को एक घुसपैठिए के रूप में देखने लगे हैं। आखिर, किसने और कब कहा कि सारे मुसलमानों को भगा दिया जाएगा? किसी ने नहीं। ये कहने वाले या तो स्वयं मुसलमान हैं, या गुहा टाइप के सड़कछाप लुच्चे उपन्यासकार जिन्हें इस समाज में दुर्भावना और मजहबी घृणा फैलाने से फ़ुरसत नहीं है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by paying for content

यू-ट्यूब से

बड़ी ख़बर

इनकी सावरकर से दुश्मनी केवल इसलिए है क्योंकि वह हिंदूवादी थे, और कॉन्ग्रेस की राजनीति मुस्लिम तुष्टिकरण की है। हिन्दूफ़ोबिया इनकी वैचारिक नसों में है, तो इसलिए हिन्दू हितों की बात करने वाले को खलनायक या कमज़ोर दिखाना तो हिन्दूफ़ोबिया की तार्किक परिणति होगा ही।

ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

पति ने TIK-TOK चलाने से किया मना, पत्नी ने की आत्महत्या, रिकॉर्ड किया मौत का वीडियो

24 वर्षीय अनीता की शादी 29 साल के पलानीवेल के साथ हुई थी। उनके चार साल की एक बेटी और दो साल का एक बेटा भी है।
दीदी, सुरक्षा दो या इस्तीफा

सईद की मौत पर 200 दंगाईयों को बुलाकर डॉक्टरों पर हमला करने वालों को ममता क्यों बचा रही है?

पथराव शुरू हुआ, डॉक्टरों पर जानलेवा हमले हुए तो पुलिस ने क्यों नहीं रोका? क्यों डॉक्टरों की जान बचाने के लिए दंगाईयों पर नियंत्रण के लिए कड़ी कार्रवाई नहीं की गई? जवाब हम सब को पता है। क्योंकि हमलावर मुसलमान थे- अगर उन्हें कुछ हो जाता तो ममता के वोट बैंक को खतरा था।
कमांडो निराला (फाइल फोटो)

देश के लिए बलिदान हुए थे कॉर्पोरल निराला, गरुड़ कमांडो ने पैसे जुटाकर कराई बहन की शादी

कमांडो निराला की बहन की शादी के लिए गरुड़ कमांडो यूनिट ने आपस में चंदा कर ₹5 लाख इकठ्ठा किए थे। यही नहीं, शादी की रस्म पूरी करने के लिए कमांडोज़ ने शादी में शिरकत भी की।
दि प्रिंट और दीपक कल्लाल

सेक्स ही सेक्स… भाई साहब आप देखते किधर हैं, दि प्रिंट का सेक्सी आर्टिकल इधर है

बढ़ते कम्पटीशन के दौर में सर्वाइवल और नाम का भार ढोते इन पोर्टलों के पास नग्नता और वैचारिक नकारात्मकता के अलावा फर्जीवाड़ा और सेक्स ही बचता है जिसे हर तरह की जनता पढ़ती है। लल्लनपॉट यूनिवर्सिटी से समाज शास्त्र में पीएचडी करने वाले ही ऐसा लिख सकते हैं।

NDTV के प्रणय रॉय और राधिका रॉय को झटका, SEBI ने 2 साल के लिए किया बैन

NDTV पिछले कई सालों से वित्तीय अनियमितताओं और टैक्स फ्रॉड के कारण जाँच एजेंसियों के रडार पर थी। सेबी ने सिक्योरिटी एक्सचेंज मार्केट में लेन-देन और NDTV मैनेजमेंट में किसी भी पोस्ट से 2 साल के लिए बाहर कर दिया है।
सावरकर (साभार: इंडियन एक्सप्रेस)

सावरकर ‘वीर’ तब तक नहीं होंगे जब तक हिन्दू अपनी कहानियाँ खुद सुनाना नहीं सीखते

इनकी सावरकर से दुश्मनी केवल इसलिए है क्योंकि वह हिंदूवादी थे, और कॉन्ग्रेस की राजनीति मुस्लिम तुष्टिकरण की है। हिन्दूफ़ोबिया इनकी वैचारिक नसों में है, तो इसलिए हिन्दू हितों की बात करने वाले को खलनायक या कमज़ोर दिखाना तो हिन्दूफ़ोबिया की तार्किक परिणति होगा ही।

सरकारी डॉक्टर की जान बनाम मुस्लिम वोटबैंक को निहारती निर्मम ममता जो दंगे पीती, खाती और सोती है

ये भीड़ इतनी जल्दी कैसे आती है, कहाँ हमला करती है और किधर गायब हो जाती है? क्या पुलिस ने नहीं देखा इन्हें? क्या हॉस्पिटल में सुरक्षा के लिए पुलिस आदि नहीं होती या फिर इस पहचानहीन भीड़ का सामूहिक चेहरा ममता की पुलिस ने पहचान लिया और उन्हें वो करने दिया जो वो कर गए?
ममता बनर्जी

घमंडी, फासीवादी, सांप्रदायिक, स्वेच्छाचारी, हिंसक, असंवैधानिक, तानाशाह, भ्रष्ट, अलगाववादी: यही हैं ममता

यह इकोसिस्टम कुतर्क में उस्ताद है। बंगाल की हर हिंसा में तृणमूल के साथ बराबर का भागीदार भाजपा को बना देता है। सांप्रदायिकता में भी यही रवैया अपनाता है।
अमित शाह, जदयू प्रवक्ता

अमित शाह और BSF को कोसने के बाद JDU प्रवक्ता ने खुद दिया इस्तीफ़ा

11 तारीख़ को आलोक ने ट्विटर पर एक पोस्ट किया था। इस पोस्ट में उन्होंने बांग्लादेशी शरणार्थियों के मुद्दे पर गृह मंत्री अमित शाह पर तंज कसा था। साथ ही एक ट्वीट में उन्होंने बीएसएफ अधिकारियों पर भी निशाना साधा था।
अक्षय पात्र, पुरस्कार

Akshay-Patra को मिला ग्लोबल अवॉर्ड, द हिंदू खोजता रह गया लहसुन-प्याज

इस पुरस्कार को देने के दौरान निर्णायक पैनल के प्रमुख शेफ़ सामीन नोसरात ने कहा कि स्कूलों में भोजन उपलब्ध कराना अद्भुत और शानदार कार्य है। बच्चों को भोजन करवाना सबसे महत्तवपूर्ण हैं। इस प्रकार के प्रयासों की सराहना की जानी चाहिए।

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

50,115फैंसलाइक करें
8,751फॉलोवर्सफॉलो करें
69,712सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

शेयर करें, मदद करें: