Saturday, July 20, 2024
Homeराजनीति'सांसद की गाड़ी है...पीछे से हमला करो... खुद गाड़ी के सामने आए': लखीमपुर खीरी...

‘सांसद की गाड़ी है…पीछे से हमला करो… खुद गाड़ी के सामने आए’: लखीमपुर खीरी की घटना को हरियाणा में दोहराने की कोशिश

सांसद नायब सैनी ने कहा कि वो कार्यक्रम से निकल रहे थे, इस दौरान उनकी गाड़ी काफिले से पीछे रह गई और मौका मिलते ही उन पर हमला कर दिया गया। सांसद ने कहा कि भीड़ ने उन पर हमला किया और उनके ड्राइवर का गला पकड़ लिया।

लखीमपुर खीरी की घटना को लेकर जारी सियासत के बीच अब हरियाणा से भी प्रदर्शनकारी किसानों पर गाड़ी चढ़ाने का मामला मीडिया में छाया हुआ है। आरोप है कि कुरुक्षेत्र से भाजपा सांसद नायब सिंह सैनी के काफिले द्वारा प्रदर्शनकारी किसानों पर गाड़ी चढ़ा दी गई है। वहीं, सांसद ने खुद पर हमले किए जाने की बात कही है। सैनी का कहना है कि उग्र भीड़ ने उनके ड्राईवर का गला पकड़ लिया।

रिपोर्ट के मुताबिक, ये घटना अंबाला जिले के नारायणगढ़ की है, जहाँ एक कार्यक्रम में शामिल होने के लिए सांसद सैनी जा रहे थे। इस बात की खबर लगते ही कथित किसानों की समूह उनका विरोध करने के लिए इकट्ठा हो गया। इसी दौरान भवनप्रीत नाम का एक किसान काला झंडा दिखाते हुए काफिले के सामने आ गया और उसे टक्कर लग गई। टक्कर में घायल होने के बाद अस्पताल में उसका इलाज चल रहा है। किसानों का आरोप है कि भवनप्रीत की हत्या करने के लिए उसे टक्कर मारी गई थी। फिलहाल, हालात को देखते हुए घटनास्थल पर भारी पुलिस बल को तैनात किया गया है।

इस मामले को लेकर भारतीय किसान यूनियन गुरुनाम सिंह चढ़ूनी गुट ने नारायणगढ़ थाने में शिकायत भी की है। किसानों ने धमकी दी है कि 10 अक्टूबर तक इस मामले में अगर कोई कार्रवाई नहीं की जाती है तो वे थाने का घेराव करेंगे। किसान नेताओं का दावा है कि जिस गाड़ी (HR04F0976) से टक्कर हुई थी, वह सांसद के नाम पर रजिस्टर है।

सांसद पर हुआ हमला

इस घटना को लेकर सांसद नायब सैनी ने कहा कि वो कार्यक्रम से निकल रहे थे, इस दौरान उनकी गाड़ी काफिले से पीछे रह गई और मौका मिलते ही उन पर हमला कर दिया गया। सांसद ने कहा कि भीड़ ने उन पर हमला किया और उनके ड्राइवर का गला पकड़ लिया। किसान चिल्ला रहे थे कि सांसद की गाड़ी है पीछे से हमला करो। सैनी ने कहा कि किसान हर घटना का वीडियो बनाते हैं वो उसे जारी करें, मामला साफ हो जाएगा।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

घुमंतू (खानाबदोश) पूजा खेडकर: जिसका बाप IAS, वो गुलगुलिया की तरह जगह-जगह भटक बिताई जिंदगी… इसी आधार पर बन गई MBBS डॉक्टर

पूजा खेडकर ने MBBS में नाम लिखवाने से लेकर IAS की नौकरी पास करने तक में नाम, उम्र, दिव्यांगता, अटेंप्ट और आय प्रमाण पत्र में फर्जीवाड़ा किया।

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -