Friday, July 1, 2022
Homeराजनीति'सांसद की गाड़ी है...पीछे से हमला करो... खुद गाड़ी के सामने आए': लखीमपुर खीरी...

‘सांसद की गाड़ी है…पीछे से हमला करो… खुद गाड़ी के सामने आए’: लखीमपुर खीरी की घटना को हरियाणा में दोहराने की कोशिश

सांसद नायब सैनी ने कहा कि वो कार्यक्रम से निकल रहे थे, इस दौरान उनकी गाड़ी काफिले से पीछे रह गई और मौका मिलते ही उन पर हमला कर दिया गया। सांसद ने कहा कि भीड़ ने उन पर हमला किया और उनके ड्राइवर का गला पकड़ लिया।

लखीमपुर खीरी की घटना को लेकर जारी सियासत के बीच अब हरियाणा से भी प्रदर्शनकारी किसानों पर गाड़ी चढ़ाने का मामला मीडिया में छाया हुआ है। आरोप है कि कुरुक्षेत्र से भाजपा सांसद नायब सिंह सैनी के काफिले द्वारा प्रदर्शनकारी किसानों पर गाड़ी चढ़ा दी गई है। वहीं, सांसद ने खुद पर हमले किए जाने की बात कही है। सैनी का कहना है कि उग्र भीड़ ने उनके ड्राईवर का गला पकड़ लिया।

रिपोर्ट के मुताबिक, ये घटना अंबाला जिले के नारायणगढ़ की है, जहाँ एक कार्यक्रम में शामिल होने के लिए सांसद सैनी जा रहे थे। इस बात की खबर लगते ही कथित किसानों की समूह उनका विरोध करने के लिए इकट्ठा हो गया। इसी दौरान भवनप्रीत नाम का एक किसान काला झंडा दिखाते हुए काफिले के सामने आ गया और उसे टक्कर लग गई। टक्कर में घायल होने के बाद अस्पताल में उसका इलाज चल रहा है। किसानों का आरोप है कि भवनप्रीत की हत्या करने के लिए उसे टक्कर मारी गई थी। फिलहाल, हालात को देखते हुए घटनास्थल पर भारी पुलिस बल को तैनात किया गया है।

इस मामले को लेकर भारतीय किसान यूनियन गुरुनाम सिंह चढ़ूनी गुट ने नारायणगढ़ थाने में शिकायत भी की है। किसानों ने धमकी दी है कि 10 अक्टूबर तक इस मामले में अगर कोई कार्रवाई नहीं की जाती है तो वे थाने का घेराव करेंगे। किसान नेताओं का दावा है कि जिस गाड़ी (HR04F0976) से टक्कर हुई थी, वह सांसद के नाम पर रजिस्टर है।

सांसद पर हुआ हमला

इस घटना को लेकर सांसद नायब सैनी ने कहा कि वो कार्यक्रम से निकल रहे थे, इस दौरान उनकी गाड़ी काफिले से पीछे रह गई और मौका मिलते ही उन पर हमला कर दिया गया। सांसद ने कहा कि भीड़ ने उन पर हमला किया और उनके ड्राइवर का गला पकड़ लिया। किसान चिल्ला रहे थे कि सांसद की गाड़ी है पीछे से हमला करो। सैनी ने कहा कि किसान हर घटना का वीडियो बनाते हैं वो उसे जारी करें, मामला साफ हो जाएगा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एकनाथ शिंदे मुख्यमंत्री बनेंगे, नहीं थी किसी को कल्पना’: राजनीति के धुरंधर एनसीपी चीफ शरद पवार भी खा गए गच्चा, कहा- उम्मीद थी वो...

शरद पवार ने कहा कि किसी को भी इस बात की कल्पना नहीं थी कि एकनाथ शिंदे को महाराष्ट्र का सीएम बना दिया जाएगा।

आँखों के सामने बच्चों को खोने के बाद राजनीति से मोहभंग, RSS से लगाव: ऑटो चलाने से महाराष्ट्र के CM बनने तक शिंदे का...

साल में 2000 में दो बच्चों की मौत के बाद एकनाथ शिंदे का राजनीति से मोहभंग हुआ। बाद में आनंद दिघे उन्हें वापस राजनीति में लाए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
201,269FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe