Wednesday, July 17, 2024
Homeराजनीति'असम में 600 मदरसों को बंद किया, इस साल 300 को बंद कर दूँगा':...

‘असम में 600 मदरसों को बंद किया, इस साल 300 को बंद कर दूँगा’: तेलंगाना में CM सरमा ने ओवैसी को ललकारा, बहुविवाह बैन करने के लिए भी बना है पैनल

हिमंता बिस्वा सरमा ने कहा कि असदुद्दीन ओवैसी ने जाकर कहा कि मदरसों को बंद किया गया और वो उन्हें देख लेंगे, इस पर उन्होंने जवाब दिया कि वो खुद ओवैसी के घर में आ जाएँगे और वहाँ पर वो देख लें।

असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा रविवार (14 मई, 2023) को तेलंगाना के दौरे पर पहुँचे। इस दौरान उन्होंने AIMIM के मुखिया असदुद्दीन ओवैसी को भी ललकारा। भाजपा दक्षिण भारत में अपनी उपस्थिति मजबूत करने के क्रम में तेलंगाना पर खासा जोर दे रही है। कर्नाटक में जीत से तेलंगाना में पार्टी कैडर का उत्साह बढ़ता, लेकिन इस हार के बाद नए सिरे से जान फूँकने की कोशिश चल रही है। राज्य की स्थापना के समय से ही KCR यहाँ से मुख्यंमंत्री हैं।

तेलंगाना में एक रैली के दौरान सीएम हिमंता बिस्वा सरमा ने कहा कि वो असम में ‘लव जिहाद’ के खिलाफ अभियान चला रहे हैं और मदरसा वाली शिक्षा को बंद करने का काम कर रहे हैं। उन्होंने जानकारी दी कि मुख्यमंत्री बनने के बाद उन्होंने एक ही दिन में 600 मदरसों को बंद करने का फैसला लिया था। साथ ही उन्होंने 300 और मदरसों को बंद करने का ऐलान किया। इस दौरान उन्होंने हैदराबाद के सांसद ओवैसी को भी ललकारा।

हिमंता बिस्वा सरमा ने कहा कि असदुद्दीन ओवैसी ने जाकर कहा कि मदरसों को बंद किया गया और वो उन्हें देख लेंगे, इस पर उन्होंने जवाब दिया कि वो खुद ओवैसी के घर में आ जाएँगे और वहाँ पर वो देख लें। सीएम हिमंता ने कहा, “ये नए भारत को भी देख लीजिए। ओवैसी को दर्द हो रहा है। मैं ओवैसी से कहना चाहता हूँ कि इस साल भी मैं 300 मदरसों को बंद करूँगा। हम सबको मिल कर भारत को फिर से विश्वगुरु बनाना है।”

बता दें कि असम की सरकार बहुविवाह को भी प्रतिबंधित करने जा रही है और इसके लिए एक कमिटी का गठन भी कर दिया गया है। गुवाहाटी हाईकोर्ट के एक रिटायर्ड जज को इस पैनल का अध्यक्ष बनाया गया है। इसमें महिला और मुस्लिम सदस्य को भी प्रतिनिधित्व दिया गया है। कमिटी को 60 दिनों के भीतर रिपोर्ट सौंपनी पड़ेगी। असम सरकार ने 2024 तक बहुविवाह को बैन करने का लक्ष्य रखा है। Polygamy के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में भी कई याचिकाएँ गई थीं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अमेरिकी राजनीति में नहीं थम रहा नस्लवाद और हिंदू घृणा: विवेक रामास्वामी और तुलसी गबार्ड के बाद अब ऊषा चिलुकुरी बनीं नई शिकार

अमेरिका में भारतीय मूल के हिंदू नेताओं को निशाना बनाया जाना कोई नई बात नहीं है। निक्की हेली, विवेक रामास्वामी, तुलसी गबार्ड जैसे मशहूर लोग हिंदूफोबिया झेल चुके हैं।

आज भी फैसले की प्रतीक्षा में कन्हैयालाल का परिवार, नूपुर शर्मा पर भी खतरा; पर ‘सर तन से जुदा’ की नारेबाजी वाले हो गए...

रिपोर्ट में यह भी कहा गया था कि गौहर चिश्ती 17 जून 2022 को उदयपुर भी गया था। वहाँ उसने 'सर कलम करने' के नारे लगवाए थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -