Saturday, July 24, 2021
Homeराजनीतिदिल्ली विश्वविद्यालय छात्र संघ पर फिर ABVP का कब्जा, अध्यक्ष समेत 3 सीटें जीती

दिल्ली विश्वविद्यालय छात्र संघ पर फिर ABVP का कब्जा, अध्यक्ष समेत 3 सीटें जीती

कॉन्ग्रेस से जुड़े छात्र संगठन एनएसयूआई (NSUI) को केवल सचिव पद पर सफलता मिल पाई है। एनएसयूआई की चेतना त्यागी को हराकर ABVP के अक्षित दहिया ने अध्यक्ष पद पर कब्ज़ा जमाया।

दिल्ली यूनिवर्सिटी स्टूडेंट यूनियन के चुनाव में आरएसएस से जुड़े छात्र संगठन एबीवीपी ने परचम लहराया है। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद को अध्यक्ष, उपाध्यक्ष और संयुक्त सचिव के पदों पर जीत हासिल हुई है। ABVP की तरफ से अध्यक्ष पद पर अक्षित दहिया जीते हैं। उपाध्यक्ष पद पर एबीवीपी के प्रदीप तंवर और जॉइंट सेक्रेटरी पर शिवांगी खरवाल ने कब्ज़ा जमाया है।

दूसरी तरफ कॉन्ग्रेस से जुड़े छात्र संगठन एनएसयूआई (NSUI) को केवल सचिव पद पर सफलता मिल पाई है।

किसे कितने वोट मिले –

  • एबीवीपी की तरफ से अध्यक्ष पद पर अक्षित दहिया को  29,685 वोट मिले।
  • उपाध्यक्ष पद पर एबीवीपी के उम्मीदवार प्रदीप तंवर को 19,858 वोट मिले।
  • एबीवीपी के उम्मीदवार जॉइंट सेक्रेटरी पर शिवांगी खरवाल  को 17,234 वोट मिले।
  • एनएसयूआई को सचिव पद आशीष लांबा को 20,934 वोट मिले।

एबीवीपी ने अध्यक्ष पद पर अग्रसेन कॉलेज के अक्षित दहिया को मैदान में उतारा था, जबकि एनएसयूआई ने महिला कैंडिडेट पर दाँव लगाते हुए चेतना त्यागी को मौका दिया था। वामपंथी संगठन आइसा से दामिनी काइन चुनावी मैदान में थीं, जबकि AIDSO से रोशनी ने चुनाव लड़ा था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जहाँ से इस्लाम शुरू, नारीवाद वहीं पर खत्म… डर और मौत भला ‘चॉइस’ कैसे: नितिन गुप्ता (रिवाल्डो)

हिंदुस्तान में नारीवाद वहीं पर खत्म हो जाता है, जहाँ से इस्लाम शुरू होता है। तीन तलाक, निकाह, हलाला पर चुप रहने वाले...

NH के बीच आने वाले धार्मिक स्थलों को बचाने से केरल HC का इनकार, निजी मस्जिद बचाने के लिए राज्य सरकार ने दी सलाह

कोल्लम में NH-66 के निर्माण कार्य के बीच में धार्मिक स्थलों के आ जाने के कारण इस याचिका में उन्हें बचाने की माँग की गई थी, लेकिन केरल हाईकोर्ट ने इससे इनकार कर दिया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
110,987FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe