Tuesday, June 25, 2024
Homeराजनीतिहाईकोर्ट में कुछ, बाहर कुछ: दिल्ली में ऑक्सीजन की कमी से मौत पर केंद्र...

हाईकोर्ट में कुछ, बाहर कुछ: दिल्ली में ऑक्सीजन की कमी से मौत पर केंद्र को घेरने चली थी AAP, खुद के झूठ की ही खोली पोल

"दिल्ली और देश के अन्य जगहों पर ऑक्सीजन की कमी के कारण कई मौतें हुई हैं। यह कहना पूरी तरह से गलत है कि ऑक्सीजन की कमी से किसी की मौत नहीं हुई।"

अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व वाली दिल्ली की आम आदमी पार्टी (AAP) सरकार ने आखिरकार कोरोना की दूसरी लहर के दौरान राष्ट्रीय राजधानी में ऑक्सीजन की कमी से मौतों को स्वीकार कर लिया है। दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने बुधवार (21 जुलाई 2021) को केंद्र सरकार को घेरने के फेर में पूर्व में अपनी ही सरकार के बोले एक झूठ पर से पर्दा उठा दिया। जैन ने कहा कि दिल्ली और देश के अन्य जगहों पर ऑक्सीजन की कमी से मौतें हुई हैं। दिलचस्प यह है कि आप सरकार ने हाईकोर्ट को बताया था कि ऑक्सीजन से कोई मौत नहीं हुई है।

जैन ने कहा, ”ऑक्सीजन से हुई मौतों का सही आँकड़ा सामने न आए इसलिए केंद्र सरकार ने LG (उपराज्यपाल) द्वारा दिल्ली सरकार की बनाई समिति भंग करवाई, जिसका काम ही यही था ऑक्सीजन से हुई मौतों का सही आँकड़ा जमा करना और मुआवजा दिलाना।” उन्होंने कहा कहा कि केंद्र सरकार उन लोगों के जले पर नमक ना छिड़के जिनके घर ऑक्सीजन की कमी के कारण मौत हुई है। साथ ही कहा, “दिल्ली और देश के अन्य जगहों पर ऑक्सीजन की कमी के कारण कई मौतें हुई हैं। यह कहना पूरी तरह से गलत है कि ऑक्सीजन की कमी से किसी की मौत नहीं हुई।”

जैन के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए एबीपी न्यूज के पत्रकार विकास भदौरिया ने ट्ववीट किया, ”झूठ पकड़ा गया। केजरीवाल सरकार खुद हाईकोर्ट को लिखित में दे चुकी है कि उसके यहाँ ऑक्सीजन की कमी से कोई मौत नहीं हुई। मई 2021 में हाईकोर्ट में दाखिल जवाब में दिल्ली सरकार ने अपनी चार सदस्यीय कमिटी की रिपोर्ट कोर्ट में पेश की थी और बताया था कि ऑक्सीजन की कमी से कोई मौत से नहीं हुई है।”

गौरतलब है कि दिल्ली सरकार ने 28 अप्रैल को चार सदस्यीय समिति बनाई थी जिसका काम अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी से हुई मौतों के बारे में पता लगाना था। समिति ने अपनी प्रारंभिक रिपोर्ट में ऑक्सीजन की कमी से मौतों को खारिज करते हुए कहा था कि मरने वाले पहले से ही गंभीर स्थिति में थे। इतना ही नहीं सुप्रीम कोर्ट की ओर से नियुक्त की गई ऑडिट टीम की रिपोर्ट से यह बात भी सामने आ चुकी है कि केजरीवाल सरकार ने ऑक्सीजन की डिमांड को बढ़ा चढ़ाकर दिखाया था।

दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार की तरह ही महाराष्ट्र और छत्तीसगढ़ की सरकारों ने भी इस मामले पर राजनीति के लिए कुछ और ही राग अलापा, लेकिन आँकड़े कुछ और दिए हैं। स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंह देव ने छत्तीसगढ़ को ‘ऑक्सीजन सरप्लस राज्य’ करार देते हुए कहा कि कोविड-19 आपदा की दूसरी लहर के दौरान राज्य में ऑक्सीजन की कमी से किसी की मौत ही नहीं हुई। हालाँकि, अपनी बात को पुख्ता करने के लिए उन्होंने आँकड़े पेश करना भी उचित नहीं समझा, बस ऐलान कर दिया कि मौतें हुई ही नहीं हैं। देव ने आगे कहा कि उन्होंने दिल्ली जैसे प्रदेशों के अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी के बारे में सुना, लेकिन यहाँ ऐसा नहीं था।

वहीं, बात करें महाराष्ट्र की तो इसकी कहानी भी जुदा नहीं है। मई 2021 में महाराष्ट्र सरकार ने बॉम्बे हाईकोर्ट की औरंगाबाद पीठ को स्पष्ट रूप से कहा कि ऑक्सीजन की कमी से राज्य में किसी भी मरीज की मौत नहीं हुई है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

क्या है भारत और बांग्लादेश के बीच का तीस्ता समझौता, क्यों अनदेखी का आरोप लगा रहीं ममता बनर्जी: जानिए केंद्र ने पश्चिम बंगाल की...

इससे पहले यूपीए सरकार के दौरान भारत और बांग्लादेश के बीच तीस्ता के पानी को लेकर लगभग सहमति बन गई थी। इसके अंतर्गत बांग्लादेश को तीस्ता का 37.5% पानी और भारत को 42.5% पानी दिसम्बर से मार्च के बीच मिलना था।

लोकसभा में ‘परंपरा’ की बातें, खुद की सत्ता वाले राज्यों में दोनों हाथों में लड्डू: डिप्टी स्पीकर पद पर हल्ला कर रहा I.N.D.I. गठबंधन,...

कर्नाटक, तेलंगाना और हिमाचल प्रदेश में कॉन्ग्रेस ने अपने ही नेता को डिप्टी स्पीकर बना रखा है विधानसभा में। तमिलनाडु में DMK, झारखंड में JMM, केरल में लेफ्ट और पश्चिम बंगाल में TMC ने भी यही किया है। दिल्ली और पंजाब में AAP भी यही कर रही है। लोकसभा में यही I.N.D.I. गठबंधन वाले 'परंपरा' और 'परिपाटी' की बातें करते नहीं थक रहे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -