‘मुसलमानों को शेर बनना होगा, ताकि कोई ‘चायवाला’ उनके सामने खड़ा न हो सके’

“हम (मुसलमान) 25 करोड़ हैं और तुम (हिंदू) 100 करोड़ हो, 15 मिनट के लिए पुलिस हटा दो, देख लेंगे किसमें कितना दम है।”

अपने जहरीले बोल के लिए कुख्यात छोटे ओवैसी ने एक बार फिर से जहर उगला है। ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहाद-उल मुस्लिमीन (AIMIM) के चीफ असदुद्दीन ओवैसी के छोटे भाई अकबरुद्दीन ओवैसी ने एक बार फिर से अपना 15 मिनट वाला बयान दोहराया है। तेलंगाना के करीमनगर में एक सभा को संबोधित करते हुए अकबरुद्दीन ओवैसी ने कहा कि उन्हें अपनी पार्टी की हार से कोई दिक्कत नहीं है, मगर बीजेपी की जीत उन्हें मंजूर नहीं। 

छोटे ओवैसी ने कहा कि उनकी पार्टी AIMIM को नहीं जिताना तो मत जिताओ, उन्हें अपनी पार्टी की हार मंजूर है, लेकिन बीजेपी की जीत बिल्कुल भी मंजूर नहीं है। यहाँ पर बीजेपी चुनाव न जीत पाए, इसको सुनिश्चित करना है। उसने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि वो लोग उनके खून के प्यासे हैं, इसलिए सारे मुसलमान को उनके खिलाफ एक हो जाना चाहिए। साथ ही उसने वहाँ उपस्थित लोगों से कहा कि उन्हें बीजेपी, आरएसएस और बजरंग दल वालों से डरने की जरुरत नहीं है। उसने मॉब लिंचिंग पर मुसलमानों को शेर बनने की सलाह देते हुए एक बार फिर अपनी 15 मिनट वाले बयान को दोहराया। उसने कहा कि दुनिया उसी को डराती है जो डरता है और दुनिया उसी से डरती है जो डराना जानता है।

अकबरुद्दीन ओवैसी ने कहा कि उनके 15 मिनट वाले बयान को लेकर लोग अभी तक दहशत में हैं। इसीलिए मॉब लिंचिंग करने वाले और आरएसएस वाले उनसे डरते हैं। उसने कहा कि मुसलमानों को शेर बनना होगा, ताकि कोई ‘चायवाला’ उनके सामने खड़ा न हो सके। उसने वहाँ उपस्थित लोगों से मॉब लिंचिग को लेकर परेशान न होने की सलाह दी। उसने कहा कि वो इसको लेकर परेशान न हों।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

छोटे ओवैसी ने कहा कि वो यहाँ पर जो कुछ भी करेंगे, उसके बदले में उन्हें जन्‍नत या जहन्‍नुम मिलेगी। उसने नौजवानों को संबोधित करते हुए कहा, “वो लोग चाहे कुछ भी नारा लगवाएँ, तुम सिर्फ अल्‍लाह का नाम लो।” उसने कहा कि शहादत का जज्‍बा आ जाएगा तो कोई मॉब लिंचिंग करने वाला या आरएसएस वाला उनका कुछ भी नहीं कर पाएगा। उसने बीजेपी, आरएसएस और बजरंग दल की तरफ इशारा करते हुए कहा कि वो लोग अकबरुद्दीन से इसलिए नफरत करते हैं, क्योंकि वो उनसे डरते हैं।

गौरतलब है कि, अकबरुद्दीन ओवैसी ने साल 2013 में कहा था, “हम (मुसलमान) 25 करोड़ हैं और तुम (हिंदू) 100 करोड़ हो, 15 मिनट के लिए पुलिस हटा दो, देख लेंगे किसमें कितना दम है।” इनके विवादित और साम्प्रदायिक नफरत से भरे बयानों की लंबी फेहरिश्त है। वो अपने साम्प्रदायिक बयानों को लेकर गिरफ्तार भी हो चुके हैं, लेकिन फिर भी जहर उगलने से बाज नहीं आते।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

बरखा दत्त
मीडिया गिरोह ऐसे आंदोलनों की तलाश में रहता है, जहाँ अपना कुछ दाँव पर न लगे और मलाई काटने को खूब मिले। बरखा दत्त का ट्वीट इसकी प्रतिध्वनि है। यूॅं ही नहीं कहते- तू चल मैं आता हूँ, चुपड़ी रोटी खाता हूँ, ठण्डा पानी पीता हूँ, हरी डाल पर बैठा हूँ।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

118,022फैंसलाइक करें
26,220फॉलोवर्सफॉलो करें
126,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: