Thursday, July 29, 2021
Homeराजनीति'मुस्लिमों को शेर बनना होगा, ताकि कोई ‘चायवाला’ उनके सामने खड़ा न हो सके'

‘मुस्लिमों को शेर बनना होगा, ताकि कोई ‘चायवाला’ उनके सामने खड़ा न हो सके’

“हम 25 करोड़ हैं और तुम (हिंदू) 100 करोड़ हो, 15 मिनट के लिए पुलिस हटा दो, देख लेंगे किसमें कितना दम है।”

अपने जहरीले बोल के लिए कुख्यात छोटे ओवैसी ने एक बार फिर से जहर उगला है। ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहाद-उल मुस्लिमीन (AIMIM) के चीफ असदुद्दीन ओवैसी के छोटे भाई अकबरुद्दीन ओवैसी ने एक बार फिर से अपना 15 मिनट वाला बयान दोहराया है। तेलंगाना के करीमनगर में एक सभा को संबोधित करते हुए अकबरुद्दीन ओवैसी ने कहा कि उन्हें अपनी पार्टी की हार से कोई दिक्कत नहीं है, मगर बीजेपी की जीत उन्हें मंजूर नहीं। 

छोटे ओवैसी ने कहा कि उनकी पार्टी AIMIM को नहीं जिताना तो मत जिताओ, उन्हें अपनी पार्टी की हार मंजूर है, लेकिन बीजेपी की जीत बिल्कुल भी मंजूर नहीं है। यहाँ पर बीजेपी चुनाव न जीत पाए, इसको सुनिश्चित करना है। उसने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि वो लोग उनके खून के प्यासे हैं, इसलिए सारे मुस्लिमों को उनके खिलाफ एक हो जाना चाहिए। साथ ही उसने वहाँ उपस्थित लोगों से कहा कि उन्हें बीजेपी, आरएसएस और बजरंग दल वालों से डरने की जरुरत नहीं है। उसने मॉब लिंचिंग पर समुदाय के लोगों को शेर बनने की सलाह देते हुए एक बार फिर अपनी 15 मिनट वाले बयान को दोहराया। उसने कहा कि दुनिया उसी को डराती है जो डरता है और दुनिया उसी से डरती है जो डराना जानता है।

अकबरुद्दीन ओवैसी ने कहा कि उनके 15 मिनट वाले बयान को लेकर लोग अभी तक दहशत में हैं। इसीलिए मॉब लिंचिंग करने वाले और आरएसएस वाले उनसे डरते हैं। उसने कहा कि समुदाय के लोगों को शेर बनना होगा, ताकि कोई ‘चायवाला’ उनके सामने खड़ा न हो सके। उसने वहाँ उपस्थित लोगों से मॉब लिंचिग को लेकर परेशान न होने की सलाह दी। उसने कहा कि वो इसको लेकर परेशान न हों।

छोटे ओवैसी ने कहा कि वो यहाँ पर जो कुछ भी करेंगे, उसके बदले में उन्हें जन्‍नत या जहन्‍नुम मिलेगी। उसने नौजवानों को संबोधित करते हुए कहा, “वो लोग चाहे कुछ भी नारा लगवाएँ, तुम सिर्फ अल्‍लाह का नाम लो।” उसने कहा कि शहादत का जज्‍बा आ जाएगा तो कोई मॉब लिंचिंग करने वाला या आरएसएस वाला उनका कुछ भी नहीं कर पाएगा। उसने बीजेपी, आरएसएस और बजरंग दल की तरफ इशारा करते हुए कहा कि वो लोग अकबरुद्दीन से इसलिए नफरत करते हैं, क्योंकि वो उनसे डरते हैं।

गौरतलब है कि, अकबरुद्दीन ओवैसी ने साल 2013 में कहा था, “हम 25 करोड़ हैं और तुम (हिंदू) 100 करोड़ हो, 15 मिनट के लिए पुलिस हटा दो, देख लेंगे किसमें कितना दम है।” इनके विवादित और साम्प्रदायिक नफरत से भरे बयानों की लंबी फेहरिश्त है। वो अपने साम्प्रदायिक बयानों को लेकर गिरफ्तार भी हो चुके हैं, लेकिन फिर भी जहर उगलने से बाज नहीं आते।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘पूरे देश में खेला होबे’: सभी विपक्षियों से मिलकर ममता बनर्जी का ऐलान, 2024 को बताया- ‘मोदी बनाम पूरे देश का चुनाव’

टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी ने विपक्ष एकजुटता पर बात करते हुए कहा, "हम 'सच्चे दिन' देखना चाहते हैं, 'अच्छे दिन' काफी देख लिए।"

कराहते केरल में बकरीद के बाद विकराल कोरोना लेकिन लिबरलों की लिस्ट में न ईद हुई सुपर स्प्रेडर, न फेल हुआ P विजयन मॉडल!

काँवड़ यात्रा के लिए जल लेने वालों की गिरफ्तारी न्यायालय के आदेश के प्रति उत्तराखंड सरकार के जिम्मेदारी पूर्ण आचरण को दर्शाती है। प्रश्न यह है कि हम ऐसे जिम्मेदारी पूर्ण आचरण की अपेक्षा केरल सरकार से किस सदी में कर सकते हैं?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,735FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe